articles

"आशुतोष", पटना (बिहार ) बात उन दिनों की है जब मैं स्कूल में पढ़ता था।मेरा एक दोस्त जो मेरे साथ ही पढता था। उसे साथ लेने मै अक्सर उसके घर जाया करता था। चूँकि स्कूल दूर थी,और रास्ते सूनसान होते थे तो हम दोनो एक दूसरे को साथ लेकर ही जाते थे । एक दिन की बात है मैं सुबह के तरीबन 9•15 बजे उसके घर गया।वोभी तैयारी कर रहा…
-डॉ. वंदना सेनकुछ बहुराष्ट्रीय कंपनियों के उत्पाद किस प्रकार से शरीर में बीमारी पैदा करने का काम कर रही हैं, इसकी जानकारी हमें यदा कदा मिलती ही रहती है। यह कंपनियां कभी अपने खाद्य उत्पाद को संरक्षित करने के लिए तो कभी आकर्षक बनाने के लिए रासायनिक तत्वों का उपयोग करके मानव शरीर को कितनी हानि पहुंचाने का काम कर रही हैं, यह खाते समय हमें पता नहीं चलता, लेकिन…
मुंबई (हम हिंदुस्तानी)-पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया का लोकप्रिय एडूटेन्मेंट शो 'मैं कुछ भी कर सकती हूं' देश का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला टीवी शो है. 'मैं कुछ भी कर सकती हूँ' अपने तीसरे सीजन के साथ जल्द ही दूरदर्शन पर वापसी करने जा रहा है. मैं कुछ भी कर सकती हूं एक युवा डॉक्टर, डॉ. स्नेहा माथुर की प्रेरक यात्रा है, जो मुंबई में अपने आकर्षक कैरियर को छोड़…
-प्रमोद दीक्षित ‘मलय’ म0प्र0 के सरकारी कार्यालयों में प्रत्येक महीने की पहली तारीख को पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के समय से चल रहीे वंदेमातरम के सामूहिक गायन की परम्परा को नई सरकार द्वारा रोक देने की घटना को पूरे देश में अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के रूप में देखा जा रहा है। आमजन के साथ ही राजनीतिक दलों, खासकर भाजपा ने इस कृत्य को विभाजनकारी मानसिकता बताते हुए मुखर विरोध किया है…
अभिषेक राज शर्माबात बडे़ लोग की हो तब बाते करना अच्छा लगता और सुनना भी,कल मंच से बडे़ ताकतवर लोगो की बात किया,कुछ परचित बडे़ लोग मेरे पास फोन करके बोले" लगे रहो बस ऐसे ही हमारा नाम बनाकर रखो।मैं डर कर बोला अजी मांफ करिये अगर बुरा लगा हो, आप माई बाप हो आप की दया से सबकुछ चल रहा है।उधर से आवाज आया"देखो हमने बहुत अच्छे कर्म किये…
- योगेश कुमार गोयल जुकाम का संक्रमण किसी भी मौसम में व्यक्ति को अपनी गिरफ्त में ले सकता है किन्तु सर्दी के मौसम में इसका संक्रमण कुछ ज्यादा ही देखने में आता है। जैसे ही सर्दी के मौसम की शुरूआत होती है, अक्सर बहुत से व्यक्ति जुकाम से परेशान दिखाई देने लगते हैं और कई बार तो तमाम सावधानियां बरतने के बाद भी व्यक्ति जुकाम के संक्रमण से बच नहीं…
-बाल मुकुन्द ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार) दुनियां भर में हिंदी का उपयोग और प्रचार प्रसार लगातार बढ़ रहा है मगर अपने ही देश में राज भाषा का आधिकारिक दर्जा पाने के बावजूद यह भाषा जनभाषा के रूप में स्थापित होने का अब भी इंतजार कर रही है। गाँधी के शब्दों में बात करें तो राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र गूंगा है। बहरहाल 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस पर देशवाशियों…
-निर्मल रानी नववर्ष की सर्वप्रथम कैबिनेट बैठक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई महत्वपूर्ण फ़ैसलों को अपनी मंज़ूरी प्रदान की। इन फैसलों में एक महत्वपूर्ण फैसला गौवंश संरक्षण से भी संबंधित था। कहना ग़लत नहीं होगा कि देश के किसी भी राज्य द्वारा अब तक गौवंश संरक्षण हेतु इतने बड़े पैमाने पर कोई फ़ैसला नहीं लिया गया है। इस निर्णय के अंतर्गत् उत्तर प्रदेश के समस्त निकायों,गांवों,क्षेत्र,जि़ला…
*साहित्य संगम संस्थान के बोली विकास मंच पर बही काव्य सरिता भवानीमंडी (हम हिंदुस्तानी)- साहित्य संगम संस्थान दिल्ली के बोली विकास मंच व्हाट्सएप्प ग्रुप पर रविवार को भव्य ऑनलाइन कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया।क्षेत्रीय बोलियों के इस अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में देश के ख्यातिनाम रचनाकारों ने क्षेत्रीय बोलियों में काव्य पाठ किया। कवि सम्मेलन का शुभारंभ माँ सरस्वती की स्थापना से हुआ संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजवीर सिंह…
-सुरेन्द्र कुमार (लेखक एवं विचारक) भारत-ऑस्ट्रेलिया के मध्य खेली गई चार टेस्ट मैचों की सीरीज गत सोमवार टीम इंडिया की ऐतिहासिक जीत के साथ सम्पन्न हो गई। पिछले सात दशकों से जिस जीत के लिए भारतीय क्रिकेट टीम ऑस्ट्रेलियाई सरजमी पर तरस रही थी,आखिरकार सोमवार को उसे वह जीत हासिल हो ही गई। भारतीय टीम को मिली इस ऐतिहासिक जीत के मायने खास इसलिए भी है क्योंकि अब भारत ऑस्ट्रेलिया…
Page 3 of 117

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें