Editor

Editor

टीवी सीरियल 'पवित्र रिश्ता' में नजर आ चुकीं आशा नेगी एक बार फिर से सुर्खियों में छाई हुई हैं। बीते कुछ दिनों आशा नेगी अपनी निजी जिंदगी के चलते सुर्खियां बटोर रही थी। रित्विक धनजानी संग ब्रेकअप के चलते चर्चा में आई आशा नेगी की जिंदगी में किसी खास शख्स ने एंट्री मार ली है। दरअसल हाल ही में आशा नेगी अपने कुछ खास दोस्तों संग गेट टुगेदर करती हुई नजर आई थी। इस पार्टी में आशा नेगी टीवी एक्टर अर्जित तनेजा संग दिखी थी। आशा नेगी और अर्जित तनेजा की एक तस्वीर पर उनकी कजिन ने कमेंट किया है। तभी से हर कोई यही अनुमान लगा रहा है कि जल्द ही आशा नेगी के घर पर शहनाई बजने वाली है।आशा नेगी (Asha Negi) और अर्जित तनेजा की तस्वीर पर 'पवित्र रिश्ता' फेम एक्ट्रेस की कजिन ने लिखा था, 'ये बंदा कितना हॉट है।' इसके बाद आशा नेगी ने रिप्लाई किया था, 'हां काफी और काफी अच्छा भी है। बात करुं तेरी?' इस पर आशा की कजिन लिखती है, 'हां करो ना मैं लहंगा सिलवा लेती हूं यहां।'इस चैट को शेयर करते हुए आशा नेगी ने इंस्टाग्राम स्टोरी पर लिखा था, 'जब मैं और मेरी कजिन अर्जित तनेजा को घर का दामाद बनाने की प्लानिंग कर रहे थे। अब अर्जित तुम्हारे पास कोई भी ऑप्शन भी नहीं है।' आशा नेगी के इस पोस्ट पर अर्जित ने भी मस्ती भरे अंदाज में लिखा था, 'हां मैं तब तक शेरवानी बनवा लेता हूं।'

नीचे देखें आशा नेगी की ये पोस्ट...

बॉलीवुड डेब्यू के लिए तैयार हैं आशा नेगी;-आशा नेगी कुछ दिन पहले ही एकता कपूर की नई वेब सीरीज 'बारिश 2' में नजर आई थी। उसके बाद आशा नेगी ने कुणाल खेमू संग 'अभय 2' में काम किया था। जल्द ही आशा नेगी फिल्म 'लूडो' में अहम भूमिका में नजर आने वाली हैं।

'कहीं तो होगा' और 'कसौटी जिंदगी के 2' फेम एक्ट्रेस आमना शरीफ इन दिनों जमकर फोटोशूट करवा रही हैं। इसी महीने की शुरूआत में 'कसौटी जिंदगी के 2' ऑफ एयर हुआ है। ऐसे में आमना शरीफ ने अपने घरवालों के साथ समय बिताने का फैसला लिया है। इस बीच समय मिलते ही आमना शरीफ खुद पर भी खूब ध्यान दे रही हैं। आमना शरीफ ने मौका पाते ही अपनी खास दोस्त के साथ स्विमिंग पूल में चिल मारने का फैसला लिया। इस दौरान की ढेर सारी तस्वीरों को आमना शरीफ ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी शेयर किया है।इन तस्वीरों को शेयर करते हुए आमना शरीफ ने कैप्शन में लिखा है, 'एक्वाहॉलिक..।' आमना शरीफ इन तस्वीरों में सफेद रंग की मोनोकिनी में दिख रही हैं। साथ ही उनका काले रंग का चश्मा पूरे लुक में चार चांद लगा रहा है।

कोमोलिका बनकर लाखों दिलों पर किया राज:-टीवी इंडस्ट्री में एकता कपूर ने ही आमना शरीफ को लॉन्च किया था। स्टार प्लस पर आने वाले सीरियल 'कहीं तो होगा' में आमना शरीफ ने कशिश नाम की एक संस्कारी बेटी का रोल अदा किया था। वहीं 'कसौटी जिंदगी के 2' में आमना शरीफ ने खूंखार कोमोलिका का रोल अदा किया था। कोमोलिका के रोल में हर किसी ने आमना शरीफ को पसंद किया था।

बिग बॉस 14 से जुड़ा था नाम:-बीते दिनों खबरें आई थी कि आमना शरीफ बिग बॉस 14 का हिस्सा हो सकती हैं। लेकिन अदाकारा की ओर से इस मामले में कोई भी बयान नहीं आया था। वहीं 'बिग बॉस 14' को शुरू हुए अब दो हफ्ते भी पूरे होने वाले हैं।

कोच्चि। केरल सोना तस्करी मामले में आतंकी संपर्कों की जांच कर रहे राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने विशेष अदालत में बताया कि इस रैकेट में माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम के गिरोह की भूमिका हो सकती है। एजेंसी ने कहा कि सोने की तस्करी से मिलने वाले मुनाफे का इस्तेमाल राष्ट्रविरोधी गतिविधियों और आतंकी कृत्यों में होने की संभावना संबंधी खुफिया जानकारी है। इसमें कहा गया है कि मामले में जांच को आगे बढ़ाने के लिए 180 दिन तक सभी आरोपियों को न्यायिक हिरासत में रखा जाना अत्यंत आवश्यक है। एजेंसी ने सभी आरोपियों की जमानत याचिकाओं का विरोध किया।एनआइए ने कहा कि हिरासत के दौरान मामले के पांचवें आरोपी रमीज ने खुलासा किया है कि वो तंजानिया में एक हीरा कारोबार शुरू करने वाला था और इसके बाद वह तंजानिया में एक सोने का खनन लाइसेंस प्राप्त लेने की कोशिश में था। उसने तंजानिया से सोना लाने और यूएई में बेचने के बारे में भी बताया। एजेंसी ने अपनी दलील में यूएन सिक्योरिटी काउंसिल सैंक्शन्स कमिटी की ओर से दाऊद इब्राहिम पर की गई टिप्पणी का भी ज़िक्र किया है।केरल सोना तस्करी मामले की प्रमुख आरोपित स्वप्ना सुरेश को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जमानत मिल गई है। वह अभी जेल में ही रहेगी, क्योंकि सोना तस्करी से संबंधित अन्य मामलों में भी उसे गिरफ्तार किया गया है। एनआइए ने उसके खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम का भी प्रयोग किया है। कोर्ट ने स्वप्ना की जमानत अर्जी पर पिछले सप्ताह फैसला सुरक्षित रख लिया था। उसे सीमा शुल्क विभाग द्वारा की जा रही जांच से संबंधित मामले में भी जमानत मिल चुकी है। सीमा शुल्क ने 60 दिनों की निर्धारित समयसीमा के भीतर अंतिम रिपोर्ट दाखिल नहीं कराई, जिस कारण उसे जमानत मिल गई।राजनयिक चैनल से राज्य में हो रही सोना तस्करी की जांच में एनआइए, ईडी और सीमा शुल्क विभाग जुटा है। तिरुअनंतपुरम में पांच जुलाई को सीमा शुल्क द्वारा राजनयिक सामान में लगभग 14.42 करोड़ रुपये का 30 किलो सोना पकड़े जाने के बाद यह मामला सामने आया था।

पटना।भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने गुरुवार को शाहाबाद (Shahabad) व मगध (Magadh) क्षेत्र में दो चुनावी रैलियां (Election Rallies) को संबोधित किया। शाहाबाद की रैली में उन्‍होंने कहा कि राजनीति में नारे लगाना आसान है, लेकिन गरीब जनता की सेवा वही कर सकता है, जिसका 56 इंच का सीना होता है। औरंगाबाद के गोह गांधी मैदान में नड्डा ने कहा कि जहां NDA है वहां विश्वास है। जहां NDA है वहां विकास है। जहां NDA है वहीं आगे बढ़ने की ताकत है। उन्होंने कहा कि उत्तम प्रजा तंत्र की व्यवस्था ये है कि नेता धूप में तपे और जनता छाय में रहे। उन्होंने कहा कि जिस देश का प्रधानमंत्री ही प्रधानसेवक हो, वहां हम सब जनता के लिए तपने के लिए तैयार हैं। 

मोदी ने जनता के बीच पहुंचाया रिपोर्ट कार्ड:-नड्डा ने कहा कि पहले चुनाव जाति और मजहब के आधार पर होता था। रिपोर्ट कार्ड लेकर जनता के बीच में जाने का काम किसी ने सिखाया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिखाया है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पांच साल पहले बिहार के विकास के लिए एक लाख 25 हजार करोड़ का पैकेज दिया था। एक लाख 25 हजार करोड़ रुपये के ऊपर मोदी ने 40 हजार करोड़ रुपये और भी बिहार के विकास के लिए दिए हैं। इसके पहले गया के गांधी मैदान से बिहार में एक्‍चुअल चुनावी रैलियों (Actual Election Rallies) की शुरुआत करने वाले जेपी नड्डा एक हफ्ते के अंदर चार चुनावी रैलियां कर रहे हैं। विदित हो कि शाहाबाद क्षेत्र में बीजेपी के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह (Rajendra Singh) लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के टिकट पर दिनारा में प्रत्‍याशी हैं। यहां जनता दल यूनाइटेड (JDU) प्रत्याशी व मंत्री जयकुमार सिंह (Jai Kumar Singh) राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA)  के प्रत्‍याशी हैं। सासाराम विधानसभा सीट (Sasaram Assembly Seat) पर बीजेपी के राष्ट्रीय मंत्री रामेश्वर चौरसिया (Rameshwar Chaurasia) प्रत्‍याशी हैं।

गुरुवार को रोहतास के बाद औरंगाबाद में रैली:-गुरुवार को नड्डा की पहली रैली रोहतास के विक्रमगंज स्थित राजकीय इंटर कॉलेज मैदान में हुई। इसमें उन्‍होंने काराकाट विधानसभा क्षेत्र (Karakat Assembly Seat) से बीजेपी प्रत्याशी राजेश्वर राज (Rajeshwar Raj) के अलावा अन्य एनडीए प्रत्याशियों के लिए वोट मांगे। साथ ही विपक्ष (Opposition) पर जमकर हमले किए। इसके बाद औरंगाबाद जिले (Aurangabad district) के गोह गांधी मैदान में उनकी रैली हुई। गोह से बीजपी प्रत्याशी मनोज शर्मा (Manoj sharma) चुनाव मैदान में हैं।

शुक्रवार को बांका में करेंगे चुनाव प्रचार;-आगे शुक्रवार को जेपी नड्डा बांका में बीजेपी प्रत्‍याशी व मंत्री रामनारायण मंडल Ram Narayan Mandal) के लिए रैली करेंगे।

रांची राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के  सरसंघचालक डा. मोहन भागवत ने कहा कि देश को आगे ले जाने के लिए समाज में  व्याप्त विषमता मिटानी होगी। इसके लिए समता समर्थक लोगों को साथ लेकर चलते हुए मन के भाव में बदलाव लाने का प्रयास करना होगा। कानून तो कितने बने, लेकिन आचरण में जब तक नहीं उतरेगा तब तक उसका लाभ लोगों को नहीं मिल पाएगा। आरक्षण के लिए कानून तो बने हैं, लेकिन इसका लाभ सबको नहीं मिल पा रहा है। जिनका प्रभुत्व जहां है वो इसका लाभ ले रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी इसे माना है। वैसे समाज में जब तक जरूरत है आरक्षण लागू रहना चाहिए। इसका मेरा पूरी तरह से समर्थन है।वे पुणे में  दतोपंत ठेंगड़ी जन्मशताब्दी समारोह में सामाजिक समरसता विषय पर आयोजित व्याख्यान माला में अपनी बात रख रहे थे। मोहन भागवत ने कहा, सामाजिक समरसता के लिए अपने आचरण में बदलाव लाना होगा। हमे करके दिखाना होगा। देश में व्याप्त विषमता को उखाड़ फेंकने के लिए समाज में परिवर्तन लाना होगा।कहा, जिन्हें देश के टुकड़े करना है उन्हें समाज में एकता लाना बर्दास्त नहीं होगा। क्रांति के रास्ते समाज में समरसता नहीं लाई जा सकती है। डा. बाबा साहेब ने भी कहा था कि विधि सम्मत रास्ते से ही समस्या का समाधान संभव है। 

समरसता के बिना समता संभव नहीं:-संघ प्रमुख ने कहा कि समरसता के बिना समता संभव नहीं है। इसके लिए हमें तैयार रहना होगा। झुकना पड़े तो पीछे नहीं हटूंगा। कहा, जो ऊपर है उन्हें झुकना पड़ेगा और जो नीचे है उन्हें हाथ बढ़ाना पड़ेगा तभी समाज का उत्थान होगा।

अपने आचरण का उदाहरण पेश करना होगा:-समाज में समरसता लाने के लिए अपने आचरण का उदाहरण लोगों के सामने पेश करना होगा। पहले करके दिखाना होगा, फिर दूसरे को बताना। संघ के स्वयंसेवक कर रहे हैं, सामाजिक. समरसता मंच के लोगों को भी करना चाहिए। हमे मिलकर पर्व, त्योहार व उत्सव मनाना चाहिए। अपनी भाषा को ठीक करनी चाहिए। न्याय के पक्ष में उठने वाली आवाज के साथ खड़ा होना चाहिए। सारा समाज अपना है इस भाव को लेकर काम करना है संविधान की प्रस्तावना सबके आचरण में आए इसके लिए वाणी का दिया जलाकर समरसता को लोगों के हृदय में उतारना है और बाबा साहेब को यह बता देना होगा कि वह दिन नहीं आएगा कि फिर से हमारी स्वतंत्रता चली जाएगी।

लखनऊ। हाथरस के बूलगढ़ी गांव में दलित युवती के साथ कथित दुष्कर्म के दौरान मारपीट के कुछ दिन बाद उसकी मौत के मामले की जांच सीबीआइ कर रही है। इसी बीच सुप्रीम कोर्ट में भी कई याचिका डाली गई हैं। हाथरस मामले पर आज यानी गुरुवार को सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया ।हाथरस केस की एक याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने अब इस प्रकरण की अन्य सभी सुनवाई इलाहाबाद हाई कोर्ट को करने का निर्देश दिया है।चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया की बेंच इस मामले की सुनवाई कर रही है।सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई सीबीआई जांच को लेकर दायर याचिका पर थी, लेकिन इस दौरान बार-बार पीड़ित पक्ष ने मामले का ट्रायल दिल्ली शिफ्ट करने की अपील की। सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा कि इस मामले को लेकर अब अन्य किसी अर्जी पर विचार नहीं होगा। कोर्ट को दुनिया भर का परामर्श नहीं चाहिए। इस दौरान बार-बार पीड़ित पक्ष ने मामले का ट्रायल दिल्ली शिफ्ट करने की अपील की। चीफ जस्टिस एसए बोबड़े ने याचिका पर आज सुनवाई के दौरान कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट सुनवाई करे और वह निर्णय ले, वही बेहतर होगा। इस प्रकरण में किसी भी वादी के न्याय का अधिकार तो इलाहाबाद हाई कोर्ट के क्षेत्र में ही है।याचिका में गवाहों को सुरक्षा का आदेश देने की मांग की गई थी। रिटायर्ड जज की निगरानी में सीबीआई जांच वाली मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। सुनवाई मामले की जांच सीबीआई या एसआइटी से किसी रिटायर्ड जज की निगरानी में करवाने वाली याचिका पर थी। इस सुनवाई के दौरान माहौल थोड़ा गर्म भी हुआ, जब टोकाटाकी से चीफ जस्टिस के नाराज होने पर पीड़िता की वकील सीमा कुशवाह को माफी मांगनी पड़ी।

सीमा कुशवाह ने चीफ जस्टिस से मांगी माफी:-कोर्ट टिप्पणी कर रहा था इसी दौरान पीड़ित परिवार की वकील सीमा कुशवाह ने एक बार फिर कहा कि मामले का ट्रायल दिल्ली ट्रांसफर किया जाए। इस पर चीफ जस्टिस ने सीमा कुशवाहा से पूछा कि आपको बीच में बोलने की इजाजत किसने दी। इसके बाद सीमा कुशवाहा ने कोर्ट से माफी मांगी।

सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार ने पीड़िता के परिवार की सुरक्षा के बारे में बताया:-सुप्रीम कोर्ट में सॉलिस्टर जनरल तुषार मेहता उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से पेश हुए। उन्होंने बताया कि पीड़िता के परिवार की सुरक्षा के लिए क्या-क्या किया गया है। उन्होंने इसको लेकर हलफनामा दाखिल किया। इसमें बताया गया कि पीडि़ता के पिता, मां, दो भाई, भाभी, दादी को सुरक्षा दी गई है। इसके साथ ही गांव में नाके पर और पीडि़त परिवार के घर के बाहर सीसीटीवी लगाया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि इस मामले में कोई बाहरी और अजनबी लोग ना आएं। पीड़ित, सरकार, एजेंसी सब हैं फिर गैरजरूरी घुसपैठ क्यों। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से सॉलिसीटर जनरल ने कहा कि अभी वहां पर सुरक्षा के मामले में परिवार को सीआरपीएफ की जरूरत नहीं है। वहां पर पर्याप्त सुरक्षा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हम कोर्ट के हर आदेश का पालन करेंगे।तुषार मेहता ने कहा कि लड़की के माता-पिता का नाम सार्वजनिक किया जा रहा है जो हर तरह से गलत है और आपराधिक गतिविधि है। सुप्रीम कोर्ट में इंदिरा जयसिंह ने अपील करते हुए कहा कि परिवार को केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी से सुरक्षा दी जानी चाहिए। चीफ जस्टिस ने कहा कि हमने पीड़ित, सरकार और आरोपी को सुन लिया है, यही अहम है। बाकी किसी बाहरी को नहीं सुनेंगे। इतना कहने के साथ ही कोर्ट उठ गई और आदेश रिजर्व रख लिया है।

कोई हाथरस पीड़िता के नाम पर पैसा नहीं बना सकता है: तुषार मेहता:-सुप्रीम कोर्ट में सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने तीस्ता शीतलवाड़ का भी जिक्र किया। उन्होंने इस मामले में पार्टी बनने का आवेदन दिया है। इस पर तुषार मेहता ने कहा कि तीस्ता का इस मामले से कोई लेना देना नहीं है। मेहता ने आगे कहा कि कोई हाथरस के नाम पर पैसा नहीं बना सकता है। 

 जम्मू-कश्मीर में नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के श्रीनगर स्थित आवास पर सर्वदलीय बैठक चल रही है। इस बैठक में नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख महबूबा मुफ्ती भी उपस्थित हैं। इससे पहले पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती वीरवार को श्रीनगर में नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के घर पर सर्वदलीय बैठक के लिए पहुंचीं। महबूबा की रिहाई के बाद कश्मीर में सियासी गतिविधियां तेज हो गई हैं। बुधवार को महबूबा ने करीब सवा साल बाद वरिष्ठ नेताओं से पहली बैठक की तो वहीं नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला और उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने महबूबा से मुलाकात की। वीरवार को डॉ. फारूक के निवास पर होने वाली अहम बैठक में महबूबा के अलावा वे नेता रहेंगे, जिन्होंने चार अगस्त 2019 को गुपकार घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किए थे।गौरतलब है कि पांच अगस्त 2019 की तड़के हिरासत में ली गई महबूबा को बीती रात रिहा किया है। सुबह महबूबा ने गुपकार मार्ग पर सरकारी निवास पर पीडीपी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की। दो घंटे चली बैठक में महबूबा ने कहा कि सभी लंबी लड़ाई के लिए तैयार रहें। कश्मीर के हालात व अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई। दोपहर बाद डॉ. फारूक अपने पुत्र उमर संग महबूबा से मिले। 40 मिनट तक पिता-पुत्र ने जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम के खिलाफ मिलकर आगे बढ़ने और गुपकार घोषणा को सियासी एजेंडा बनाने पर विचार-विमर्श किया।उन्होंने घोषणापत्र पर हस्ताक्षर करने वाले सभी दलों के नेताओं के साथ वीरवार शाम होने वाली बैठक के लिए महबूबा को न्योता दिया। महबूबा ने स्वीकार किया है। बातचीत में उमर ने कहा कि महबूबा का कुशलक्षेम जानने गए थे। जम्मू-कश्मीर से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर बातचीत हुई है। उमर ने महबूबा के निवास पर हुई बैठक को लेकर ट्वीट किया। इसके बाद महबूबा ने ट्विटर पर लिखा कि आपका और फारूक सहब का मेरे घर आना अच्छा लगा है। डॉ. फारूक ने मुझे यकीन है कि हम मिलकर हालात को बेहतर बना सकते हैं।

 

सज्जाद ने भी बैठक:-पीपुल्स कांफ्रेंस (पीसी) के वरिष्ठ नेताओं के दल ने सज्जाद गनी लोन से बैठक की। पीसी गुपकार घोषणा की भागीदार है। सज्जाद ने बैठक के बारे में बातचीत से इन्कार किया, लेकिन उनके करीबी ने बताया कि वीरवार को होने वाली बैठक में पार्टी गुपकार घोषणा के एजेंडे को आगे लेने के लिए तैयार है।

जानें, क्या है गुपकार घोषणा;-चार अगस्त 2019 की शाम को डॉ. फारूक अब्दुल्ला के निवास पर महबूबा मुफ्ती, पीपुल्स कांफ्रेंस के चेयरमैन सज्जाद गनी लोन, अवामी नेशनल कांफ्रेंस के मुजफ्फर शाह, कांग्रेस नेता जीए मीर व कश्मीर के अन्य छोटे बड़े राजनीतिकि दलों के नेताओं की बैठक हुई थी। इसमें भाजपा शामिल नहीं थी। बैठक में सभी नेताओं ने घोषणापत्र तैयार कर हस्ताक्षर किए। घोषणापत्र में कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे से छेड़छाड़ नहीं होने दी जाएगी। इसी घोषणा को गुपकार घोषणा कहते हैं।

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण को लेकर अब बयानबाजी भी शुरू हो गई है। पराली से चार फीसद प्रदूषण वाले केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेड़कर के बयान पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। केजरीवाल ने कहा कि बार-बार इनकार करने से कोई मदद मिलने वाली नही है। अगर पराली जलाने से सिर्फ चार फीसद प्रदूषण होता है तो अचानक रात में प्रदूषण कैसे फैल गया।सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर केंद्रीय मंत्री से यह जानने की कोशिश की कि पिछले एक पखवाड़े में दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण अचानक क्यों बढ़ गया है। इससे पहले तो हवा बिल्कुल हवा साफ थी। उन्होंने कहा कि यही कहानी हर साल होती है। सर्दियों के दिनों में राजधानी दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों में प्रदूषण बढ़ जाता है।इससे पहले केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने कहा था कि दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के लिए पराली का जलना प्रमुख कारक नहीं है। उन्होंने कहा कि इससे सिर्फ चार फीसद प्रदूषण होता है। बाकी प्रदूषण धूल, निर्माण कार्य और बायोमास जलने जैसे स्थानीय कारकों से होता है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री ने भी जावेड़कर को घेरा:-केंद्रीय पर्यावरण मंत्री के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि जावेड़कर के अनुसार, दिल्ली के प्रदूषण में पराली का केवल 4 फीसद का ही योगदान है। 15 दिन पहले एयर क्वालिटी इंडेक्स सामान्य था, मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि दिल्ली के लोगों ने 15 दिनों में क्या किया जिससे इस तरह की स्थिति पैदा हुई।गोपाल राय ने कहा कि केंद्रीय मंत्री के बयानों से ऐसा लग रहा है कि वह प्रदूषण फैलाने वाले राज्यों (हरियाणा-पंजाब) का बचाव कर रहे हैं। हम दिल्ली में प्रदूषण से लड़ने के उपाय कर रहे हैं और दिल्ली के बाहर प्रदूषण के स्रोत पर केंद्र से सहयोग चाहते हैं

आम आदमी पार्टी ने भी की केंद्रीय मंत्री के बयानों की आलोचना;-वहीं समाचार एजेंसी पीटाआइ के अनुसार, आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता व विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि 2019 में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने कहा था कि पराली जलने से दिल्ली में वायु प्रदूषण 44 फीसद होता है। राघव ने कहा कि पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने कहा है कि पंजाब और हरियाणा में पराली जलने से 44 फीसद प्रदूषण दिल्ली में होता है। जावेड़कर यह कैसा बयान दे रहे हैं?।

नई दिल्‍ली। सेना प्रमुख (Army chief) जनरल मनोज मुकुंद नरवाने (Gen MM Naravane) ने गुरुवार को कहा कि पाकिस्तान सर्दियों की शुरुआत से पहले आतंकियों की बड़े पैमाने पर घुसपैठ कराने और हथियार भेजने की नापाक कोशिश कर रहा है लेकिन भारतीय सेना (Indian Army) की मुस्‍तैदी के चलते उसके मंसूबे कामयाब नहीं हो पा रहे हैं। हमारे जवान आतंकवाद प्रभावी ढंग से आतंकियों की घुसपैठ को विफल कर रहे हैं।आतंकवाद-रोधी अभियानों में हालिया सफलताओं पर बोलते हुए सेना प्रमुख (Gen Manoj Mukund Naravane) ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कोशिशों को बार बार नाकाम बनाए जाने से यह स्‍पष्‍ट हो गया है कि हमारी आतंकवाद रोधी और घुसपैठ रोधी ग्रिड बेहद प्रभावी है। बता दें कि सुरक्षा बलों ने बीते 24 सितंबर से 15 अक्टूबर तक कुल 17 आतंकवादियों का खात्‍मा किया है जिसमें पाकिस्‍तानी समेत तीन विदेशी शामिल हैं।पूर्वी लद्दाख सेक्टर में चीन के साथ चल रहे तनाव के मसले पर सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने बीते दिनों कहा था कि पूरा देश इस समय सेना की ओर देख रहा है ऐसे में हर परिस्थितियो में हमें जोश और देशभक्ति दोनों के साथ काम करने की जरूरत है। सेना प्रमुख ने यह भी कहा था कि भारतीय सेना ने चीन की हर चुनौती का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार है।उल्‍लेखनीय है कि सेना प्रमुख का यह बयान ऐसे समय आया है जब 14 अक्‍टूबर की सुबह सेना ने पाकिस्‍तान की ओर से किए गए एक बड़े बैट हमले को नाकाम किया है। प्राप्‍त जानकारी के मुताबिक, उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण रेखा के साथ सटे टंगडार (कुपवाड़ा) सेक्टर में भारतीय सेना के जवानों ने बुधवार को पाकिस्तानी सेना के बैट हमले को नाकाम कर दिया। इस दस्ते में पाकिस्तानी सेना के कमांडो और आतंकी थे जो जान बचाकर वापस भाग गए।  

नई दिल्ली। पाकिस्तान से जल्द 133 लोगों की घर वापसी होने जा रही है। पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग के मुताबिक, 'पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग 19 अक्टूबर को पाकिस्तान से 133 भारतीय नागरिकों की भारत वापसी की सुविधा प्रदान कर रहा है।' बताया गया है कि सूची में शामिल लोगों के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। सूची में शामिल लोगों को वापसी के लिए निर्धारित तिथि पर वाघा / अटारी सीमा पर पहुंचने के लिए कहा गया है।

Page 4 of 1526

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें