दुनिया

दुनिया (3632)

अमेरिका ने स्थानीय समयानुसार 3 अप्रैल को चीन के खिलाफ़ 301 जांच रिपोर्ट की लिस्ट जारी की, जिस में चीन के 50 अरब अमेरिकी डॉलर के निर्यात उत्पादक शामिल हैं और टैरिफ़ दर को और 25 प्रतिशतबढ़ानातयकिया गया।चीनी समाचार एजेंसीशिनह्वा ने 4 अप्रैल को समीक्षा जारी कर कहा कि यह एकतरफ़ा व्यापारिक संरक्षणवाद की कार्यवाईतथ्यों से मेल नहीं खाती है, विश्व व्यापार संगठन के नियमों से भी नहीं मेल खाता है। दूसरों को क्षति पहुंचाने के मकसद से कार्यवाई करने का परिणाम अंततः खुद को नुकसान पहुंचाना होता है। अमेरिका ने घरेलू कानून के मुताबिक 301 जांच जारी की, जिसने विश्व व्यापार संगठन के सिद्धांत और भावना का गंभीर उल्लंघन किया है। साथ ही यह वैश्विक स्वतंत्र व्यापारसिस्टम को गंभीर चुनौती दी है। चीन से आयातित उत्पादकों पर सज़ा वाले टेरिफ बढ़ने से चीन के संबंधित उद्योगों पर जरूर असर पड़ेगा, लेकिन साथ ही अमेरिकी उपभोक्ताओं, व्यापारियों और संबंधित उद्योगों पर भी नुकसान पहुंचाएगा। यह कार्यवाईअमेरिका के हित के लिए लाभदायक नहीं है, चीन और विश्व के आर्थिक हितों का नुकसान भी है।इतिहास और तथ्य ने फिर एक बार साबित किया है कि व्यापारी लड़ाई लड़ने से अमेरिका के खुद के विकास में उभरीसमस्याओं का हल नहीं किया जा सकता है, इस के विपरीत समस्या और गंभीर होगी। चीनअमेरिका से पिछले 40 सालों में चीन-अमेरिका आर्थिक व व्यापारिक सहयोग के आपसी लाभ व समान उदार के स्वरूप को साफ़ साफ़ समझने, दोनों देशों के उद्यमों की अपील और उपभोक्ताओं के हितों का सम्मान करने का आह्वान करता है। सिर्फ़ सदिच्छापूर्णसंपर्क और समान सलाह मश्विरे से ही व्यापारी विवाद का हल किया जा सकेगा। और यह भी साझी जीत का सही रास्ता भी है।

 

 

3 अप्रैल को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पेइचिंग में जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति एम्मरसन म्नांगागवा से मुलाकात की।दोनों पक्षों ने चीन-जिम्बाब्वे संबंध सर्वांगीण रणनीतिक सहयोग साझेदारी उन्नत करने का फैसला किया।वार्ता में शी चिनफिंग ने म्नांगागवा को चीनी जनता का पुराना दोस्त बताया ।उन्होंने कहा कि चाहे अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति में कोई भी बदलाव क्यों न आए,चाहे चीन का विकास किसी हद तक पहुंचे ,चीन हमेशा अफ्रीका समेत व्यापक विकासशील देशों के साथ खड़ा रहेगा और हमेशा अफ्रीका का ईमानदार और विश्वसनीय साझेदार बनेगा ।उन्होंने संबंधित पश्चिमी देशों से जिम्बाब्वे के साथ संबंध सुधारने की अपील की।म्नांगागवा ने कहा कि जिम्बाब्वे चीन के साथ व्यापार,पूंजी निवेश,विज्ञान और तकनीक,दूर संचार और ढांचागत संस्थापनों में चतुर्मुखी व्यावहारिक सहयोग बढ़ाना चाहता है।जिम्बाब्वे एक पट्टी एक मार्ग निर्माण की बड़ी प्रशंसा करता है और इस परियोजना में अफ्रीका की सक्रिय हिस्सेदारी का समर्थन करता है।उस दिन दोनों पक्षों ने कई तकनीक,कृषि ,विज्ञान और मानव संसाधन से जुडे कई सहयोगी दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किये।

अमेरिका के बाद अब सयुंक्त राष्ट्र ने भी आतंकवादियों की लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में हाफिज सईद समेत 139 आतंकियों या फिर आतंकी संगठनों के नाम शामिल हैं। लिस्ट में 1993 मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी अंडर वर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का भी नाम है। यूएन की 139 पाकिस्तानी आतंकियों की लिस्ट में अलकायदा, लश्कर-ए-तैयबा और जमात-उद-दावा का भी नाम है। काउंसिल के मुताबिक दाउद इब्राहिम के पास कई पाकिस्तनी पासपोर्ट हैं जो रावलपिंटी और कराजी में जारी किए गए हैं। एजेंसी ने यह भी दावा किया है कि दाऊद कराची स्थित आलीशान बंगले में रहता है।
UN की लिस्ट में आतंकी हाफिज सईद का भी नाम:-मुंबई आतंकी हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को लिस्ट में आतंकी गतिविधियों के लिए इंटरपोल से वांछित बताया गया है। लिस्ट में उन सभी के नाम हैं जो पाकिस्तान में रह रहे हैं, वहां से संचालित हो रहे हैं या फिर ऐसे संगठनों से जुड़े हैं जो आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान में हैं।लिस्ट में पहला नाम अयमान अल-जवाहिरी का है। जवाहिरी को कुख्यात आतंकी ओसामा बिन लादेन का उत्तराधिकारी माना जाता है। संयुक्त राष्ट्र का दावा है कि जवाहिरी अभी भी अफगानिस्तान-पाकिस्तान बॉर्डर के पास कहीं रह रहा है। लिस्ट में जवाहिरी के कुछ सहयोगियों का भी नाम है, जो उसके साथ ही छिपे हैं। इसके अलावा लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी हाजी मोहम्मद याहा मुजाहिद, अब्दुल सलाम, जफर इक़बाल का भी नाम इस लिस्ट में हैं।कथित तौर पर पाकिस्तान में कई आतंकवादी संगठन हैं जिनसे इन व्यक्तियों के संबंध थे, ये संगठन हैं- अल राशीद ट्रस्ट, हरकतूल मुजाहिदीन, उज़्बेकिस्तान के इस्लामिक आंदोलन, वफा मानवीय संगठन, जैश-ए-मोहम्मद, रबीता ट्रस्ट, उम्मा तामीर-आई- इस्लामिक विरासत सोसाइटी, लश्कर-ए-झांगवी, अल-हार्मन फाउंडेशन, इस्लामिक जिहाद समूह, अल अख्तर ट्रस्ट इंटरनेशनल, हरकतूल जिहाद इस्लामी, तहरीक-ई-तालिबान पाकिस्तान, जमातुल अहिर और खतिबा इमाम अल- बुखारी। इनमें से कुछ को अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा क्षेत्र के आतंकी संगठन के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

अमेरिका के कैलिफोर्निया में एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में कम से कम चार लोग घायल हुए हैं। फायरिंग कैलिफोर्निया स्थिति यू-ट्यूब मुख्यालय में हुई। बताया जा रहा है कि फायरिंग एक महिला ने की थी। हालांकि फायरिंग के बाद महिला शूटर ने खुद को भी गोली मार ली।सैन ब्रूनो पुलिस चीफ एड बारबेरिनी ने बताया कि यू-ट्यूब मुख्यालय में गोलीबारी करने वाली महिला बंदूकधारी बिल्डिंग के अंदर मृत पाई गई। उन्होंने कहा कि महिला बंदूकधारी ने अपने आपको गोली मारकर खुदकुशी कर ली। बारबेरिनी ने बताया कि गोलीबारी के बाद घटनास्थल पर भगदड़ सी मची हुई थी और लोग घबराए हुए थे। शूटिंग की जानकारी मिलते ही घटनास्थल पर एंबुलेंस पहुंच गई थीं और पुलिस ने लोगों को इलाके से दूर रहने को कहा। इसके बाद यू-ट्यूब ऑफिस को भी बंद कर दिया गया और लोगों को बाहर निकाला गया।इस हमले में घायल हुए चार लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है। घायलों में से एक की हालत गंभीर बताई जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि गोलीबारी में घायल चार लोगों में से एक को महिला बंदूकधारी जानती थी।सीबीएसी न्यूज के मुताबिक घायल युवक को संदिग्ध हमलावर महिला शूटर का प्रेमी बताया जा रहा है। गोलीबारी में घायल दो महिलाओं में से एक की हालत गंभीर बनी हुई है, जबकि दूसरी की स्थिति में सुधार हो रहा है।फिलहाल इस गोलीबारी की वजह साफ नहीं हो पाई है, लेकिन सुरक्षा एजेंसियां घरेलू विवाद मानकर इसकी जांच कर रही हैं। जांच के बाद ही गोलीबारी की वजह साफ हो पाएगी।वहीं, गूगल के CEO सुंदर पिचई ने यू-ट्यूब मुख्यालय में हुई गोलीबारी की घटना को दुखद बताया है। उन्होंने बयान जारी कर कहा कि यू-ट्यूब मुख्यालय में गोलीबारी की दुखद घटना को शब्दों में बया नहीं किया जा सकता है।अपने बयान में सुंदर पिचाई ने पुलिस का शुक्रिया भी किया। साथ ही पिचाई ने ये भी कहा कि अब हर किसी को यू-ट्यूब टीम के समर्थन में आना चाहिए। उन्होंने अपने बयान में कहा कि जब कर्मचारी लंच कर रहे थे, तभी गोलीबारी हुई। सुरक्षा कर्मियों ने फौरन कर्मचारियों को बिल्डिंग से बाहर निकाला। साथ ही प्रत्येक की सुरक्षा को प्राथमिकता दी।

दशकों में पहली बार नासा एक ऐसा प्रायोगिक सुपर सोनिक विमान बनाने वाला है जो अपनी श्रेणी के आम विमानों की तरह शोर नहीं करता। 'क्स- प्लेन्स मिशन बहुत महत्वपूर्ण आंकड़े मुहैया करवाने वाला है जो आवाज की गति से भी तेज उड़ान भरने वाले यात्री विमानों की संकल्पना को सच साबित कर सकेगा। नासा ने अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन एयरोनॉटिक्स कंपनी को 24.75 करोड़ डॉलर का ठेका दिया है। कंपनी इस एक्स- प्लेन का निर्माण कर उसे 2021 तक नासा को सौंपेगी।एरोनॉटिक्स के क्षेत्र में नासा के सहायक प्रशासक जयवोन शिन ने कहा, ''इस स्तर पर एक्स- विमानों की डिजाइनिंग और उड़ान भरने का समर्थन करना बेहद उत्साहवर्द्धक है। उन्होंने कहा कि सभी के हित में सुपर सोनिक उड़ानों की तकनीकी बाधाओं को दूर करने की हमार परंपरा जारी है। इस एक्स- प्लेन का निर्माण 2016 में दिये गए ठेके के दौरान लॉकहीड मार्टिन द्वारा तैयार डिजाइन के आधार पर किया जाएगा। प्रस्तावित विमान 94 फुट लंबा, 29.5 फुट विंगस्पैन और ईंधन के साथ 32,300 पौंड वजनी होगा।यह 55,000 फुट की ऊंचाई पर उड़ान भरेगा और इसके कॉकपिट में सिर्फ एक पायलट होगा। सामान्य तौर पर इसकी गति 1,512 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी जिसे अधिकतम 1,593 किलोमीटर प्रतिघंटा तक बढ़ाया जा सकेगा।

चीन के सिचहाउन प्रांत में रहने वाले वांग मिंगकिंग और लियु चेंगिंग ने मंगलवार को 24 साल पहले खोई हुई बेटी को वापस पा लिया। दंपति चेनग्दू सिटी में फल बेचने का कार्य करते हैं, जहां जनवरी 1994 में उनकी 3 साल की बेटी गायब हो गई थी। इसके बाद दंपति ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, लेकिन बेटी की कोई जानकारी नहीं मिली। इसके बाद बेटी को ढूंढने का जिम्मा खुद पिता ने संभाला और फिर एक दिलचस्प खोज शुरू हुई।
पिता ने अपनाया दिलचस्प रास्ता...:-काफी कोशिश करने के बाद वांग ने साल 2015 में चीन की सबसे बड़ी टैक्सी सेवा दीदी चुक्सिंग के साथ बतौर टैक्सी ड्राइवर काम करना शुरू किया। तीन साल में अपनी टैक्सी में बैठने वाली लगभग 4,839 यात्रियों को वह अपनी बेटी की तस्वीर दिखाते और मदद मांगते। एक चीनी बेवसाइट को दिए साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि, ऐसे मैं कई लोगों से मिल सकता हूं और ऐसे में अपनी बेटी को ढूंढना काफी आसान था। मैंने अपनी कार पर गायब हुई बेटी के बारे में एक साइन बोर्ड लगाया हुआ था।
कैसे मिला बेटी....:-एक लोकल न्यूज पेपर की नजर उनकी कोशिश पर गई और उन्होंने अपने अखबार में इनकी कहानी को जगह दी। इसके बाद फॉरेंसिक आर्टिस्ट लिन यूहुई ने उनकी बेटी के दो स्केच तैयार किए, जिसमें यह पता लगाने की कोशिश की गई कि 24 साल बाद वांग की बेटी कैसी दिखती होगी। 27 वर्षीय कांग यिंग जो जिलिन में रहती हैं, उन्हें ये स्केच अपना लगा। जिसके बाद उन्होंने 16 मार्च को वांग से मिलने का फैसला लिया। इसके बाद हुए डीएनए टेस्ट में इस बात की पुष्टि हो गई कि कांग यिंग ही वांग मिंगकिंग की गायब हुई बेटी हैं। दरअसल, वह चार साल पहले ही विवाह के बाद जिलिन में रहने लगी थी।

अमेरिका में यूट्यूब के मुख्यालय में गोलीबारी मामले में नया खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि संदिग्ध महिला शूटर अपने ब्वॉयफ्रेंड को मारने वहां पहुंची थी। इस हमले में उसके ब्वॉयफ्रेंड समेत चार लोग घायल हैं। हमले के बाद महिला ने भी खुद को गोली मार ली। हमलावर का नाम नसीम अगदम था जो 39 साल की थी। पुलिस फिलहाल इसी एंगल से जांच कर रही है। अफसरों…
6 इंच का और 14.7 डायामीटर वाला चीन और वैस्टर्न तकनीक से सजा हुआ यह कटोरा 18 शताब्दी का है। आपको विश्वास नहीं होगा कि यह कटोरा सिर्फ 5 मिनट में बिक गया। सबसे हैरान करने वाली बात है कि इस कटोरे की कीमत करीब अरब रुपए लगाई गई। दऱअसल इस कटोरे को 18वीं शताब्दी के चीन के 'चिंग राजवंश इस्तेमाल करते थे। इस कटोरे को ग्रेटर चीन के रहने…
जापान में एक सामंत ने चिकित्सकीय उद्देश्यों से वाइन और अफीम का उत्पादन 17 वीं सदी में ही करा लिया था। ऐसा माना जाता है कि 1870 के दशक में बड़े पैमाने पर जापानी वाइन का उत्पादन शुरू हुआ था। लेकिन असलियत में तो यह इससे 200 वर्ष पहले ही शुरू हो गया था। बहरहाल शोधकर्ताओं ने पाया है कि जापान में क्यूस्यू के17 वीं सदी के सामंत तोडातोशी होसोकवा…
क्वेटा - आतंकी समूह इस्लामिक स्टेट ने मंगलवार को दक्षिणपश्चिम पाकिस्तान में ईसाई परिवार के चार सदस्यों की हत्या की जिम्मेदारी ले ली है। आतंकी समूह की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि आइएस से जुड़े आतंकियों ने ईसाइयों के समूह पर हमले किये थे जब वे सोमवार को क्वेटा में किसी यात्रा पर जा रहे थे। आतंकी समूह इस्लामिक स्टेट अफगानिस्तान और पाकिस्तान दोनों जगहों…
Page 7 of 260

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें