Editor

Editor

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के प्रसार की वजह से देशभर में लॉकडाउन चल रहा है। इसके बावजूद बैंक खुले हुए हैं। हालांकि, बैंक कम स्टाफ के साथ चल रहे हैं लेकिन सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए बैंकों ने कई तरह के कदम उठाए हैं। इसके तहत बैंकों के कामकाजी घंटे कम कर दिए गए हैं। इसी बीच आपके लिए यह जानना जरूरी है कि देश के अलग-अलग हिस्सों में विभिन्न बैंकिंग हॉलीडे के कारण अप्रैल में नौ दिन बैंक बंद रहेंगे। इन छुट्टियों के अलावा हर दूसरे और चौथे शनिवार को बैंकों में कामकाज नहीं होता है। ऐसे में अगर हम शनिवार और रविवार को भी मिला लें तो इसका मतलब यह है कि देश के अलग-अलग हिस्सों में इस महीने बैंकों में 15 दिन छुट्टी रहेगी। रिजर्व बैंक की वेबसाइट के मुताबिक अप्रैल, 2020 में राम नवमी, महावीर जयंती, गुड फ्राइडे, बीहू, तमिल न्यू ईयर जैसे त्योहारों की वजह से बैंकों में कामकाज नहीं होगा। बैंकों के बंद होने पर पैसे जमा करना, पासबुक अपडेट कराना, चेक क्लियरेंस जैसी बैंकिंग गतिविधियां शामिल हैं।
अप्रैल में बैंकों में छुट्टी की पूरी सूची इस प्रकार हैः
01 अप्रैल बैंकों की वार्षिक बंदी सभी रेंज
02 अप्रैल रामनवमी अहमदाबाद, बेलापुर, भोपाल, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, देहरादून, हैदराबाद, जयपुर, कानपुर, लखनऊ, मुंबई, नागपुर, पटना, रांची, शिमला
05 अप्रैल रविवार सभी रेंज
06 अप्रैल महावीर जयंती अहमदाबाद, बेलापुर, बेंगलुरु, भोपाल, चंडीगढ़, चेन्नई, जयपुर, कानपुर, लखनऊ, मुंबई, नागपुर, नई दिल्ली, रायपुर, रांची
10 अप्रैल गुड फ्राइडे लगभग सभी रेंज (शिमला, श्रीनगर, जयपुर, जम्मू, अगरतला और अहमदाबाद को छोड़कर)
11 अप्रैल दूसरा शनिवार सभी रेंज
12 अप्रैल रविवार सभी रेंज
13 अप्रैल बीजू, बीहू, वैशाखी अगरतला, गुवाहाटी, इंफाल, जम्मू, श्रीनगर
14 अप्रैल अंबेडकर जयंती/ बंगाली नववर्ष/ तमिल नववर्ष/ बोहग बीहू लगभग सभी रेंज
15 अप्रैल बोहग बीहू/ हिमाचल दिवस गुवाहाटी, शिमला
19 अप्रैल रविवार सभी रेंज
20 अप्रैल गड़िया पूजा अगरतला
25 अप्रैल चौथा शनिवार सभी रेंज
26 अप्रैल रविवार सभी रेंज

नई दिल्ली। सरकार ने डायग्नोस्टिक किट्स के निर्यात पर शनिवार को रोक लगा दी। इन किट्स के निर्यात को हतोत्साहित करने की दृष्टि से सरकार ने यह कदम उठाया है। डायरेक्टरेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड की ओर से जारी एक नोटिफिकेशन में कहा गया है, ''डायग्नोस्टिक किट्स के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगायी जा रही है।'' इस कदम से Covid-19 संकट से मुकाबले में मदद मिलेगी क्योंकि अधिक-से-अधिक मरीजों की टेस्टिंग के लिए इन किट्स की जरूरत है। इससे पहले इस तरह के उत्पादों के निर्यात पर किसी तरह की पाबंदी नहीं थी। इन उत्पादों को प्रतिबंधित वस्तुओं में शामिल किए जाने का मतलब है कि अब निर्यातकों की ऐसे उत्पादों को दूसरे देश भेजने से पहले डीजीएफटी से लाइसेंस प्राप्त करना होगा। सरकार ने देश में इन किट्स की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए ये कदम उठाए हैं। उल्लेखनीय है कि हाल में देश में कोरोनावायरस से जुड़े मामलों में भारी तेजी दर्ज की गई है। इसके साथ ही देश के लिए अपनी दैनिक टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाना अनिवार्य हो गया है।गौरतलब है कि सरकार ने देश में कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कई तरह के कदम उठाए हैं। इसी कड़ी में देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान 24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। यह लॉकडाउन 14 अप्रैल तक प्रभावी है।

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने 15 अप्रैल से ट्रेन सेवाओं का परिचालन फिर से शुरू करने की तैयारी आरंभ कर दी है। देश में 25 अप्रैल से लॉकडाउन लागू है, जो 14 अप्रैल तक चलेगा। समाचार एजेंसी पीटीआइ की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। यह ऐसे लोगों के लिए काफी राहत भरी खबर है, जो देश के अन्य हिस्सों में फंसे हुए हैं और अपने घरों को लौटने के लिए लॉकडाउन के खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि रेलवे से जुड़े सभी सुरक्षाकर्मियों, गार्ड्स, टीटीई और अन्य अधिकारियों को 15 अप्रैल से अपने पदों को फिर से ज्वाइन करने के लिए कहा गया है।हालांकि, सरकार की ओर से हरी झंडी मिलने के बाद ही ट्रेनों का परिचालन शुरू किया जाएगा। सरकार ने इस मुद्दे पर फैसला करने के लिए मंत्रियों के एक समूह का गठन किया है। इसी बीच रेलवे ने सभी रेलवे जोन को 'सेवाओं को फिर से शुरू करने से जुड़ी योजना' सौंप दी है। इस योजना में चलायी जाने वाली ट्रेनों का कार्यक्रम, उनकी फ्रिक्वेंसी और रेक की उपलब्धता के बारे में जानकारी दी गई है।सूत्रों के मुताबिक राजधानी, शताब्दी, दुरंतो सहित करीब 80 फीसद ट्रेनों को निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार चलाए जाने की योजना है। इसके साथ ही लोकल ट्रेनों का परिचालन भी शुरू किया जा सकता है।सूत्रों के मुताबिक रेलवे सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग करेगा और इसके साथ ही सभी तरह के प्रोटोकॉल का पालन करेगा। उल्लेखनीय है कि भारतीय रेलवे ने पहले 31 मार्च तक सभी ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया था। लॉकडाउन की घोषणा के बाद उसे बढ़ाकर 14 अप्रैल कर दिया गया। हालांकि, इस दौरान माल गाड़ियों का परिचालन किया गया।

अदाकारा एरिका फर्नांडिस हाल में एक शादी में शिरकत करने पहुंची थीं, जिसके लिए उन्होंने लाल रंग का लहंगा पहना था। इस लाल रंग के लहंगे में एरिका फर्नांडिस इतनी खूबसूरत लग रही थीं कि सभी उनको देखते रह गए।अदाकारा एरिका फर्नांडिस इस इवेंट पर लाल रंग का लहंगा और बालों में सफेद रंग का गजरा लगाकर पहुंची थीं।अदाकारा एरिका फर्नांडिस ने जो नौलक्खा हार पहन रखा था, उसने उनकी खूबसूरती पर चार चांद लगा दिए। हमें उम्मीद है कि उनकी फैंस जल्द ही यह हार मार्केट में तलाशती दिखेंगी।अदाकारा एरिका फर्नांडिस अपने काम में काफी व्यस्त रहती हैं। ऐसे में जब भी उन्हें किसी समारोह में जाने का मौका मिलता है, तो उनके चेहरे की खुशी साफ देखी जा सकती है।अदाकारा एरिका फर्नांडिस ने शादी पर ही अपना फोटोशूट करा डाला। ऐसा लग रहा था कि वो काम से छुट्टी मिलने की वजह से बेहद खुश थीं।ऐसा नहीं है कि एरिका फर्नांडिस ने केवल अकेले-अकेले ही फोटोशूट कराया है। उन्होंने अपनी दोस्तों के साथ भी तस्वीरें ली और उन्हें इंस्टाग्राम पर शेयर किया है।अदाकारा एरिका फर्नांडिस इस समय अपने घर में रहकर कोरोना वायरस लॉकडाउन को फॉलो कर रही हैं। वो अपने फैंस को भी लगातार घर पर ही रहने का संदेश दे रही हैं।

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बनाए गए पीएम केयर्स फंड में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट व ऊर्जा मंत्रालय की ओर से योगदान दिया गया है। नए कोरोना वायरस महामारी से जारी जंग के बीच सरकार की ओर से लॉकडाउन समेत कई कदम उठाए गए हैं। इसके तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘पीएम केयर्स फंड’ की शुरुआत की है।शीर्ष कोर्ट के अधिकारियों की ओर से 1,00,61,989 रुपये से अधिक का योगदान दिया गया वहीं ऊर्जा मंत्रालय के सेंट्रल पब्‍लिक सेंटर एंटरप्राइजेज 925 करोड़ रुपये के सहयोग का ऐलान किया है। बता दें कि इस फंड में सबसे पहले प्रधानमंत्री की मां हीरा बेन ने योगदान दिया।चीन के वुहान से शुरू हो कोविड-19 का मामला दुनिया भर के 205 देशों में फैल चुका है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार, संक्रमित मामलों का आंकड़ा 932,166 हो गया है वहीं इसके कारण मरने वालों की संख्‍या 46,764 हो गई है जो कि चिंताजनक है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष PMCARES फंड के नाम से बनाया और इसके लिए बैंक डिटेल भी बताए। PMCares फंड के लिए यूपीआई आईडी- pmcares@sbi है। इस फंड में भीम एप के जरिए भी योगदान दिया जा सकता है। इस ट्रस्‍ट के अध्‍यक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं। इसके सदस्‍यों में रक्षा मंत्री, गृह मंत्री एवं वित्त मंत्री हैं।प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए गत 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगााया था और फिर 25 मार्च से देशभर में लॉकडाउन लागू कर दिया है जो 14 अप्रैल तक चलेगा। इसके तहत देश भर में केवल मालगाड़ियों का संचालन हो रहा है जबकि ट्रेनों पर रोक लगा दी गई है। इस लॉकडाउन से लोग परेशान तो हैं लेकिन कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए इस आदेश का उल्‍लंघन नहीं कर रहे हैं। फैक्‍ट्रियों के बंद होने से परेशान मजदूर वर्ग के कामगार सबसे अधिक प्रभावित हैं। यातायात प्रतिबंधों के बावजूद परेशान और मजबूर मजदूर पैदल ही अपने गांवों की ओर पलायन कर गए।

नई दिल्‍ली। देश में कोरोना वायरस से निपटने और लॉकडाउन को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य और गृह मंत्रालय की शुक्रवार को संयुक्‍त प्रेस कांफ्रेंस हुई। इस मौक पर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कल से आज तक कोराना वायरस के 336 अतिरिक्त मामले हमारे सामने आए हैं। कुल पुष्ट मामले 2301 हैं। इनमें 56 मौतें हुई हैं। इन 56 में से 12 की मौत कल हुई थी। अब तक कुल 157 मरीज ठीक हो चुके हैं।
तब्‍लीगी जमात से 14 राज्‍यों में फैला कोरोना;-लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले दो दिनों में तब्‍लीगी जमात से संबंधित 647 मामलों की पुष्टि हुई है। इसमें 14 राज्य यूपी, अंडमान और निकोबार, असम, दिल्ली, हिमाचल, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु तेलंगाना, उत्तराखंड शामिल हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मरीजों और उनके परिवारों से अपील की है कि वे डॉक्टरों का सहयोग करें। उन्होंने डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार पर भी चिंता व्यक्त की।
गृह मंत्रालय ने शुरू किए दो और टोल फ्री नंबर;-गृह मंत्रालय की संयुक्‍त सचिव पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने स्वास्थ्य और काम करने वाले श्रमिकों पर हमले के मामलों में सख्त कार्रवाई करने और चिकित्सा बिरादरी को सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकारों को पत्र लिखा है। उन्‍होंने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष में सात हेल्पलाइन नंबर थे। अब हमने दो और हेल्पलाइन नंबर शुरू किए हैं - 1930 (अखिल भारतीय टोलफ्री नंबर) और 1944 (पूर्वोत्तर को समर्पित)।ICMR ने कहा कि पिछले 24 घंटों में COVID-19 के लिए 8,000 नमूनों का टेस्‍ट किया गया।

कोरोना वायरस का देश और दुनिया में तेजी से प्रसार हो रहा है। आज कोरोना वायरस से आंध्र प्रदेश में पहली मौत हुई है। देश में अब तक सामने आए कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 2300 से ऊपर पहुंच चुकी है। इससे पहले गुरुवार को देश में एक दिन के अंदर 342 नए मामले सामने आए। दुनिया के कई देश भी कोरोना की भयंकर चपेट में आ चुके हैं। अमेरिका में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1169 मौतें होने से हड़कंप मच गया है। इस बीच ओडिशा के मुख्य सचिव असित त्रिपाठी ने जानकारी दी है कि कोरोना के कम्युनिटी ट्रांसमिशन के बढ़ते खतरे को रोकने के लिए सरकार आज शाम 8 बजे से 48 घंटे के लिए भुवनेश्वर और भद्रक में पूर्ण लॉकडाउन करने जा रही है।
तब्‍लीगियों के संपर्क में आए 189 लोग क्‍वारंटाइन में;-नागपुर महानगरपालिका के आयुक्त तुकाराम मुंडे ने बताया कि कुल 189 लोग उन तब्‍लीगियों के करीबी संपर्क में आए हैं जिन्‍होंने दिल्‍ली में आयोजित तब्‍लीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लिया था। इन लोगों की पहचान किए जाने के बाद सभी को क्‍वारंटाइन में रख दिया गया है। अभी भी 19 लोगों को ट्रेस किया जाना बाकी है जो तब्‍लीगी जमात के सदस्‍यों के संपर्क में आए थे।
असम में चार और तब्‍लीगी कोरोना पॉजिटिव:-असम के मंत्री हेमंत विश्‍व शर्मा ने बताया कि राज्‍य में चार और लोग कोरोना टेस्‍ट से पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी मरीजों ने दिल्‍ली में आयोजित निजामुद्दीन मरकज में हिस्‍सा लिया था।
दो और हेल्‍पलाइन नंबर शुरू;-केंद्रीय गृह मंत्रालय की संयुक्‍त सचिव पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव (Punya Salila Srivastava) ने बताया कि मंत्रालय के कंट्रोल रूप में सात हेल्‍पलाइन नंबर थे। अब मंत्रालय ने दो और हेल्‍पलाइन नंबर शुरू किए हैं। इनमें ऑल इंडिया टोलफ्री नंबर 1930 और पूर्वोत्‍तर के लिए समर्पित टोलफ्री नंबर 1944 की शुरुआत की है।
दो दिन में मिली तब्‍लीगी जमात से जुड़े 647 मरीज;-स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवार ने बताया कि बीते दो दिनों में तब्‍लीगी जमात से जुड़े 647 कोरोना मरीज देश के 14 राज्यों अंडमान-निकोबार, असम, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में मिले हैं।

नई दिल्ली। देश में बढ़ रहे कोरोना वायरस से बचने के लिए पीएम मोदी ने 21 दिन का लॉकडाउन घोषित कर दिया है। कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए डॉक्टर्स व पुलिस दिन रात संघर्ष कर रहे हैं। इनके कार्यों को देश सराहना कर रहा है। एेसे में दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल अनिल कुमार की बेटी ( कक्षा 4 की छात्रा) ने अपने पापा और सभी पुलिस कर्मियों को धन्यवाद पत्र लिखा।अनिल कुमार की बेटी ने बताया कि मैंने पत्र में लिखा कि आप पुलिस में काम करते हैं और आप सारा दिन बाहर रहते हैं और लोगों को समझाते हैं कि वो घर से बाहर न निकले और घर में सुरक्षित रहें।इस संबंध में कांस्टेबल ने कहा मेरी बेटी ने मुझे एक पत्र दिया और कहा कि आप इसे एसएचअो को दें। जब मैंने एसएचअो को पत्र दिया तो वो पत्र पढ़कर काफी प्रभावित हुएऔर कहा कि जब हमारे छोटे बच्चे इतना समझ सकते हैं तो हमारे यूथ को बाहर नहीं निकलना चाहिए। उन्होंने लोगों इससे प्रेरित करने के लिए इस पत्र को आगे अफसरों को भेजा।बता दें देश में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि अभी तक पूरे देश में 2301 कोरोना वायरस केस सामने आ चुके हैं, 56 लोगों की मौत इस महामारी से हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले दो दिनों में तबलीगी जमात के सदस्यों की वजह से 14 राज्यों में कोरोना के 647 मरीज सामने आए हैं। पिछले 24 घंटों में हुई 12 मौतों में से कई तबलीगी जमात से जु़ड़े हुए हैं।स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के कुल 336 नए मामले सामने आए। देश में एक कार्यक्रम की वजह से कोरोना के मामले बढ़े हैं। ऐसी घटनाओं से सारे प्रयास फेल हो जाते हैं। दिल्ली में कोरोना के 141 नए मामले सामने आए हैं जिनमें 129 तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि हमें समझना होगा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई चल रही है। ऐसे में हमारी एक गलती की वजह से हम और पीछे चले जाएंगे।

लखनऊ। राजधानी का सदर बाजार इलाका पूरी तरीके से सील कर दिया गया है। यहां किसी के भी आने जाने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। गौरतलब है कि दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए लोग सदर बाजार की मस्जिद में रुके थे। कोरोना के संक्रमण की आशंका के चलते प्रशासन ने इस पूरे इलाके को सील कर दिया है। पुलिस यहां लाउडस्पीकर से लोगों को घर में ही रहने की हिदायत दे रही है। वहीं शुक्रवार को सभी मस्जिदों की निगरानी ड्रोन कैमरे से भी हो रही है। गौरतलब है कि उसी मस्जिद से छह विदेशी नागरिकों को भी पुलिस ने पकड़ा था।
चार मार्च से लखनऊ में थे कोरोना संक्रमित तब्‍लीगी जमात के 12 लोग:-बलरामपुर अस्‍पताल में भर्ती कोराेेना संक्रमित 12 लोग चार मार्च को लखनऊ आए थे। इन लोगों ने दिल्‍ली के निजामुददीन मरकज में शिरकत की थी। शुरूआती छानबीन में सामने आया है कि सभी तब्‍लीगी जमात के हैं और ये लोग अमीनाबाद के मरकज वाली मस्जिद में आयोजित जमात में शामिल होने आए थे। इस दौरान सभी वहीं पर ठहरे थे और कुछ अन्‍य मस्जिदों में भी गए थे। 22 मार्च को ये सदर कैंट के कसाई बाड़ा स्थित अली जान मस्जिद पहुंचे थे और तब से वही पर रुके थे।पुलिस आयुक्‍त सुजीत पांडेय के मुताबिक बुधवार को पुलिस ने अलग अलग इलाकों से मस्जिदों में ठहरे लोगों को क्‍वारंटाइन कराया था। इन्‍हें भी सदर से बलरामपुर अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां शुक्रवार को इन 12 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई। पूछताछ में सामने आया है कि सभी सहारनपुर के रहने वाले हैं। पुलिस की टीमें इनके बारे में छानबीन कर रही हैं। इनके यात्रा का ब्‍यौरा निकलवाया जा रहा है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि अमीनाबाद के मरकज वाली मस्जिद में बड़ी संख्‍या में लोग शामिल हुए थे। चार मार्च को राजधानी आने के बाद येे लोग दिल्‍ली गए थे। इसके बाद कुछ लोग दिल्‍ली में ठहर गए, जबकि अन्‍य वापस लखनऊ आ गए थे। पूरे प्रकरण की छानबीन के लिए खुफिया एजेंसियों को लगाया गया है। पुलिस कई बिंदुओं पर मामले की छानबीन कर रही है।कैंट पुलिस और बड़े अधिकारियों की निगरानी पर पूरे क्षेत्र को सील किया गया है। इस पूरे क्षेत्र में 1000 लोग हैं। जॉइंट कमिश्नर क्राइम,जॉइंट कमिश्नर लॉ एंड आर्डर ,डीसीपी पूर्वी, एडीसीपी, एसएपी और कैंट पुलिस ने इलाके का निरीक्षण किया है। निरीक्षण के बाद अली जान मस्जिद के आस-पास के इलाके को सील किया गया है।बुधवार को अली जान मस्जिद में रुके हुए 12 लोगों की कोरोना टेस्ट कराई गई थी। इसमें सभी 12 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। ये सभी लखनऊ के बलरामपुर अस्पताल में भर्ती हैं। कोरोनॉ पॉजिटिव लोग सहारनपुर के रहने वाले हैं। ये 12 लोग लखनऊ की जमात में शामिल हुए थे, जो वजीरगंज थाना क्षेत्र के अमीनाबाद की मरकज़ में आयोजित हुई थी। जमात में शामिल होने के लिए ये लोग 4 मार्च को सहरानपुर से लखनऊ के अमीनाबाद पहुँचे थे। ये सभी 24 मार्च को कैंट के कसाईबाड़ा स्थित जान मस्जिद में रुके थे।
कई इलाकों में किया भ्रमण:-पूछताछ में पता चला है कि तब्‍लीगी जमात के लोगों ने लखनऊ आने के बाद कई इलाकों में भ्रमण किया था। इनमें कैसरबाग, अमीनाबाद, चौक, सआदतगंज, बाजारखाला, मडि़यांंव, गोमतीनगर और तालकटोरा शामिल हैं। पुलिस ने गुरुवार को भी सहारनपुर के 11 लोगों को मस्जिद से पकडा था और उन्‍हें अस्‍पताल भेजा गया था। सभी के सैंपल लिए गए हैं। हालांकि अभी तक इनकी रिपोर्ट नहीं आई है। मामले की गंभीरता को देखते हुए लखनऊ पुलिस ने लोगों से घरों में रहने की अपील की है। इसके अलावा डयूटी पर मुस्‍तैद पुलिसकर्मियों को लॉक डाउन का उल्‍लंघन करने वालों से सख्‍ती से निपटने के लिए कहा गया है।

नई दिल्ली। निजामुद्दीन के तब्लीगी जमात मरकज में शामिल एक और कोरोना मरीज की शुक्रवार को मौत हो गई। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना से पीड़ित मरने वालों की संख्या पांच हो गई है। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दी। उन्होंने बताया कि दिल्ली में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 384 पहुंच गई है। जिनमें से 58 लोग विदेश से आये थे। 384 मरीजों में से 259 ऐसे लोग हैं जो मरकज में शामिल हुए थे। सीएम केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 91 नए मामले सामने आए हैं।इससे पहले गुरुवार को दो कोरोना संक्रमित बुजुर्गो की मौत हो गई थी। इनमें एक तब्लीगी मरकज में गए थे और दूसरे बुजुर्ग मरकज के पास दुकान चलाते थे। एक बुजुर्ग निजामुद्दीन और दूसरे तमिलनाडु के निवासी थे। दोनों मधुमेह के भी मरीज थे।
दो मरीज वेंटिलेटर पर:-समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक दो कोरोना मरीजों को वेंटिलेटर पर रखा गया है। इसकी जानकारी सीएम केजरीवाल ने शुक्रवार को दी। गुरुवार को दिल्ली में एक ही दिन में 141 नए मामले सामने आए थे, जिनमें 129 जमाती थे। यही नहीं, एम्स के एक डॉक्टर, उनकी गर्भवती पत्नी व एक महिला पार्षद के पति भी पॉजिटिव पाए गए थे। दिल्ली में एक महिला पार्षद के पति भी तब्लीगी मरकज में गए थे।
जमात में शामिल 536 लोग हैं भर्ती:-तब्लीगी मरकज से निकाले गए 536 लोग विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं, जबकि 1810 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। दिल्ली के दो मरीजों को अस्पताल से छुट्टी भी मिल गई।
सीएम ने कहा-समुदाय में नहीं फैला संक्रमण:-दिल्ली में कोरोना संक्रमण के जितने मामले सामने आए हैं, उनमें 244 मामले पिछले पांच दिनों के हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी राजधानी में कोरोना का संक्रमण समुदाय में नहीं फैला है। जितने लोग संक्रमित पाए गए हैं, उनमें अधिकतर जमात में शामिल हुए लोग हैं। जमात में शामिल 182 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जबकि 55 लोग विदेशों से संक्रमित होकर आए हैं व पीड़ित मरीजों के संपर्क में आकर 31 लोग संक्रमित हुए हैं। वहीं, 25 लोगों के संक्रमित होने के कारणों का पता नहीं चला है।

Page 12 of 1202

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें