Editor

Editor

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने होम लोन्स (Home loans) पर स्पेशल ऑफर्स की घोषणा की है। बैंक ने कहा कि एसबीआई में होम लोन के लिए आवेदन करने वालों को तीन अतिरिक्त लाभ मिलेंगे। ये हैं- जीरो प्रोसेसिंग शुल्क, 30 लाख से अधिक और एक करोड़ से कम के होम लोन के लिए उच्च सिबिल स्कोर वाले ग्राहकों को 0.10 फीसद की ब्याज छूट और ग्राहक द्वारा एसबीआई योनो एप से आवेदन करने पर 0.05 फीसद की अतिरिक्त छूट। इस तरह एसबीआई होम लोन पर ग्राहकों को तीन अतिरिक्त लाभ दे रहा है।गौरतलब है कि भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के चलते रेपो रेट को घटाकर 4 फीसद पर ले आने से  होम लोन पर ब्याज दरें एक दशक के निचले स्तर पर आ गई हैं। एसबीआई में सभी नए होम लोन बाहरी बेंचमार्क से लिंक्ड हैं, जो इस समय 6.65 फीसद है। एसबीआई की ईबीआर रेपो रेट से लिंक्ड है। इस समय एसबीआई में होम लोन पर ब्याज दर वेतनभोगी ग्राहकों के लिए 6.95 फीसद से 7.45 फीसद के बीच और स्व रोजगार वाले ग्राहकों के लिए 7.10 से 7.60 फीसद के बीच है।एसबीआई ने ट्वीट कर होम लोन पर ऑफर की जानकारी ग्राहकों को दी है। इस ट्वीट में एक वीडियो भी है, जिसमें बारी-बारी से तीनों लाभों के बारे में बताया गया है।प्रोसेसिंग फीस में छूट से कर्ज लेने वालों को लोन राशि के 0.40 फीसद तक की बचत भी हो जाती है।  एक्सपर्ट्स के अनुसार, इस समय एमसीएलआर या बीपीएलआर लिंक्ड दरों वाले बैंकों के होम लोन ग्राहकों के पास रेपो-लिंक्ड दर पर होम लोन की पेशकश करने वाले बैंकों में अपने लोन को ट्रांसफर करवाने का अच्छा मौका है।

टीवी इंडस्ट्री में कई ऐसी टीवी एक्ट्रेस है जो कमाई और पॉपुलैरिटी के मामले में अपने पति से काफी आगे है। इस लिस्ट में टीवी की कई ऐसी हसीनाओं के नाम शामिल है जोकि हाईएस्ट पेड एक्ट्रेस है।

सनाया ईरानी-मोहित सहगल
 सनाया ईरानी टीवी इंडस्ट्री का जाना-पहचाना नाम है। साल 2016 में मोहित सहलग और सनाया ईरानी की शादी हुई थी। कमाई और पॉपुलैरिटी में सनाया मोहित से काफी आगे है। 
रुबीना दिलाइक-अभिनव शुक्ला
रुबीना दिलाइक ने टीवी पर कई बड़े शोज किए हैं। इस लिस्ट में 'छोटी बहू', 'शक्ति अस्तित्व के एहसास की' शामिल है। साल 2018 में रुबीना और अभिनव की शादी हुई थी। शादी से पहले ही रुबीना टीवी इंडस्ट्री में छाई हुई है। रुबीना टीवी की मंहगी एक्ट्रेस में से एक है।

पॉपुलैरिटी के मामले में सौम्या टंडन  अपने पति से काफी आगे है।

भारती सिंह-हर्ष लिम्बाचिया

भारती सिंह से शादी करने से पहले हर्ष लिम्बाचिया को काफी कम लोग ही जानते थे। शादी के बाद अब हर कोई हर्ष लिम्बाचिया को पहचानने लगे हैं।

अनीता हसनंदानी-रोहित रेड्डी

अनीता हसनंदानी और रोहित रेड्डी ने लव मैरिज की थी। लोग रोहित को अनीता की वजह से ही पहचानते है। वहीं अनीता भी टीवी की डिमांडिंग और मंहगी एक्ट्रेस है।

संजीदा शेख-आमिर अली

संजीदा और आमिर अली की शादी 8 साल पहले हुई थी। दोनों ने कई शोज में साथ में किया था लेकिन संजीदा को आमिर से ज्यादा पॉपुलैरिटी मिली थी। आज भी संजीदा के पास काम के ऑफर्स आते ही रहते हैं।

दिव्यांका त्रिपाठी-विवेक दहिया
दिव्यांका त्रिपाठी और विवेक दहिया टीवी के क्यूटेस्ट कपल्स में से एक है। दिव्यांका टीवी की हाईएस्ट पेड

 दीपिका कक्कड़-शोएब इब्राहिम 

दीपिका कक्कड़ ने कुछ साल पहले ही बिग बॉस का खिताब अपने नाम किया था। शोएब भी टीवी के मशहूर एक्टर है लेकिन कमाई के मामले में दीपिका उनसे आगे है।

बॉलीवुड के प्रतिभाशाली और दिग्गज अभिनेताओं में से एक परेश रावल को गुरुवार को प्रतिष्ठित नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा नियुक्ति जारी की गई और केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने ट्विटर पर इसकी घोषणा की। प्रहलाद सिंह पटेल ने लिखा, 'प्रसिद्ध कलाकार परेश रावल को राष्ट्रपति भवन द्वारा नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। मुझे खुशी है कि स्टूडेंट्स और कलाकार उनके टैलेंट का लाभ उठा पाएंगे। मैं उन्हें बधाई देता हूं।'एनएसडी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर रेश रावल को बधाई देते हुए लिखा है, 'हम भारत के माननीय राष्ट्रपति को सूचित करते हुए खुशी महसूस कर रहे हैं, राष्ट्रपति ने प्रसिद्ध अभिनेता और पद्म श्री परेश रावल को नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया है।' एनएसडी परिवार आपका नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने और मार्गदर्शन के लिए स्वागत करता है।'परेश रावल भी अध्यक्ष के रूप में अपने नए कार्यकाल को लेकर उत्साहित हैं। अपनी नियुक्ति पर पीटीआई से बात करते हुए, अभिनेता ने कहा, 'यह चुनौतीपूर्ण होने है, लेकिन मजेदार भी होगा। मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूंगा क्योंकि यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसे मैं बहुत अच्छी तरह से जानता हूं।' परेश रावल प्रमुख रंगमंच कलाकार अर्जुन देव चरण की जगह लेंगे जो पहले एनएसडी की कमान संभाल रहे थे।संस्कृति मंत्रालय ने भी अभिनेता की इच्छाओं को बढ़ाया और उनके प्रशंसकों ने भी ऐसा ही किया। इसी बीच बॉलीवुड अभिनेता रितेश देशमुख ने भी परेश रावल को बधाई देते हुए ट्वीट किया, 'परेश भाई को नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किए जाने पर शुभकामनाएं।' परेश रावल जल्द ही वरुण धवन और सारा अली खान की फिल्म 'कुली नंबर 1' में नजर आएंगे।

टीवी सितारे कोरोना वायरस के खौफ के साथ शूटिंग कर रहे हैं। कोरोना वायरस गाइडलाइन्स फॉलो होने के बाद भी कोरोना के केस कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। बीते कुछ समय में टीवी शोज के सेट पर कोरोना वायरस के मामलों में इजाफा हुआ है। वहीं टीवी सितारे भी अब तेजी से कोरोना की चपेट में आने लगे हैं। इसी बीच खबरें आ रही हैं कि बिग बॉस के घर में सात फेरे ले चुकी अदाकारा सारा खान की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस बात का खुलासा खुद सारा खान ने ही किया है।कुछ समय पहले ही सारा खान ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर की है। इस पोस्ट में सारा खान ने लिखा है कि, 'ये दुखद है कि मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है। कोरोना वायरस होने के बाद मुझे डॉक्टर्स ने घर पर आइसोलेट होने की सलाह दी है। मैं फिलहात ठीक हूं। मुझे उम्मीद है कि जल्द ही मैं कोरोना वायरस को मात दे दूंगी।'इस पोस्ट को शेयर करने के कुछ समय बाद ही सारा खान ने एक स्टेटमेंट भी जारी की है। इस स्टेटमेंट में कोरोना के बारे में बात करते हुए सारा खान ने लिखा है कि, 'मैंने कोरोना पॉजिटिव होने के बाद शूटिंग से कुछ समय का ब्रेक ले लिया है। कुछ समय से मेरी तबियत ठीक नहीं थी। टेस्ट करवाने पर मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव निकली है। मैं मेरे डॉक्टर की सभी सलाह पूरी तरह से मान रही हूं।' बता दें कि सारा खान इन दिनों सीरियल 'संतोषी मां सुनाए वृत कथा' में देवी पॉलोमी का किरदार निभा रही हैं।आगे सारा खान ने कहा कि, 'फिलहाल मुझे कोरोना के ज्यादा लक्षण नहीं नजर आ रहे हैं। एहतियात के दौर पर मैं घर में कुछ घरेलु नुस्खों का भी इस्तेमाल कर रही हूं। मैंने परिवार के लोगों से भी दूरी बना ली है। मैं उन सभी लोगों से गुजारिश करना चाहती हूं जो लोग मेरे संपर्क में आए हैं वो सभी अपना कोरोना टेस्ट जरुर करवाएं।' गौरतलब है कि इससे पहले भी सारा खान लाइमलाइट बटोर चुकी हैं। लिप सर्जरी बिगड़ जाने के बाद सारा खान ने सोशल मीडिया पर अपना दर्द बयान किया था। जिसके बाद हर कोई सारा खान के बारे में ही बात करता नजर आया था।

अपनी बोल्ड तस्वीरों से लोगों को दीवाना बनाने वाली पूनम पांडे ने लॉन्गटाइम बॉयफ्रेंड सैम बॉम्बे संग शादी रचा लीहै।सैम बॉम्बे पूनम पांडे पर जान छिड़कते है और ये तस्वीर इस बात की गवाह है। इस तस्वीर को सैम ने पूनम पांडे के जन्मदिन पर शेयर किया था।सैम बॉम्बे पूनम पांडे को काफी लम्बे समय से जानते है। फैंस सोशल मीडिया के माध्यम से इनसे लगातार यही पूछते थे कि आखिर दोनों शादी कब करेंगे पूनम पांडे और सैम बॉम्बे सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। कुछ घंटे पहले ही पूनम पांडे और सैम बॉम्बे ने शादी की खबर देकर हर किसी को चौंका दिया है। फैंस अब दोनों को ही जिंदगी के नए पड़ाव की शुभकामनाएं देने में जुटे हुए हैं।पूनम पांडे की शादी की तस्वीरें फैंस के लिए सरप्राइज से कम नहीं है। इस तस्वीर में पूनम पांडे लाल जोड़े में शरमाती हुई दिख रही है।पूनम पांडे और सैम बॉम्बे की इस तस्वीर को फैंस सबसे ज्यादा पसंद कर रहे हैं। पूनम पांडे को बांहों में लेकर जिस अंदाज में सैम बॉम्बे शैम्पेन की बॉटल खोल रहे है, इस अंदाज की तारीफ किए बिना फैंस नहीं रह पा रहे हैं।वाकई में शादी की खबर इस तरह से देकर पूनम पांडे ने बम ही फोड़ दिया है।शादी के बाद पूनम पांडे ने सैम बॉम्बे के साथ पोज दे-देकर खूब तस्वीरें क्लिक करवाई है।पूनम और सैम बॉम्बे की शादी की तस्वीरें देखिए........

शादी के जोड़े में शरमाई पूनम पांडे       पूनम पांडे ने लगाई सैम बॉम्बे के नाम की मेंहदी       गुपचुप सैम बॉम्बे की हो गई पूनम पांडे       दुल्हन बनकर पूनम पांडे ने दिया खूब पोज

 

पटना।निर्वाचन आयोग (Election Commission) ने बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा अभी नहीं की है, लेकिन सभी दल इसकी तैयारियाें में जुट गए हैं। गत विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) की तरह इस बार भी भारतीय जनता पाटी (BJP) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के सहारे है। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री इस बार भी बीते चुनाव की तरह ही रैलियां करेंगे। इनमें छह तो चुनाव की घोषणा से पहले संपन्‍न होंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुरुवार के 294 करोड़ रुपयों की योजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास कार्यक्रम को भी चुनावी सौगात माना जा रहा है। प्रधानमंत्री ने गुरुवार को बिहार में मत्स्यपालन, पशुपालन व कृषि विभागों से जुड़ी योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास किया। इस दौरान उन्‍होंने आत्मनिर्भर बिहार के लिए आवाज बुलंद की।

बिहार को संबोधित करते हुए खांटी भोजपुरी हो गया पीएम का अंदाज;-बिहार के लोगों को संबोधित करने की बारी आई तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अंदाज खांटी भोजपुरी हो गया। कहा कि रउआ सभे के प्रणाम बा, देसवा खातिर, गांव और व्यवस्था मजबूत करे खातिर, मछली पालन करे खातिर। सैकड़ों करोड़ रुपये की योजना शुभारंभ भईल ह। हमार गांव 21वीं सदी के भारत, आत्मनिर्भर बिहार की ताकत बने। ऊर्जा बने। श्वेत क्रांति यानी दूध उत्पादन, नीली क्रांति यानी मछली उत्पादन और मधु क्रांति खातिर प्रधानमंत्री संपदा योजना बनावल गइल बा। मेरी बात को लिख लीजिए कि पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन क्षेत्र में भविष्य उज्ज्वल है। इसी के साथ उन्होंने विधानसभा चुनाव से पहले बिहार को सौगात देने का सिलसिला शुरू कर दिया।

बिहार सहित 21 प्रदेशों को दी 17 सौ करोड़ की योजनाओं की सौगात;-गुरुवार को हुए वर्चुअल समारोह में प्रधानमंत्री ने बिहार सहित कुल 21 प्रदेशों को 17 सौ करोड़ रुपये की योजनाओं की सौगात दी। सभी योजनाएं पशुपालन, मत्स्य और डेयरी से संबंधित हैं। हालांकि, उनका फोकस बिहार पर रहा, जहां नवंबर में विधानसभा चुनाव संभावित है। बिहार में उन्‍होंने पशुपालन, मत्स्य और डेयरी से संबंधित 294.53 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया।

पशुपालन, मत्स्य और डेयरी क्षेत्र में पहली बार इतना बड़ा निवेश:-कहा कि आजादी के बाद पहली बार इतनी बड़ी राशि का निवेश सरकार पशुपालन, मत्स्य और डेयरी क्षेत्र में कर रही है। देश में पहली बार अलग से मंत्रालय बनाया गया है। लक्ष्य यह भी है कि आने वाले तीन-चार वर्षों में मछली निर्यात को दोगुना किया जाए। इससे रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। गो-पालकों और मछली उत्पादकों से बात करने के बाद मुझे नई ऊर्जा मिली है। इससे पूर्व उन्होंने पटना, मधेपुरा, पूर्णिया, किशनंगज, सीतामढ़ी, समस्तीपुर और बेगूसराय जिले के लिए विभिन्न योजनाओं की घोषणा की। सौगातों का यह सिलसिला दिनों के अंतराल के साथ 23 सितंबर तक चलेगा।

बेहतर काम के लिए मुख्यमंत्री की सराहना;-बिहार में विकास के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पीठ थपथपाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि चार-पांच साल पहले तक सिर्फ दो फीसद घरों के लोगों को स्वच्छ पेयजल मिलता था। वर्तमान में यह आंकड़ा 70 फीसद हो गया है। बिहार के 60 लाख घरों को नल से जल की आपूर्ति सुनिश्चित हुई है। गंगा डॉल्फिन योजना से नीतीश बाबूजी ज्यादा उत्साहित हैं। इससे गंगा स्वच्छता अभियान को बल मिलेगा।

परिश्रम के बूते सशक्त और समर्थ हैं गांव:-ग्रामीणों के परिश्रम की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना कल में जब सारे काम बंद थे, तब भी गांवों से मंडियों तक दूध-दही, सब्जी-फल, अनाज आदि की आपूर्ति होती रही। बिहार के 75 लाख किसान पशुपालन, मत्स्य और डेयरी उद्योग से जुड़े हुए हैं। उनके बैंक खाते में छह हजार करोड़ रुपये जमा हुए हैं। ऐसे ही अनेक प्रयासों के कारण गांवों पर वैश्विक महामारी का असर नहीं पड़ा। कोरोना के साथ बाढ़ की विभीषिका का भी सामना करने में हम सफल हुए हैं। बिहार के हर जरूरतमंद तक लाभ पहुंचाने के लिए मुफ्त राशन योजना को बढ़ा दिया गया है। बिहार अब उत्तम देसी नस्लों के पशुओं के विकास का केंद्र बन रहा है। डेयरी क्षेत्र में बिहार की स्थिति मजबूत होने वाली है। पूर्णिया में बना सेंटर देश के एक प्रमुख सेंटर है। पूर्वी भारत को इसका सर्वाधिक लाभ मिलेगा। देसी पशुओं के संरक्षण को और बढ़ाया मिलेगा।

जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान से बड़े बदलाव तय:-आइवीएफ की मदद से एक गाय से कई नस्ल तैयार हो रहे। ई-गोपाला एप एक ऐसा ऑनलाइन डिजिटल माध्यम होगा, जिससे पशुपालकों को उन्नत पशु को चुनने में आसानी होगी। इस एप से किसान पता कर सकेंगे उनके पशु के लिए कहां सस्ता इलाज उपलब्ध होगा। पशु आधार नंबर डालने से उस पशु से संबंधित तमाम जानकारी मिल जाएगी। बिहार कृषि, पशुपालन और मत्स्य पालन से जुड़ी पढ़ाई का अहम केंद्र रहा है। बहुत कम लोगों को पता है कि असली पूसा दिल्ली में नहीं, बल्कि बिहार के समस्तीपुर जिले में है। जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान की ताकत से देश के ग्रामीण जीवन में बड़े बदलाव तय हैं। लीची, आम, मखाना और मधुबनी पेंटिंग का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हम लोकल के लिए जितना वोकल होंगे, बिहार उतना ही ज्यादा आत्मनिर्भर बनेगा। श्रीविधि धान की खेती, लीज पर जमीन लेकर सब्जी उगाने और सशक्त महिलाओं के बूते बिहार आत्मनिर्भर बन कर उभरेगा। ऐसे उत्साही किसानों के लिए केंद्र सरकार ने विशेष फंड सृजित किया है। आर्थिक मदद आसानी से मिल जाएगी। बहनों को भी आसानी से ऋण मिलेगा। उन्होंने स्वयं सहायता समूह के काम की सराहना की।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने किया उद्घाटन भाषण;-समारोह को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने संबोधित किया। आखिर में प्रधानमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर बिहार बनाने के लिए काम करते रहेंगे। मेरी आप से कुछ अपेक्षाएं है। मास्क और दो गज की दूरी के नियम का पालन जरूर करिए। सुरक्षित रहिए, स्वस्थ्य रहिए। घर में बड़ी आयुवालों को संभाल कर रखिए।

चुनाव प्रचार के लिए पीएम करेंगे करीब 30 रैलियां;-बीजेपी 2015 के विधानसभा चुनाव की तरह ही इस बार भी नरेंद्र मोदी से सर्वाधिक रैलियां करवाने की तैयारी कर रही है। विधानसभा चुनाव की घोषणा से पहले ऐसी छह रैलियां होने जा रहीं हैं। ये रैलियां 13, 15, 18, 21 और 23 सितंबर को होंगी, जिनमें उद्घाटन, शिलान्यास और घोषणाएं की जाएंगी। विदित हो कि चुनाव आचार संहिता लागू होने से पहले विभिन्न योजनाओं-परियोजनाओं के उद्घाटन व शिलान्यास कार्यक्रमों में तेजी आ गई है। बताया जाता है कि इसी कड़ी में सितंबर महीने के अंत तक प्रधानमंत्री दरभंगा एयरपोर्ट पर कमर्शियल सेवा की शुरुआत करेंगे। इसके साथ दरभंगा देश के अन्य हिस्सों से हवाई मार्ग से जुड़ जाएगा। इसके अलावा चुनाव की घोषणा के बाद करीब प्रधानमंत्री की दो दर्जन से अधिक रैलियाें की योजना है। विदित हो कि 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भी नरेंद्र मोदी की 30 रैलियां हुई थीं।

वर्चुअल होंगीं रैलियां, शामिल रहेंगे सीएम नीतीश;-कोरोना संक्रमण के दौर में प्रधानमंत्री का बिहार आकर रैली करना संभव नहीं है, इसलिए ये रैलियां वर्चुअल ही होंगी। इनमें बीजेपी के अलावा राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के घटक दलों के प्रमुख नेताओं की सहभागिता भी रहेगी। बिहार से मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार भी जुड़ेंगे।

नई दिल्‍ली/न्‍यूयॉर्क। एक वॉलेंटियर की शिकायत के बाद एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) ने अपनी कोरोना वैक्सीन के अंतिम दौर के ट्रायल को टाल दिया है। समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक, इस वाकए के कुछ ही घंटे बाद व्हाइट हाउस के कोरोना टास्क फोर्स में शामिल अमेरिका के शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञों ने एलान किया कि अब कोविड-19 वैक्‍सीन तभी लॉन्‍च होगी जब वह पूरी तरह से सुरक्षित होगी। उधर इस वाकए के बाद भारत में भी इस वैक्‍सीन के ट्रायल को फ‍िलहाल रोक दिया गया है।समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कहा कि हम गंभीरता से स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं और जब तक कि एस्ट्राएनेका (AstraZeneca) परीक्षण शुरू नहीं करती है... भारत में परीक्षणों को रोक रहे हैं। हम ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (Drug Controller General of India, DGCI) के निर्देशों का पालन कर रहे हैं। फ‍िलहाल परीक्षणों पर आगे टिप्पणी नहीं कर पाएंगे।दूसरी ओर अमेरिका में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के निदेशक फ्रांसिस कोलिन्स ने वैक्सीन की सुरक्षा पर सीनेट की सुनवाई के दौरान कहा कि जैसे ही वे कहेंगे कि यह प्रभावी है मैं इस पर काम करने के लिए तैयार रहूंगा। एनआईएच प्रमुख फ्रांसिस कोलिन्स और अमेरिकी सर्जन जनरल जेरोम एडम्स ने अमेरिकियों को भरोसा देने की मांग की कि शॉट्स को विकसित करने में सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जाएगा।हालांकि एस्ट्राजेनेका ने अभी तक यह खुलासा नहीं किया है कि वैक्सीन से हुई बीमारी क्या है। ट्रायल के दौरान सामने आई यह बीमारी वैक्सीन परीक्षण के दुष्प्रभाव का नतीजा है या उससे अलग कोई नई बीमारी है। कंपनी ने बीमारी के बारे में कुछ भी नहीं बताया है। हालांकि एनआईएच प्रमुख फ्रांसिस कोलिन्स ने कहा कि यह रीढ़ की हड्डी की समस्या है। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि यह सूजन से संबंधित सिंड्रोम है जो रीढ़ को प्रभावित करता है।चौंकाने वाली बात है कि यह ताजा घटनाक्रम बॉब वुडवर्ड (Bob Woodward) के एक नई किताब में खुलासे के बाद हुआ है। उक्‍त किताब में ट्रंप से बातचीत का हवाला देते हुए कहा गया है कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति वायरस से खेलना चाहते थे जबकि उनको पता था कि यह वायरस (Covid-19) कितना घातक था। किताब में कहा गया है कि ट्रंप को पता था कि यह बीमारी हवा के जरिए फैल रही है बावजूद इसके उन्होंने सार्वजनिक रूप से अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने के लिए दबाव डाला। हाल के महीनों में उस ख‍बर के बाद तो चिंताएं और बढ़ गई जिसमें कहा गया था कि ट्रंप सुरक्षित और प्रभावी वैक्‍सीन साबित होने से पहले ही अमेरिकी खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) पर इसको जल्दबाजी में मंजूरी देने के लिए दबाव डालने वाले हैं। चौंकाने वाली बात यह कि एफडीए प्रमुख डॉ. स्टीफन हैन पहले ही कह चुके हैं कि एजेंसी दोगुनी उपलब्धता के साथ वैक्सीन लोगों के बीच में लाने के लिए कानूनी प्रक्रिया तक को बाइपास करने को तैयार है।हालांकि अमेरिकी सरकार के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ और व्हाइट हाउस कोरोनो टास्क फोर्स के एक सदस्य डॉ. एंथोनी फॉसी ने एलान कर दिया है कि चाहे जो हो जाए अब तो जब तक यह वैक्‍सीन सुरक्षित और प्रभावी नहीं हो जाती तब तक अमेरिकियों के लिए इसको लाने के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी। फॉसी ने उन अटकलों को भी खारिज कर दिया ज‍िनमें कहा जा रहा था कि अमेरिकी चुनाव से पहले वैक्सीन बाजार में लाई जाएगी।

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को रैपिड एंटीजन टेस्ट (Rapid Antigen Tests) के सभी लक्षण वाले निगेटिव मामलों की दोबारा जांच करने को कहा है, ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार पर अंकुश लगाने के तहत कोई पॉजिटिव मामला छूट न जाए। आरटी-पीसीआर (RT-PCR Test) के माध्यम से निगेटिव मामलों की जांच की जाएगी।मंत्रालय ने इस तरह के मामलों के लिए हर जिले और राज्य स्तर पर एक नामित अधिकारी या टीम के माध्यम से एक निगरानी तंत्र स्थापित करने का आग्रह किया है। ये टीमें जिलों और राज्यों में दैनिक रूप से किए गए रैपिड एंटीजन टेस्ट (आरएटी) के विवरणों का विश्लेषण करेंगी और यह सुनिश्चित करेंगी कि लक्षण वाले सभी नकारात्मक मामलों की जांच में देरी न हो।मंत्रालय ने कहा कि कुछ बड़े राज्यों में रैपिड एंटीजन टेस्ट में निगेटिव आए लक्षण वाले मामलों का आरएटी-पीसीआर से जांच नहीं की जा रही है। आईसीएमआर और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों में साफ तौर पर कहा गया है कि सभी कोरोना लक्षण (बुखार, खांसी या सांस की तकलीफ) वाले मामले जो एंटीजन टेस्ट ने निगेटिव आए हैं, उनका आरटी-पीसीआर परीक्षण आवश्यक रूप से किया जाना चाहिए। इसमें कहा गया है कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कोई भी संभावित पॉजिटिव मामला न छूटे। आरटी-पीसीआर परीक्षण के दौरान पॉजिटिव मामलों की निगरानी के लिए नियमित आधार पर विश्लेषण करने की सलाह दी गई है।बता दें कि एंटीजन टेस्ट और आरटी- पीसीआर दोनों से ही कोरोना वायरस की जांच की जाती है।इसमें नाक और गले से स्वैब लिया जाता है। एंटीजन टेस्ट का रिजल्ट आने में 20 मिनट का समय लगता है, जबकि आरटी- पीसीआर टेस्ट का नतीजा 3-4 घंटे घंटे में आता है। कोरोना वायरस के लिए इसे सबसे सटीक माना जाता है। एंटीजन टेस्ट में रिजल्ट अगर पॉजिटिव आता है तो इसकी विश्वसनीयता लगभग 100 फीसदी होती है, लेकिन निगेटिव मामलों में यह 30-40 फीसद ही कारगर है। इसलिए निगेटिव आने की स्थिति में आरटी-पीसीआर टेस्ट करने की सलाह दी जाती है।

मुंबई। दिवगंत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) से जुड़े ड्रग मामले में गिरफ्तार अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को बुधवार को भायखला जेल भेज दिया गया। मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने मंगलवार को रिया को एनडीपीएस एक्ट की धारा 16/20 के तहत गिरफ्तार किया गया है। वहीं, गुरूवार को रिया चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर मुंबई की विशेष अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। शोविक चक्रवर्ती, रिया चक्रवर्ती, अब्दुल बासित, जैद विलात्रा, दिपेश सावंत और सैमुअल मिरांडा की जमानत याचिका पर दिनभर चली सुनवाई के बाद अदालत ने अपना फैसला कल तक के लिए सुरक्षित रखा है। ये सभी सुशांत सिंह राजपूत मामले से संबंधित ड्रग्स के मामले में NCB द्वारा गिरफ्तार किए गए हैं।एनसीबी ने रिया को मंगलवार को अदालत में पेश किया था। अदालत ने रिया को 22 सितंबर तक के लिए 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। रात हो जाने के चलते रिया को मंगलवार की रात जेल नहीं ले जाया जा सका और उसे एनसीबी के लॉकअप में ही रात गुजारनी पड़ी थी। बुधवार सुबह सवा दस बजे एनसीबी अभिनेत्री को भायखला जेल लेकर गई। अब अभिनेत्री की तरफ से उनके वकील सतीश मानेशिंदे ने बुधवार को सत्र अदालत में जमानत याचिका दायर की है, जिस पर आज सुनवाई होगी।

भायखला जेल में बंद हैं इंद्राणी मुखर्जी:-भायखला जेल में कुल 18 बैरक है और 350 महिला अंडरट्रायल मुल्जिमो की कैपेसिटी है। इस जेल में जेलर से लेकर बाकी जेल कर्मचारी महिलाएं ही है सिर्फ 10 प्रतिशत पुरुष जेल कर्मचारी है। इस जेल में शीना बोरा केस की आरोपी इंद्राणी मुखर्जी भी बंद हैं।

सुशांत के पिता ने मनोचिकित्सक के खिलाफ दी शिकायत:-उधर, सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह ने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया को पत्र लिखकर अपने बेटे की मनोचिकित्सक डॉ. सुसान वॉकर के खिलाफ शिकायत की है। पत्र में उन्होंने सुशांत की चिकित्सा स्थिति को सार्वजनिक करने का आरोप लगाया है। केके सिंह ने लिखा है कि मेडिकल काउंसिल (प्रोफेशनल कंडक्ट एटिकेट एंड एथिक्स) रेगुलेशन, 2002 के 8.2 रेगुलेशन के तहत एक पंजीकृत चिकित्सक अपने मरीज की गोपनीयता को भंग नहीं कर सकता।

वाशिंगटन। नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के कारनामों से दुनिया के तमाम बड़े देश हैरान परेशान रहे हैं। इसी कड़ी में एक किताब में तानाशाह के कारनामों की एक और दहशत का खुलासा किया गया है। इस किताब में ये लिखा गया है कि साल 2017 में जब तानाशाह ने लगातार मिसाइलों का परीक्षण किया तो उससे अमेरिका सहित अन्य देशों के रक्षा सचिव खासे परेशान थे।अमेरिकी रक्षा सचिव तो इतने अधिक दहशत में थे कि वो अपनी वर्दी पहनकर ही सो जाते थे। इस किताब में ट्रंप के रक्षा सचिव माइक पोम्पिओ के बारे में भी बताया गया है। ये भी लिखा गया है कि पोम्पिओ नॉर्थ कोरिया के इस खुले युद्ध विराम से कितने चिंतित थे। इस किताब का नाम रेज ‘Rage’है और इसके लेखक बॉब वुडवर्ड (Bob Woodward) है। ये किताब इसी माह 25 सितंबर को प्रकाशित की जाएगी।दरअसल साल 2017 के दौरान नॉर्थ कोरिया ने हाई-प्रोफाइल मिसाइल परीक्षणों की एक श्रृंखला आयोजित की। इनमें कोरिया ने अपनी लंबी दूरी तक मार करने वाली अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का भी परीक्षण किया था। कुल मिलाकर नॉर्थ कोरिया ने लगभग दो दर्जन मिसाइलें दागीं। कोरिया के पास 30 से 40 परमाणु हथियार का अनुमान है। उन्होंने अपनी इस किताब में लिखा है कि जब कोरिया अपनी इन मिसाइलों का परीक्षण कर रहा था, उस दौरान रक्षा सचिव इतने अधिक डरे हुए थे कि वो अपनी वर्दी में ही सोने चले जाते थे। वो कपड़े भी नहीं बदलते थे, ये सब दहशत के कारण था।नॉर्थ कोरिया की केसीएनए (कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी) के अनुसार मिस्टर वुडवर्ड वाटरगेट कांड के दौरान अपनी रिपोर्टिंग के लिए प्रसिद्ध हो गए थे। उन्होंने कई अमेरिकी राष्ट्रपतियों और उनके प्रशासन पर किताबें प्रकाशित की हैं। अपने तमाम तरह के कामों के लिए वुडवर्ड ने कई प्रमुख अधिकारियों और राष्ट्रपतियों का पहले भी इंटरव्यू किया है।उन्होंने ट्रम्प प्रशासन के कई प्रमुख अधिकारियों का साक्षात्कार लिया और स्वंय राष्ट्रपति के साथ 18 बैठकें की हैं। सीएनएन की पुस्तक की समीक्षा में यह भी पता चला कि जनरल मैटिस ने वाशिंगटन नेशनल कैथेड्रल का दौरा किया, जब नॉर्थ कोरिया लगातार मिसाइलों का परीक्षण कर रहा था।2017 में नॉर्थ कोरिया के मिसाइल प्रक्षेपण ने ट्रम्प को हिंसक प्रतिक्रिया के साथ नॉर्थ कोरिया को धमकाया था। 8 अगस्त को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा था कि नॉर्थ कोरिया संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए किसी तरह से खतरा नहीं है। यदि वो ऐसी हिमाकत करेंगे तो उनके साथ ऐसा होगा कि दुनिया ने ऐसी तस्वीर अभी तक नहीं देखी होगी। वो गुस्से की आग में जलकर राख हो जाएंगे।राष्ट्रपति ट्रंप ने नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन को "छोटा रॉकेट मैन" भी कहा। जनरल मैटिस ने दिसंबर 2018 में सीरिया से एक योजनाबद्ध अमेरिकी सेना की वापसी के विरोध में ट्रंप प्रशासन से इस्तीफा दे दिया। अपने त्याग पत्र में उन्होंने लिखा कि क्योंकि आपके पास रक्षा सचिव रखने का अधिकार है जिनके विचार इन और अन्य विषयों पर आपके साथ बेहतर गठबंधन हैं, मेरा मानना ​​है कि मेरे लिए अपने पद से हटना सही है।नई पुस्तक के अनुसार जनरल मैटिस ने ट्रंप को खतरनाक माना। उसके बाद उन्होंने अमेरिकी दुश्मनों से हाथ मिलाया और ये प्लान बनाया कि अमेरिका को कैसे नष्ट किया जाए। उन्होंने अपने इस्तीफे की पेशकश करने की सूचना दी है। शुरुआती विवाद के बाद ट्रंप प्रशासन और नॉर्थ कोरिया के बीच संबंधों में उल्लेखनीय सुधार हुआ। जून 2018 में ट्रंप नॉर्थ कोरिया के नेता किम जोंग उन से मिलने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बने थे। उस समय इस जोड़ी ने सिंगापुर में एक शिखर सम्मेलन आयोजित किया था। इसके बाद अगले साल वियतनाम और उत्तर-दक्षिण कोरियाई सीमा पर भी बैठक हुई थी।2018 में एक अभियान रैली में ट्रंप ने ये भी कहा था कि वो किम जोंग-उन के साथ पत्रों का आदान-प्रदान भी कर रहे हैं। उन्होंने टिप्पणी की कि पहले में नॉर्थ कोरिया के लिए बहुत सख्त था, इस वजह से किम जोंग भी सख्ती दिखा रहे थे। मगर समय बदला, फिर हम एक दूसरे से बातचीत करने लगे। उन्होंने मुझे बहुत सुंदर पत्र लिखे थे उनको मैं बार-बार पढ़ता था।

Page 7 of 1493

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें