-प्रमोद दीक्षित ‘मलय’
सदियों से ही मानव जीवन का प्रकृति के साथ अन्योन्याश्रित जीवन्त मधुमय सम्बंध रहा है। यही कारण रहा है कि विश्व की नदी-घाटी सभ्यताएं भी नदियों के तट और अरण्य के समीप ही विकसित हुई थीं। संत तुलसीदास ने भी ‘क्षिति जल पावक गगन समीरा; पंच तत्व यह बना शरीरा’ के माध्यम से प्रकृति के इन पांच महत्वपूर्ण अंगों से जीवन निर्माण की बात कही थी। कहने का यही आशय है कि मिट्टी, जल, अग्नि, वायु और आकाश के सह-सम्बंध से ही प्राणि मात्र का जीवन न केवल निर्मित होता है बल्कि उन्हीं के आधार पर संचालित भी होता है। प्राचीनकाल में ऋषि-मुनियों के आश्रम और आचार्यों के गुरुकुल भी सरिताओं के किनारे एवं जंगल के बीच ही स्थापित हुआ करते थे। वे एक प्रकार से संदेश देते थे कि यदि मानव को सुख और संतुष्टिमय जीवन जीना है तो उसे प्राकृतिक उपहारों और मानवेतर प्राणियों के साथ सह-जीविता के सिद्धान्त पर चलकर ही जीया जा सकता है। और खुशी की बात यह थी ऋषियों के इस मौन संदेश को मानव समाज ने सहजता से स्वीकार भी किया था। तभी तो प्रत्येक गेह में नेह के प्रतीक वृक्ष बहुलता से रोपित और पोषित किये जाते रहे थे। ‘एक वृक्ष दस पुत्र समान’ की लोक अवधारणा का उदय भी मानव और जंगल की मित्रता एवं सह-अस्तित्व के सिद्धान्त पर ही हुआ था। पिछली शताब्दी तक समाज जीवन में फलदार पौधारोपण को पुण्य और वृक्ष विनाश को पापकर्म समझा जाता रहा है। राजस्थान में विश्नोई समाज का वृक्षों के प्रति प्रेम और बलिदान विश्व विश्रुत है जिनसे प्रेरणा प्राप्त कर ही उत्तराखंड में ‘चिपको आंदोलन’ चला और सफल हुआ। लेकिन आधुनिक मानव सभ्यता व्यक्तिवादी चिंतन से प्रभावित है, इस कारण अपने सामाजिक कर्तव्य, दायित्व और संवेदना से परे होकर भोग और केवल भोग के पीछे भाग रही है। वह प्रकृति का संतुलित दोहन नहीं बल्कि शोषण पर आमादा है। इस पीढ़ी के लालच ने प्रकृति का विनाश किया है। जंगल काटे, नदियों के स्वच्छ जल को गंदा किया, वायु प्रदूषित की, पहाड़ों को खोद डाला और अंतरिक्ष 0को भी कचरे से भर दिया। प्रकृति से जब तक मानव का तादात्म्य बना रहा तब तक मानव सुखपूर्वक जीता रहा। लेकिन जब से मानव मन में प्रकृति से अधिकाधिक प्राप्त करने और बदले में कुछ न देने का भाव घर गया तब से विकृति पैदा हुई। जंगलों के विनाश से प्रकृति के फेफड़े बीमार हो गये और जैव विविधता एवं प्राकृतिक चक्र असंतुलित हुआ। औद्योगिकीकरण एवं शहरीकरण से हुए पर्यावरण विनाश की स्थिति का अंदाजा दुनियाभर में हुए शोध एवं सर्वेक्षणों से स्पष्ट है कि पिछले पचीस सालों में ही भारत के क्षेत्रफल का लगभग डेढ़ गुना जंगल मानव की भोगलिप्सा की भेट चढ़ चुका है। आक्सीजन के स्तर में हो रही निरन्तर कमी और हवा में घुलते जा रहे जहर ने ही मनुष्य को विनष्ट हुई वन सम्पदा की क्षतिपूर्ति के लिए सोचने एवं कुछ नया करने को मजबूर किया है। शहर के अन्दर जमीन के अभाव में विकल्प के रूप में बहुमंजिली इमारतों केे छज्जों, छतों और बालकनी में जंगल उगाने की कला विकसित की गई जो ‘वर्टिकल फारेस्ट’ के नाम से लोकप्रिय हो रही है। हालांकि मकानों की छतों और छज्जों में पहले भी पौधारोपण कर घरों को हरा-भरा रखने का प्रयास किया जाता रहा है पर वह केवल शौकिया स्तर पर था, जिसे ‘रूफ गार्डेन’ नाम से जाना जाता रहा है और जिसमें बहुत छोटे पौधे और बेलें ही रोपित की जाती रही हैं। लेकिन ‘वर्टिकल फारेस्ट’ वैज्ञानिक अवधारणा पर आधारित एक क्रियाशील प्रेरक माॅडल है जो मानव और प्रकृति के सह-अस्तित्व एवं पुरातन सम्बंधों की नवल व्याख्या है।
वायु प्रदूषण से मुक्ति ही ‘वर्टिकल फारेस्ट’ की पृष्ठभूमि है क्योंकि प्रत्येक वर्ष दुनिया भर में लाखों लोग प्रदूषित वायुू के कारण काल के गाल में समा रहे हैं। तो वायु शुद्धिकरण के लिए वैज्ञानिकों, पर्यावरणचिंतको एवं वास्तुकारों के गम्भीर चिंतन-मनन से उपजे ‘वर्टिकल फारेस्ट’ बनाने का विचार सर्वप्रथम 2009 में इटली के एक वास्तुकार स्टेफानो बोएरी ने प्रस्तुत किया था। ‘वर्टिकल फारेस्ट’ के अन्तर्गत ऐसी खास बहुमंजिली इमारतों का निर्माण किया जाता है जिसके कमरों, छज्जों एवं खुली छतों में पेड़-पौधे लगाये जाते र्है जो शहरी वायु को शुद्ध कर उसकी गुणवत्ता बेहतर कर सकें। स्टेफानो बोएरी ने ही दुनिया का पहला ‘वर्टिकल फारेस्ट’ इटली के मिलान शहर में 2014 में तैयार किया जिसमें 110 एवं 76 मीटर ऊंचे क्रमशः 26 एवं 18 मंजिलों वाले टावरों में पचास प्रजातियों के 10 से 20 फीट ऊंचाई वाले 500 बड़े वृक्ष, 300 छोटे वृक्ष, 5,000 झाड़ियां और 11,000 अन्य पौधे लगाये। भवन जंगल का भार वहन कर सकें और वृक्ष इतनी ऊंचाई पर तेज हवा के प्रवाह में टूटे-उखड़ें नहीं इसलिए वास्तुकार एवं वनस्पतिविद लौरा गट्टी के नेतृत्व में एक टीम ने तीन साल तक गहन शोध कर भवनों मे लगाई जा सकने वाली वृक्ष प्रजातियों की पहचान और चयन किया। साथ ही इमारतों की डिजायन भी तदनुरूप निश्चित एवं विकसित की गई। स्टेफानो बोएरी की ही देखरेख में एशिया का पहला ‘वर्टिकल फारेस्ट’ चीन के जियांग्सू प्रान्त में 200 एवं 108 मीटर ऊंचे दो टावरों में विकसित किया जा रहा है जो 2019 के मध्य तक तैयार हो सकेगा। इन्हीं के निर्देशन में नीदरलैंड में दुनिया का तीसरा ‘वर्टिकल फारेस्ट’ जुलाई 2019 तक पूरा होने वाला है। ये जंगल जहां शुद्ध वायु का उत्सर्जन करते हैं वहीं कार्बनडाई आॅक्साईड का अवशोषण भी। इसके साथ ही ये सड़कों की धूल से बचाते हैं और तेज धूप एवं कड़ी ठंढ से भी। एक प्रकार से ये मानव के रक्षा कवच के रूप में अपनी भूमिका निर्वहन् कर रहे हंै।
कह सकते हैं कि ‘वर्टिकल फारेस्ट’ एक नूतन फलक है जिसमें मानव द्वारा प्रकृति के शोषण के कथा-चित्र पूरी हरीतिमा और आभा के साथ पश्चाताप के रूप में अंकित हैं। भवनों में खुशी से झूमते जंगल और खिलखिलाते सुमनों में सुखद भविष्य की संभावना का सूरज नित मुस्काता है और वृक्षों की जड़ों में मानव-मन के प्रायश्चित के आंसू हैं और जिसमें आने वाली पीढ़ी के लिए मौन संदेश है कि यदि ंजंगल नहीं बचे तो हम भी नहीं बचेंगे।

*लेखक पर्यावरण, महिला, लोक संस्कृति, इतिहास एवं शिक्षा के मुद्दों पर दो दशक से शोध एवं काम कर रहे हैं।
मोबा - 09452085234

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें