दुनिया

दुनिया (1937)

 

लंदन - पश्चिमी लंदन में 24 मंजिला एक आवासीय इमारत में बुधवार को भीषण आग लग गई, जिसमें कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई और 74 अन्य घायल हो गये। ब्रिटेन में पिछले करीब तीन दशक में यह सबसे भीषण अग्निकांड है। बताया जा रहा है कि आग आधी रात के ठीक बाद तीसरी और चौथी मंजिल पर एक खराब रेफ्रीजरेटर के कारण लगी और यह फैलती चली गई।
लेटिमेर रोड पर स्थित लैंकेस्टर वेस्ट एस्टेट के ग्रेनफेल टावर में स्थानीय समयानुसार रात एक बजकर 16 मिनट पर आग लगी। जब इमारत आग की लपटों से घिर गई, तब करीब 600 लोग टावर के 120 फलैटों में मौजूद थे।
मेट्रोपोलिटन पुलिस के कमांडर स्टुअर्ट कंडी ने बताया, मैं छह लोगों की मौत होने की पुष्टि कर सकता हूं लेकिन ये आंकड़े बढ़ने की आशंका है। बीबीसी की खबर के मुताबिक, इमारत अब भी आग के घेरे में है। इसके कभी भी ढह जाने की आशंका है। करीब 200 दमकलकर्मी अब भी आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहे हैं।
करीब 200 दमकलकर्मी, 40 दमकल वाहन और एंबुलेंस के 20 लोग मौके पर हैं। राष्ट्रीयय स्वास्थ्य सेवा ने बताया कि कुल 74 लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा जबकि 20 लोगों की हालत नाजुक है। दमकलकर्मियों ने बड़ी संख्या में लोगों को बचाया है लेकिन लंदन के मेयर सादिक खान ने कहा कि कई सारे लोगों के बारे में पता नहीं चल पाया है।
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि आग की लपटों में घिरी इमारत के अंदर फंसे कई लोग मदद के लिए चिल्ला रहे थे और अपने बच्चों को बचाने की गुहार लगा रहे थे। कुछ लोगों को चादर का इस्तेमाल कर इमारत से बच कर निकलने की कोशिश करते देखा गया।
लंदन दमकल सेवा प्रमुख डैनी कॉटन ने संवाददाताओं को बताया, यह एक अभूतपूर्व घटना है। मेरे 29 साल के करियर में कभी भी मैंने इतने बड़े पैमाने पर आग लगने की टना नहीं देखी। हालांकि, महानगर पुलिस ने कहा है कि आग लगने की वजह की पुष्टि करने से पहले उसे कुछ वक्त चाहिए।
गौरतलब है कि ग्रेनफेल टावर इलाके के आसपास काफी संख्या में मुसलमान रहते हैं। कई लोग आग लगने के वक्त जगे हुए थे। वे रमजान के दौरान बहुत सवेरे खाई जाने वाली सहरी की तैयारी कर रहे थे।

भारत—अमेरिका संबंधों को मजबूत बनाने के प्रयासों के तहत सामाजिक कार्यकर्ता एवं सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक बिन्देश्वर पाठक ने एक भारतीय गांव का नाम अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नाम पर रखने की घोषणा की है।सुलभ इंटरनेशनल के प्रमुख पाठक ने एक समारोह में कहा, मैं भारत के एक गांव का नाम ट्रंप विलेजे रखने की घोषणा करता हूं। यह गांव राजस्थान के मेवात क्षेत्र में बसाया जा रहा है।उन्होंने कहा कि यह भारत और अमेरिका के संबंधों को मजबूत करने की दिशा में उठाया गया कदम है।स्थानीय समुदाय और राजनेताओं को प्रस्तुतिकरण देते समय पाठक ने कहा कि वह बड़े पैमाने पर लोगों को सार्वजनिक शौचालय उपलब्ध कराने और मनुष्यों द्वारा मैला ढोने की प्रथा का अंत करने का प्रयास कर रहे हैं।उन्होंने अपने भाषण में भारतीय अमेरिकी समुदाय से भारत में स्वच्छता और सफाई का लक्ष्य हासिल करने में मदद करने की अपील की।

आतंकी संगठन आईएस ‘लैपटॉप बम’ से दुनिया को दहलाने की साजिश रच रहा है। इजरायल के सरकारी हैकरों को आईएस के बम निर्माण दस्ते के कंप्यूटर में सेंधमारी से यह सनसनीखेज जानकारी मिली है।‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के मुताबिक आईएस लैपटॉप की बैटरी के आकार का बम तैयार कर रहा है, जिसे आसानी से सिस्टम में छिपाया जा सकता है। यह बम एयरपोर्ट सहित अन्य सार्वजनिक स्थलों पर लगी एक्स-रे मशीनों की आंखों में धूल झोंकने में सक्षम है।यही नहीं, आईएस लैपटॉप में बैटरी की जगह रिमोट कंट्रोल से संचालित बम कुछ इस तरह से फिट करना चाहता है कि थोड़ी देर ऑन करने औैर कोई प्रोग्राम चलाने पर उसमें विस्फोट न हो।अमेरिकी गृह सुरक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि आईएस और अलकायदा जैसे खूंखार आतंकी संगठनों की ओर से उपभोक्ता वस्तुओं में विस्फोटक छिपाकर पश्चिमी देशों में लाने और सार्वजनिक स्थलों पर बड़े हमले की योजना बनाने के कई अलर्ट सामने आ चुके हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसी के मद्देनजर मार्च में दस खाड़ी और अफ्रीकी देशों से आने वाली उड़ानों में सेलफोन से बड़े आकार के गैजेट लाने पर पाबंदी लगाई थी।
कैसे-कैसे पैंतरे
- अंडरवियर बम : 2009 में अलकायदा के एक हमलावर ने अंडरवियर में छिपाए बम से एम्सटरडम से डेट्रॉयट जा रहे विमान को उड़ाने की कोशिश की थी
- शू बम : 2001 में पेरिस से मियामी जा रहे अमेरिकन एयरलाइंस के विमान में सवार अलकायदा आतंकी ने जूते में रखे बम से यात्रियों पर हमले का प्रयास किया था
- कैटल बम : 2015 में बोको हराम की ओर से गाय, ऊंट, बकरी और गधों में छिपाए बम से सुरक्षा एजेंसियों को निशाना बनाने की साजिश का खुलासा हुआ था
नापाक इरादे
-आतंकी संगठन के कंप्यूटर नेटवर्क में सेंधमारी से इजरायली हैकरों को मिली जानकारी
-लैपटॉप में बैटरी की जगह लगाए गए बम एक्स-रे मशीनों की आंखों में धूल झोंकने में सक्षम

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के साथ एक मुलाकात में सउदी अरब के शाह सलमान ने उनसे सवाल पूछा, आप हमारे साथ हैं या कतर के साथ शरीफ कतर संकट का कूटनीतिक समाधान तलाशने के लिए खाड़ी देश गए थे।एक्सप्रेस ट्ब्यिून ने राजनयिक सूत्रों के हवाले से कहा कि सउदी अरब के शाह ने सोमवार को जेददा में शरीफ से मुलाकात के दौरान उनसे कहा कि वे कतर पर अपना रख स्पष्ट करें। अखबार में कहा गया है, जब रियाद ने इस्लामाबाद से पूछा कि आप हमारे साथ हैं या कतर के तो इस पर पाकिस्तान ने सउदी अरब को जवाब दिया कि पश्चिम एशिया में बढ़ते राजनयिक संकट के बीच वह किसी एक का पक्ष नहीं लेगा।कतर के साथ सउदी तथा अन्य खाड़ी देशों के राजनयिक संपर्क खत्म कर लेने के बाद से पाकिस्तान बड़े एहतियात के साथ कदम उठा रहा है। इन देशों का आरोप है कि तेल सम्पन्न कतर आतंकी समूहों को समर्थन देता है। हालांकि अखबार की खबर के मुताबिक सउदी अरब चाहता है कि पाकिस्तान उसका साथ दे। जेददा में शाही भवन में शरीफ और सउदी शाह के बीच हुई बातचीत की जानकारी रखने वाले एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से अखबार ने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम जगत में मतभेद उत्पन्न करने वाली किसी भी टना में किसी एक का पक्ष नहीं लेगा।इसमें कहा गया फिर भी सउदी अरब को शांत करने के लिए पाकिस्तान कतर पर अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर हालात को शांत करने की पेशकश करता है। इसके लिए प्रधानमंत्री कुवैत, कतर और तुर्की जाएंगे। इस दौरे पर शरीफ के साथ सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी थे। खाड़ी जगत में बन रहे हालात पर चर्चा के लिए वे सोमवार को जेददा पहुंचे थे।एक आधिकारिक वक्तव्य के मुताबिक जेददा में शरीफ ने शाह सलमान से मुलाकात की और सभी मुस्लिमों के हित के लिए खाड़ी में जारी गतिरोध के जल्द समाधान की मांग की। सउदी प्रेस एजेंसी ने बताया कि शाह सलमान और शरीफ ने दिवपक्षीय संबंधों के अलावा वर्तमान में क्षेत्र में बने हालात पर भी चर्चा की। सलमान ने शरीफ से कहा कि कट्टरपंथ तथा आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई सभी मुस्लिमों के हित में है।

बांग्लादेश में भारत की सीमा से लगते सुदूर पहाड़ी जिलों में मॉनसून की भारी बारिश के बाद भूस्खलन में मरने वालों की संख्या 137 पर पहुंच गई है। इसी के साथ राहत एवं बचाव कार्यों में तेजी लाते हुए आज नये सिरे से बचाव अभियान शुरू किया गया।अधिकारियों ने बताया कि दक्षिणपूर्वी चटगांव, बंदरबन और रंगामाटी पहाड़ी जिले इस प्राकतिक आपदा से सर्वाधिक प्रभावित हैं। उन्होंने बताया कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है क्योंकि अभी भी बड़ी संख्या में लोग लापता हैं।अधिकारियों ने कुल 129 लोगों की मौत की पुष्टि की है लेकिन मीड़िया रिपोर्टों में मतक संख्या 137 बताई जा रही है। बंगाल की ड़ी में दबाव का क्षेत्र बनने के कारण सोमवार से ही तेज बारिश हो रही है और इसके कारण पिछले तीन दिन में अनेक स्थानों पर भूस्खलन हुआ है।आपदा प्रबंधन मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष के एक अधिकारी ने बताया कि अभी तक कम से कम 129 लोगों की मौत हो चुकी है और कई अभी भी लापता हैं, बचाव कार्य अभी चल रहा है।उन्होंने बताया कि बेघर हो गए 4000 लोगों को 18 सरकारी आश्रय स्थलों परभेजा गया है। बचाव कार्यों में लगे सेना के कई जवान भी मारे गए हैं।

 

 

वाशिंगटन - अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पत्नी और प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप और उनके बेटे बैरन अब व्हाइट हाउस में रहेंगे। मेलानिया बेटे बैरन के साथ व्हाइट हाउस शिफ्ट हो गई हैं।
मेलानिया ट्रंप की संचार निदेशक स्टेफनी ग्रिशम ने रविवार रात ट्वीट कर कहा, “यह आधिकारिक है। मेलानिया और बैरन डीसी आ गए हैं।”
राष्ट्रपति बनने के बाद डोनाल्ड व्हाउट हाउस में शिफ्ट हो गए थे जबकि मेलानिया ट्रंप बेटे बैरन (11) के साथ न्यूयॉर्क के ट्रंप टावर में रह रही थीं। एनबीसी के मुताबिक, मेलानिया ने बैरन के न्यूयॉर्क स्कूल में इस साल का सत्र पूरा होने तक वहीं रहने का फैसला किया था।
1963 के बाद से व्हाइट हाउस में रहने वाले बैरन फर्स्ट बॉय हैं। उनसे पहले 1963 में जॉन एफ.कैनेडी का तीन वर्षीय बेटा भी यहां रहा था। मेलानिया ने रविवार रात ट्वीट कर कहा, “अपने नए घर की यादों को सहेजकर रखने के लिए आश्वस्त हूं।”

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वॉशिंगटन: अमरीकी पुलिस अधिकारी ने दो महीने पहले अगवा हुई एक लड़की के रेस्क्यू का बेहद दर्दनाक वीडियो सार्वजनिक किया है । पुलिस ने पूरे रेस्क्यू प्रक्रिया को कैमरे में कैद कर वीडियो जारी करते हुए कहा कि यह पिछले साल नवंबर का है।द वॉशिंगटन पोस्ट ने पुलिस के हवाले से लिखा है कि काला ब्राऊन नामक महिला पिछले 2 महीने से लोहे के कंटेनर…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); कराची: चाइनीज नेवी के तीन युद्धपोत चांग चुन, चिंग झाउ और चाओ हू पाकिस्तान में कराची स्थित बंदरगाह पर पहुंचे हैं। ये तीनों युद्धपोत पाकिस्तानी नौसेना के पोत के साथ 'पासेज एक्सरसाइज' में हिस्सा लेंगे।पाकिस्तान और चीन की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों देशों के बीच यहां 4 दिवसीय 'गुडविल ट्रेनिंग' का आयोजन किया जाना है। पाकिस्तान के नेवी चीफ को एक युद्धपोत पर गार्ड…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); किंशासाः डैमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑ'फ कांगो के पूर्वोत्तर शहर बेनी में कल एक जेल पर कुछ अज्ञात हमलावरों ने धावा बोल दिया, जिसमें कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई और 930 से अधिक कैदी फरार हो गए। प्रांतीय सरकार ने एक बयान में इस हमले की पुष्टि की।यह पिछले कुछ दिनों में कांगो में जेलों पर किया गया चौथा हमला है। गौरतलब है…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान के कनवाल सादिक के एक ट्वीट का जवाब देते हुए कहा चिंता न करें आपके बेटे रेहान को कुछ नहीं होगा। सुषमा के इस ट्वीट के तुरंत बाद पाकिस्तानी परिवार को वीजा देने के लिए कहा गया। रोहान और उसका परिवार जल्द ही भारत आने वाला है। रेहान का जेपी अस्पताल आने के बाद उसका पीडियाट्रिक कार्डियोलॉजिस्ट…
Page 4 of 139

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें