articles

*क्या टूटेगा सत्ता परिवर्तन का 25 साल पुराना मिथक? - योगेश कुमार गोयल(राजनीतिक विश्लेषक एवं वरिष्ठ पत्रकार) राजस्थान में 7 दिसम्बर को हो रहे चुनाव के लिए भाजपा और कांग्रेस सहित दर्जनों क्षेत्रीय दलों ने बाजी जीतने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंककर मुकाबले को बहुकोणीय बना दिया है। हालांकि इस बार भी सरकार बनाने के लिए चुनावी मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच ही सीमित रहेगा किन्तु पहली बार…
-ओम प्रकाश उनियाल भारत एक कृषि प्रधान देश है। और यहीं का कृषक तंगहाली का दंश झेलने को मजबूर है। उसकी सुध लेने, उसका दर्द समझने, उसकी आवाज सुनने को कोई तैयार नहीं। दूसरों की क्षुधा मिटाने वाला खुद किस हाल में जीवन यापन कर रहा है इसका अहसास किसी को नहीं है। तपती धूप, मूसलाधार बारिश, कड़कड़ाती ठंड के बावजूद भी अपनी हाड़ तोड़ मेहनत से धरती पर जो…
-डॉ आदित्य जैन 'बालकवि' चौराहे पर चर्चा हैं कि.. चिकने घड़ों की चिकनी-चुपड़ी बातों का हवा-हवाई पुलिंदा यानि घोषणा-पत्र आया हैं। जरा.. बचके रहियेगा.. बहेलियों ने नया जाल बिछाया हैं। घोषणाएं तो क्या हैं... बस पार्टियाँ नये-नये झूठ छांटकर लाती हैं। दरअसल मूर्खों को महामूर्ख बनाने की ये विद्या.. 'राजनीति' कहलाती हैं। इस विद्या के धुरंधरों की 'शाही कोठियां' हर रोज़ जनता के पसीने को गाली देती हैं.. और बेचारी…
-भुवन बिष्ट , रानीखेत ,उत्तराखण्ड देवभूमि उत्तराखण्ड प्राकृतिक सौंदर्य के लिए विश्वविख्यात है और देवभूमि उत्तराखण्ड सदैव ही देवों की तपोभूमि रही है देवभूमि में सदैव ही आस्था , श्रद्धा, विश्वास का अटूट संगम होता है | अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट नगर से लगभग बीस किलोमीटर दूरी पर बसा कुकुछिना नामक स्थान से खड़ी चढ़ाई पार करके ऊंची चोटी पर स्थित है महाभारत काल की घटनाओं को संजोये स्वर्गपुरी पांडवखोली…
-रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) राजस्थान विधानसभा के लिये आगामी सात दिसम्बर को होने जा रहे चुनाव में राजस्थान के कई मौजूदा व पूर्व सांसद विधायक बनने के लिये चुनाव लड़ रहे हैं। कुछ माह पूर्व अलवर व अजमेर लोकसभा क्षेत्र के भाजपा सांसदो की मृत्यु हो जाने पर दोनो सीटो के लिये उपचुनाव हुये थे जिनमें दोनो पर ही कांग्रेस विजयी हुयी थी। लोकसभा उपचुनाव में जीते दोनो सांसद…
-सुरेन्द्र कुमार (लेखक एवं विचारक) केंद्रीय सांख्यिकी संगठन यानी सीएसओ द्वारा गत शुक्रवार जारी आँकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के दौरान भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7.1 प्रतिशत रही। जबकि सकल घरेलू उत्पाद लगभग 33.98 लाख करोड़ रुपये आँका गया। पिछले साल की समान तिमाही में वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत और जीडीपी 31.72 लाख करोड़ रुपये पर था। जबकि वित्त वर्ष 2018-19 की प्रथम तिमाही के…
-गौरव मौर्या (सामाजिक विचारक) बात कुछ दिन ही पुरानी है,बिहार के रोहतास जिले में एक बुजुर्ग महिला को अंधविश्वास के चलते डायन मानकर भीड़ ने बुरी तरह पीट कर जख्मी कर दिया था। अंधविश्वास से जुड़ी ऐसी खबरें भारत ही नही वरन सम्पूर्ण विश्व से आए दिन आती हैं।कहीं कोई सन्तान प्राप्ति के लिए अंधविश्वास में डूबा है तो कहीं कोई रोगों से इलाज कर लिए।वास्तव में आज शिक्षित और…
भारतीय मुक्केबाजी की पहचान हैं मैरीकॉम - योगेश कुमार गोयल(राजनीतिक विश्लेषक एवं वरिष्ठ पत्रकार) भारत की ओलम्पिक पदक विजेता चर्चित मुक्केबाज मैरीकॉम (मैंगते चंग्नेइजैंग मैरीकॉम) 24 नवम्बर को नई दिल्ली में आईबा (एआइबीए) विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में अपने से कई वर्ष छोटी यूक्रेन की हना को परास्त कर स्वर्ण पदक पर कब्जा कर महिला विश्व चैम्पियनशिप में छह स्वर्ण पदक जीतने वाली विश्व की पहली मुक्केबाज बन गई हैं।…
-राजीव डोगराआज का समय ऐसा है कि हमें अगर कोई छोटा सा काम भी किसी से करवाना है तो हमें सिफारिश की जरूरत पड़ती है इसी वजह से समाज में जो नवयुवक मेहनत से कोई कार्य करते हैं वह पीछे रह जाते और जो सिफारिश लगाते हैं भले उन्हें कुछ भी आता जाता ना हो फिर भी वह अपने मुकाम को सिफारिश लगाकर हासिल कर लेते हैं मगर सिफारिश कहां…
-प्रभुनाथ शुक्ल [Journalist] एड्स की 30 वीं वर्षगाँठ पूरी दुनिया में 01 दिसम्बर को मनायी जाती है। भारत के साथ वैश्विक देशों के लिए भी यह सामजिक त्रासदी और अभिशाप है। दुनिया में पहली बार 1987 में थॉमस नेट्टर और जेम्स डब्ल्यू बन्न ने इस दिवस के बारे में कल्पना की थी। एड्स स्वयं में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन इससे पीड़ित व्यक्ति बीमारियों से लड़ने की प्राकृतिक ताकत खो…
Page 78 of 89

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें