articles

-सलीम रज़ा, देहरादून हमारा देश हिन्दुस्तान भी क्या अजीब देश है। ऐसा देश जहां सारे धर्म के लोग आपसी तालमेल और सौहार्द के साथ रहते हैं। ऐसा देश जो इन्द्रधनुषी छटा और गंगा जमुनी तहजीब के लिये जाना जाता है। जहां जाति-धर्म से ऊपर उठकर इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्म माना जाता हो, जहां सभी के लिये समान अधिकार हों। लेकिन इस देश में रहने वाले लोगों पर जलवायु परिवर्तन…
आज के युग में नारी वर्ग को वो मान-सम्मान नहीं दिया जा रहा है जो उसको मिलना चाहिए।आज नारी के साथ द्रोपदी की तरह व्यवहार हो रहा है। नारी इस संसार रूपी जगत में कौरवों रूपी दानवों से आज भी कुचली जा रहीं हैं। नारी द्वापर काल से ही पीड़ित चली आ रही है नवीन युग में आकर नारी की स्थिति सुधरने के स्थान पर और बिगड़ गई है समाज…
-रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) दीपावली के दूसरे दिन सायंकाल गोवर्धन पूजा का विशेष आयोजन होता है। गोवर्धन पूजा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। लोग इसे अन्नकूट के नाम से भी जानते हैं। इस पर्व की अपनी मान्यता और लोककथा है। इस त्यौहार का भारतीय लोकजीवन में काफी महत्व है। इस पर्व में प्रकृति के साथ मानव का सीधा सम्बन्ध दिखाई देता है। भगवान श्रीकृष्ण ने आज ही के…
-नीरज त्यागीहर साल की तरह दिवाली का त्यौहार आने पर राज और पिंकी बहुत खुश थे।इस त्यौहार पर चारो तरफ होने वाली रोशनी और पटाखों की धूम दोनों बच्चों के मन को बहुत खुशी देती थी,लेकिन इनकी दिवाली उस दिन नही होती जिस दिन दीवाली होती है, दिवाली के अगले दिन शुरू होती थी। रात को जब सारे बच्चे पटाखे चलाते थे,ये दोनों बच्चे उन्हें देखकर बहुत खुश होते थे…
-इं. ललित शौर्यकृषि के साथ-साथ भारत त्योहार प्रधानदेश भी है। यहां महीने दू महीने में त्योहार टूट पड़ते हैं। ये आम आदमी की तरफ लूटमार की तरह सरकते हैं। और उनकी जेब को खसोटे हुए निकल लेते हैं। शेरमारे की तरह त्योहार लूटमारे हो गए हैं, क्योकि ये बाजार के मायाजाल में जकड़ चुके हैं। त्योहार की इंट्री से पहले ही बाजार दौड़े चले आता है। बाजार अब बाजार में…
-डॉ प्रदीप उपाध्यायकितनी विकट स्थिति हो गई है!एक अनार है और सौ बीमारों के बोझ का सामना करना पड़ रहा है।ऐसा नहीं है कि यह स्थिति पहली बार निर्मित हुई हो लेकिन इब बार तो गजब ही हो गया है। किसी एक पार्टी का या किसी एक दावेदार का यह दुखड़ा नहीं है।चुनाव क्या आते हैं,रातों की नींद और दिन का चैन उड़ जाता है।एक तरफ तो पार्टी के पास…
-निर्मल रानी राजधानी दिल्ली में यमुना नदी पर बनाए गए बहुप्रतीक्षित 'सिग्रेचर ब्रिजÓ का उद्घाटन दिल्ली के मु यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा गत् 4 नवंबर को किया गया। इस विचित्र पुल के मु य स्तंभ की ऊंचाई 154 मीटर है जो भारत में इस प्रकार के बने पुलों में सबसे अधिक ऊंचा है। संयोग से इस पुल के उद्घटन से मात्र चार दिन पूर्व ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात…
दीपक गिरकर (व्यंग्यकार)चूहों और बिल्ली के बीच शीतयुद्ध कई सदियों से जारी है. वैसे चूहों की क्याँ मजाल है कि वे बिल्ली के विरूद्ध शीतयुद्ध के अलावा अन्य युद्ध की कल्पना कर सकें. कभी-कभी चूहों के नेता अपनी चूहासंख्या के आंकड़ों को देखकर बौरा जाते हैं और बिल्ली को आँखें दिखाने की हिमाकत कर बैठते है. चूहों के एक नेता ने बिल्ली से कहा " इस बार हम ट्वेंटी-ट्वेंटी मैच…
- डा. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा, देष में केन्द्र सरकार की आर्थिक नीतियों की लाख कमियां गिनाई जा रही हो पर विष्व बैंक की इज आॅफ डूइंग बिजनस की इसी बुधवार को जारी रेंकिंग में भारत की उपलब्धि को कमतर नहीं आंका जा सकता। इससे पहले के साल की तुलना में जहां 23 पायदान का सुधार हुआ है वहीं पिछले चार साल में विष्व रेंकिंग में 65 पायदान का सुधार अपने…
-जावेद अनीस बीते डेढ़ दशक से मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार चला रही है, इतने लम्बे समय तक सत्ता में रहने की वजह से सत्ता विरोधी लहर का होना स्वाभाविक है. पार्टी की तरफ से कराए गये अंदरूनी सर्वे और ताजा ओपीनियन पोल भी इसी तरफ इशारा करते हैं. उसे विपक्षी कांग्रेस से भी कड़ी चुनौती मिल रही है. इन सबके चलते इस बार मध्यप्रदेश में भाजपा का चुनावी गणित डगमगाया…
Page 87 of 89

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें