articles

-डॉ नीलम महेंद्र(Best editorial writing award winner) विपक्ष भले ही वर्तमान सरकार के इस आखरी बजट को चुनावी बजट कहे और कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल के बजट भाषण को चुनावी भाषण की संज्ञा दे,लेकिन सच तो यह है कि इस आम बजट ने अपने नाम के अनुरूप देश के आम आदमी के दिल को जीत लिया है। जैसा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, यह सर्वव्यापी, सरस्पर्शी,सरसमवेशी, सर्वोतकर्ष को…
-राज शेखर भट्ट, देहरादूनअब कैसे आये ‘‘अच्छे दिन’’...? यह जुमला तो पांच साल से राजनीति के गलियारों में गूंज रहा था। भारत माता की पायल में घुंघरू बनकर खनक रहा था। आम जनता के जीवन में रात की रानी की खूश्बू और अंधेरी रात में जुगनू बना हुआ था। इन पांच वर्षों के दरमियान राशन महंगा, साग-सब्जी महंगी, दाल-चावल महंगा, डीजल-पैट्रोल महंगा और गैस सिलेण्डर भी ऊपरी-निचली सीढ़ी पकड़ता रहा।…
-सलीम रज़ासंभवतःअप्रैल या मई माह में लोकसभा के चुनाव होने ही है ऐसी संभावना व्यक्त की जा रही है। ऐसे में सरकार के सामने कई किस्म के सवाल आ खड़े हुये हैं। आज देश का हर नागरिक मंहगाई, बेरोजगारी और दिनों-दिन आसमान की तरफ बढ़ते डीजल-पैट्रोल के दामों के साथ आदिवासी-दलित समाज के लोगों की समस्याये,ं और करप्शन जैसी घातक बीमारी की समस्या के निदान के लिए सरकार की तरफ…
-राज शेखर भट्ट, देहरादून आपको तो पता ही है दोस्तों, जमाना बदल रहा है और जीवन के प्रत्येक पहलुओं में परिवर्तन आ रहे हैं। एक जमाना था, जब चिट्ठियां आती-जातीं थीं और उनका जवाब आने में महीने-दो महीने तक लग जाते थे। जिसके बाद कुछ विकास हुआ और दूरभाष की सुविधा लोगों तक पहुंची, जिससे कि लोग अपने रिश्तेदारों से बातचीत कर लेते थे। जिसके लिये लोगों को पब्लिक काॅल…
भवानीमंडी:- ( राजेश पुरोहित) साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा गणतन्त्र दिवस समारोह पर अखिल भारतीय ऑनलाइन कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजवीर सिंह मन्त्र ने राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी राजेश पुरोहित को जानकारी देते हुए बताया कि यह अनूठा कवि सम्मेलन संस्थान के मुख्य मंच व्हाट्सएप्प, ट्विटर,फेसबुक पर हुआ जिसमें विभिन्न प्रदेशों के कवि कवयित्रियों ने भाग लेकर देशभक्ति से ओतप्रोत रचनाओं का काव्य पाठ किया।…
-गौरव मौर्या (सामाजिक विचारक)ओईसीडी यानी 'आर्गेनाइजेशन फॉर इकोनॉमिक कारपोरेशन डेवलपमेंट, द्वारा दुनिया भर के प्रमुख देशों की शिक्षा स्थिति को जानने के लिए एक परीक्षा का आयोजन किया जाता है जिसे पीसा (प्रोग्राम फ़ॉर इंटरनेशनल असेसमेंट) कहते हैं।वर्तमान में 80 देशों के छात्र इस परीक्षा में भाग लेतें हैं तथा यह परीक्षा प्रत्येक तीन वर्षों बाद आयोजित होती है। अंतिम बार भारत ने इस परीक्षा में 2009 में भाग लिया…
मकर संक्रांति के पावन पर्व पर रात्रि के भोजन हेतु, कुछ मित्रों द्वारा आपसी सहयोग से बाटी-चोखे की पार्टी का आयोजन किया गया। आलू, बैंगन,टमाटर,आटा, चावल,दाल आदि सामग्रियों की व्यवस्था हुई और सभी भोजन बनाने तैयारियों में लग गए। आग जलाने के लिए एक बड़ी सी कढ़ाई व गोबर के उपलों का भी प्रबन्धन किया गया जिसपर बाटी व चोखे की सब्जियों को पकाया जाना था। संगीत के लिए होमथिएटर…
-"आशुतोष" पटना बिहारआज की भाग दौड़ भरी जिन्दगी के बीच गंगा किनारे जाना और घंटो बैठकर लहरों को निहारना उसके सुन्दर दृश्यों को अनुभव करना अपने आप में एक अलग ताजगी का एहसास कराता है मैं लगभग रोज ही गंगा तट पर जाया करता था लेकिन अब रूटीन बिगड गया है। प्रायः काम की व्यस्तता की वजह से आज मैं घर से ही सोचकर चला कि शाम में कुछ घंटे…
राष्ट्रभाषा के लिए केन्द्र सरकार को पोस्टकार्ड भेजने का अभियान शुरू इंदौर (Hum Hindustani, USA)-हिन्दी भाषा की सक्रिय सेवा के लिए कनाडा की संस्था ने हिन्दीभाषा डॉट कॉम को सम्मानित किया है। साथ ही उनके पोस्टकार्ड अभियान को सराहा है। इस मंच को 'विश्व हिन्दी साहित्यरथी' सम्मान से विभूषित किया गया है। हिन्दीभाषा डॉट कॉम की प्रचार प्रमुख नमिता दुबे ने जानकारी देते हुए बताया कि,कनाडा स्थित विश्व हिन्दी संस्थान…
-प्रकाश दर्पेशादी ब्याह का सीजन शुरु होते ही निमंत्रण पत्रिकाओ के आने का सिलसिला यूं शुरु होता है कि थमने का नाम ही नही लेता। समाज मे रहकर रिश्ते ऐसे प्रगाढ़ हो जाते है कि शादी में सम्मिलित होकर रस्म अदायगी करनी ही पडती है। ऐसे समय कई घरों के आर्थिक बजट भी गड़बड़ा जाते है। हा , ये दिन उनके लिए सुकून भरे होते है जिनके यंहा हाल ही…
Page 49 of 80

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें