Editor

Editor

मैनचेस्टर। पाकिस्तान टीम के पूर्व महान तेज गेंदबाज वसीम अकरम ने टीम के कप्तान अजहर अली की कप्तानी की आलोचना की है। वसीम अकरम का मानना है कि कप्तान अजहर अली ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में अच्छे निर्णय नहीं लिए और उन्होंने एक ट्रिक भी मिस कर दी थी, जिसकी वजह से पाकिस्तान को मुकाबले में हार झेलनी पड़ी। पाकिस्तान की पकड़ में आ गए मैच को इंग्लैंड की टीम ने 3 विकेट से जीतने में सफलता हासिल की।वसीम अकरम ने पेसर नसीम शाह को कम आंकने के अजहर अली के फैसले की आलोचना की। अकरम ने बताया है कि दूसरी पारी में 277 रनों के लक्ष्य का बचाव करते हुए 82 रनों में से सिर्फ 13 ओवरों के लिए नसीम शाह का इस्तेमाल किया गया, जो कि एक ट्रिक थी वो कप्तान से मिस हो गई। स्काई स्पोर्ट्स से बात करते हुए अकरम ने कहा है, "यह तुमको दुख देगा। यह पाकिस्तान टीम और पाकिस्तान में क्रिकेट प्रेमियों को नुकसान पहुंचाएगा।"पाकिस्तान टीम के पूर्व कप्तान अकरम ने ये भी माना है कि हार-जीत क्रिकेट का हिस्सा है। उन्होंने कहा है, "जीतना और हारना क्रिकेट का हिस्सा है, लेकिन मुझे लगता है कि हमारे कप्तान ने इस मुकाबले में काफी बार एक चाल को मिस किया, जहां तक उनके नेतृत्व का संबंध है।" 277 के लक्ष्य का पीछा करते हुए जोस बटलर (75 रन) और क्रिस वोक्स (नाबाद 84 रन) के दम पर इंग्लैंड ने मैच के चौथे दिन 3 विकेट शेष रहते जीत दर्ज कर सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई। अकरम ने महसूस किया कि इंग्लैंड का स्कोर 117 रन पर 5 विकेट था। उस समय पाकिस्तान की जरूरत थी कि वह बटलर पर दबाव बनाए, जो अपने टेस्ट स्थान के लिए लड़ रहे थे। अकरम ने अजहर अली की कप्तानी में कमी निकालते हुए कहा, "जब वोक्स बल्लेबाजी के लिए आए तो किसी ने बाउंसर नहीं फेंके, कोई छोटी गेंद नहीं की थी। उन्होंने वोक्स को सेटल होने दिया और फिर उनके लिए रन बनाना आसान हो गया था। एक बार जब साझेदारी हो रही थी, तो कुछ भी नहीं हुआ- न गेंद टर्न हुई और न स्विंग। इस तरह बटलर और वोक्स मैच को पाकिस्तान से दूर ले गए।"

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग 2020 सीजन पिछले संस्करणों की तुलना में ज्यादा महत्वपूर्ण है। कोविड 19 महामारी के बीच इस सीजन को दो बार स्थगित किया गया और फिर विषम परिस्थिति में इसका आयोजन करना अपने आप में बड़ी चुनौती भी है। हर पहलूओं को देखते हुए आखिरकार बीसीसीआइ ने इस सीजन के आयोजन को हरी झंडी दिखाई और इस इसे यूएई में खेला जाएगा। आइपीएल के 13वें सीजन का आयोजन 19 सितंबर से किया जाएगा और इसके लेकर खिलाड़ियों, फ्रेंचाइजी, क्रिकेट फैंस, क्रिकेट एक्सपर्ट सबसे बीच जबरदस्त उत्साह देखा जा रहा है। वहीं पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ब्रेटली ने भी उस टीम का चयन किया है जो उनसे हिसाब से इस बार खिताब जीत सकती है। ब्रेट ली के मुताबकि एम एस धौनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स एक बार फिर से यूएई में खुद को साबित करेगी और खिताब जीत सकती है। ली ने कहा कि मैं उनकी टीम की ताकत पर भरोसा करता हूं और इस टीम के खिलाड़ी थोड़े अधिक परिपक्व और बुजुर्ग हैं। इस टीम में युवा खिलाड़ियों को भी मौका मिल रहा है, लेकिन उस टीम में ऐसे खिलाड़ी हैं जो लंबे वक्त से टीम के साथ जुड़े हैं और यही टीम की सबसे बड़ी ताकत है। ली ने ये बातों स्टार स्पोर्ट्स के शो क्रिकेट कनेक्टेड पर कही। उन्होंने कहा कि सीएसके के खिलाड़ियों को यूएई का विकेट काफी सूट करेगा। हाल ही में मैंने अगले दो तीन हफ्तों के मौसम के पूर्वानुमान पर ध्यान दिया है। इस बात की संभावना है कि वहां का तापमाल 40 डिग्री सेल्सियस रहेगा और विकेट पर टर्न होगा। मुझे लगता है कि सीएसके वहां पर अपने घर जैसा ही महसूस करेगा। कल्पना करिए कि सभी स्पिनर्स को वहां अच्छा टर्न मिलेगा। मैं फिर से कहता हूं कि वे निश्चित रूप से इस टूर्नामेंट के लिए उपयुक्त हैं और निश्चित रूप से पसंदीदा होना चाहिए। ली ने कहा कि सीएसके का गेम सूखी और चिपचिपी पिचों पर काफी शानदार रहता है। धौनी इस कंडीशन में अपने स्पिन का इस्तेमाल करने में माहिर हैं। वहीं उनके पास दीपक चाहर व ड्वेड ब्रावो जैसा विश्वसनीय तेज गेंदबाज हैं जो जरूरत पड़ने पर गेंद को और गति प्रदान कर सकते हैं।

टोक्यो। रविवार को अमेरिका द्वारा नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बम की 75वीं बरसी मनाई गई। इस दौरान मौजूद मेयर और हमले में जीवित बचे हुए लोगों ने जहां मारे गए लोगों की याद में एक मिनट का मौन रखा वहीं विश्व समुदाय से नाभिकीय हथियारों को प्रतिबंधित करने की अपील की। बता दें कि 75 वर्ष पहले नौ अगस्त 1945 को सुबह 11 बजकर दो मिनट पर अमेरिका के बी-29 बमवर्षक ने इस शहर पर परमाणु बम गिराया था।
बम में भरा था प्लूटोनियम;-साढ़े चार टन वजनी इस बम में प्लूटोनियम भरा था और इसका कोड नेम 'फैट मैन' था। इस हमले में 70 हजार लोग मारे गए थे। नागासाकी पर किए गए हमले से तीन दिन पहले अमेरिका ने हिरोशिमा पर विश्व का पहला परमाणु हमला किया था। नागासाकी पर किए गए परमाणु हमले के छह दिन बाद यानी कि 15 अगस्त को जापान ने आत्मसमर्पण कर दिया और द्वितीय विश्व युद्ध समाप्त हो गया।
सीमित संख्या में ही मौजूद थे लोग;-कोरोना महामारी को देखते हुए नागासाकी पीस पार्क में आयोजित कार्यक्रम में सीमित संख्या में ही लोग मौजूद थे। इस दौरान मेयर तोमिहिसा ताउ ने एक शांति घोषणापत्र पढ़ा, जिसमें उन्होंने इस बात पर चिंता जताई कि हाल के वर्षो में परमाणु हथियारों से संपन्न देश निशस्त्रीकरण के प्रयासों से पीछे हट गए हैं। मेयर ने कहा कि परमाणु संपन्न देश ना केवल परमाणु हथियारों को अपग्रेड कर रहे हैं बल्कि उन्हें आसानी से इस्तेमाल के लायक भी बना रहे हैं।मेयर ने रूस और अमेरिका के बीच इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्स ट्रीटी के खत्म होने से बढ़ने वाले जोखिम का भी उल्लेख किया। इस दौरान उन्होंने जापान की सरकार और सांसदों से परमाणु हथियार निषेध संधि 2017 पर जल्द से जल्द हस्ताक्षर करने का भी आग्रह किया। उधर, कार्यक्रम में भाग लेने के बाद प्रधानमंत्री एबी शिंजो ने परमाणु अप्रसार संधि की आलोचना की। उन्होंने कहा कि ना तो इसमें परमाणु संपन्न देश शामिल हैं और ना ही इसे गैर परमाणु संपन्न देशों का समर्थन हासिल है, इसलिए इस संधि पर हस्ताक्षर करने से कुछ खास हासिल नहीं होगा।

काठमांडू। कोरोना वायर (COVID-19) महामारी के बीच, भारत ने रविवार को नेपाल को 10 वेंटिलेटर सौंपे है। इन वेंटिलेटर की किमत 28 मिलियन है। नेपाल में भारतीय दूतावास ने कहा कि यह रविवार को ग्रैंड हॉल, सेना मुख्यालय में एक समारोह में नेपाल के भारतीय राजदूत विनय मोहन क्वात्रा द्वारा थल सेनाध्यक्ष (COAS) जनरल पूर्ण चंद्रा थापा को सौंपे गए हैं।दूतावास द्वारा जारी किए गए एक बयान के अनुसार, इन वेंटिलेटरों को उन्नत आक्रामक या गैर-इनवेसिव श्वसन समर्थन को शामिल करने के लिए विस्तृत श्रृंखला के लिए डिजाइन किया गया है। इनका उपयोग आईसीयू, तृतीयक मल्टीस्पेशलिटी अस्पतालों और समर्पित अस्पतालों में माध्यमिक देखभाल में किया जा सकता है। दूतावास ने कहा कि भारतीय सेना के पास मानवीय सहायता और राहत के लिए पहली प्रतिक्रिया के रूप में नेपाली सेना को समर्थन देने का एक लंबा रिकॉर्ड है। वेंटिलेटर्स का उपहार दो सेनाओं के बीच जारी मानवीय सहयोग का हिस्सा है। सौंपने के दौरान, राजदूत क्वात्रा ने COVID-19 महामारी पर प्रचलित नेपाल के लोगों को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने की भारत की प्रतिबद्धता की फिर से पुष्टि की।जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, नेपाल में कोरोना वायरस के कुल 22,592 सकारात्मक मामले दर्ज किए गए हैं और 73 लोगों ने अब तक इस बीमारी का शिकार हो चुके हैं।

नई दिल्ली। कोरोनावायरस को लेकर देश दुनिया में रिसर्च जारी है। नित नई-नई बातें सामने आ रही हैं। अब एक रिसर्च में नई बात सामने आई है। इस नई रिसर्च में कहा जा रहा है कि जितने लक्षण कोरोना पॉजिटिव लोगों में होते हैं उतने ही लक्षण उन लोगों में भी होते हैं जिनमें कोरोना पॉजिटिव होने के लक्षण नहीं दिखते हैं। जिनमें लक्षण नहीं दिखते हैं वो लोग भी कोरोना फैलाने में उतना ही रोल अदा करते हैं।साउथ कोरिया के जामा इंटरनल मेडिसिन में छपी एक स्टडी से साबित होता है कि बिना लक्षणों वाले कोरोना पॉजिटिव लोगों से भी वायरस फैल सकता है। कोविड-19 के संक्रमण को लेकर अब तक स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसकी केवल संभावना जताते आए हैं। ऐसा तब होता है जब कोई व्यक्ति बिना किसी कोरोना मरीज के संपर्क में आए हुए ही संक्रमित पाया जाता है।इसको लेकर साउथ कोरिया के सूनचुंगह्यांग यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसिन के रिसर्चरों की एक टीम ने इस बारे में रिसर्च की। इस टीम का नेतृत्व सिऑन्जे ली ने किया। वो बताती हैं कि उन्होंने 6 मार्च से 26 मार्च के बीच एक आइसोलेशन सेंटर में रखे गए 303 लोगों से लिए गए स्वॉब के सैंपल का विश्लेषण किया। इसके पास के एक शहर में अचानक कोरोना के बहुत सारे मामले सामने आए थे। इस समूह में सभी लोग 22 से 36 साल की उम्र के बीच थे और दो-तिहाई महिलाएं थीं।समूह के सैंपलों की जांच से पता चला कि 193 में कोरोना के लक्षण दिख रहे थे जबकि बाकी 110 में बिल्कुल नहीं।

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने वाली बहुजन समाज पार्टी ने अब उससे किनारा कर लिया है। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने रविवार को समाजवादी पार्टी पर बड़ा हमला बोला है।उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले जातिवाद और इनमें भी ब्राह्मणों को वोट की खातिर लुभाने को लेकर सियासत शुरू हो गई है। सपा के बाद अब बहुजन समाज पार्टी ने ब्राह्मण कार्ड खेल दिया है। बसपा मुखिया ने समाजवादी पार्टी की ब्राह्मणवाद की सियासत पर हमला बोला है। मायावती ने कहा कि किसी भी महापुरुष को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए, वह किसी की जागीर नहीं होते हैं। लोग अपने कर्म से महापुरुष का दर्जा पाते हैं। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा उन्हेंं अपने कार्यकाल में ही परशुराम की मूॢत लगवा लेनी चाहिए थी, लेकिन चुनाव आने से पहले समाजवादी पार्टी ब्राह्मण वोटों के खातिर मूॢत लगाने की बात कह रही है, जिससे पता चलता है कि समाजवादी पार्टी की हालत प्रदेश में कितनी खराब है।
परशुराम की उनसे भी बड़ी प्रतिमा लगाएंगे : मायावती;-समाजवादी पार्टी के ब्राह्मण समाज की आस्था के प्रतीक परशुराम की प्रतिमा लगाने की तैयारी के बीच में बसपा मुखिया ने कहा कि हम तो परशुराम की उनसे भी बड़ी प्रतिमा लगाएंगे। मायावती ने ऐलान किया कि उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापसी करने पर बसपा भगवान परशुराम के नाम पर अस्पताल व साधु-संतों के ठहरने के लिए स्थल बनवाएगी। मायावती ने कहा कि ब्राह्मण समाज को बसपा पर पूरा भरोसा है, जैसा कि हमने उन्हेंं उचित प्रतिनिधित्व दिया है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी सिर्फ समाजवादी पार्टी की तरह बात नहीं करती है, बल्कि करके दिखाती है। हमारी पार्टी हर समाज, जाति, धर्म के संतों, महापुरषों को पूरा सम्मान देती है। उन्होंने सपा पर हमला बोलते हुए कहा कि बसपा सरकार ने महान संतों के नाम पर कई जनहित योजनाएं शुरू की थीं और जिलों के नाम रखे थे, लेकिन जातिवादी मानसिकता और द्वेष की भावना से सपा ने इन्हेंं बदल दिया। 2022 में बसपा सरकार बनने पर इन्हेंं फिर बहाल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में चार बार बनीं बसपा की सरकार में सभी वर्गों के महान संतों के नाम पर अनेक जनहित योजनाएं शुरू की गई थीं जिसे बाद में आई समाजवादी पार्टी की सरकार ने अपनी जातिवादी मानसिकता व द्वेष की भावना के चलते बदल दिया।
अयोध्या के राम मंदिर को लेकर सियासत न करने की नसीहत;-अयोध्या के राम मंदिर को लेकर सियासत न करने की नसीहत देते हुए मायावती ने कहा कि राम लोगों की आस्था से जुड़ा मुद्दा है। इस पर किसी भी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अच्छा होता कि अगर पांच अगस्त को राम मंदिर भूमि पूजन के समय पीएम मोदी अपने साथ दलित समाज से आने वाले देश के राष्ट्रपति को साथ लेकर अयोध्या जाते। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना के खिलाफ केंद्र व राज्य की सरकारें पूरी तरह से कामयाब नहीं रही हैं। उनके प्रयासों में कमी रही है। हमें तो कोरोना के कहर से बचने के लिए अब अस्पताल की ज्यादा जरूरत है। बसपा मुखिया ने कहा कि यूपी में जंगलराज चल रहा है। यदि रामराज्य होता तो जंगलराज नही होता।

कानपुर। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने संकेत दिए हैं कि देश की सड़कों पर जल्द इलेक्ट्रिक ट्रक दौड़ सकते हैं, इस बारे में सरकार सोच रही है। उन्होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश और बिहार समेत देश के कई राज्यों में सड़कों पर तेजी से काम चल रहा है। अब व्यापारी को मेरठ से दिल्ली माल भेजने में मात्र 45 मिनट लगेंगे। अभी जहां दिल्ली से मुंबई माल भेजने में 55 घंटे लगते हैं, वो माल बहुत जल्द 26 घंटे में पहुंचने लगेगा।
दो साल में बदलेगी यूपी और बिहार की तस्वीर;-भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के 39वें स्थापना दिवस पर आयोजित वर्चुअल व्यापारी सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सड़कों में व्यापक सुधार हो रहा है, हम इलेक्ट्रिक ट्रक लाने के बारे में सोच रहे हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और बिहार में सड़कों का काम बड़े पैमाने पर चल रहा है और अगले दो वर्ष में इन राज्यों की तस्वीर बदल जाएगी। कहा, आज तमाम देश भारत से जुड़ना चाहते हैं। भारत में निवेश आएगा तो लोगों को रोजगार मिलेगा, लोगों की क्रय शक्ति बढ़ेगी। उत्पादन बढ़ेगा तो आर्थिक चक्र भी मजबूत होगा। लॉकडाउन में लगातार उद्योग और व्यापार बंद करना भी ठीक नहीं है, व्यापारी अपने काम के तरीकों में परिवर्तन करें और ग्राहकों को भी उसी के हिसाब से बुलाएं।
कोरोना के साथ जीने की सीखें कला:-केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कोरोना के साथ हमे जीने की कला सीखनी होगी। जब हमे वैक्सीन मिल जाएगी तो हम फिर दौड़ने लगेंगे। व्यापारी जीएसटी में पंजीकृत हों, बैंकों से जुड़ें और अपने उत्पादों की पैकेजिंग अच्छी करें और लॉजिस्टिक को ध्यान में रखें। इन सब चीजों को ध्यान दिया गया तो कारोबार तेजी से बढ़ सकता है। उन्होंने कहा कि गांवों से लोग शहर आ रहे हैं। यह ठीक नहीं है, लोग अपने गांव में ही कार्य को बढ़ाएं। उत्तर प्रदेश और बिहार इसमें बड़ा सहयोग कर सकते हैं।उन्होंने कहा कि आज के दौर में मुश्किल में कौन नहीं है, सबके उद्योग व्यवसाय मुश्किल में हैं, इसलिए यह समय एक दूसरे का हाथ पकड़कर आगे बढ़ने का है। समय के साथ तकनीक का प्रयोग करें। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्याम बिहारी मिश्र और संचालन प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मुकुंद मिश्र ने किया। ऑनलाइन सम्मेलन में देश भर से व्यापारी जुड़े रहे।

नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की एक्स गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे को उनकी मौत का काफी गहरा सदमा लगा है। अंकिता लगातार सुशांत को योद कर न सिर्फ सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रही हैं। बल्कि उन्हें इंसाफ दिलाने के लिए लगातार मीडिया से बातचीत भी कर रही हैं। वहीं अब अंकिता ने सुशांत सिंह को लेकर एक और पोस्ट सोशल मीडिया पर किया है। अंकिता लोखंडे के इस पोस्ट को देखकर आप यकीनन भावुक हो उठेगें। अंकिता का ये पोस्ट सोशल मीडिया पर तेजी से वायलर हो रहा है।एक्ट्रेस अंकिता लोखंडे और सुशांत सिंह दोनों लंबे समय तक रिलेशनशिप में थे। दोनों के प्यार की भरे लम्हों की कई तस्वीरें और वीडियो आज भी इंटरनेट पर मौजूद हैं। इसी बीच अंकिता ने सुशांत को लेकर अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट किया। उन्होंने अपने साथ सुशांत सिंह की मां तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, 'मुझे विश्वास है आप दोनों साथ में हैं।'  वहीं अंकिता लोखंडे के इस पोस्ट पर सुशांत सिंह की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने अंकिता की पोस्ट पर रिप्लाई करते हुए लिखा, 'बिल्कुल बेबी आप और स्ट्रॉन्‍ग रहो। हमें इंसाफ़ की लड़ाई साथ में लड़नी है।' बता दें कि अंकिता का ये पोस्ट सोशल मीडिया पर तेजी से वायलर हो रहा है। वहीं फैंस इस पर लगतार कमेंट्स कर रहे हैं।  इससे पहले श्वेता सिंह कीर्ति ने सोशल मीडिया बिना किसी का नाम लिए लिखा था कि किसी से उलझने से पहले लोगों को परिणामों के बारे में सोचना चाहिए। बता दें कि 34 वर्षीय सुशांत सिंह राजपूत 14 जून, 2020 अपने मुंबई वाले फ्लैट में मृत पाए गए थे। मुंबई पुलिस के मुताबिक सुशांत नवंबर 2019 से डिप्रेशन में थे और मुंबई के ही एक डॉक्टर से उनका ​इलाज चल रहा था। वहीं अब सुशांत का केस सीबीआई के हाथ में हैं। इस मामले में अब सीबीआई अपने तरीक से पूछताछ कर रही है। 

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में 'स्वच्छ भारत अभियान' के तहत बनाए गए 'राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र' (Rashtriya Swachhta Kendra) का उद्घाटन किया। महात्मा गांधी को समर्पित किए गए इस केंद्र में लोगों को स्वच्छ भारत मिशन की सफलता और स्‍वच्‍छता के फायदों के बारे में बताया जाएगा। राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र के उद्घाटन के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने बच्‍चों से संवाद किया और उन्‍हें स्‍वच्‍छता की लड़ाई में अपनी सेना बताया। महात्‍मा गांधी ने आज के ही दिन आजादी की लड़ाई का आंदोलन शुरू करते हुए अंग्रेजों भारत छोड़ो का नारा दिया था। इसी तर्ज पर पीएम मोदी ने भी 'गंदगी भारत छोड़ो' का नया नारा दिया।
भारत छोड़ें देश को कमजोर बनाने वाली बुराइयां;-प्रधानमंत्री ने कहा‍ कि महात्मा गांधी जी का अभियान था- अंग्रेजों भारत छोड़ो। अब हम लोग अभियान चला रहे हैं- गंदगी भारत छोड़ो। देश को कमजोर बनाने वाली बुराइयां भारत छोड़ें, इससे अच्छा और क्या होगा। इसी सोच के साथ पिछले छह वर्षों से देश में एक व्यापक 'भारत छोड़ो अभियान' चल रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा- गरीबी- भारत छोड़ो... खुले में शौच की मजबूरी- भारत छोड़ो... पानी के दर-दर भटकने की मजबूरी- भारत छोड़ो... भ्रष्टाचार की कुरीति- भारत छोड़ो..!
गंदगी भारत छोड़ो सप्‍ताह चलाने का आह्वान:-प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत छोड़ो के ये सभी संकल्प स्वराज से सुराज की भावना के अनुरूप हैं। आइए आज से 15 अगस्त तक यानि स्वतंत्रता दिवस तक देश में एक हफ्ते का लंबा अभियान चलाएं। स्वराज के सम्मान का सप्‍ताह यानि 'गंदगी भारत छोड़ो सप्‍ताह'... इस दौरान पीएम मोदी ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई को भी मजबूती से जारी रखने की अपील की। पीएम मोदी ने कहा कि साफ सफाई और स्‍वच्‍छता कोरोना से लड़ाई में काम आने वाला एक बड़ा हथियार है।
यमुना को भी गंदे नालों से मुक्‍त करना है:-पीएम मोदी ने कहा कि जैसे गंगा जी की निर्मलता को लेकर हमें उत्साहजनक परिणाम मिल रहे हैं, वैसे ही देश की दूसरी नदियों को भी हमें गंदगी से मुक्त करना है। यहां पास में ही यमुना जी हैं। यमुना जी को भी गंदे नालों से मुक्त करने के अभियान को हमें तेज करना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि स्‍वच्‍छ भारत अभियान से देश के बच्चे-बच्चे में पर्सनल और सोशल हाइजीन को लेकर जो चेतना पैदा हुई है। इसका बहुत बड़ा लाभ कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भी हमें मिल रहा है। आप कल्पना कीजिए, यदि कोरोना जैसी महामारी 2014 से पहले आती, तो क्या स्थिति होती।
गंदगी सबसे ज्यादा असर गरीब पर;-पीएम मोदी ने कहा, 'गांधी जी कहते थे... स्वराज सिर्फ साहसी और स्वच्छ जन ही ला सकते हैं। स्वच्छता और स्वराज के बीच के रिश्ते को लेकर गांधी जी इसलिए आश्वस्त थे क्योंकि उन्हें यकीन था कि गंदगी यदि सबसे ज्यादा नुकसान किसी का करती है, तो वो गरीब है। जबतक जनता में आत्मविश्वास पैदा नहीं होता, तबतक वो आजादी के लिए खड़ी कैसे हो सकती था? इसलिए, साउथ अफ्रीका से लेकर चंपारण और साबरमती आश्रम तक, उन्होंने स्वच्छता को ही अपने आंदोलन का बड़ा माध्यम बनाया।
बदल रहा गरीबों का जीवन;-प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान ने हर देशवासी के आत्मविश्वास और आत्मबल को बढ़ाया है लेकिन इसका सबसे अधिक लाभ देश के गरीबों के जीवन पर दिख रहा है। स्वच्छ भारत अभियान से हमारी सामाजिक चेतना, समाज के रूप में हमारे आचार-व्यवहार में भी स्थाई परिवर्तन आया है। राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र, गांधी जी के स्वच्छाग्रह और उसके लिए समर्पित कोटि-कोटि भारतीयों के विराट संकल्प को एक जगह समेटे हुए है। इस केंद्र में सत्याग्रह की प्रेरणा से स्वच्छाग्रह की हमारी यात्रा को आधुनिक टेक्नॉलॉजी के माध्यम से दिखाया गया है।
बच्‍चे ही बड़ों को रास्ता दिखा सकते हैं;-पीएम मोदी ने कहा कि इस ऐतिहासिक दिवस पर, राजघाट के समीप, राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र का लोकार्पण अपने आप में बहुत प्रासंगिक है। यह केंद्र, बापू के स्वच्छाग्रह के प्रति 130 करोड़ भारतीयों की श्रद्धांजलि है, कार्यांजलि है। पिछले साल देश के सभी गांवों ने अपने आप को खुले में शौच मुक्त घोषित किया था, इस सफलता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे बच्‍चे स्वच्छता चैंपियन बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाले हैं। शहर से लेकर गांव तक, स्कूल से लेकर घर तक आप ही बड़ों को रास्ता दिखा सकते हैं कि वह साफ-सफाई का ध्यान रखें।
स्वच्छ भारत मिशन पर बनी शॉर्ट फिल्म भी देखी;-पीएम मोदी ने सबसे पहले महात्‍मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्‍पांजलि अर्पित की। इसके बाद उच्‍च तकनीकी अनुभव केंद्र का अवलोकन किया। इस दौरान राजघाट पर पीएम मोदी ने स्वच्छ भारत मिशन पर बनी शॉर्ट फिल्म देखी। पीएम मोदी ने कहा कि इस केंद्र में सत्याग्रह की प्रेरणा से स्वच्छाग्रह की हमारी यात्रा को आधुनिक टेक्नॉलॉजी के माध्यम से दर्शाया गया है। मैं ये भी देख रहा था कि स्वच्छता रोबोट यहां आए बच्चों के बीच में काफी लोकप्रिय है। यह राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र, गांधी जी के स्वच्छाग्रह और उसके लिए समर्पित कोटि-कोटि भारतीयों के विराट संकल्प को एक जगह समेटे हुए है।

कोझिकोड। दुबई से आ रहा एयर इंडिया का विमान शुक्रवार देर शाम केरल के कोझिकोड में एयरपोर्ट पर हादसे का शिकार हो गया। भारी बारिश के चलते रनवे पर पानी भरा था और लैंडिंग के समय विमान फिसलकर लगभग 50 फीट गहरी खाई में जा गिरा। विमान में सवार 18 लोगों की मौत हो चुकी है और 127 लोग घायल हैं। जानकारी के विमान दुर्घटना जांच ब्यूरो (AAIB) ने विमान से डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर बरामद किए। इन्हें आगे की जांच के लिए दिल्ली लाया जाएगा। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कोझिकोड एयरपोर्ट का दौरा किया। उन्होंने विमान हादसे में मुआवजे का भी ऐलान किया है। इसके साथ ही केरल के मुख्यमंत्री की ओर से मारे गए लोगों के परिजनों को 10 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की गई है।
- शुक्रवार को केरल में हुए भीषण विमान हादसे के बाद आज रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोझीकोड में हुए दुखद विमान दुर्घटना पर अपनी संवेदना व्यक्त की है।
- महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने दिवंगत कैप्टन डीवी साठे के परिवार के सदस्यों से आज नागपुर में उनके आवास पर मुलाकात की। कैप्टन डीवी साठे कल कोझिकोड हवाई अड्डे पर दुर्घटनाग्रस्त एयर इंडिया एक्सप्रेस विमान में पायलट थे।
-विमान हादसे के बाद जिन सीआइएसएफ जवानों ने बचाव कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सीआइसएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन ने इन सीआइएसएफ जवानों को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।
- केरल के मुख्यमंत्री कार्यालय (CMO) ने बताया कि दुर्घटना में मारे गए लोगों एवं घायलों का कोरोना टेस्ट किया गया है। अब तक केवल एक का ही कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके साथ ही सीएमओ की ओर से बताया गया कि केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने विमान हादसे में मारे गए प्रत्येक यात्री के परिजनों को 10 लाख रूपये का मुआवजा देने की घोषणा की गई है।
- नागरिक उड्डयन महानिदेशालय को साल 2015 में रनवे के साथ कुछ दिक्कत थी, लेकिन उसे सुलझा लिया गया था। बाद में साल 2019 में इसे मंजूरी भी दे दी गई थी। एयर इंडिया के जंबो जेट्स को भी वहां उतरेा गया है: अरविंद सिंह, एएआई के चेयरमैन
- विमान उस रनवे पर किसी कारण से नहीं उतर पाया था, जहां उसे उतरना था। इसके बाद वह दूसरे रनवे पर उतरा, जहां हादसा हो गया। उन्होंने कहा कि वे स्थिति की निगरानी कर रहे हैं और कोशिश है कि हवाई अड्डे को जल्द से जल्द फिर से चालू किया जा सके: अरविंद सिंह, एएआई के चेयरमैन
- केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने विमान हादसे में घायल लोगों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। उन्होंने पीड़ितों को अंतरिम राहत के रूप में मृतकों के परिजन को 10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 2 लाख रुपये और मामूली चोटों का सामना करने वालों को 50 हजार रुपये की सहयोग राशि देने का ऐलान किया है।
- कोझीकोड प्लेन क्रैश में जान गंवाने वाले सह-पायलट अखिलेश कुमार के चचेरे भाई बासुदेव ने बताया कि वह बहुत विनम्र और अच्छे व्यवहार वाले व्यक्ति थे। उनकी पत्नी अगले 15-17 दिनों में अपने बच्चे को जन्म देने वाली हैं। वह 2017 में एयर इंडिया में शामिल हुए थे और लॉकडाउन से पहले घर आए थे।
- केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कोझिकोड मेडिकल कॉलेज का दौरा किया, यहां कोझिकोड विमान हादसे में घायल हुए यात्री भर्ती हैं।
- केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। मंत्री कल शाम को हुई हवाई दुर्घटना के बाद राहत और बचाव कार्यों का जायजा ले रहे हैं। इसके बाद वह सीनियर एविएशन अधिकारियों और प्रफेशनल्स के साथ चर्चा करेंगे।
- सीआईएसएफ के जवान अजीत सिंह विमान हादसे के वक्त हवाईअड्डे पर तैनात थे। उन्होंने एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान को पैरामीटर रोड की ओर गिरते देखा था। तभी मैंने तुरंत कंट्रोल रूम को इन्फॉर्म किया। तब तक जहाज नीचे गिर चुका था। इसके कुछ देर बाद लाइन मेंबर्स रेस्क्यू के लिए आ गए।
- केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान कोझिकोड हवाई अड्डे का दौरा करने पहुंचे हैं। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन भी हादसे वाली जगह का दौरा करेंगे।
- सीआईएसएफ के स्पेशल डीजी एमए गणपति ने कहा कि दुर्घटना शाम को 7 बजकर 40 मिनट पर हुई। विमान रनवे को पार कर गया और टेबलटॉप से गिर गया। प्लेन के दो टुकड़े हो गए। 40 से ज्यादा सीआईएसएफ कर्मी, क्विक रिस्पॉन्स टीम और मुख्य सुरक्षा अधिकारी तत्काल मौके पर पहुंचे और फंसे हुए यात्रियों को बार निकालने का काम शुरू कर दिया।
- केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन कोझिकोड एयरपोर्ट का दौरा करने पहुंचे हैं। उन्होंने यहां अधिकारियों से हादसे के बारे में जानकारी ली और मौके का निरीक्षण किया। हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई है।
- केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने विमान हादसे के बाद बचाव कार्यों में लगे लोगों को सेल्फ क्वारंटीन होने के लिए कहा है। उन्होंने बताया कि केरल सरकार उन सभी का कोरोना टेस्ट कराएगी।
- विमान से डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर (DFDR) बरामद कर लिया गया है। कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर (CVR) को बरामद करने के लिए फ्लोरबोर्ड को काटा जा रहा है: DGCA के अधिकारी
- मैंने विमान का मलबा देखा, ये दो टुकड़ों में टूटा है। जांच चल रही है। नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने पहले ही जांच के आदेश दे दिए हैं और नागरिक उड्डयन मंत्री करीब 12 बजे तक पहुंच रहे हैं: केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी.मुरलीधरन
- नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली ने कोझिकोड विमान हादसे पर दुख जताया। उन्होंने मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।
- कोझिकोड में हुई एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान की क्रैश लैंडिंग को लेकर नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DG), नागरिक उड्डयन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण(AAI) और एयर नेविगेशन सेवा के सदस्य आज दिल्ली में बैठक करेंगे।
- कोझिकोड के कारीपुर एयरपोर्ट का आज सुबह का दृश्य। विमान हादसे में दो पायलटों सहित 18 लोगों की जान चली गई है।
- वंदे भारत मिशन के तहत फ्लाइट 190 यात्रियों को लेकर दुबई से आ रही थी। पायलट ने टेबलटॉप एयरपोर्ट के रनवे के अंत तक विमान को रोकने की कोशिश की होगी जहां मॉनसून से बनी स्थिति के कारण विमान फिसल गया होगाः हरदीप सिंह पुरी
- नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि दो विमान हादसे में पायलटों सहित 18 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, यह दुर्भाग्यपूर्ण है। 127 लोग घायल हैं, अन्य लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। शुक्र है कि विमान में आग नहीं लगी। मैं कोझिकोड एयरपोर्ट जा रहा हूं।
- सभी यात्रियों और परिवार के सदस्यों को मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए दिल्ली और मुंबई से दो स्पेशल रिलीफ फ्लाइट्स की व्यवस्था की गई है। एएआईबी, डीजीसीए और फ्लाइट सेफ्टी डिपार्टमेंट घटना की जांच करने के लिए पहुंच चुके हैं: एयरइंडिया एक्सप्रेस
वंदे भारत अभियान पर था विमान:-बोइंग 737 विमान वंदे भारत अभियान के तहत खाड़ी देशों में फंसे भारतीयों को वापस ला रहा था। कोझिकोड के कारीपुर एयरपोर्ट के टेबलटॉप रनवे संख्या 10 पर शुक्रवार की शाम सात बजकर 41 मिनट पर उतरते हुए हादसे का शिकार हो गया और उसके दो टुकड़े हो गए। पहले हिस्से को ज्यादा नुकसान पहुंचा। गनीमत रही कि विमान में आग नहीं लगी और बड़ी संख्या में लोगों की जान बच गई। बारिश के चलते कम रोशनी भी हादसे की एक वजह बनी।
हादसे की जांच करेगा एएआइबी;-नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने हादसे पर गहरा दुख जताया। उन्होंने ने ट्वीट किया, 'कोझिकोड में हुई हवाई दुर्घटना से दुखी और व्यथित हूं। यात्रियों की मदद के लिए हर कोशिश की जा रही है। एयरक्राफ्ट एक्सिडेंट इंवेस्टिगेशन ब्यूरो (एएआइबी) इस हादसे की जांच करेगा।' देर रात को किए ट्वीट में पुरी ने कहा, 'उड़ान की सूची के मुताबिक विमान में 190 लोग सवार थे। इनमें 174 वयस्क यात्री, 10 नवजात, चार चालक दल के सदस्य और दो पायलट शामिल हैं।'
दो बार की थी उतरने की कोशिश:-ग्लोबल फ्लाइट ट्रैकर वेबसाइट 'फ्लाइटरडार24' के मुताबिक केरल में एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान ने कोझिकोड एयरपोर्ट पर दुर्घटनाग्रस्त होने से पहले कई बार ऊपर चक्कर लगाए थे और दो बार और भी उतरने की कोशिश की थी, लेकिन इसमें सफलता नहीं मिल पाई थी। विमान के एक यात्री रियास ने भी इस बात की पुष्टि की कि विमान ने पहले भी दो बार उतरने की कोशिश की थी। एक अन्य यात्री फातिमा ने बताया कि विमान बहुत तेजी से नीचे उतरा था और आगे तक चला गया था।

Page 6 of 1446

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें