-शिवांकित तिवारी "शिवा"
युवा कवि एवं लेखक


बच्चा अपने जन्म के बाद जब बोलना सीखता है तो सबसे पहले जो शब्द वह बोलता है वह होता है 'माँ'। स्त्री माँ के रूप में बच्चे की गुरु है। बच्चे के मुख से निकला हुआ यह एक शब्द मात्र शब्द नहीं उस माता द्वारा नौ महीने बच्चे को अपनी कोख में पालने व उसके बाद होने वाली प्रसव पीड़ा का।
माता को जो अनुभव होता है वही बालक के जीवन पर प्रभाव डालता है। माता से ही वह संस्कार ग्रहण करता है। माता के उच्चारण व उसकी भाषा से ही वह भाषा-ज्ञान प्राप्त करता है। यही भाषा-ज्ञान उसके संपूर्ण जीवन का आधार होता है।
इसी नींव पर बालक की शिक्षा-दीक्षा तथा संपूर्ण जीवन की योग्यता व ज्ञान का महल खड़ा होता है। माता का कर्तव्य केवल लालन-पालन व स्नेह दान तक ही सीमित नहीं है। बालक को जीवन में विकसित होने, उत्कर्ष की ओर बढ़ने के लिए भी माँ ही शक्ति प्रदान करती है। उसे सही प्रेरणा देती है।
समय-समय पर बाल्यकाल में माता द्वारा बालक को सुनाई गई कथा-कहानियाँ, उपदेश व दिया गया ज्ञान, बच्चे के जीवन पर अमिट छाप तो छोड़ता है। बचपन में दिया गया ज्ञान ही संपूर्ण जीवन उसका मार्गदर्शन करता है।
माँ अपने जीवन के अंतिम क्षण तक अपने बच्चे को छोटा ही समझती है और उसे उसी ममता भरी दृष्टि से देखतीं है जैसे उसे जन्म के समय देखा था.
माँ की ममता और बच्चे के प्रति प्रेम अनमोल,अद्भुत और अद्वितीय हैं,माँ के लिये लिखने और कहने की कोई सीमा नही है।
बस अन्तिम अपनी बार अपनी लेखनी के माध्यम से यहीं कहूँगा की..
माँ है तो ये दुनिया जहान हैं..
माँ है तो ये धरती आसमान हैं..
माँ है तो ये सारे सपने अरमान हैं..
माँ है तो ये सारी ऊँचाइयां उड़ान हैं..

माँ से ही ये रुतबा और शान है..
माँ से ही ये शोहरत और पहचान है..
माँ से ही ये दौलत और ईमान है..
माँ हैं तो ये सारी खुशियाँ वरदान हैं..

माँ से मिले ये सारे संस्कार और ज्ञान हैं..
माँ से मिले ये नायाब ममता और नाम हैं..
माँ से मिले इस जग में प्यार और सम्मान हैं..
माँ हैं तो ये जिंदगी खूबसूरत तमाम हैं..

माँ हैं तो सपनों में विश्वास और जान हैं..
माँ हैं तो खुद पर गर्व और अभिमान हैं..
माँँ हैं तो ये जहाँ रोशन और प्रकाशमान हैं..
माँ से ही सारी तकलीफों का मिलता समाधान हैं..

माँ हैं तो ये ऊंचा महल और मकान हैं..
माँ हैं तो ये मन्दिरों में भीड़ और भगवान हैं..
माँ हैं तो ये सारा विश्व और हिन्दुस्तान हैं..
माँ हैं तो ये सारी कामयाबी और अच्छे परिणाम हैं..

माँ कुदरत का अनमोल इनाम हैं..
माँ इस जगत में सबसे महान हैं..
माँ से ही तो गीता और कुरान हैं..
इस जगत में माँ पूज्यनीय और प्रधान हैं..

 


सतना (म.प्र.)
संपर्क:- 9340411563

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें