-डॉ प्रदीप उपाध्याय
जब तक मंजिल नहीं मिलती, तब तक यात्री तो सफर करेगा ही ।बीच सफर में किसी को रोक देना ठीक भी तो नहीं!लेकिन यह भी तो अनिश्चित सा ही है कि किसी की मंजिल कहाँ है।आप सीट रोककर बैठे रहो और दूसरों की यात्रा में बाधक बनो तो इसे कौन सहन करेगा।प्रकृति ने खुद ही यह व्यवस्था दी है कि पुराने जगह छोड़ दें और नये अपना स्थान बना लें।पुराने के लिए पतझड़ तो नये के लिए बसन्त बहार।अब ऐसा तो है नहीं कि बारहों महीने बसन्त बहार रहे।पतझड़ तो आएगा ही।यह तो हो नहीं सकता कि पुराने पत्ते वृक्ष से कहें कि हमें ताउम्र थामे रहो और नयों को अभी मत आने दो।
पके हुए पात और पके हुए फल को कभी न कभी तो टपकना ही है।या तो प्राकृतिक रूप से टपक जाएं या फिर हवा के झोंके, अंधड या तूफान उन्हें जमीन दिखा दें।बात केवल प्रकृति की,फल-फूल या पौधों की ही नहीं है, पशु-पक्षी, जीव-जन्तु की भी है।जब तक उपयोगी, तभी तक उसका अस्तित्व वरना तो रेस के घोड़े को भी बुढ़ा होने पर गोली मार दी जाती है, जब तक गाय दूध देती रहती है तभी तक कमान मालिक के हाथ वरना तो कसाई के साथ!अब इंसान को तो गोली मारने या कसाई के हाथों सौंपने से रहे,शायद इसीलिए रिटायर कर या तो घर बैठा दिया जाता है या फिर मार्गदर्शक मंडल में।
बहरहाल, बात उपयोगितावाद पर जा ठहरती है।इंसान भी तो ताउम्र उपयोगी हो नहीं सकता है।वह भी पके आम की तरह पेड़ से कभी न कभी तो टपकेगा ही और वैसे भी पेड़ कब तक उसका बोझा ढोएगा।पके हुए फलों को भी पता है कि उनका रिश्ता पेड़ से कितने दिनों का है,कली से बन चुके फूल भी अपनी नियति से बखूबी वाकिफ हैं तो फिर यह दोपाया यानी मनुष्य नाम का जन्तु इस बात को क्यों नहीं समझ पाता कि उसके पकने की वय भी निश्चित है।पहले इंसान ज्यादा समझदार हुआ करता था और शायद इसीलिए वह वानप्रस्थ आश्रम के लिए सहर्ष और सहज भाव से निकल जाता था लेकिन आज के इंसान की सोच और समझ पर लगता है कि पाला पड़ चुका है! वह समझता है कि वह अमरजड़ी खाकर पैदा हुआ है और इसीलिए हर जगह अंगद की तरह पैर जमा कर रखना चाहता है जबकि हल्की सी आँधी या तूफान आने पर उसके पैर उखड़ जाते हैं।ऐसे में वास्तविकता के धरातल पर कदम रखना लाजिमी हो जाता है।मुगालतों को बला-ए-ताक रखकर उतना ही सफर होना चाहिए जितना कर सकते हैं।यह नहीं सोचा जाना चाहिए कि जहाँ तक गाड़ी जाती है ,वहीं तक अपनी मंजिल है।होना तो यह चाहिए कि अपनी मंजिल खुद ही तय कर लें,तो गाड़ी में से उतरने पर तकलीफ भी नहीं होगी या कम होगी वरना जब गाड़ी से जबरन उतारा जाता है तो खुद को भी और देखने वालों को भी कष्ट होता है।इसलिए बन्दे दुखी मत हो,अपना रास्ता और अपनी मंजिल खुद तय कर और किसी तरह की जिद पकड़ कर मत बैठ,मुगालता छोड़ दे।तकलीफ की मात्रा कम होगी।
,१६,अम्बिका भवन,बाबूजी की कोठी,उपाध्याय नगर,मेंढकी रोड़,देवास,म.प्र.
9425030009(m)

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें