articles

-"आशुतोष" पटना बिहारफायदे की बात तो सभी करते है बहती गंगा में डूबकी सभी लगाना चाहते हैं आखिर क्यो नही चाहेंगे जब गंगा ही उल्टी बह जाय और लोगो को मुर्ख बनाकर अपना काम निकाल लिया जाय विडम्बना तो तब होती है जब परिवार के लोग भी ऐसा करते है ।आज की सामाजिक परिस्थितियाँ कुछ ऐसी ही है। मुझे याद आ रहा है बचपन के दिन जब मै छोटा था…
- पुनीत कुमार, शिक्षककिसी कार्य को अगर सच्ची लगन, ईमानदारी और कड़ी मेहनत से किया जाए तो उस कार्य में सफलता एक ना एक दिन अवश्य प्राप्त होती है। अमेठी में लोकसभा चुनाव 2019 का सबसे बड़ा तख्तापलट इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण है और उसका सारा श्रेय केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी को जाता है। वैसे तो चुनावों में बड़े-बड़े दिग्गजों का हारना कोई नई बात नहीं है। परंतु…
-मुरली मनोहर श्रीवास्तव “आनंद कुमार, अभयानंद और आरके श्रीवास्तव जैसे शिक्षक हैं हजारों युवायों के रोल मॉडल। अपने क़डी मेहनत, उच्ची सोच और पक्का इरादा के बल पर विश्वपटल पर बनायी इन शिक्षकों ने पहचान”बिहार का मान सम्मान को विश्व पटल पर बढ़ाने वाले मैथमेटिक्स गुरु फेम आरके श्रीवास्तव है हजारो स्टूडेंट्स के रोल मॉडल। सैकड़ो गरीब प्रतिभाओ के सपने को आईआईटी,एनआईटी, एनडीए,बीसीईसीई में सफलता दिलाकर लगा चुके है पंख।…
-उत्तम सूर्यवंशी किहार चम्बा हिमाचल आजकल सोशल मीडिया पर चर्चित रहने के लिए लोग इसका बहुत दुरपयोग भी कर रहे हैं जिससे कारण इससे कुछ लोगों की रुचि कम भी होती जा रही है । बहुत से लोग अपनी फेक आई डी बना कर महिला बन कर पुरष को तंग करना हो या महिलायों को तंग करना हो ऐसे बहुत से मामले हर रोज देखने को मिल रहे हैं। कुछ…
-प्रकाश दर्पे एक विवाह समारोह में देश विदेश से बहुत सारे रिश्तेदार आए थे । आजकल बड़े बुज़ुर्ग ऐसे ही अवसर का आतुरता से इंतज़ार करते रहते है ताकि सबसे मिलना हो सके। इधर दादाजी एक कुर्सी पर विराजमान होकर अपने बेटे बहुओं की बाँट जोह रहे थे। आते ही सभी ने अपने बच्चों को मिलवाया । सभी आधुनिक लिबास में एकदम टीपटॉप लग रहे थे ।वे उनकी शिक्षा एवं…
- मुरली मनोहर श्रीवास्तव, पटना बिहार में महागठबंधन को भारी पराजय का सामना करना पड़ा है महागठबंधन की सबसे बड़ी पार्टी राजद तो सूबे में अपना खाता तक नहीं खोल पायी। विपक्ष में सिर्फ कांग्रेस को एक सीट से संतोष करना पड़ा। वहीं एनडीए ने 40 सीटों में से 39 सीटों पर कब्जा जमाकर एक नए समीकरण को जन्म दे दिया है। अगर हम बिहार में डाले गए कुल वोटो…
-निक्की शर्मा रश्मि, मुम्बईगर्मी में जैसे जैसे तापमान का बढ़ना शुरू होता है शारीरिक समस्याओं के साथ तनाव भी शुरू होता है।बच्चों की छुट्टियां इधर-उधर घूमना खेलना साथ में शुरू होती है परेशानियां जो गर्मी की तपिश से होती है। बच्चे क्या बड़े भी इसके चपेट में आते हैं लंबी छुट्टियों का मजा तो तभी है जब नाना नानी दादा दादी और भी रिश्तेदार से मिलना जुलना हो।बच्चों को गर्मी…
Vibhooti Mani Tripathi देश में नई सरकार के गठन की गहमागहमी शुरु हो गई है, देश में इस बार, एक बार फिर नरेंद्र मोदी जी के नेत्र्रत्व को देश की जनता ने प्रचंड बहुमत के साथ स्वीकार किया है ।इस बार के चुनावी आंकड़ों को देख कर यह स्पष्ट हो गया है कि इस बार पूरे देश ने मोदी जी के प्रथम कार्यकाल को हाथों हाथ लिया और एक बार…
एक तस्वीर के दो पहलू होते हैं इस सत्य से भी आज नकारा नहीं जा सकता कि देश में इन दिनों कुछ महानुभाव पैसे लेकर प्रतियोगिता के नाम पर,सम्मान पत्र का प्रलोभन देकर, साझा संकलन निकालने के विज्ञापन आदि प्रसारित कर नवीन लेखकों/कवियों से पैसे ऐंठ रहे हैं इसे एक धंधा बना लिया है ।एक नवोदित कवि/लेखक के मन की इच्छा या भावना होती हैकि मेरी रचनाएँ प्रकाशित हों बस…
-प्रदीपकंप्यूटर, लैपटॉप और स्मार्ट फोनों के जरिए इंटरनेट की मांग दुनिया में तेजी से बढ़ रही है। इंटरनेट से जुड़ीं सुविधाओं में अभी तक 1जी, 2जी, 3जी और 4जी से दुनिया के सुदूर कोने में बैठे इंसान को उससे दूरस्थ इंसान से प्रभावी रूप से संपर्क स्थापित करने की सहूलियत प्राप्त हुई है। अब 5जी टेक्नोलॉजी आने वाली है जिससे न केवल इंटरनेट की रफ्तार बढ़ेगी बल्कि मशीन से मशीन…
Page 6 of 89

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें