articles

-डॉ नीलम महेंद्र(Best editorial writing award winner) आज सोशल मीडिया केवल अपनी बात कहने का एक सशक्त माध्यम नहीं रह गया है बल्कि काफी हद तक वो समाज का आईना भी बन गया है। क्योंकि कई बार उसके माध्यम से हमें अपने आसपास की वो कड़वी सच्चाई देखने को मिल जाती है जिसके बारे में हमें पता तो होता है लेकिन उसके गंभीर दुष्परिणामों का अंदाजा नहीं होता। ताज़ा उदाहरण…
-ललित गर्गआगामी लोकसभा चुनावों में आदिवासी एवं दलित की निर्णायक भूमिका होगी, इस बात का संकेत हाल ही में सम्पन्न पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में देखने को मिला है। कांग्रेस की जीत में दलित-आदिवासी समुदाय की महत्वपूर्ण भूमिका बनी है, जबकि भाजपा को इन समुदायों ने आंख दिखायी है। बातों से एवं लुभावने आश्वासनों से ये समुदाय वश में आने वाले नहीं है। राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के…
-ओम प्रकाश उनियालनया साल का आगमन हो चुका है, नयी उमंगों, नयी तरंगों, नयी उम्मीदों, नए सपनों को लेकर। बीते साल के तमाम गिले-शिकवे, बुराईयां तज कर नयी शुरुआत अच्छाइयों की लेकर। हरेक चेहरे पर दर्शाता खुशी का इजहार। नया साल सुख, समृद्धि व शांति से परिपूर्ण हो, नयी कल्पनाएं, नए सपने साकार हों इन दुआओं के साथ एक-दूसरे को शुभकामनाएं देकर, सबके सुखी जीवन और उन्नति की कामना कर।…
- योगेश कुमार गोयल(राजनीतिक विश्लेषक एवं वरिष्ठ पत्रकार) रियो ओलम्पिक रजत पदक विजेता और इस वर्ष राष्ट्रमंडल खेलों, एशियाई खेलों तथा विश्व चैंम्पियनशिप में रजत पदक जीतने वाली भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु (पुसरला वेंकट सिंधु) ने ग्वांगझू में ‘बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स’ में ऐतिहासिक खिताबी जीत हासिल कर भारतीय बैडमिंटन के इतिहास में एक नया स्वर्णिम अध्याय जोड़ दिया है। सिंधु के लिए यह जीत ऐतिहासक इसलिए मानी जा…
-डॉ प्रदीप उपाध्यायआज वे बहुत खुश थे।उन्होंने भी कभी स्कूल का मुँह तक नहीं देखा था लेकिन इसके बावजूद उन्होंने बहुत प्रगति की थी।राजनीति में दखलंदाजी के साथ ही बहुत बड़े-बड़े ठेके उनके पास थे और कई सिविल इंजीनियर उनके मातहत थे।हाँ उन्होंने दस्तखत करना जरूर सीख लिया था और दस्तखत के पहले दः लिखना कभी नहीं भूलते थे।इसीलिये जब कोई अनपढ़ प्रगति करता है तो उनका प्रसन्न होना स्वाभाविक…
-निर्मल रानी देश की जनता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाल क़िले की प्राचीर से होने वाला उनका प्रथम संबोधन ज़रूर याद होगा जिसमें उन्होंने स्वच्छता अभियान की ‘शुरुआत’ करने की घोषणा करते हुए यह वादे किए थे कि महात्मा गांधी की 2019 में होने वाली 150वीं जयंती तक देश के प्रत्येक गली-मोहल्लों,गांव-शहर,स्कूल,मंदिर-अस्पताल आदि समस्त क्षेत्रों में हम गंदगी का नाम-ो-निशान नहीं रहने देंगे। ऐसा ही एक वादा यह भी…
-प्रकाश दर्पेनम्रता ने बड़े आग्रह के साथ अपनी ननंद सविता को अपने मकान के ग्रह प्रवेश कार्यक्रम में आमंत्रित किया था। लेकिन वह आने से क़तरा रही थी। क्योंकि जो व्यवहार नम्रता भाभी के साथ उसके मायक़े में हुआ था , वैसा ही कही उसके साथ न हो इसकी आशंका उसे लग रही थी । लेकिन नम्रता भाभी की भावना का ख़याल रखते हुए वह कार्यक्रम में भाग लेने अपने…
हरियाणा में विपक्ष हुआ पस्त, भाजपा मस्त - योगेश कुमार गोयल(राजनीतिक विश्लेषक एवं वरिष्ठ पत्रकार) पिछले दिनों पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में मुंह की खाने के बाद भाजपा में निराशा का माहौल व्याप्त किन्तु इन चुनाव परिणामों के महज चार दिन बाद हुए हरियाणा के पांच नगर निगमों के मेयर पद के चुनावों में भाजपा ने जिस प्रकार एकतरफा जीत हासिल की है, उससे भाजपा को तथा हरियाणा में…
-राहुल लाल (कूटनीतिक मामलों के विशेषज्ञ) जीएसटी काउंसिल की 31 वीं बैठक में शनिवार को दो दर्जन वस्तुओं व सेवाओं पर जीएसटी घटाया गया।28 प्रतिशत के उच्चतर स्लैब से 6 चीजों को घटाकर 18 प्रतिशत के स्लैब में लाया गया है।वित्त मंत्री जेटली के अनुसार अब 28% के प्रतिशत के स्लैब में केवल 28 आइटम्स बची हैं।कर दर में संशोधन का यह निर्णय आगामी नव वर्ष के दिन से प्रभावी…
-डॉ आदित्य जैन 'बालकवि'( लेखक मशहूर कवि एवं व्यंग्यकार हैं ) क्या कहा... जनता ने परिवर्तन के नए फैसले बांचे हैं। अजी हुजूर.. ये परिवर्तन नही..'जुमलों' के मुँह पर 'जनमत' के कड़े तमाचे हैं। भला वोटो की ऐसी भी क्या हूँक उठी कि धर्म की टांग तोड़कर स्वार्थ को बड़ा कर दिया। चार वोटों की खातिर अली को बजरँगबली के खिलाफ खड़ा कर दिया। ऊपर से हनुमान जी का ऐसा…
Page 8 of 117

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें