Editor

Editor

पेंसिल्वेनिया। अमेरिका में जैसे-जैसे राष्‍ट्रपति चुनाव का दिन नजदीक आता जा रहा है वैसे-वैसे ही राष्‍ट्रपति पद के प्रत्‍याशियों के बीच जुबानी जंग भी तीखी हो चली है। डेमोक्रेट पार्टी के प्रत्‍याशी जो बिडेन और रिपब्लिकन प्रत्‍याशी डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच दो डिबेट हो चुकी हैं, जबकि आगामी एक डिबेट को रद कर दिया गया है। अमेरिका में दरअसल, ये डिबेट ही किसी एक प्रत्याशी के लिए जीत की राह खोलती है। राष्‍ट्रपति ट्रंप हाल ही में कोविड-19 संक्रमण से बाहर आए हैं और उन्‍होंने खुद को पूरी तरह से फिट कर दिया है। उन्‍होंने यहां तक कहा है कि वो डिबेट के लिए तैयार हैं। इस बीच बिडेन ने ट्रंप पर निशाना साधते हुए कहा है कि वो हार से बचने के लिए उनके ऊपर झूठे और बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं।पेंसिल्वेनिया की राजधानी एरी में पत्रकारों से बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि ट्रंप उनकी तरफ बढ़ रही जीत को छिपाना चाहते हैं। उन्‍होंने लोगों से अपील की है कि वो वोट देने जरूर घर से बाहर निकलें। उन्‍होंने ये भी कहा कि मौजूदा राष्‍ट्रपति लगातार कोशिश कर रहे हैं कि मतदाताओं को वोटिंग के प्रति हतोत्‍साहित किया जा सके। इसलिए ही उन्‍होंने वोटिंग से कुछ समय पहले डाक से पड़ने वाले वोटों पर अनिश्चितता जाहिर की है। अमेरिका के पूर्व उपराष्‍ट्रपति बिडेन का कहना है कि ट्रंप ने अपनी कैंपेन के लिए कई लोगों को रखा हुआ है। वो ऐसा कर हार से बचना चाहते हैं जो संभव नहीं है।गौरतलब है कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में अब काफी कम समय रह गया है। 3 नवंबर को वोटिंग होनी है। इससे पहले ही दुनिया में पर्यावरण प्रेमी के तौर पर पहचानी जाने वाली ग्रेटा थनबर्ग ने बिडेन का समर्थन करने हुए सभी अमेरिकी नागरिकों से ये अपील की है कि वो बिडेन का साथ दें। उन्‍होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव का परिणाम महत्वपूर्ण है। इस बाबत थनबर्ग ने ट्वीट कर लिखा है कि वो कभी भी पार्टीगत राजनीति में शामिल नहीं होती, लेकिन आगामी अमेरिकी चुनाव इन सबसे परे हैं।एक जलवायु के दृष्टिकोण से यह काफी दूर है और आप में से कई ने अन्य उम्मीदवारों का समर्थन किया है। लेकिन, मेरा मतलब आप जानते हैं। इसलिए बस एक साथ हो जाओ और बिडेन को जिताने के लिए तैयार हो जाओ। थनबर्ग का ये ट्वीट इसलिए भी बेहद खास है क्‍योंकि ट्रंप जलवायु परिवर्तन की चेतावनी को खारिज करते रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ बिडेन ने थनबर्ग की जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई के लिए तारीफ की है. पिछले महीने, सम्मानित पत्रिका साइंटिफिक अमेरिकन ने भी पाठकों से 3 नवंबर को बिडेन को वोट देने का आग्रह किया था, लगभग 200 वर्षों में पहली बार इसने राजनीतिक रुख अपनाया है।

सियोल। दक्षिण कोरिया (South Korea) ने रविवार को उत्तर कोरिया (North Korea) की नई मिसाइलों (Missile Test) पर चिंता जताते हुए उससे अनुरोध किया है कि वह पूर्व में लिए गए निरस्त्रीकरण के संकल्प को पूरा करे। उत्तर कोरिया में सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के 75 वें स्थापना दिवस समारोह में शनिवार को लंबी दूरी तक मार करने वाली और पनडुब्बी से छोड़ी जाने वाली बैलेस्टिक मिसाइलों का प्रदर्शन किया गया था।सैन्य परेड में प्रदर्शित की गई नई इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल दुनिया की सबसे बड़ी मिसाइलों में से एक थी। उसे 11 एक्सल वाले वाहन पर रखकर परेड में लाया गया था। ज्यादातर विशेषज्ञों का मानना है कि दोनों मिसाइलें विकास की प्रक्रिया में हैं।

नए हथियारों को देखकर चिंता में पड़ा दक्षिण कोरिया;-उत्तर कोरिया ने केवल दिखावे के तौर पर इन्हें परेड में प्रदर्शित किया है। मिसाइलों का यह प्रदर्शन साबित करता है कि उत्तर कोरिया ने अपना हथियारों को विकसित करने का कार्य रोका नहीं था। उसे अमेरिका के साथ परमाणु हथियारों पर चल रही वार्ता के दौरान भी जारी रखा। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि वह नए हथियारों को देखकर चिंता में पड़ गया है। मंत्रालय ने उत्तर कोरिया से कहा है कि वह दोनों देशों के बीच 2018 में हुए हथियारों को कम करने के समझौते का पालन करे।

स्थायी शांति के लिए पूर्व में किए गए वादों को पूरा करे उत्तर कोरिया:-दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रालय ने अलग से बयान जारी कर उत्तर कोरिया से अनुरोध किया है कि वह कोरियाई प्रायद्वीप में स्थायी शांति के लिए पूर्व में किए गए वादों को पूरा करे और परमाणु निरस्त्रीकरण पर शुरू हुई वार्ता को आगे बढ़ाए। रविवार को दक्षिण कोरिया की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की भी आपात बैठक हुई जिसमें उत्तर कोरिया के नए हथियारों के विकास और उससे उत्पन्न खतरों पर चर्चा की गई।

दोहा। दोहा में चल रही अफगान शांति वार्ता पिछले 10 दिनों से बंद पड़ी है। हालिया राजनयिक प्रयासों के बावजूद अफगान सरकार और तालिबान प्रतिनिधि किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सके हैं। इसी साल 29 फरवरी को दोहा में अमेरिका और तालिबान के बीच एक समझौता हुआ था।समझौते में अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के साथ ही अंतर अफगान वार्ता प्रमुख मुद्दे थे। उधर, सार-ए-उल प्रांत में सड़क किनारे हुए विस्फोट में अफगान सेना के 10 जवान और तीन नागरिक मारे गए हैं। अंतर अफगान वार्ता 12 सितंबर से शुरू हुई थी। दोनों पक्षों ने 20 में से 18 बिंदुओं पर सहमति व्यक्त की थी। तालिबान ने वार्ता को फिर से शुरू करने के बारे में कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं की है। हालांकि अफगान सरकार ने कहा है कि दोनों पक्षों के बीच समझौता होने तक बातचीत जारी रहेगी। इससे पहले अफगानिस्तान में अमेरिका के विशेष दूत जालमय खलीलजाद ने कहा कि अफगान शांति प्रक्रिया को पूरा होने में महीनों लग सकते हैं।उधर, तालिबान से वार्ता करने वाली समिति के चेयरमैन अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने शनिवार को कहा कि अगर अमेरिका अफगानिस्तान में मौजूद अपने सैनिकों की जल्द वापसी करता है तो इससे शांति वार्ता और देश की स्थिति पर कुछ फर्क पड़ सकता है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अफगानिस्तान किसी भी स्थिति के लिए पूरी तरह तैयार है।इससे कुछ दिन पहले तालिबान और अफगान सरकार के प्रतिनिधियों के संपर्क समूहों में तीन दिन की देरी के बाद फिर से बातचीत शुरू हुई थी। 12 सितंबर को अंतर-अफगान वार्ता की शुरुआत के बाद दोनों पक्षों द्वारा गठित समूहों ने लंबी बैठक की, लेकिन दो अहम बिंदुओं पर सहमति नहीं बन पाई है। एक अन्य सदस्य के मुताबिक, वार्ता को आगे बढ़ाने पर विचार-विमर्श किया जा रहा था। इसमें तय किया जा रहा था कि हमें दो अहम बुनियादी बिंदुओं पर सहमत होना है। हमें उन मूल्यों को इकट्ठा करना है, जो आज के अफगानिस्तान और भविष्य के अफगानिस्तान का निर्माण करेंगे। यह हमारी पहचान के लिए बहुत जरूरी है।एक अन्य सदस्य का कहना है कि कोई भी यह भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि मतभेद कब दूर होंगे। इस बीच, तालिबान ने कहा है कि 29 फरवरी को अमेरिका के साथ हुआ समझौता अफगान शांति वार्ता का मुख्य आधार है। इसे मान्यता दिए बिना वार्ता को जारी रखने का कोई मतलब नहीं है। शांति वार्ता का एजेंडा तय करने के लिए संपर्क समूह अब तक पांच बैठकें कर चुके हैं।

दुबई। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) यूएई में खेले जा रहे इंडियन प्रीमियर लीग यानी आइपीएल में अच्छा प्रदर्शन कर रही है। आरसीबी को पहले मैच अलग-अलग खिलाड़ियों ने जिताए थे, लेकिन बाद में कप्तान विराट कोहली को भी लय में देखा गया। खासकर शनिवार को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ विराट कोहली ने नाबाद 90 रन की पारी खेली और टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। इसी के दम पर टीम को बाद में जीत भी मिली। अब विराट कोहली ने खुलासा किया है कि उनको आइपीएल 2020 में कहां से मोमेंटम मिला।विराट कोहली ने कहा है कि आइपीएल के 13वें सीजन में मुंबई इंडियंस के खिलाफ सुपर ओवर में खेली गई पारी से उन्हें अपनी फॉर्म वापस पाने में मदद मिली है। कोहली ने 28 सितंबर को मुंबई इंडियंस के खिलाफ सुपर ओवर में बल्लेबाजी की थी, जहां उन्होंने अपनी टीम को जीत दिलाई थी। मुंबई के खिलाफ आरसीबी को आखिरी गेंद पर जीत के लिए एक रन बनाना था, लेकिन विराट कोहली ने चौका जड़ा था और टीम को शानदार जीत दिलाई। उस सुपर ओवर में वे जसप्रीत बुमराह के खिलाफ बल्लेबाजी कर रहे थे।आरसीबी के कप्तान विराट कोहली को सीएसके के खिलाफ 90 रनों की नाबाद पारी की बदौलत मैन ऑफ द मैच चुना गया। आइपीएल 2020 के शुरुआती मैचों में विराट कोहली 14, 1 और 3 रन ही बना पाए थे, लेकिन अगले ही मैच में उन्होंने वापसी की। कोहली ने चेन्नई के मैच के बाद कहा, "इससे पहले, मैं बहुत ज्यादा कुछ करने की सोच रहा था। अगर आप जिम्मेदारियों के बारे में ज्यादा सोचेंगे, तो इससे आपके ऊपर ज्यादा बोझ बढ़ जाएगा और एक खिलाड़ी के रूप में नहीं खेल पाएंगे। टीम की सफलता के लिए आपके कौशल का होना जरूरी है।"उन्होंने कहा, "वह सुपर ओवर जहां मुझे रन बनाने थे और वहां मैं आउट हो जाता और हम मैच हार जाते तो बड़ा दुख होता। हमने मैच जीता और इसके बाद ट्रेनिंग का आनंद लेना शुरू कर दिया और फिर बल्लेबाजी के लिहाज से अगले कुछ सेशन काफी अच्छे थे। मैं पिछले मैच में भी गेंद को अच्छे से हिट कर रहा था और आज भी यही चाहता था। इन सभी दिनों में ट्रेनिंग से भी अच्छी मदद मिली है।" कोहली ने चेन्नई के खिलाफ 39 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया और फिर इसके बाद उन्होंने 13 गेंदों पर 37 रन और जोड़ डाले।

शारजाह।लगातार दो करीबी मैचों में जीत से आत्मविश्वास से भरी कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) की टीम सोमवार को इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) में विराट कोहली की अगुआई वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) के खिलाफ मैच में इस लय को बरकरार रखना चाहेगी। दोनों टीमों के नाम छह मैचों में चार जीत के साथ आठ अंक हैं, लेकिन बेहतर नेट रनरेट के कारण केकेआर तालिका में आरसीबी से ऊपर है।केकेआर और आरसीबी दोनों की परेशानी बल्लेबाजी है, इन टीमों के मुख्य बल्लेबाज लय बरकरार रखने में नाकाम रहे हैं। केकेआर ने हालांकि चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) और किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ पिछले दो मैचों में आखिरी ओवरों में शानदार गेंदबाजी से मैच का पासा पलटा है जिससे टीम का मनोबल काफी बढ़ा होगा। आसीबी के खिलाफ भी गेंदबाज यह लय बरकरार रखना चाहेंगे। कप्तान कोहली की दमदार बल्लेबाजी से शनिवार को सीएसके को 37 रन से शिकस्त देने के बाद आरसीबी की कोशिश भी जीत की लय बरकरार रखने की होगी।केकेआर के लिए हांलांकि सबसे बड़ी चिंता की बात बड़े शॉट लगाने वाले आंद्रे रसेल की उपलब्धता होगी, जो शनिवार को पंजाब के खिलाफ मैच में कैच लेने की कोशिश में चोटिल हो गए। कप्तान दिनेश काíतक ने हालांकि मैच के बाद उनकी चोट के बार में ज्यादा कुछ नहीं बताया। उन्होंने कहा, 'जब भी रसेल चोटिल होते है, टीम की मुश्किलें बढ़ जाती हैं। वह विशेष, बहुत विशेष खिलाड़ी हैं। हमें देखना होगा और उनका ध्यान रखना होगा।'केकेआर के लिए कार्तिक का लय में आना शुभ संकेत है जिन्होंने पंजाब के खिलाफ 29 गेंद में 58 रन की शानदार पारी खेली। सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल भी लय में है। सुनील नरेन की जगह पारी का आगाज कर रहे राहुल त्रिपाठी ने सीएसके के खिलाफ 81 रन बनाए लेकिन पंजाब के खिलाफ उनका बल्ला नहीं चला। नितिश राणा और इंग्लैंड के कप्तान मोर्गन लगातार अच्छी बल्लेबाजी करने में विफल रहे है।शुरुआती मैचों में लचर बल्लेबाजी करने वाले कोहली के लय में आने से आरसीबी की बल्लेबाजी को बल मिला है। इस 31 साल के खिलाड़ी ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ 43 और फिर सीएसके के खिलाफ 90 रन की पारी खेली। सलामी बल्लेबाज देवदत्त पडीक्क्ल को छोड़कर दूसरे बल्लेबाजों के प्रदर्शन में निरंतरता नहीं रहीं है। आरोन फिंच और एबी डिविलियर्स लय हासिल करने के लिए जूझते दिख रहे है। गेंदबाजी में युजवेंद्रा सिंह चहल शानदार लय में है। दक्षिण अफ्रीका के ऑलराउंडर क्रिस मौरिस के आने से टीम के लिए इस विभाग में पैनापन आया है।

टीमें :

कोलकाता नाइटराइडर्स : दिनेश काíतक (कप्तान), आंद्रे रसेल, कमलेश नागरकोटी, कुलदीप यादव, लॉकी फग्र्यूसन, नितिश राणा, प्रसिद्ध कृष्णा, रिंकू सिंह, संदीप वॉरियर, शिवम मावी, शुभमन गिल, सिद्धेश लाड, सुनील नरेन, पैट कमिंस, इयोन मोर्गन, वरुण चक्रवर्ती, टॉम बेंटन, राहुल त्रिपाठी, क्रिस ग्रीन, एम सिद्धार्थ, निखिल नाइक, अली खान।

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु : विराट कोहली (कप्तान), एबी डिविलियर्स, पाíथव पटेल, आरोन फिंच, जोश फिलिप, क्रिस मौरिस, मोइन अली, मुहम्मद सिराज, शाहबाज अहमद, देवदत्त पडीक्कल, युजवेंद्रा सिंह चहल, नवदीप सैनी, डेल स्टेन, पवन नेगी, शिवम दुबे, उमेश यादव, गुरकीरत सिंह मान, वाशिंगटन सुंदर, पवन देशपांडे, एडम जांपा।

नई दिल्ली। राज्यों के लिए क्षतिपूर्ति राशि के मुद्दे पर जीएसटी परिषद सोमवार को एक बार फिर बैठक करने जा रही है। सूत्रों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, इस बैठक में क्षतिपूर्ति राशि को लेकर आम सहमति बनाने के लिये एक मंत्रिस्तरीय समिति गठित करने के गैर-भाजपा शासित राज्यों के सुझाव पर गौर किया जा सकता है। इस तरह केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में राज्यों के वित्त मंत्रियों वाली परिषद लगातार तीसरी बार जीएसटी राजस्व में कमी की क्षतिपूर्ति को लेकर चर्चा करने वाली है।गैर-भाजपा शासित राज्यों का सुझाव है कि क्षतिपूर्ति राशि के मुद्दे पर आम सहमति बनाने के लिए मंत्रिस्तरीय समिति का गठन किया जाए। हालांकि, भाजपा शासित राज्य कर्ज लेने के विकल्प पर पहले ही केंद्र से सहमत हो चुके हैं और उनका कहना है कि उन्हें अब कर्ज लेने की दिशा में आगे बढ़ने की अनुमति मिलनी चाहिए, जिससे उन्हें जल्द धन उपलब्ध हो सके।सूत्रों के अनुसार, सोमवार को होने वाली जीएसटी परिषद की 43वीं बैठक का एकसूत्रीय एजेंडा क्षतिपूर्ति के मुद्दे पर आगे का रास्ता निकालना होगा। इससे पहले पिछले सप्ताह जीएसटी परिषद की 42 वीं बैठक हुई थी। इस बैठक में यह फैसला लिया गया था कि कार, तंबाकू आदि जैसे विलासिता या अहितकर उत्पादों पर जून 2022 के बाद भी उपकर लगाया जायेगा। जीएसटी परिषद की इस बैठक में क्षतिपूर्ति के मुद्दे पर आम सहमति नहीं बन पायी थी।यहां आपको बता दें कि मौजूदा वित्त वर्ष में जीएसटी क्षतिपूर्ति राजस्व में 2.35 लाख करोड़ रुपये की कमी रहने का अनुमान है। क्षतिपूर्ति राशि के मुद्दे पर केंद्र ने अगस्त महीने में राज्यों को दो विकल्प दिये है। पहले विकल्प में भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा 97 हजार करोड़ रुपये के कर्ज के लिये विशेष सुविधा दी जानी है। वहीं, दूसरे विकल्प में पूरे 2.35 लाख करोड़ रुपये बाजार से जुटाने की बात है।

नई दिल्ली। आधार कार्ड एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है, जो व्यक्ति के जीवन में काफी काम आता है। बहुत सारे सरकारी व निजी कार्यों में आधार कार्ड की जरूरत पड़ जाती है। इसके अलावा कई प्रमुख दस्तावेजों के साथ आधार कार्ड को लिंक करवाने की आवश्यकता होती है। ऐसे में आधार की ऑनलाइन सेवाएं काफी अहम हो जाती हैं। आधार की ऑनलाइन सेवाएं पाने के लिए आधार कार्ड धारक को अपना मोबाइल नंबर Aadhaar Number जारी करने वाले संगठन भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण UIDAI के साथ रजिस्टर करवाना होता है।आधार कार्ड के लिए नामांकन कराते समय ही UIDAI के साथ मोबाइल नंबर को रजिस्टर करवाना होता है। अगर ऐसा नहीं हुआ है, तो बाद में भी मोबाइल नंबर को UIDAI के साथ रजिस्टर किया जा सकता है। इसके अलावा मोबाइल नंबर अपडेट भी किया जा सकता है।आवेदक को अपने आधार में मोबाइल नंबर अपडेट या रजिस्टर कराने के लिए कोई भी दस्तावेज जमा कराने की आवश्यकता नहीं होती है। आप आधार कार्ड के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, फोटो, बॉयोमैट्रिक्स, लिंग से जुड़े विवरण अपडेट करा सकते हैं। आइए जानते हैं कि आधार कार्ड के साथ मोबाइल नंबर रजिस्टर करवाने की क्या प्रक्रिया है। 

स्टेप 1. सबसे पहले आपको भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) की वेबसाइट https://www.uidai.gov.in/ पर जाना होगा और 'माय आधार' टैब पर जाकर 'लोकेट एन एनरोलमेंट सेंटर' पर क्लिक करना होगा।

स्टेप 2. अब स्क्रीन पर एक पेज खुलेगा, जहां से राज्य, पिन कोड और अपना पता दर्ज कर कार्डधारक अपने निकटतम नामांकन केंद्र का पता जान सकते हैं।

स्टेप 3. इसके बाद आपको अपने निकटतम नामांकन केंद्र जाना होगा और आधार सुधार फॉर्म भरना होगा।

स्टेप 4. इस आधार सुधार फॉर्म में आपको अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। यह वह एक्टिव मोबाइल नंबर होना चाहिए, जिसे कार्डधारक आधार के साथ अपडेट करवाना चाहता है।

स्टेप 5. अब आपको यह आधार सुधार फॉर्म सबमिट करना होगा और प्रमाणिकरण के लिए अपने बॉयोमेट्रिक्स देने होंगे।

स्टेप 6. इसके बाद आपको एक स्लिप मिलेगी। इस स्लिप में एक अपडेट रिक्वेस्ट नंबर (URN) दर्ज होगा।

स्टेप 7. आप इस अपडेट रिक्वेस्ट नंबर से आधार अपडेशन के स्टेटस को ट्रैक कर सकते हैं।

बॉलीवुड फिल्म स्टार आमिर खान की बेटी इरा खान ने बीते दिन ‘वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे’ के दिन एक वीडियो शेयर कर सभी को चौंका दिया है। आमिर खान की लाडली बेटी इरा खान ने एक वीडियो के जरिए बताया है कि वो डिप्रेशन का शिकार हैं। इतना ही नहीं इरा खान ने बताया है कि वो बीते 4 साल से डिप्रेशन की बीमारी को झेल रही हैं। उन्होंने कहा है कि वो क्लिनिक्ली डिप्रेस हैं और इसके लिए वो डॉक्टर्स से अपना इलाज करवा रही हैं। इरा खान ने अपने इस वीडियो को शेयर कर कहा है कि वो वीडियो के जरिए इस मुद्दे पर बात करना चाहती हैं। इसीलिए वो ये वीडियो शेयर कर रही है। इरा खान ने ये भी बताया है कि ये एक बीमारी है और इसे एक बीमारी की तरह लेना चाहिए।इरा खान ने इस वीडियो की शुरूआत करते हुए कहा, ‘मैं डिप्रेस्ड हूं’ इसके आगे वो कहती हैं, ‘मैं पिछले चार सालों से डिप्रेशन का शिकार हूं। मैं डॉक्टर के पास भी गई हूं और मैं क्लिनिक्ली डिप्रेस हूं। हालांकि अब मैं काफी अच्छा महसूस कर रही हूं। मैं पिछले एक साल से मेंटल हेल्थ को लेकर कुछ करना चाहती थी। लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं। तो मैंने सोचा कि आपको अपने सफर पर लेकर चलती हूं। देखते हैं आगे क्या होता है।’ इरा खान का ये वीडियो आप नीचे देख सकते हैं।इरा खान ने इस वीडियो को शेयर करते हुए कैप्शन भी काफी इमोशनल दिया है। उन्होंने लिखा, ‘बहुत कुछ चल रहा है, बहुत सारे लोग बहुत कुछ कह रहे हैं... चीजें वाकई काफी भ्रामक और तनावपूर्ण हैं और सीधी और ठीक हैं लेकिन ये ठीक नहीं हैं और जीवन के साथ नहीं है। ये सब कहने का कोई तरीका नहीं है। लेकिन मुझे लगता है कि मुझे एक रास्ता मिल गया है। या कम से कम समझ में आ गया है कि कैसे इसे थोड़ा और ज्यादा समझा जा सकता है। मेंटल हेल्थ और मेंटल बीमारी के बारे में। तो इस यात्रा पर मेरे साथ आइए... मेरी अपनी अजीब और विचित्र की आवाज, कभी-कभी बच्चे की तरह, लेकिन ये उतना ईमानदार होगा जितना हो सकता है। आइए चर्चा करें। हैप्पी वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे।’ 

नई दिल्ली। ग्रामीण भारत को बदलने और लाखों भारतीयों को सशक्त बनाने की दिशा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बस थोड़ी ही देर में संपत्ति कार्ड लॉन्च करेंगे। पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने जा रहे आयोजन में पीएम मोदी 'स्वामित्व' योजना के तहत भू-संपत्ति मालिकों को संपत्ति कार्ड वितरित करेंगे। इस दौरान लगभग एक लाख संपत्ति धारक अपने मोबाइल फोन पर आए एसएमएस लिंक के जरिए अपना संपत्ति कार्ड डाउनलोड करने में सक्षम होंगे। इसके बाद संबंधित राज्य सरकारों द्वारा संपत्ति कार्ड का भौतिक वितरण किया जाएगापंचायतीराज मंत्रालय के तहत स्वामित्व योजना इसी साल 24 अप्रैल को लॉन्च की गई थी। इस योजना के दायरे में आने वाले लोग ऋण आदि लेने के लिए संपत्ति कार्ड का उपयोग कर सकेंगे। पीएम मोदी आज छह राज्यों के 763 गांवों के लाभार्थियों को संपत्ति कार्ड जारी करेंगे। इसमें उत्तर प्रदेश के 346, हरियाणा के 221, महाराष्ट्र के 100, मध्य प्रदेश के 44, उत्तराखंड के 50 और कर्नाटक के 2 गांव शामिल हैं।केंद्र सरकार के एक बयान के मुताबिक महाराष्ट्र को छोड़कर इन सभी राज्यों के लाभार्थियों को एक दिन के भीतर प्रॉपर्टी कार्ड की भौतिक प्रतियां मिलेंगी। महाराष्ट्र में प्रॉपर्टी कार्ड की मामूली लागत की वसूली की व्यवस्था है, इसलिए इसमें एक महीने का समय लगेगा। सरकार को उम्मीद है कि इस कदम से ग्रामीणों द्वारा ऋण और अन्य वित्तीय लाभ लेने के लिए संपत्ति को वित्तीय संपत्ति के रूप में उपयोग करने का मार्ग प्रशस्त होगा।यह पहली बार है कि लाखों ग्रामीण संपत्ति मालिकों को लाभ पहुंचाने के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग कर इस तरह के बड़े पैमाने पर अभियान की शुरुआत की जा रही है। प्रधानमंत्री मोदी आयोजन के दौरान कुछ लाभार्थियों के साथ बातचीत भी करेंगे। केंद्रीय पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी मौजूद रहेंगे। इस योजना को चार साल (2020-2024) की अवधि में पूरे देश में लागू किया जाएगा और इसके दायरे में लगभग 6.62 लाख गांव शामिल होंगे।

न्यूयॉर्क। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप(Donald Trump) कोरोना से ठीक होने के बाद पहली बार एक सार्वजनिक कार्यक्रम में पहुंचे। ट्रंप भारी संख्या में मौजूद अपने समर्थकों के सामने बिना मास्क के आए। उन्होंने मंच पर ही मास्क को हटाया। कोरोना से रिकवर होने के बाद यह पहला मौका था जब ट्रंप सार्वजनिक तौर पर बाहर आए। अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस की बालकनी से ट्रंप ने ऐलान किया कि वह बहुत अच्छा महसूस कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि आपको पता चले कि हमारा देश इस भयानक चीनी वायरस को हराने जा रहा है। ट्रंप ने खुद भले ही मास्क ना लगाया हो लेकिन उन्होंने सैकड़ों लोगों की जिस भीड़ को संबोधित किया वह मास्क पहने हुए थे। इस कार्यक्रम में बहुत कम शारीरिक दूरी का पालन किया गया। ट्रंप ने तो यहां तक कह दिया कि कोरोना अब गायब हो रहा है।अमेरिकी राष्ट्रपति ने लोगों को उनकी प्रार्थनाओं के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि वह आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए बड़ी रैलियां करेंगे। उन्होंने कहा, हम बहुत बड़ी रैलियां और सब कुछ शुरू कर रहे हैं क्योंकि हम अपने देश को समाजवादी राष्ट्र नहीं बनने दे सकते हैं। ट्रंप ने चीन पर भी निशाना साधते हुए कहा कि अमेरिका 'चीनी वायरस' को हराने जा रहा है।अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप(Donald Trump) और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप बीते हफ्ते कोरोना पॉजिटिव पाए गए। ट्रंप के कोरोना पॉजिटिव होने से ज्यादा उनके इतने जल्दी ठीक होने से दुनियाभर में लोग हैरान हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खुद इस बात की जानकारी दी कि वह कैसे कोरोना से इतनी जल्द रिकवर हो गए। ट्रंप के मुताबिक, कोरोना के इलाज के लिए कई दवाओं के साथ Regeneron REGN-COV2 एंटीबॉडी ड्रग भी दी गई। उन्होंने बताया कि यह सबसे अहम थी और इससे उन्हें काफी अच्छा महसूस हुआ। उन्होंने देशवासियों से कहा कि वह सभी के लिए उसी दवा का इंतजाम करेंगे, जिससे वह ठीक हुए हैं।

Page 9 of 1526

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें