Editor

Editor

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के दौर में लोगों की जिंदगी का हिस्सा बन गए हैं नाक और मुंह को ढकने वाले मास्क। क्या आप सोच सकते हैं कि किस-किस तरह के मास्क बनाए जा सकते हैं या किस-किस तरह के मास्क इन दिनों बाजार में उपलब्ध हैं। रोजाना नई-नई रेंज के मास्क बाजार में आ रहे हैं।अब से पहले तक 10 रूपये की कीमत से शुरू होकर चंद हजार रूपये तक की कीमत के ही मास्क बाजार में मिल रहे हैं। कुछ दिनों पहले मुंबई में एक व्यक्ति को सोने का मास्क पहने हुए देखा गया था, उस समय इसे ही सबसे कीमती मास्क बताया जा रहा था मगर उससे एक कदम आगे बढ़ते हुए एक इजरायली जूलरी कंपनी ने सोने और हीरे का इस्तेमाल करते हुए मास्क बनाया है। इस मास्क की कीमत 1.5 मिलियन डॉलर यानी लगभग 11 करोड़ रुपये बताई जा रही है।
कोरोना काल में बढ़ी मास्क की उपयोगिता:-कोरोना काल में सबसे ज्यादा किसी चीज की उपयोगिता बढ़ी है तो वो मास्क है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें और पुलिस भी लोगों से सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनने की अपील कर रही है। अब तो कुछ राज्य मास्क न पहनने वालों पर जुर्माना भी लगा रहे हैं। कुछ राज्य ऐसे लोगों से जुर्माना वसूल भी रहे हैं। जुर्माना वसूले जाने के पीछे की एक बड़ी वजह ये है कि लोग इसको अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल कर लें मगर उसके बाद भी कई लोग मान नहीं रहे हैं।
10 रुपये से लेकर हजारों रुपये तक के मास्क उपलब्ध;-कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ने के बाद से 10 रुपये की कीमत से लेकर हजारों रुपये की कीमत तक के मास्क बाजार में उपलब्ध हैं। मगर जैसे-जैसे समय बीत रहा है लोग अपने को अलग दिखाने के लिए मास्क में भी स्टाइल दिखा रहे हैं। कपड़े के मास्कों की तो भरमार हो गई है। लड़कियां खासकर मैचिंग के मास्क की मांग कर रही है। इस वजह से कई बड़ी कंपनियां तो अब सिर्फ मास्क बनाने में ही लग गई है। जिससे वो बाजार पर कब्जा कर सकें।
लाखों नहीं करोड़ों की कीमत के मास्क;-अब बात करते हैं दुनिया के सबसे महंगे मास्क की। दुनिया के सबसे महंगे मास्क की कीमत हजारों-लाखों में नहीं बल्कि करोड़ों में है। हम जिस मास्क की बात कर रहे हैं उसकी कीमत पूरे 11 करोड़ रुपये है।
इजरायली कंपनी ने बनाया मास्क:-एक इजरायली जूलरी कंपनी (Israeli jewelry company Yvel) यवेल इस मास्क को बनाने पर काम कर रही है। कंपनी के मालिक और डिजायनर आइजैक लेवी ने कहा कि 18 कैरेट सफेद सोने के मास्क को 3,600 सफेद और काले हीरे से सजाया जाएगा। यह दुनिया का सबसे महंगा कोरोना वायरस मास्क होगा। इसी के साथ खरीदार के अनुरोध पर टॉप रेटेड एन 99 फिल्टर लगाया जाएगा।उन्होंने बताया कि मास्क के खरीदार ने दो अन्य मांगें रखीं थीं। पहली ये कि यह साल के अंत तक पूरा हो जाए और दूसरी कि यह दुनिया का सबसे महंगा मास्क बने। उन्होंने कहा कि पहली और दूसरी दोनों शर्तों को ध्यान में रखकर काम करना शुरू किया गया, जल्द ही ये दोनों चीजें पूरी हो जाएंगी।

नई दिल्ली। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) टीम में पिछले कुछ वर्षों में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी शामिल रहे हैं, लेकिन टीम ने अभी तक इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का खिताब नहीं जीता है। आरसीबी की टीम तीन बार फाइनल जरूर खेल चुकी है, लेकिन फिनिशिंग लाइन को पार नहीं कर पाई है। ऐसे में भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज और क्रिकेट एक्सपर्ट संजय मांजरेकर का मानना है कि बड़े नामों के होने के बावजूद RCB को ज्यादा सफलता नहीं मिली है।विराट कोहली, एबी डिविलियर्स, क्रिस गेल, मिचेल स्टार्क, अनिल कुंबले, डेनियल विटोरी और कई अन्य महान क्रिकेटरों ने आरसीबी की जर्सी पहनी है, लेकिन नतीजा वही ढाक के तीन पात रहा है। यहां तक कि भारत को विश्व कप जिताने वाले कोच गैरी कर्स्टन भी टीम के साथ जुड़े रहे हैं, लेकिन टीम खिताब से दूर ही रही है। 2020 के लिए नीलामी में आरसीबी ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच को अपनी टीम में शामिल किया है। अब देखना ये है कि क्या नतीजा बदलेगा?संजय मांजरेकर ने स्टार स्पोर्ट्स के शो क्रिकेट कनेक्टेड में कहा है, "हमने हमेशा ये कहा है कि कुछ खिलाड़ी शुरुआत में टीम से नहीं जुड़ते हैं, लेकिन जब जुड़ जाते हैं तो फिर बात ये रह जाती है कि आप कितने लंबे समय तक खेलते हैं। उनके पास टीम में प्रतिभाशाली ही नहीं, बल्कि महान खिलाड़ी भी हैं और इसके बावजूद हमने विजयी परिणाम नहीं देखा।" अब आइपीएल यूएई में होगा। ऐसे में मांजरेकर का मानना है कि युजवेंद्र चहल, वॉशिंगटन सुंदर और पवन नेगी की स्पिन गेंदबाजी कमाल दिखा सकती है।मांजरेकर ने कहा है, "मैं स्पिन विभाग को देखने जा रहा हूं, यदि उनके पास कोई गेम चेंजर है। मैं वाशिंगटन सुंदर, चहल और पवन नेगी को तीन स्पिनरों के रूप में देख रहा हूं, क्योंकि वे वही हैं जो यूएई में ट्रैक रिकॉर्ड के हिसाब से गेंदबाजी कर सकते हैं।" इन तीन स्पिनरों में चहल सबसे अनुभवी हैं और आरसीबी को फिर से विपक्षी बल्लेबाजी इकाई को ध्वस्त करने के वे आरसीबी के सबसे बड़े हथियार होंगे। आइपीएल 2020 का आगाज 19 सितंबर से होगा, जबकि फाइनल 10 नवंबर को खेला जाएगा।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने हाल ही में चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के साथ इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 2020 के सीजन के लिए टाइटल स्पॉन्सर की डील को खत्म किया है। हालांकि, वीवो अगले साल बतौर आइपीएल टाइटल स्पॉन्सर वापसी कर सकती है, लेकिन मौजूदा समय में ऐसा नहीं होगा। ऐसे में बीसीसीआइ को आइपीएल के टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर एक नई कंपनी के साथ डील करनी होगी, जिसके लिए नीलामी होनी है। इस बीच सामने आया है कि योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि (Patanjali) ने भी आइपीएल के मुख्य प्रायोजक बनने में दिलचस्पी दिखाई है।वीवो को इस साल आइपीएल के टाइटल स्पॉन्सर के रूप में हटने से पतंजलि कम से कम इस सीजन के लिए दुनिया की सबसे महंगी टी20 लीग की मुख्य प्रायोजक हो सकती है। ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, पतंजलि भी आइपीएल के टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए बोली लगा सकती है। पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने कहा है, "हम इस वर्ष के लिए आइपीएल के शीर्षक प्रायोजन पर विचार कर रहे हैं, क्योंकि हम पतंजलि ब्रांड को वैश्विक मंच देना चाहते हैं।" पतंजलि BCCI को एक प्रस्ताव देने पर विचार कर रही है।इससे पहले सामने आ रहा था कि ई-कॉमर्स या फिर ई-लर्निंग कंपनी आइपीएल के टाइटल स्पॉन्सर के लिए आगे आ रही हैं। वहीं, Jio और टाटा ग्रुप ने भी इसके लिए दिलचस्पी दिखाई है, क्योंकि लंबे समय के बाद कोई बड़ा इवेंट हो रहा है। पिछले 6 महीने से एक भी इवेंट नहीं हुआ है, जिसके जरिए कंपनियां अपना प्रचार कर पाएं। ऐसे में बड़ी कंपनियों के पास मौका है कि वे आइपीएल जैसी विश्व स्तरीय लीग के साथ साझेदारी करें और अपने ब्रांड को ग्लोबल मार्केट में पहुंचाएं।इससे पहले बीसीसीआइ के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) के 13 वें संस्करण के लिए टाइटल प्रायोजक के रूप में वीवो के बाहर निकलने को वित्तीय संकट के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि इस तरह के फैसलों के लिए तैयार रहना चाहिए और अपने दूसरे विकल्पों को खुला रखना चाहिए। हालांकि, एक बात तो तय है कि बीसीसीआइ जो रकम वीवो से एक सीजन के लिए वसूलती थी, शायद उतनी रकम इस नए स्पॉन्सर से नहीं वसूल पाएगी।

नई दिल्ली। पेटीएम ने हाल ही में मुफ्त में ऐप पर CIBIL स्कोर की जांच करने की सुविधा शुरू की है। अपनी मुफ्त क्रेडिट स्कोर सुविधा के साथ यूजर्स अब अपनी विस्तृत क्रेडिट रिपोर्ट देख सकते हैं जिसमें क्रेडिट कार्ड और कर्ज खाते का डिटेल मुफ्त में शामिल है। इसके अतिरिक्त आप किसी शहर, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर दूसरों के साथ अपनी क्रेडिट रेटिंग की तुलना भी कर सकते हैं।इस सेवा के साथ यूजर्स अपनी विस्तृत क्रेडिट रिपोर्ट देख सकते हैं, जिसमें सक्रिय क्रेडिट कार्ड और कर्ज खाता डिटेल शामिल हैं। पूरी प्रक्रिया को चार आसान फेज में सेकंड के भीतर जाना जा सकता है।क्रेडिट स्कोर का बेहतर रहना और इसकी जानकारी हर किसी के लिए जरूरी है। बैंकों और NBFC को नियमित रूप से चार RBI अधिकृत क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनीज (CIC) या आमतौर पर क्रेडिट ब्यूरो को अपने ग्राहकों के कर्ज और क्रेडिट कार्ड खाता विडिटेल साझा करना होता है। शेयर किए गए डिटेल में आपकी कर्ज और क्रेडिट कार्ड सीमाएं, लोन EMI ईएमआई और क्रेडिट कार्ड बिल भुगतान हिस्ट्री और क्रेडिट डिफ़ॉल्ट शामिल है।
अपने क्रेडिट स्कोर को पेटीएम ऐप पर कैसे देख सकते हैं, जानिए
-अपने पेटीएम ऐप पर लॉगइन करें
-होम स्क्रीन पर शो आइकन पर टैप करें
'-फ्री क्रेडिट स्कोर' चुनें
-अपना पैन कार्ड नंबर और जन्म तिथि दर्ज करें (यदि आवश्यक हो) और सबमिट करें। यदि आप एक नए यूजर हैं, तो आपको अपना नाम और मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा, जिसके बाद आपको अपनी प्रोफ़ाइल के सत्यापन के लिए एक ओटीपी मिलेगा।
-आप बिना कोई शुल्क दिए तुरंत अपना क्रेडिट स्कोर देख सकते हैं और क्रेडिट स्कोर के बारे में आमतौर पर पूछे जाने वाले प्रश्न भी पढ़ सकते हैं, जैसे क्रेडिट स्कोर, क्रेडिट स्कोर क्यों महत्वपूर्ण है आदि। आप अपनी क्रेडिट रिपोर्ट तक पहुंचने के लिए 'सभी कर्ज और क्रेडिट कार्ड खाते' का चयन कर सकते हैं।
-पेटीएम विशेष क्रेडिट शिक्षा सेक्शन की सुविधा दे रहा है जहां यूजर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, जैसे कि अपना CIBIL स्कोर कैसे सुधारें, अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की व्याख्या करें।
-बता दें कि क्रेडिट स्कोर को बढ़िया बनाए रखना बहुत जरूरी होता है। यह लोन मिलने में ग्राहक की बहुत मदद करता है। अच्छे क्रेडिट स्कोर वाले ग्राहकों के लिए बैंक कम ब्याज दर पर भी लोन की पेशकश करते हैं।

नई दिल्ली। अरबपति मुकेश अंबानी की अगुआई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स कारोबार में 15 बिलियन डॉलर के निवेश के सौदे पर दिग्गज तेल कंपनी सऊदी अरामको (Saudi Aramco) अभी भी काम कर रही है। न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग के अनुसार, सऊदी अरामको ने यह बात कही है। सऊदी अरामको के सीईओ अमीन नासर ने तिमाही नतीजों पर बात करते हुए रविवार को मीडिया को बताया कि रिलायंस के साथ सौदे को लेकर उनकी बात चल रही है और वे सही समय पर शेयरधारकों को इस बारे में अपडेट देंगे।इस दिग्गज तेल कंपनी ने रविवार को तिमाही आंकड़ों के बारे में बताया कि उसकी शुद्ध आय एक साल पहले की तुलना में करीब 75 फीसद घटी है। कोरोना वायरस महामारी और इसके संक्रमण को रोकने के लिए कई देशों द्वारा लगाए गए लॉकडाउन के चलते तेल की खपत में जबरदस्त गिरावट इसका मुख्य कारण रहा है। खपत में कमी से कच्चे तेल के भाव में करीब 33 फीसद की गिरावट देखी गई।इससे पहले 15 जुलाई को आरआईएल की 43 वीं एजीएम में मुकेश अंबानी ने बाताया था कि कोरोना वायरस महामारी के कारण पैदा हुई अभूतपूर्व परिस्थितियों के चलते सऊदी अरामको के साथ प्रस्तावित सौदा तय समय से नहीं हो पा रहा है। साथ ही अंबानी ने कहा था कि वे सऊदी अरामको के साथ दो दशक से अधिक के व्यापारिक रिश्तों का सम्मान करते हैं और अरामको के साथ लंबी अवधि की भागीदारी के लिए प्रतिबद्ध हैं।यह आशंका भी जताई जा रही थी कि देरी के कारण यह डील रद्द हो सकती है, लेकिन अब सऊदी अरामको के सीईओ ने ऐसी सभी आशंकाओं को धूमिल कर दिया है। गौरतलब है कि रिलायंस चेयरमैन ने पिछले साल सऊदी अरामको के साथ प्रस्तावित सौदे के बारे में जानकारी दी थी। अंबानी ने कहा था कि सऊदी अरामको द्वारा आरआईएल के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स कारोबार में 20 फीसद हिस्सेदारी खरीदने के लिए निवेश किया जाएगा।यहां बता दें कि सऊदी अरामको विश्व का सबसे बड़ा कच्चे तेल का निर्यातक है। रिलायंस के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स कारोबार में निवेश करके अरामको इस सेक्टर में और मजबूत होना चाहता है। यही कारण है कि यह सौदा सऊदी अरब की इस दिग्गज तेल कंपनी के लिए महत्वपूर्ण है।

दिवंगत बॉलीवुड स्टार सुशांत सिंह राजपूत की एक्स गर्लफ्रेंड और टीवी स्टार अंकिता लोखंडे ने हाल ही में अपनी लेटेस्ट फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की है। इस फोटो में अंकिता लोखंडे खुशी से चहकती हुई दिख रही है। बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से अंकिता लोखंडे ने सोशल मीडिया से दूरी बना ली थी। सुशांत की मौत के बाद बुरी तरह से टूट चुकी अंकिता लोखंडे ने पहली फोटो एक्टर की मौत को 1 महीना पूरा होने पर शेयर की थी। इस फोटो में अदाकारा ने मंदिर में जलते हुए दिए की फोटो शेयर कर सुशांत को याद कर लिखा था ‘ईश्वर का बच्चा’ इसके बाद अंकिता लोखंडे ने कुछेक पोस्ट्स भी शेयर किए जिनमे क्वोट्स लिखी हुई थी।हालांकि अब अदाकारा ने पहली बार अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है। खास बात ये है कि इस फोटो में अंकिता लोखंडे खुशी से चहकती हुई दिख रही है। इतना ही नहीं, उनके हाथों में दो जुड़वां बच्चे भी दिखाई दे रहे हैं। अंकिता लोखंडे ने इस फोटो पर कैप्शन देते हुए जानकारी दी है कि उनके परिवार में दो जुड़वां बच्चों ने कदम रखे हैं। अंकिता लोखंडे ने लिखा है, ‘हमारा परिवार एक नई जिंदगी के घर आने पर खुशियां मना रहा है। हमारा सर्कल इन दो जुड़वां बच्चों के आने से और भी ज्यादा अमीर हो गया है। अबीर और अबीरा तुम्हारा परिवार में स्वागत है।’ अंकिता लोखंडे की इन फोटोज पर टीवी सेलेब्स जमकर बधाइयां दे रहे हैं। अंकिता लोखंडे इन बच्चों के बाद बेहद खुश नजर आ रही है। इस फोटो को आप नीचे देख सकते हैं।अंकिता लोखंडे अपने एक्स बॉयफ्रेंड सुशांत सिंह राजपूत की कथित आत्महत्या को लेकर दिए गए बयानों में साफ कर चुकी हैं कि सुशांत कभी खुदकुशी कर ही नहीं सकता था। उन्होंने उनकी मौत के बीचे के राज को सबके सामने लाने के लिए सीबीआई जांच पर खुशी भी जताई थी। बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत और अंकिता लोखंडे ने एक दूसरे को 7 साल तक डेट किया था। दोनों इसके बाद शादी भी करने वाले थे।

कोरोना वायरस के कहर के बीच टीवी अदाकारा प्राची तेहलान ने दिल्ली के बिजनेसमैन रोहित सरोहा के साथ सात फेरे ले लिए हैं। कुछ समय पहले ही प्राची तेहलान ने अपनी शादी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की हैं। इन तस्वीरों में प्राची तेहलान दुल्हन के लुक में कमाल लग रही हैं। ऐसे में फैंस प्राची तेहलान के इस अंदाज की तारीफ करते थक नहीं रहे हैं।आपको जानकर हैरानी होगी कि प्राची तेहलान और रोहित एक दूसरे को साल 2012 से डेट कर रहे हैं। इन दोनों की पहली मुलाकात एक शादी में हुई थी।प्राची तेहलान की शादी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर छाई हुई हैं। फैंस लगातार प्राची तेहलान को उनकी शादी की शुभकामनाएं दे रहे हैं।प्राची तेहलान की शादी में कोरोना वायरस की वजह से केवल 50 मेहमानों को ही बुलाया गया था। शादी के समारोह में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा गया था।कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान रोहित सरोहा और प्राची तेहलान की नजदीकियां काफी बढ़ गई थीं। इस दौरान रोहित सरोहा और प्राची तेहलान को इस बात का एहसास हुआ कि ये दोनों तो एक दूसरे के लिए ही बने हैं।प्राची तेहलान और रोहित सरोहा का रोका 4 जुलाई को ही किया गया था। जिसके तुरंत बाद शादी की तैयारियां शुरु कर दी गई थीं।प्राची तेहलान ने एक इंटरव्यू में बताया है कि उनकी शादी काफी जल्दबाजी में हुई है। कोरोना वायरस के चलते परिवार ने रिश्ता तय होते ही प्राची तेहलान और रोहित की शादी करवा दी।इस तस्वीर में रोहित सरोहा, प्राची तेहलान की मांग में सिंदूर भरते नजर आ रहे हैं। तस्वीरों में प्राची तेहलान बेहद खूबसूरत नजर आ रही हैं।अपनी शादी के खास दिन प्राची तेहलान सुर्ख लाल रंग के जोड़े में नजर आईं। जिसके साथ प्राची तेहलान ने मैचिंग ज्वैलरी कैरी की थी। प्राची तेहलान की मुस्कान उनके लुक पर चार चंद लगा रही है।आपको जानकर हैरानी होगी कि सीरियल 'दीया और बाती हम' के अलावा प्राची तेहलान पंजाबी, मलयालम और तेलुगु फिल्मों में भी काम कर चुकी हैं। इसके अलावा प्राची तेहलान को सीरियल इक्यावन में भी देखा गया था।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा अंडमान और निकोबार के पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ संवाद कर रहे हैं। पीएम मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा का यह संवाद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम किया जा रहा है। देश में कोरोना संकट को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि बीमारी हो या व्यापार, कारोबार हर समस्या से निपटने के लिए हम जुटे हुए हैं। हमारे सभी वैज्ञानिक इस काम में लगे हुए हैं। इस दौरान भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि देश में पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा 22.18 करोड़ भोजन पैकेट वितरित किए गए। जरूरतमंदों को 5.4 करोड़ राशन किट भी प्रदान की गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमने कोरोना संकट के दौरान SHG और महिला मंडल तैयार किए और हमने अब तक 7 करोड़ फेस मास्क वितरित किए हैं। 58 लाख भाजपा कार्यकर्ताओं ने PM-CARES फंड मिशन में भी भाग लिया है।पार्टी कार्यकर्ताओं से संवाद के दौरान पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि पीएम मोदी ने जब प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज दिया, तो यूएन ने भी इसकी सराहना की। 80 करोड़ की जनता, जो इस लॉकडाउन में सबसे ज्यादा परेशानी में थी, उन लोगों के लिए भी आपने 5 किलो गेहूं या चावल और 1 किलो दाल की निशुल्क व्यवस्था की।
- पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश का शौभाग्य है कि हमारे पास अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग चीजें हैं। जिनकों हम विकसित कर सकते हैं, जैसे हम अंडमान निकोबार से सी प्रोडक्ट्स, कोकोनट प्रोडक्ट्स जैसे उद्योगों को हम बल देने वाले हैं।
- अंडमान और निकोबार के कार्यकर्ताओं संग संवाद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस क्षेत्र के युवाओं के लिए कई उच्च शिक्षा संस्थान (Higher Educational Institutions) बनाए गए हैं। आइलैंड का जीवन आसान बनाने के लिए, वहां खुशहाली लाने के लिए जो भी जरूरी काम है, वो तेजी से पूरे किए जा रहे हैं।
- अंडमान और निकोबार के भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ संवाद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश की आजादी के आंदोलन को धार देने वाली, वीर सावरकार और नेताजी सुभाष चंद्र बोस जैसे आजादी के अनेक तपस्वियों से जो धरती जुड़ी हुई है, ऐसी पुण्य स्थली को मैं वंदन करता हूं।
- कार्यकर्ताओं से संवाद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना महामारी हो या अन्य कोई समस्या, हम सभी को मिलकर काम करना होगा और लोगों से जुड़े रहना होगा। इस कोरोना संकट के दौरान सभी को सहायता प्रदान करनी है।
- भारत में कोरोना संकट की तैयारियों को लेकर जेपी नड्डा ने कहा कि देशभर में 1400 कोविड अस्पताल हैं। लगभग 50,000 वेंटिलेटर उपलब्ध हैं, जबकि पीएम केयर्स फंड के तहत 20,000 वेंटिलेटर अभी पाइपलाइन में हैं।
- अंडमान और निकोबार के कार्यकर्ताओं के संवाद के दौरान नड्डा ने कहा कि किसान सम्मान निधि के माध्यम से अप्रैल महीने में लगभग 8 करोड़ 50 लाख किसानों के खाते में 2000 रुपये की किस्त गई है। आज मैं आपको धन्यवाद देना चाहता हूं कि आपने प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत आज 1700 करोड़ रुपये रिलीज किए हैं।
- पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिए प्रधानमंत्री ने 20 लाख करोड़ का पैकेज दिया। एमएसएमई के लिए 3 लाख करोड़ रुपये दिए गए। उसमें से 1 लाख करोड़ रुपये का लाभ एमएसएमई सेक्टर उठा चुका है।इसका प्रसारण भाजपा के आधिकारिक फेसबुक व ट्विटर हैंडल सहित भाजपा की आधिकारिक वेबसाइट पर देखा जा सकता है।
वहीं, इसके पहले आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्तपोषण सुविधा को लॉन्च किया। सरकार ने जुलाई में कृषि बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए रियायती ऋण का विस्तार करने के लिए एक लाख करोड़ के कोष के साथ कृषि-इंफ्रा फंड की स्थापना को मंजूरी दी थी। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में बटन दबाकर 8.5 करोड़ किसानों के खातों में 17,000 करोड़ रुपये की पीएम किसान सम्मान निधि योजना की छठी किस्त जारी की। यह किस्त तत्काल किसानों के खातों में ट्रांसफर की गई है।

नई दिल्‍ली। पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच भारतीय सेनाएं अपनी ताकत में इजाफा करने में जुटी हैं। सेनाएं लेजर गाइडेड बमों से लैस हेरोन ड्रोन हासिल करने के प्रोजेक्‍ट पर काम कर रही हैं। सेनाओं की कोशिश दुश्मन के ठिकानों और बख्तरबंद वाहनों को ध्‍वस्‍त करने के लिए एंटी-टैंक मिसाइलें हासिल करने की है। चीता नाम का यह खरीद प्रोजेक्‍ट लंबे समय से लंबित था जिसे दुश्‍मन देशों की ओर से बढ़ रहे खतरे को देखते हुए सशस्त्र बलों द्वारा पुनर्जीवित किया गया है। इस खरीद पर 3,500 करोड़ रुपये से अधिक की लागत आएगी।समाचार एजेंसी एएनआइ ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि इस प्रोजेक्‍ट के तहत तीनों सेनाओं के लगभग 90 हेरॉन ड्रोनों को लेजर गाइडेड बमों से लैस किया जाएगा। यही नहीं हवा से जमीन पर और हवा से मार करने वाली एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइलों की भी खरीद होगी। यह प्रोजेक्‍ट उच्च स्तरीय रक्षा मंत्रालय निकाय द्वारा हैंडल किया जा रहा है। इसमें रक्षा सचिव अजय कुमार (Defence Secretary Ajay Kumar) भी शामिल हैं। अजय कुमार तीन सेवाओं के लिए हथियारों की खरीद के प्रभारी भी हैं।इस प्रस्‍ताव में सशस्त्र बलों ने दुश्मन के ठिकानों पर नजर रखने और जरूरत पड़ने पर हमले के लिए टोही ड्रोनों को हैवी पेलोड से लैस करने का भी प्रस्ताव दिया गया है। इस परियोजना से तीनों सेनाओं की सर्विलांस क्षमता के साथ ही हमला करने की ताकत में इजाफा होगा। वैसे तीनों सेनाएं पहले से ही लद्दाख सेक्टर में सर्विलांस हेरॉन अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) का इस्तेमाल कर रही हैं। मध्यम एल्‍टीट्यूड वाले इन ड्रोनों के भारतीय बेड़े को मानवरहित हवाई वाहनों के रूप में भी जाना जाता है। इनमें मुख्य रूप से इजरायल के हेरॉन ड्रोन शामिल हैं।हेरॉन ड्रोनों की खासियत है कि ये दुश्‍मन के ठिकानों की टोह लेने के साथ ही उसके ठिकानों को नेस्‍तनाबूंद करने की क्षमता भी रखते हैं। मौजूदा वक्‍त में पूर्वी लद्दाख के दुर्गम इलाकों में भी ये ड्रोन यही काम कर रहे हैं। ये चीनी सेना के ठिकानों और उसके बिल्‍डअप की सटीक जानकारी दे रहे हैं। आक्रामक ऑपरेशनों को अंजाम देने के लिए इन ड्रोनों को अपग्रेड किया जाना बेहद जरूरी है ताकि बिना किसी नुकसान के दुश्मन के ठिकानों को ध्‍वस्‍त किया जा सके। चीता परियोजना के जरिए अपग्रेडेशन की प्रक्रिया के साथ ही घातक हथ‍ियारों की खरीद करना शामिल है।

जयपुर।राजस्थान के सियासी संग्राम को एक माह पूरा हो गया है। एक तरफ जहां सीएम अशोक गहलोत अपनी सरकार बचाने में जुटे हैँ, वहीं भाजपा के दिग्गज पार्टी विधायकों को एकजुट रखने और यदि मौका मिले तो सरकार बनाने की रणनीति तय करने में जुटे हैं। इसी बीच, विश्वस्त सूत्रों से जानकारी मिली है कि दो बड़े उद्योगपतियों व तीन अफसरों ने भाजपा के 25 विधायकों से संपर्क कर विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के समय अनुपस्थित रहने के लिए कहा है। इन लोगों ने जिन भाजपा विधायकों से संपर्क किया, उनमें नौ पहली बार चुनकर आए हैं, वहीं दो विधायक पहले कांग्रेस में थे,लेकिन टिकट नहीं मिलने पर वे भाजपा में शामिल हो गए।उद्योगपतियों व अफसरों ने तीन उन निर्दलीय विधायकों से भी संपर्क साधा है, जो अभी सचिन पायलट खेमे में है। भाजपा व निर्दलीय विधायकों से जिन तीन अफसरों से संपर्क साधा है, उनमें दो आइपीएस व एक राज्य प्रशासनिक सेवा का अधिकारी है। सूत्रों के अनुसार, पुलिस अफसरों ने भाजपा विधायकों के साथ ही उनके परिजनों के पुराने केस भी खंगालना शुरू किया है। इन केसों को खोलने की बात कह कर दबाव बनाया जा रहा है। एक आइपीएस अधिकारी ने अपना नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि ऐसे भाजपा विधायकों पर दबाव बनाने का प्रयास किया जा रहा है, जो माइनिंग, ट्रांसपोर्ट या जमीनों के व्यवसाय से जुड़े हैं। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने इस बात को स्वीकारते हुए कहा कि हमारे विधायकों ने जब आपस में बात की तो सामने आया कि उनके पास सरकारी अधिकारियों व व्यापारियों के फोन आए हैं। विधायकों पर अनैतिक दबाव बनाया जा रहा है।
विधायक वसुंधरा की बिना मर्जी बाहर जाने को तैयार नहीं:-कांग्रेस के बाद अब भाजपा अपना कुनबा बचाने में जुटी है। भाजपा ने अपने 18 विधायकों को गुजरात तो भेज दिया है, लेकिन छह विधायकों के राजस्थान से बाहर नहीं जाने को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, शनिवार को दिन भर हेलिकॉप्टर खड़ा रहा लेकिन पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के गृह जिले धौलपुर व दुष्यंत सिंह के संसदीय क्षेत्र झालावाड के विधायकों ने मध्य प्रदेश और गुजरात जाने से मना कर दिया। सूत्रों के अनुसार, इन विधायकों ने राज्य के मौजूदा नेतृत्व से साफ कर दिया कि वे वसुंधरा राजे के आदेश के बिना कहीं नहीं जाएंगे। विधायक बिहारी लालन विश्नोई ने कहा कि वसुंधरा राजे हमारी नेता है। वसुंधरा राजे समर्थक विधायक पूर्व मंत्री प्रताप सिंह सिंघवी के निवास पर लगातार बैठकें कर रहे हैं। वसुंधरा राजे इन दिनों दिल्ली में है। वे पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महामंत्री बीएस संतोष व रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सहित कई नेताओं से मुलाकात कर चुकी है। वे अगले एक-दो दिन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर जयपुर आएंगी।
कांग्रेस ले रही चुटकी:-भाजपा के इस पूरे घटनाक्रम पर नेताओं ने चुटकी ली है। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि भाजपा में कई खेमे बने हुए हैं। वहां कांग्रेस को सेंधमारी की जरूरत नहीं है। वहीं, विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि मैं चुनौती देता हूं कि भाजपा अपने 72 विधायकों को 14 अगस्त को विधानसभा में लाकर दिखा दे।

Page 4 of 1446

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें