articles

मंत्रीजी के सहायक को जैसे ही पता चला कि सरजी विदेश यात्रा से वापस लौट आये हैं | वो बेचारा सुबह-सुबह तडके ही भागा-भागा उनके निज निवास पर पहुंचा | देखा मंत्रीजी ओंधे मुंह विस्तर पर पड़े - पड़े खर्राटे मार रहे हैं | बेचारे ने डरते-डरते मंत्रीजी की नींद में खलल डाल दी... | मंत्रीजी गुस्से से तमतमा उठे - ‘चला आया सुबह - सुबह, क्या हुआ ? आसमान…
-डॉ प्रदीप उपाध्याय ये कह रहे हैं कि वे झूठे हैं और वे कह रहे हैं कि ये झूठे हैं । दोनों ही एक दूसरे को झूठा बता रहे हैं।ऐसे में यह पंक्तियाँ याद आती है-“एवे दुनिया देवे दुहाई झूठा पांवदी शोर,अपने दिल ते पूछ के देखो कौन नहीं है चोर।”अब ये और वे लोगों के सामने झूठ के पुलन्दों का पहाड़ खड़ा कर रहे हैं जिसके नीचे दबकर सच…
-ओम प्रकाश उनियालकेदारनाथ आपदा का स्मरण करते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं। 16 जून 2013 की इस आपदा को पांच साल पूरे हो चुके हैं। हजारों जानें, जीव-जन्तु लील गयी थी जल-प्रलय। यहां तक कि घर, खेती भी जल में समाहित। जीवित पर्यटकों और स्थानीय लोगों ने इस विभीषिका को जिस कदर झेला यह उनकी अंतरआत्मा ही जानती है। स्थानीय लोग तो आज भी इस त्रासदी का दंश झेल…

शादी का बुखार

-युवा कवि जालाराम चौधरी आज के समय में हर मनुष्य को चिंता हैं तो अपनी शादी की...जल्दी की होड़ में रहते हैं कभी शिक्षा की तरह कॉम्पिटिशन बढ़ न जाए....वरना ताउम्र कंवारे रह जायेंगे...गांव में रमन से लेकर पोपटलाल तक हर जुबां पर भूत संवार हैं तो शादी का। हालाँकि इसका प्रस्ताव तो मैंने भी रखा था लेकिन पड़ोसियों ने टांग अड़ाकर रफा दफा कर दिया। कानून ने भी हस्तक्षेप…
-इं. ललित शौर्य चुनावी बिगुल बजते ही नेताजी वादों के पकौड़े तलने शुरू कर देते हैं। पहले आँच धीमी होती है, चुनाव नजदीक आते ही आँच बड़ा दी जाती है। पकौड़ों को सुनहरा होने तक तला जाता है। ताकि उसका लुक और खुसबू दोनों ही वोटर को लुभा सकें। उसे अपने करीब खींच सकें। ये सिलसिला दशकों से चला आ रहा है। आगे भी चलते रहने के फुल चाँस हैं।…
-राज शेखर भट्टहमारे देश की बागडोर संभालने के लिए अब तक कई लोग आकर प्रधानमंत्री का पद संभाल चुके हैं। सभी ने देश को आगे ले जाने की बातें की हैं। अब देश आगे गया और किस क्षेत्र में गया, इसका पता नहीं। अब हम इन बातों की क्यों उलझन पालें कि देश कहां गया, किसके साथ गया, कब गया...! देश की बात देश जानें। क्योंकि हम भारतीयों की सोच…
-संजय सिंह राजपूतदेश के युवा गुस्से में है। सिर्फ इस बात के लिए कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह कह दिया कि उत्तर प्रदेश में योग्य युवा नहीं है। जबकि सरकारी नौकरियों की प्रदेश में कोई कमी नहीं है। सिर्फ इतना बयान आते ही प्रदेश एवं देश के लगभग सभी युवा, साहित्यकार, सामाजिक कार्यकर्ता, नेता आदि सभी उनके इस बयान की निंदा करते नहीं थकती रहे हैं।…
-ओम प्रकाश उनियालआजकल नेताओं में झाड़ू लगाते हुए फोटो खिंचवाने की होड़ एवं हनक लगी हुई है। झाड़ू लगाकर सफाई के प्रति लोगों को जागरूक कर रहे हैं वे। ऐसा इनका मानना होता है। सतरह सितंबर से दो अक्टूबर तक देश में स्वच्छ भारत अभियान पखवाड़ा चलाया जा रहा है। वैसे इस अभियान की असली शुरुआत प्रधानमंत्री मोदी ने दो अक्टूबर 2014 से की थी। तब से झाड़ू की अहमियत…
-नीरज त्यागीएक बड़े शहर की पॉश कॉलोनी में बनवारी नाम का सब्जी वाला लगातार सब्जियां बेचने के लिए आता था। वह सब्जी वाला काफी समय से यहां पर सब्जियां दे रहा है और उसका संबंध वहां पर सभी लोगों से बहुत अच्छा है यूं तो बनवारी जो सब्जियां लाता है वह काफी अच्छी होती है और उसी हिसाब से उसके रेट भी हमेशा बाकी सब्जी वालों से ज्यादा ही होते…
-राहुल लाल (कूटनीतिक मामलों के विशेषज्ञ) हिंद महासागर का छोटा सा द्वीपीय देश मालदीव इस वर्ष गहरे सियासी और संवैधानिक संकट से जूझते रहा था।लेकिन अब मालदीव की जनता ने अपने लोकतांत्रिक शक्तियों का प्रयोग करते हुए चीन समर्थक अब्दुल्ला यामीन को हराकर संयुक्त विपक्षी गठबंधन के नेता इब्राहिम मोहम्मद सालेह को विजयी बनाया है।मालदीव चुनाव आयोग के अनुसार सालेह को 58.3% मत मिले हैं।मालदिवियन डेमोक्रेटिक फ्रंट के नेता इब्राहिम…
Page 10 of 87

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें