articles

-सुरेश हिन्दुस्थानी(वरिष्ठ स्तंभकार और राजनीतिक विश्लेषक) भारत कृषि प्रधान देश है, इसका आशय यह भी है कि भारत में कृषि के विकास के लिए जितने सकारात्मक प्रयास होंगे, भारत उतनी ही तीव्र गति से विकास के पथ पर अग्रसर होगा। यह बात सही है कि कृषि प्रधान देश होने के बाद भी कृषि विकास के लिए स्वतंत्रता के पश्चात उतने प्रयास नहीं किए गए, जितने होने चाहिए। इस कारण किसान…
-अब्दुल रशीद दुनियां की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ गरीबों को कितना मिल पाता है या नहीं, यह कहना अभी जल्द बाजी होगा,लेकिन पहले के स्वास्थ्य योजनाओं का लाभ गरीबों तक दाल में छौंक के बराबर तक ही पहुंचा है. हाँ प्राइवेट अस्पताल और बीमा कम्पनियों ने खूब पैसा जरुर बनाया है. आयुष्मान भारत योजना या मोदीकेयर राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा की नई योजना है, जिसे 01 अप्रैल,2018 को…

आत्म - कथांश

--नीरज त्यागी अगर अपने जीवन की कुछ पसंदीदा चीजों को एकत्रित करूं,तो सबसे पहली चीज जो चाहना और पाना बहुत बड़ी उपलब्धि थी, वह था दो पहिया वाहन उस समय जिस समय पैसा कमाना बहुत ही भारी होता था और एक आम आदमी की आय इतनी अधिक नहीं होती थी उस समय किसी के पास दो पहिया वाहन होना बहुत ही बड़ी बात होती थी और जिन बड़े बुजुर्गों के…
-निर्मल रानीगुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागूं पाएं। बलिहारी गुरू आपने गोबिंद दिए मिलाए। महाकवि संत कबीरदास द्वारा रचित उक्त दोहा हमारे देश में काफी आदर व स मान के साथ पढ़ा व स्वीकार किया जाता है। इस दोहे में गुरु की तुलना गोबिंद अर्थात् भगवान के साथ करते हुए कबीरदास जी फरमाते हैं कि यदि गुरु एवं गोबिंद अर्थात् भगवान एक साथ खड़े हों तो किसे प्रणाम करना चाहिए।…
न्यूयॉर्क (हम हिंदुस्तानी)-गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के प्रतिनिधियों ने बताया कि देश-विदेश की पत्र पत्रिकाओं में लिखने वाले सर्वाधिक चर्चित व्यंग्यकार डॉ आदित्य जैन 'बालकवि' के व्यंग्यों को अमेरिका की गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने " *मोस्ट पब्लिश्ड पोएटिक सटायर्स* " के रूप में विश्व रिकॉर्ड में दर्ज किया हैं। विश्व इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ हैं जब किसी व्यंग्यकार ने अपने व्यंग्यो को "पोएटिक फॉर्म" में…
न्यूयॉर्क (हम हिंदुस्तानी)-गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के प्रतिनिधियों ने बताया कि देश-विदेश की पत्र पत्रिकाओं में लिखने वाले सर्वाधिक चर्चित व्यंग्यकार डॉ आदित्य जैन 'बालकवि' के व्यंग्यों को अमेरिका की गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने " *मोस्ट पब्लिश्ड पोएटिक सटायर्स* " के रूप में विश्व रिकॉर्ड में दर्ज किया हैं। विश्व इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ हैं जब किसी व्यंग्यकार ने अपने व्यंग्यो को "पोएटिक फॉर्म" में…
- डॉ आदित्य जैन बालकविटिंगटोंग... यात्रीगण कृपया ध्यान दे.. गाड़ी संख्या. 2014.."अच्छे दिन एक्सप्रेस" जल्द आने वाली हैं। आप बिलकुल भी चिंता ना करे। लेकिन ''कब आएगी, कब तक आएगी''..बार-बार ये पूछकर हमें शर्मिंदा ना करे। क्योकीं जिस गुजराती कम्पनी से इस बार हमारा 'लोकतान्त्रिक करार' हैं। उनके 'एजेंडिक रडार' से भी आजकल ये ''अच्छे दिन एक्सप्रेस'' फरार हैं। कोई कहता हैं कि 'सेंट्रल प्लेटफॉर्म पे खड़ी हैं। कोई कहता…
-रमेश ठाकुरइक्कीस माह पहले भारतीय फौज द्वारा पाकिस्तानी आतंकियों पर किया गया सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो इतना समय बीत जाने के बाद क्यों जारी किया गया? इसपर अरविंद केजरीवाल, राहुल गांधी, संजय निरूपम, संदीप दीक्षित व मायावती के अलावा तमाम विपक्षी नेताओं ने फिर सवाल खड़े किए हैं। ये नेता शुरू से ही वीडियो दिखाने की मांग कर रहे थे। लेकिन आरोप लगाने वाले इन नेताओं को वीडियो न दिखाने…

एक लेख

बलात्कार एक ऐसा अपराध जिसके बारे में सुनते ही हमारे मन में खौफ और आक्रोश दोनों पैदा हो जाते हैं। खौफ तो यह सोचकर कि आने वाला समय कितना भयावह होगा और आक्रोश यह सोचकर कि आज इंसान नीचता की सारी हदें पार करता जा रहा है, अपनी माँ बहनों को भी रौंदता जा रहा है। जब भी देश में ऐसी घटना घटती है तो जनता हाथों में मोमबत्ती उठाये…

"नई माँ"

-पूजा अग्निहोत्रीमैं लौटकर फिर बिल्हौर स्टेशन पर खड़ी थी। पलटकर देखा तो फिर रोना आ गया। आज समझ आ रहा था कि, मायके का छूटना क्या होता है। शायद ऐसा ही महसूस करती होगी वो लड़की जो विवाह के समय अपनी माँ का आँचल छोड़ती होगी। अनुभव ने सामान व्यवस्थित किया और सब अपनी सीट पर लेट गये, मैं भी। ट्रेन आगे की ओर चल पड़ी, और मैं आँखे मूँदकर…
Page 27 of 76

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें