Editor

Editor

टीवी एक्टर करण कुंद्रा (Karan Kundra) और वीजे अनुषा दांडेकर (Anusha Dandekar) अपने रिलेशनशिप के साथ- साथ अपनी लेटेस्ट तस्वीरों को चलते भी चर्चा में रहते है। कुछ घंटो पहले करण कुंद्रा ने सोशल मीडिया अकाउंट पर तस्वीरें शेयर की हैं। इन सभी तस्वीरों में करण गर्लफ्रेंड अनुषा दांडेकर के साथ बोल्ड अंदाज में दिखाई दिए।करण कुंद्रा (Karan Kundra) और वीजे अनुषा दांडेकर (Anusha Dandekar) की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होती दिखाई दी।करण कुंद्रा और अनुषा दांडेकर की वायरल हो रही ये तस्वीरें वेकेशन की है जोकि उनके फैंस को काफी पसंद आ रही हैं।सामने आई इन तस्वीरों में टीवी एक्टर करण कुंद्रा (Karan Kundra) और वीजे अनुषा दांडेकर (Anusha Dandekar) एक दूसरे के साथ बोल्ड अंदाज में भी दिखाई दिए।करण कुंद्रा और अनुषा दांडेकर की केमिस्ट्री सोशल मीडिया के यूजर को हमेशा ही पसंद आती है।करण कुंद्रा (Karan Kundra) और अनुषा दांडेकर (Anusha Dandekar) पिछले काफी सालों से एक दूसरे के साथ रिलेशनशिप में है।करण और अनुषा ने कभी भी दुनिया से अपने रिलेशनशिप को नहीं छुपाया।हाल ही में अनुषा दांडेकर (Anusha Dandekar) ने बॉयफ्रेंड करण कुंद्रा (Karan Kundra) का जन्मदिन धूमधाम से मनाया और इसकी कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी शेयर की।अनुषा दांडेकर (Anusha Dandekar) एक वीजे है।

 

 

 

 

बिग बॉस 13 (Bigg Boss 13) में आज का एपिसोड बहुत खास होगा। घर में फैमिली वीक टास्क के बाद वीकेंड का वार (Weekend Ka Vaar) होगा। इसके बाद सलमान खान घर वालों से बातचीत करते हुए उन्होंने ने की हुई गलतियों पर बात करेंगे। वीकेंड का वार (Weekend Ka Vaar) ने इस बार सलमान खान घरवालों के साथ- साथ पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) की हरकतों पर नाराजगी जताते हुए उनकी क्लास लेते हुए दिखाई देंगे। दरअसल, बिग बॉस 13 का आज का प्रोमो सामने आया है। इसमें आज के एपिसोड की झलक दिखाई गई है। इस दौरान सलमान खान (Salman Khan) ने पारस और माहिरा से बात करते हुए कहा- ‘तुम दोनों बोल रहे हो कि हम दोनों के बीच दोस्ती है लेकिन तुम्हारा रिलेशनशिप कुछ और ही नजर आ रहा हैं।‘सलमान खान माहिर शर्मा को बताते है कि पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) ने गर्लफ्रेंड आकांक्षा को ये भी बोला कि ‘अगर मैं एक्टिंग वैक्टिंग बहुत करूं तो, इसे गलत मत समझाना, गेम खेलूं तो बुरा मत मानना, मैं बता दूं इसने पहले से ही ब्रिज बना लिया है।‘ ये बाते सुनकर पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) बिफर जाते हैं और कहते है कि ‘शो के क्रिएटिव्स को बोलो कि ये बेकार की बातें ना ही करें।' पारस का जवाब देते हुए सलमान खान कहते हैं कि ‘इस में क्रिएटिव्स टीम का कुछ लेना देना नहीं हैं, उसने मुझे कॉल किया ये जानने के लिए क्या हो रहा है।'सलमान खान की ये बाते सुनकर पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) चुप नहीं रहते। इस दौरान माहिरा पारस को छुप करने के बहुत कोशिश करती है लेकिन वो कहते है कि ‘अगर मुझपर आरोप लग रहे हैं तो मैं कुछ भी बोलूं नहीं।‘ इसके बाद सलमान खान को और गुस्सा आता है। वो पारस को कहते है कि ‘आरोप क्या लग रहा है.... पारस ये टोन ना मुझसे मत यूज करना।' इसके बाद भी पारस छुप नहीं बैठता और कहता है कि ‘मुझे नहीं पता कहां से आ रहे हैं ये।' फिर क्या था सलमान पारस को उंगली दिखा कर आवाज नीचे करने के लिए कहते हैं। इसके बाद फाइनली चुप होते हैं।

बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर कबीर खान (Kabir Khan) के निर्देशन में बन रही फिल्म '83' (83) की चर्चा इस समय हर तरफ हो रही है। फिल्म के एक के एक रिलीज कर कबीर सिंह दर्शकों को बीच फिल्म का क्रेज बढ़ाते जा रहे हैं। 18 जनवरी को मेकर्स ने पंजाब के मशहूर सिंगर हार्डी संदू (Harrdy Sandhu) जो कि फिल्म में डायनामिक बॉलर मदन लाल (Madan Lal) का किरदार निभाते दिखेंगे का पोस्टर भी रिलीज किया था। और एक बार फिर बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह (Ranveer Singh) ने सोशल मीडिया पर फिल्म '83' का एक और नया पोस्टर रिलीज कर दिया है। इस पोस्टर में पूर्व विकेटकीपर सैयद किरमानी (Syed Kirmani) के लुक में नजर आ रहे साहिल खट्टर (Sahil Khattar) दिखाई दे रहे हैं।फिल्म '83' (83) के पोस्टर को शेयर करते हुए रणवीर सिंह (Ranveer Singh) ने कैप्शन में लिखा है "किरी भाई दा जवाब नहीं! पेश है सैयद किरमानी (Syed Kirmani) के लुक में नजर आ रहे साहिल खट्टर (Sahil Khattar)।" इस पोस्टर को कबीर खान (Kabir Khan) ने भी साझा करते हुए लिखा है "विकेटों के पीछे एक दीवार, जिसने कभी भी किसी भी गेंद को अपने गोल्डन दस्ताने के पास नहीं जाने दिया!! पेश हैं किरी भाई।" एक के एक नए पोस्टर्स देखने के बाद फैंस भी रणवीर सिंह की इस फिल्म का बड़ी बेताबी से इंतजार कर रहे हैं।रणवीर सिंह (Ranveer Singh) की यह फिल्म साल 1983 में भारतीय क्रिकेट टीम द्वारा जीते गए वर्ल्ड कप के इर्द गिर्द घूमती नजर आएगी। फिल्म में रणवीर सिंह (Ranveer Singh) भारत के पूर्व क्रिकेटर कपिल देव की भूमिका में नजर आएंगे। यह फिल्म कपिल देव (Kapil Dev) की जिंदगी पर आधारित होगी और फिल्म में उनके साथ लीड रोल में उनकी पत्नी दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) भी दिखाई देंगी। फिल्म 10 अप्रैल 2020 में सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही है।

रणवीर सिंह (Ranveer Singh) इन दिनों अपनी अपकमिंग फिल्म '83' (83) को लेकर लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। रणवीर एक के बाद एक फिल्म के पोस्टर रिलीज करने में लगे हुए हैं। शनिवार यानि 18 जनवरी को रणवीर सिंह (Ranveer Singh) ने फिल्म का एक और नया पोस्टर अपने अकाउंट शेयर कर दिया है। इस पोस्टर में पंजाब के मशहूर सिंगर हार्डी संदू (Harrdy Sandhu) नजर आ रहे हैं। इस पोस्टर को शेयर करते हुए रणवीर सिंह (Ranveer Singh) ने कैप्शन में लिखा है "पंजाब दा गबरू वीर !!!! पेश है हार्डी संदू डायनामिक मदन लाल (Madan Lal) के रूप में !!!!"रणवीर सिंह (Ranveer Singh) के अलावा हार्डी संधू (Harrdy Sandhu) ने अपने अकाउंट पर पोस्टर को शेयर करते हुए लिखा है "आप में से बहुत से लोग जो मुझे नहीं जानते हैं, कि मैंने पंजाब के लिए और भारत के लिए अंडर 19 (Under 19) के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेला है। मैंने अपने जीवन के 10 से भी ज्यादा साल तक क्रिकेट खेला है और क्रिकेट को हमेशा मैंने अपना पहला प्यार माना है। हमेशा देश के लिए खेलना और भारतीय जर्सी पहनना चाहता था। चोटें ऐसी थीं कि चोटों के कारण, मैं नहीं कर पाया। जीवन का पहिया ऐसा घूमा कि, जो मैं असल जिंदगी में नहीं कर सका। अब बॉलीवुड में मेरी शुरुआत है। इस अवसर के लिए आभारी हूं कि एक बेहतरीन किरदार निभाने जा रहा हूं - मदन लाल सर।"बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर कबीर खान (Kabir Khan) के निर्देशन में बन रही इस फिल्म '83' में रणवीर सिंह (Ranveer Singh) भारतीय क्रिकेटर रह चुके कपिल देव (Kapil Dev) का किरदार निभाते हुए दिखाई देंगे। रणवीर की यह फिल्म कपिल देव की ज़िन्दगी पर आधारित है। फिल्म 10 अप्रेल 2020 को सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रहा है। फिल्म में रणवीर के साथ लीड रोल में उनकी पत्नी दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) भी नजर आएंगी।

बिग बॉस 13 (Bigg Boss 13) के घर में अब भी पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) एक संस्कारी प्लेबॉय के रुप में ही नजर आ रहे हैं। घर में जब से पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) और माहिरा शर्मा के बीच नजदीकियां बढ़ी है तब से ही घर के बाहर तरह तरह की बातें होनो शुरू हो चुकी है। अब घर में हो रही हर घटना का असर सबसे पहले बाहर देखने को मिलता है। तभी तो कई बार पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) की गर्लफ्रेंड आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ये बात जता चुकी हैं कि, उनको पारस (Paras Chhabra) और माहिरा का रिश्ता कुछ खास पसंद नहीं है। इसके बाद भी पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) माहिरा शर्मा को कभी किस करते दिखते हैं तो कभी गले लगाते नजर आ जाते हैं।यही वजह है कि, आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ने पारस (Paras Chhabra) को अपना बनाने के लिए एक नया कारनामा कर डाला है। हाल ही में आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ने इस बात का ऐलान कर दिया है कि, घर से बाहर आते ही आकांक्षा (Akanksha Puri) और पारस (Paras Chhabra) शादी कर लेगें।जी हां, सही सुना आपने...। मुंबई मिरर को दिए एक इंटरव्यू में आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ने इस बात का खुलासा कर दिया है। जब पारस (Paras Chhabra) की गर्लफ्रेंड से शादी के बारे में पूछा गया तो आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ने कहा, हां हम दोनों ने कुछ प्लॉन्स बनाए हैं।आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ने खुलासा किया कि, शो में जाने से ठीक पहले ही मेरी पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) से इस बारे में बात हुई है। उसका भी यही मानना था कि, हम लोगों को अब और देरी नहीं करनी चाहिए शादी जल्द से जल्द कर लेने में ही भलाई है। शादी की बात सुनकर वह बहुत खुश था।आगे आकांक्षा (Akanksha Puri) ने बताया कि, भले ही शादी की बात पहले मैंने की है लेकिन मैं चाहूंगी कि पहले वह अपने काम पर ज्यादा ध्यान दे। ऐसे में हो सकता है कि, हम दोनों इस साल शादी कर लें। वैसे मैंने यह फैसला पूरी तरह से पारस (Paras Chhabra) के ऊपर छोड़ दिया है। वह जब कहेगा शादी तभी होगी। आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) की इस बात से इतना तो तय है कि, वह समय रहते पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) से शादी करना चाहती हैं।

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश करेंगी। इस बजट से ऑटोमोबाइल सेक्टर और इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ-साथ स्टील सेक्टर को भी नई ऊर्जा मिल सकती है। पिछले पांच वर्षों से स्टील सेक्टर सुस्त विकास दर का सामना कर रहा है। इस सुस्ती को दूर करने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कोकिंग कोल और पेट कोल के आयात पर शुल्क दरों में कटौती का एलान कर सकती हैं। स्टील सेक्टर बड़ी बेसब्री से पहली फरवरी का इंतजार कर रहा है।स्टील सेक्टर को उम्मीद है कि वित्त मंत्री इन्फ्रास्ट्रक्चर और ऑटोमोबाइल सेक्टर में जान फूंकने के लिए कुछ बड़े कदमों का एलान करेंगी, जिनसे अर्थव्यवस्था के साथ-साथ स्टील सेक्टर की सुस्ती दूर करने में भी सहायता मिलेगी। स्टील कंपनियों के मुताबिक अक्टूबर, 2019 में स्टील की मांग न्यूनतम स्तर पर पहुंचने के बाद अभी कुछ सुधार अवश्य दिखाई दे रहा है। लेकिन यह स्थिति बरकरार रहेगी, इसमें संदेह है। इसलिए सरकार को ऑटोमोबाइल उद्योग को वित्तीय प्रोत्साहन देने के साथ इन्फ्रास्ट्रक्चर, खासकर रेल, सड़क, बिजली और हाउसिंग सेक्टर में निवेश बढ़ाने के उपाय करने होंगे। यह शुभ संकेत है कि सरकार रेलवे में नई लाइनों, दोहरीकरण, विद्युतीकरण, सिग्नलिंग के अलावा कोच एवं वैगन उत्पादन तथा स्टेशनों के विकास से जुड़ी परियोजनाओं पर निवेश बढ़ाने के लिए लगातार कदम उठा रही है। साथ ही सड़क निर्माण में भारतमाला जैसी महा-योजना पर तेजी से काम के लिए प्रयास हो रहे हैं। स्टील की मांग बढ़ाने में शिपिंग तथा राष्ट्रीय जलमार्ग सेक्टर की भी महत्वपूर्ण भूमिका है और सरकार इन क्षेत्रों का भी विस्तार कर रही है। इसके लिए सागरमाला और जलमार्ग विकास परियोजनाएं चलाई जा रही हैं। बजट में इन सभी के लिए के लिए आबंटन बढ़ने तथा निजी और पीपीपी परियोजनाओं को प्रोत्साहन देने के उपाय संभावित हैं। स्टील सेक्टर की एक बड़ी समस्या ईंधन व कच्चे माल की बढ़ती कीमतें हैं। इनका संबंध मुख्यतया अच्छी गुणवत्ता वाले कोयले से है, जिनका आयात करना पड़ता है।महंगे कोयले के आयात से निजात दिलाने के लिए सरकार ने हाल ही में कोयला क्षेत्र को निजी निवेश के लिए पूरी तरह खोलने फैसला किया है। लेकिन कोकिंग कोल के आयात पर निर्भरता जारी रहने की संभावना है। इसलिए उद्योग ने इस पर आयात शुल्क घटाए जाने की मांग की है। माना जाता है कि बजट में वित्त मंत्री इस पर अवश्य विचार करेंगी।

 

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की कानूनी टीम ने सीनेट से प्रतिनिधि सभा द्वारा पारित किए गए महाभियोग प्रस्ताव के दो आरोपों को खारिज करने का अनुरोध किया है। टीम ने इसे स्वतंत्र रूप से राष्ट्रपति चुनने के अमेरिकी लोगों के अधिकार पर खतरनाक हमला करार दिया। डेमोक्रेट बहुल प्रतिनिधि सभा ने राष्ट्रपति ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग चलाने के प्रस्ताव को अमेरिका के ऊपरी सदन सीनेट में भेजने के पक्ष में बुधवार को मतदान किया था।ट्रम्प पर आरोप है कि उन्होंने डेमोक्रेट प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन के खिलाफ जांच के लिए यूक्रेन पर दबाव बनाकर सत्ता का दुरुपयोग किया और कांग्रेस को बाधित किया। सीनेट में कार्यवाही चलाए जाने के पक्ष में 228 सांसदों ने जबकि विपक्ष में 193 सांसदों ने वोट दिया था। सदन ने सात महाभियोग प्रबंधकों को नियुक्त किया, जो ट्रम्प को अमेरिकी राष्ट्रपति के पद से हटाने की कार्यवाही में डेमोक्रेट्स के पक्ष में बहस करेंगे। हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने इन प्रबंधकों को नामित किया है।ट्रम्प के खिलाफ लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए, व्हाइट हाउस की कानूनी टीम ने कहा कि महाभियोग का प्रस्ताव देश के लोगों की इच्छा को पलटने का एक घिनौना और गैरकानूनी प्रयास हैं। कानूनी टीम ने कहा, ‘‘यह 2016 के चुनावों के परिणामों को पलटने और 2020 के चुनाव में हस्तक्षेप करने का एक घिनौना और गैरकानूनी प्रयास है। राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग लाने के अत्यधिक पक्षपातपूर्ण प्रयास उसी दिन से शुरू हो गये थे, जिस दिन से उन्होंने कार्यभार संभाला था और आज भी जारी है।’’महाभियोग को रिपब्लिकन-नियंत्रित सीनेट भेजे जाने से पहले अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पैलोसी ने इसके तहत लगाए गए आरोपों पर हस्ताक्षर किए थे। ट्रंप के खिलाफ ऐतिहासिक महाभियोग की सुनवाई बृहस्पतिवार को सीनेट में शुरू हो गई। सीनेट में सांसदों ने शपथ ली कि वह इस बारे में निष्पक्ष निर्णय लेंगे कि ट्रम्प को राष्ट्रपति के पद से हटाया जाए या नहीं। हाउस स्पीकर पेलोसी द्वारा नियुक्त किए गए प्रबंधकों में सांसद एडम शिफ, जेरोल्ड नाडलेर, जोए लोफग्रेन, हाकिम जैफ्रीज, वाल डेमिंग्स, जेसन क्रो और सिल्विया गारसिया शामिल हैं ।

अबुजा।समुद्री डाकुओं द्वारा अफ्रीका के पश्चिमी तट के पास पिछले महीने एक कॉमशियल जहाज से अगवा किए गए 19 भारतीयों को रिहा कर दिया गया है। हालांकि, अगवा किए गए भारतीयों में से एक की कैद में ही मौत हो गई है। अबुजा स्थित भारतीय उच्चायोग Indian mission ने बताया कि उसने भारतीयों की रिहाई के लिए नाइजीरियाई अधिकारियों के साथ साथ पड़ोसी देशों के अधिकारियों से भी मदद मांगी थी। मालूम हो कि अफ्रीका के पश्चिमी तट के पास जहाज MT Duke से 15 दिसंबर को चालक दल के 20 भारतीय सदस्यों को अगवा कर लिया गया था। अबुजा स्थित भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट कर बताया कि 19 भारतीय नागरिकों को शनिवार को रिहा कर दिया गया जबकि डाकुओं की कैद में एक भारतीय की मौत हो गई। भारत ने अगवा किए गए भारतीयों की रिहाई में सहयोग के लिए नाइजीरियाई अधिकारियों धन्‍यवाद दिया हैभारतीय उच्चायोग Indian mission ने ट्वीट कर कहा, भारत सरकार ने MT Duke से 15 दिसंबर को अगवा किए गए 20 भारतीय नाविकों की रिहाई को गंभीरता से लिया और नाइजीरिया की सरकार के साथ मिल कर उन्‍हें छुड़ाने की कोशिशें की। लेकिन प्रतिकूल परिस्थितियों में एक भारतीय की मौत हो गई जो दुखद है। दूतावास भारतीयों की वापसी में मदद कर रहा हैइससे पहले नाइजीरिया में साल 2016 में दो भारतीय मैंगापुडी श्रीनिवास और कौशल अनीस शर्मा को स्‍थानीय अपराधियों ने अगवा कर लिया था जिन्‍हें बाद में छुड़ा लिया गया था। इन दोनों भारतीयों की रिहाई में तत्‍कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने अहम भूमिका निभाई थी। रिपोर्टों के मुताबिक, दोनों कार में सवार होकर अपनी कंपनी के प्लांट की ओर जा रहे थे, एक ट्रैफिक सिग्नल पर हथियारबंद लोगों ने उनका अपहरण कर लिया था। श्रीनिवास और कौशल बेन्यू सीमेंट कंपनी में काम करने के लिए नाइजीरिया गए थे

लंदन। ब्रिटेन में शाही दर्जा छोड़ने का फैसला करने वाले प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल अब शाही उपाधि (हिज और हर रॉयल हाईनेस) का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। दोनों को शाही कर्तव्यों के लिए किसी प्रकार का सार्वजनिक कोष भी नहीं दिया जाएगा। बकिंघम पैलेस के अनुसार, यह नई व्यवस्था अगले कुछ दिनों में लागू होगी। हैरी और मेगन ने इस साल की शुरुआत में शाही दर्जा छोड़ने का फैसला किया था।बीबीसी के मुताबिक ड्यूक ऑफ ससेक्स हैरी और डचेस ऑफ ससेक्स मेगन अब औपचारिक रूप से महारानी का प्रतिनिधित्व नहीं करेंगे। दंपती को विंडसर कैसल स्थित घर की मरम्मत पर खर्च हुए करदाताओं के 24 लाख पौंड (22 करोड़ रुपये से ज्यादा) की राशि भी वापस करनी होगी।महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की ओर से जारी बयान में कहा गया है, हमें खुशी है कि परिवार के सभी सदस्यों ने मिलकर मेरे पोते और परिवार के लिए सृजनात्मक और सहयोगात्मक रास्ता तलाश लिया है। हैरी, मेगन और उनका बेटा आर्ची हमेशा मेरे परिवार के प्रिय सदस्य रहेंगे। मैं उन चुनौतियों से अच्छी तरह वाकिफ हूं जो उन्होंने पिछले दो वर्षो के दौरान अनुभव की हैं। मैं उनके स्वतंत्र जीवन की इच्छा का समर्थन करती हूं। पूरे परिवार की तरफ से मैं यह उम्मीद करती हूं कि आज का समझौता उन्हें सुखी और शांतिपूर्ण जीवन शुरू करने में सहयोग करेगा।
पिता ने मेगन पर लगाया यह आरोप:-प्रिंस हैरी की पत्नी मेगन के पिता थॉमस ने अपनी बेटी पर शाही परिवार की प्रतिष्ठा धूमिल करने का आरोप लगाया है। चैनल 5 को दिए इंटरव्यू में थॉमस ने कहा, हर लड़की का सपना राजकुमारी बनने का होता है और उसका यह सपना पूरा भी हो गया था, लेकिन अब वह इससे दूर जा रही है।

दुबई। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को भारत का अंदरूनी मामला बताया है। उन्होंने इसके साथ ही कहा, हम समझ नहीं पा रहे हैं कि भारत में इस कानून की जरूरत क्या थी? सीएए के तहत 31 दिसंबर, 2014 तक अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक उत्पीड़न के चलते भारत आए हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, ईसाई और पारसी समुदाय के लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान है।संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की राजधानी अबूधाबी में गल्फ न्यूज को दिए साक्षात्कार में हसीना ने कहा, मुझे अब भी यह समझ में नहीं आ रहा कि भारत सरकार ने यह क्यों किया? इसकी कोई जरूरत नहीं थी। हसीना का बयान बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमिन के उस बयान के कई सप्ताह बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि सीएए और एनआरसी भारत के आंतरिक मामले हैं, लेकिन अगर इसको लेकर भारत में किसी तरह की अनिश्चितता का माहौल बनता है तो उससे पड़ोसी देशों पर भी असर पड़ेगा। बांग्लादेश की 16 करोड़ से ज्यादा की आबादी में 10.7 फीसद हिंदू जबकि महज 0.6 फीसद बौद्ध हैं।बांग्लादेश की पीएम ने इस बात से साफ इन्कार किया कि उनके देश से धार्मिक उत्पीड़न के चलते अल्पसंख्यक समुदायों ने भारत पलायन किया है। उन्होंने इन्हीं वजहों से किसी अन्य देश के नागरिकों के बांग्लादेश आने की बातों को भी नकारा। हसीना ने कहा, बांग्लादेश ने हमेशा से कहा है कि सीएए और एनआरसी भारत के आंतरिक मामले हैं। भारत सरकार ने भी यही बात दोहराई है। अक्टूबर, 2019 में नई दिल्ली की यात्रा के दौरान खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझे व्यक्तिगत रूप से यह आश्वासन दिया था। बांग्लादेश और भारत के बीच विभिन्न क्षेत्रों में प्रगाढ़ संबंध हैं। असम में अवैध बांग्लादेशियों की पहचान करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर एनआरसी की प्रक्रिया शुरू की गई थी। 30 अगस्त को प्रकाशित अंतिम एनआरसी से 19 लाख लोगों को बाहर रखा गया।
बांग्लादेश और भारत के बीच संबंध इस समय सबसे अच्छे:-शेख हसीना ने कहा कि भारत सरकार ने अपनी ओर से भी दोहराया है कि एनआरसी भारत का आंतरिक मामला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें अक्टूबर 2019 में नई दिल्ली की यात्रा के दौरान व्यक्तिगत रूप से इसे लेकर आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश और भारत के बीच संबंध इस समय सबसे अच्छे हैं। दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में सहयोग बढ़ा है।
असम में एनआरसी:-गौरतलब है कि एनआरसी असम में रहने वाले वास्तविक भारतीय नागरिकों और राज्य में अवैध बांग्लादेशी प्रवासियों की पहचान करने के लिए तैयार किया गया है। 3.3 करोड़ आवेदकों में से, 19 लाख से अधिक लोगे 30 अगस्त को प्रकाशित अंतिम एनआरसी से बाहर हैं। हालांकि, इन लोगों नागरिकता साबित करने के कई अन्य मौके मिलेंगे। वहीं दूसरी ओर नागरिकता संशोधन कानून पिछले महीने संसद में पास हुआ। इस कानून का देश में काफी विरोध प्रदर्शन हो रहा है। इस कानून के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान तीनों देशों में सताए जाने की वजह से 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान है।

Page 8 of 1076

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें