-ओम प्रकाश उनियाल
पुलिसकर्मियों को चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए उत्तराखंड पुलिस के आला अधिकारियों ने साईकिल पर गश्त करने की हिदायत दी है। असल में थाने-चौकियों के ज्यादातर पुलिसकर्मी गश्त के दौरान मोटरसाईकिल का उपयोग करते हैं। यदि मोटरसाईकिल थाने में उपलब्ध न हों या कम संख्या में हों तो आजकल ज्यादातर पुलिस कर्मियों के पास निजी वाहन भी होते हैं। कई तो भर्ती होते ही निजी वाहन खरीद लेते हैं। मोटरसाईकिल पर चलना शान समझते हैं और रुतबा भी। पहले समय में पुलिसकर्मी साईकिल पर ही गश्त किया करते थे। तब अपराधिक व अन्य प्रकार की घटनाएं भी कम घटती थी। आबादी भी कम थी। बीट एरिया अधिक नहीं होता था। सड़कें खुली-खुली हुआ करती थी। किसी अपराधी का पीछा करना हो तो साईकिल से ही किया जाता था। बुलेट या राॅयल एनफील्ड जैसे वाहन भी हुआ करते थे लेकिन चलन ज्यादा साईकिल का ही था। पुलिसकर् भी स्वस्थ रहते थे। किसी प्रकार की विशेष कसरत की जरूरत नहीं पड़ती थी। आज समय के साथ सब बदलता जा रहा है। घटनाएं, आबादी व सड़कों पर यातायात बढ़ता ही जा रहा है। कई बार तंग गलियों में गश्त पर जाना हो या जाम में फंस जाएं तो वहां मोटरसाईकिल जैसे वाहन अनुपयोगी साबित होते हैं। संकरी गलियों में अपराधी का पीछा करना हो तो नहीं कर सकते। ऐसी जगहों के लिए साईकिल उपयुक्त वाहन है। कम दूरी की गश्त आसानी से तय की जा सकती है व भारी-भरकम जाम में भी आसानी से निकला जा सकता है। साथ ही उनके लिए भी उपयुक्त है जिनकी तोंद दिन-प्रतिदिन फूलती ही जा रही हैं। यही नहीं विभाग पर पेट्रोल-डीजल के खर्चे का बोझ भी कुछ तो कम होगा। इसीलिए हर थाना-चौकी के लिए दो-दो साइकिल की व्यवस्था की गयी है। देखना है अपने आला अधिकारियों के इस फरमान का अनुपालन कितने पुलिसकर्मी करते हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें