वॉशिंगटन - मंगल ग्रह से जुड़ी रिसर्च में शामिल नासा के एक यान ने लाल ग्रह पर पृथ्वी के समान दिखने वाली मिट्टी खोजी है। नासा के मंगल टोही यान (एमआरओ) ने आज इस ग्रह पर एक ऐसे संभावित स्थान की तस्वीर भेजी जहां बालू के कण बन रहे हैं।
नासा के रिसर्चरों ने बताया कि दक्षिणी उच्चस्थल और उत्तरी निम्नस्थल की सीमा के पास एक गोल आकार के गडडे में काली परतों के अंदर से यह काली वस्तु निकल रही है। नीचे की तरफ झुकी धारियों से ऐसा माना जा रहा है कि ये काला निक्षेपण उसी जगह पर बना है न कि हवा द्वारा कहीं बाहर से लाया गया है।
दरअसल बालू के जिन कणों से धरती और मंगल पर टिब्बा या ढेर बनता है वो अपनी यात्रा के तौर तरीके के लिहाज से बड़े खतरनाक होते हैं। हवा से लाई गई बालू सतह से टकरा कर और इधर-उधर होकर ढेर की शक्ल ले लेता है।
आपको बता दें कि इस समय मंगल पर जो बालू के टीले नजर आते हैं उसके लिए जरूरी है कि जो बालू कण कालातीत में नष्ट हो गए उसके स्थान की फिर से आपूर्ति हो। वैसे मंगल पर बालू के आधुनिक स्रोत का पता नहीं है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें