articles

-आशुतोष, पटना बिहारराजीव अपने घर से निकल पड़ा था ऑफिस के लिए वह तेज कदमो के साथ बस स्टाॅप की ओर बढ़ रहा था। धूप तेज और गर्भी का मौसम में पैदल चलने से पसीना की बूँदे उसके चेहरे पर दिख रही थी। वह भागता हुआ बस स्टाॅप पहुँचा वहाँ बस लगी हुई थी अभी वह कुछ दूरी पर ही था कि तेज घमाके की आवाज आयी जैसे कोई टायर…
- व्यग्र पाण्डेमि.आर.के.साहब के विशाल बंगले पर आज कुछ अजीब सी चहल-पहल थी शहर मौहल्ले की अधिकांश वृद्धाएं कुछ खांसती-खंखारती, कुछ लाठी टैकती, कुछ प्रसन्नमन ,कुछ बुझी-2, धीरे-2 बतियाती हुई प्रवेश कर रही थी । यूँ तो मि.आर.के.साहब के यहाँ लोगों का आना-जाना लगा ही रहता है । आज मुझे भी, किसी काम से उनके यहाँ जाना हुआ । बंगला दूधिया रोशनी से नहाया हुआ था विशाल कक्ष में एक…
-सुरेश हिन्दुस्थानीकांग्रेस में एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी संभालने वाले सेम पित्रोदा के बयान के बाद एक बार फिर से कांग्रेस बैकफुट पर आती दिखाई दे रही है। हालांकि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पंजाब में चुनाव प्रचार के दौरान एक प्रकार से यह जताने का प्रयास किया है कि वह अपने राजनीतिक सलाहकार सेम पित्रोदा के बयान से काफी दुखी हैं। राहुल गांधी ने सेम पित्रोदा के बयान…
- योगेश कुमार गोयल कुल चार लोकसभा सीटों वाले पर्वतीय राज्य हिमाचल प्रदेश में चुनावी प्रक्रिया के अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होना है। 2011 की जनगणना के अनुसार 55673 वर्ग किलोमीटर में फैले इस हिन्दू बहुल राज्य की कुल आबादी 6864602 है, जहां 95.17 फीसदी हिन्दू तथा 2.18 फीसदी मुस्लिम हैं। कुछ जिलों में तो हिन्दुओं की आबादी करीब 98 फीसदी तक है और मुस्लिम एक फीसदी…
दीपेश पालीवाल, उदयपुर राज. आधुनिक जीवन मे टेलीविजन मनोरंजन का सबसे लोक प्रिय साधन है। एक दौर हुआ करता था जब टेलीविजन लोगो में संस्कारों का संचार करता था पूरा परिवार एक साथ बैठकर रामायण , महाभारत , अलिफ लैला जैसे सुसंस्कारित कार्यक्रम देखा करते थे ।जो परिवार के आपसी सामंजस्य बनाए रखने में एक सक्रिय भूमिका निभाते थे जिस पर पूरा परिवार एक साथ बैठकर कर चर्चा परिचर्चा कर…
· डुमरांव स्टेट के राजा रहे कमल सिंह, देश के पहले ऐसे जनप्रतिनिधि भी बने जो जनता के मतों से 1952 ई. में बक्सर संसदीय क्षेत्र से विजयी हुए - मुरली मनोहर श्रीवास्तव* राजतंत्र से लोकतंत्र में तब्दील हुआ भारत। उपनिवेशी शासनकाल वर्ष 1757 से 1947 तक रहा है। आज हम बात कर रहे हैं देश के प्रथम सांसद और आखिरी बचे हुए महाराजा की। रियासती हुकूमत के आखिरी राजा…
-मनोज ज्वाला आधुनिक भारत में संत रामकृष्ण परमहंस व संयासी विवेकानन्द के बाददो महान ऋषि हुए- अरविन्द घोष और श्रीराम शर्मा आचार्य । अरविन्द कीशिक्षा-दीक्षा बचपन से ले कर युवावस्था तक इंग्लैण्ड में विशुद्धअंग्रेजी रीति से हुई, तो श्रीराम निहायत संस्कृत-निष्ठ सनातनी विद्वानमदनमोहन मालवीय से दीक्षित होकर ठेठ देहाती परिवेश में शिक्षार्जन किये ।ये दोनों अपने-अपने सार्वजनिक जीवन के आरम्भ में भारतीय राष्ट्रीयकांग्रेस से सम्बद्ध क्रांतिकारी स्वतंत्रता-सेनानी रहे थे ।…
- राजेश कुमार शर्मा"पुरोहित" (शिक्षक एवम साहित्यकार) हम प्रतिवर्ष मातृ दिवस मनाते हैं। माता सन्तान को जन्म देती है। नो महीने गर्भ में रखती है। कितना दुख दर्द सहती है। ऐसी अवस्था मे भी घर के सारे काम करती हुई परिवार की देखरेख,बच्चों की देखभाल करती है। माता सहनशक्ति की प्रतीक होती है। वह खुद भूखी रहकर अपनी संतान के लिए हाड़ तोड़ मेहनत करती है। गरीब मजदूर की माताएँ…
-सुरेश हिन्दुस्थानी संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित हो चुके जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर भारत में कई आतंकी हमलों को अंजाम दे चुका है। इसी वर्ष पुलवामा में आतंकी मसूद अजहर द्वारा प्रशिक्षित आतंकियों ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के काफिले पर बड़ा हमला करके भारत सरकार को चुनौती दी थी। इसकी जिम्मेदारी भी मसूद के संगठन जैश ने ली थी। मसूद 2001 में संसद पर हुए हमले का भी…
- बाल मुकुन्द ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार) यूपी देश का सबसे बड़ा प्रदेश है। यही प्रदेश करेगा इस लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री के ताज का फैसला। 80 में से 73 सीटें जीतने वाली भाजपा इस बार बेहद मुश्किल में है। यह मुश्किल एक दूसरे की जानी दुश्मन सपा और बसपा के एक होने का कारण हुआ है। यूपी चुनाव में जातीय ध्रुवीकरण सियासत पर हावी हो गया है। यही…
Page 4 of 80

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें