दुनिया

दुनिया (3066)


यरुशलम - इजरायल ने कहा है कि उसने सीमावर्ती हमले की सुरंग को नष्ट कर दिया है जो गाजा से इजरायल और मिस्र पर हमला करने के लिए हमास इस्लामिक समूहों के द्वारा इस्तेमाल में लाया जाता था। रविवार को जारी किए एक बयान में इजरायल ने आगे कहा कि साल के अंत तक वह सभी ऐसे सुरंगों को नष्ट कर देगा। गाजा के निवासियों ने बताया, शनिवार रात इजरायली विमानों ने राफाह के दक्षिण पूर्वी इलाकों में बमवर्षा की थी जिसके तुरंत बाद इजरायल ने इसकी पुष्टि भी की थी।
2018 के अंत तक ऐसी सुरंगों को नष्ट करने का ऐलान
इजराइल का कहना है कि उसने सुरंगों का पता लगाने का नया तरीका ढूंढ़ निकाला है हालांकि उसने इसका खुलासा करने से इन्कार कर दिया। इजरायली रक्षा मंत्री अविग्डोर लिबरमैन ने एक साक्षात्कार में कहा कि साल 2018 के अंत तक सभी हमले सुरंग नष्ट कर दिए जायेंगे। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के द्वारा 6 दिसंबर को इजरायल की राजधानी यरुशलम घोषित करने के बाद से ही इन इलाकों में तनाव व्याप्त है। इस दौरान गाजा के आतंकियों ने 18 सीमापार रॉकेट और मोर्टार बम से हमले किये हैं हालांकि इसमें किसी इजरायली के हताहत होने की सूचना नहीं है। लेकिन विरोध प्रदर्शन के दौरान इजरायली सेना के द्वारा 15 प्रदर्शनकारी और दो बंदूकधारी मारे गए।
हमास के साथ हमले नहीं चाहता इजरायल
इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहु ने हमास को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर रॉकेट हमले जारी रहे तो इजरायली सेना बड़े स्तर पर जवाबी कार्रवाई करेगी। नेतन्याहु सुरक्षा कैबिनेट के सदस्य योव गैलंत ने कहा कि इजरायल हमास के साथ हमले नहीं चाहता है, साथ ही इजरायल ऐसी स्थिति में नहीं फंसना चाहता है जहां इजरायली गाजा के हमलों का शिकार बनें। इजरायली सेना के प्रवक्ता कर्नल जोनाथन ने शनिवार को किए हमले के बारे में बताया, इन सुरंगों पर हमला करने के लिए 1.5 किलोमीटर के लक्ष्य को निशाना बनाया गया था। कहा कि इसका इस्तेमाल मिस्र के मदद से इजरायल पर हमले करने के लिए किया जा सकता था।
हथियारों के आयात के लिए होता था भूमिगत सुरंगों का इस्तेमाल
बताया जा रहा है कि इजरायली हमलों से पहले शनिवार को गाजा में प्रवेश किये जाने वाले सामान के लिए मुख्य मार्ग केरेर शालोम को बंद कर दिया गया था। भूमिगत सुरंगों को गाजा में सभी तरह के वाणिज्यिक वस्तुओं की तस्करी करने और हमास और अन्य समूहों के आतंकियों से हथियारों के आयात के लिए इस्तेमाल में लाया जाता था। इसका इस्तेमाल हमास के द्वारा इजरायल पर हमले करने के लिए भी किया जाता था।
सेंसर वाली भूमिगत दीवार का निर्माण
जानकारी के मुताबिक, 2014 के आखिरी गाजा युद्ध के दौरान हमास सेनानियों ने इजरायल की सैन्य ताकतों को कमजोर करने के लिए ऐसे दर्जनों सुरंगों का इस्तेमाल किया था। इजरायली सेना ने दावा किया है कि उसने पिछले दो महीनों में तीन सुरंगों को नष्ट कर दिया है। बता दें कि, 2019 के मध्य तक इजरायल ,गाजा सीमा के साथ 60 किमी की 1.1 अरब डॉलर की परियोजना की एक सेंसर वाली भूमिगत दीवार का निर्माण करने जा रहा है।

 


बगदाद - इराक की राजधानी बगदाद में आत्मघाती बम विस्फोट हुआ जिसमें 26 लोगों की मौत हो गई और कई घायल हैं। पुलिस और अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि शनिवार को उत्तरी बगदाद के पास एक व्यस्त सड़क पर पुलिस चौकी को निशाना बनाया गया। किसी भी समूह ने तत्काल हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है लेकिन इराक में इस तरह के अधिकतर हमले इस्‍लामिक स्‍टेट द्वारा ही करवाई जाती है।
आर्मी व पुलिस के ज्‍वाइंट ऑपरेशन कमांड के प्रवक्‍ता जनरल साद मान ने बताया, बगदाद स्‍थित तय्यारन स्‍क्‍वायर में दो आत्‍मघाती हमलावरों ने खुद को उड़ा दिया। पूर्वी बगदाद के स्‍वास्‍थ्‍य प्रमुख, डॉ. आब्‍देल गनी अल सादी ने बताया कि इस विस्‍फोट में 26 लोगों की मौत हो गयी है और 90 घायल हैं। तय्यारन स्‍क्‍वायर कॉमर्स का व्‍यस्‍ततम केंद्र है जहां नौकरी की खोज में सुबह से ही श्रमिक जमा हो जाते हैं। पहले भी इस स्‍थान पर घातक हमले हुए हैं। एएफपी के फोटोग्राफर ने बताया कि घटनास्‍थल पर ढेर सारे एंबुलेंस और सुरक्षा जवान मौजूद थे।
दिसंबर में सरकार ने आइएस के खिलाफ संघर्ष के अंत की घोषणा कर दी थी। बता दें कि इराक के नियंत्रण वाले शहरी क्षेत्रों व बगदाद से आइएस को हटा दिया गया था। जिहादी अभी भी सक्रिय हैं।


शंघाई - चीन में प्रदूषण की मार लगातार बढ़ती जा रही है, इसलिए चीनी सरकार ने इसके लिए सख्त रवैया अपना लिया है। इसी बीच कुछ अधिकारियों ने धुंध और प्रदुषण मापने वाले यंत्र से छेड़खानी की। मंत्रालय इस बात से बेहद नाराज है और इसके लिए उन अधिकारियों को इसके लिए दंडित भी किया। चीन के पर्यावरण मंत्रालय ने रविवार को एक नोटिस में जानकारी दी कि धुंध रीडिंग को कम करने के लिए प्रदूषण निगरानी उपकरणों के साथ छेड़छाड़ करने वाले जियांग्सी और हेनान के प्रांतों के अधिकारियों को दंडित किया गया है।
तीन दशकों से अधिक असंतुलित पर्यावरण और राजनीतिक नुकसान को उलट करने के लिए चीन ने 2014 के बाद से प्रदूषण के खिलाफ लड़ रहा है लेकिन प्रवर्तन निरंतर एक समस्या बन रही है। पर्यावरण संरक्षण मंत्रालय (एमईपी) ने कहा कि हेनान में जियांग्शी और ज़िनयांग के ज़िन्यू के शहरों में अधिकारियों ने हवा की गुणवत्ता सेंसर पर पानी छिड़काकर उत्सर्जन के रीडिंग को कम करने की कोशिश की थी। इन दोनों शहरों में प्रदूषण सबसे ज्यादा है। यहां एल्यूमीनियम और तांबा जैसी ऊर्जा-केंद्रित धातुओं की फर्म हैं।
दो स्थानीय सरकारों ने कहा कि जिम्मेदार अधिकारियों को खारिज और दंडित किया गया है। मंत्रालय ने रविवार को कहा भले ही वे इस बात से इंकार करते हैं कि उन्होने यह जानबूझ कर किया है लेकिन इससे उत्सर्जन के डेटा पर स्पष्ट प्रभाव पड़ा है। वायु गुणवत्ता निगरानी उपकरण पर पानी छिड़कने से सामान्य संचालन बाधित हुआ है।
प्रदूषण से लड़ने में मदद करने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि पूरे देश में इसके नियम लागू किए जा रहे हैं। एमईपी ने एक वास्तविक समय देशव्यापी उत्सर्जन निगरानी प्रणाली स्थापित करने की कोशिश की है, लेकिन स्थानीय अधिकारियों ने उपकरणों का दुरुपयोग या अक्षम करने की कोशिश की है। कुछ कंपनियों ने भी रात में संचालन के जरिए निगरानी से बचने की मांग की है।
मंत्रालय ने अपने सभी 1,436 निगरानी केंद्रों को केंद्रीय सरकार के नियंत्रण के तहत लाने और स्थानीय अधिकारियों को उपकरणों तक पहुंच से इनकार करते हुए उत्सर्जन के आंकड़ों में प्रशासनिक हस्तक्षेप को कम करने की मांग की है। यह पहली बार नहीं हुआ जब हेनान में इस मामले में किसी को दोषी ठहराया गया हो। इससे पहले 2017 में भी मंत्रालय ने कुछ लोकल फर्म पर वायु गुणत्ता के गलत आंकड़े उपलब्ध कराने का आरोप लगया था। उत्तर पश्चिमी शहर जियान के स्थानीय पर्यावरण अधिकारियों को भी सेंसर को कॉटन से निगरानी टेप हटाने के लिए दंडित किया गया था।


मनीला - पड़ोसी देश इंडोनेशिया के बाली द्वीप में स्थित माउंट अगुंग के बाद अब फिलीपींस में ज्वालामुखी विस्फोट की चेतावनी जारी की गई है। आशंका जताई गई है कि अल्बे प्रांत में स्थित सबसे सक्रिय और 2,640 मीटर ऊंचे ज्वालामुखी माउंट मायोन में एक-दो हफ्ते के भीतर बड़ा विस्फोट हो सकता है। पूरे क्षेत्र में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है और वहां रहने वाले करीब 12 हजार लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है।
ज्वालामुखी का मुंह (क्रेटर) रविवार को सुर्ख लाल नजर आ रहा था। इससे एक दिन पहले इसमें दो-तीन छोटे विस्फोट हुए जिसके बाद आसपास के गांवों के आसमान पर बड़ी मात्रा में राख छा गई। ज्वालामुखी और भूकंप के अध्ययन से जुड़े फिलीपींस के अधिकारियों का कहना है कि माउंट मायोन के अंदर नए लावा का निर्माण हुआ है।
विस्फोट के बाद इस बार ज्यादा मात्रा में लावा बाहर निकलने की आशंका जताई गई है, जिसके मद्देनजर ज्वालामुखी के चारों और सात किलोमीटर क्षेत्र में तीसरे स्तर का अलर्ट घोषित किया गया है। माउंट मायोन में इससे पहले 2014 में विस्फोट हुआ था। तब 63 हजार लोगों को अपना घर छोड़कर जाना पड़ा था। 1814 में इससे निकले लावा ने कैगसावा कस्बे का नामोनिशान मिटा दिया था और 1200 लोग मारे गए थे।

भारत के स्थायी प्रतिधिनि सैयद अकबरुद्दीन का अकांउट हैक होने का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हैकरों ने उनके ट्विटर अकाउंट पर रविवार तड़के पाकिस्तान के झंडे और वहां के राष्ट्रपति ममनूून हुसैन की तस्वीर पोस्ट कर दी। इसके साथ ही उनके आधिकारिक अकाउंट को चिन्हित करने वाला नीला निशान भी गायब कर दिया। हैकरों ने इसके साथ ही उनके अकाउंट पर तुर्की भाषा में कुछ ट्विटर संदेश भी लिखा। हालांकि कुछ समय बाद ये तस्वीरें हटा दी गयी हैं और ट्वीट भी मिटा दिया गया।ऐसा समझा जा रहा है कि यह हरकत किसी पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन की है जो भारत पर साइबर हमले की फिराक में रहते हैं। हालांकि कुछ समय बाद ये दोनों तस्वीरे हटा दी गयीं।गृह मंत्रालय के आंकडों के अनुसार 2016 में देश में कुल 199 सरकारी वेबसाइटें हैक की गयीं। वर्ष 2013 से लेकर 2016 के बीच अब तक देश में 700 से अधिक सरकारी वेबसाइटों की हैंकिंग हो चुकी है। पिछले साल जनवरी में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड की वेबसाइट हैक कर ली गयी थी हालांकि सुरक्षा को गंभीर खतरा देखते हुए कम्यूटर इमरजेंसी रेसपांस टीम ने तुंरत ही वेबसाइट को ब्लॉक कर दिया था।

इंटरनेट पर रोजाना कई ऐसे वीडियो वायरल होते रहते हैं, जिन्हें देखने से आप खुद को नहीं रोक पाते हैं। सोशल मीडिया पर इन वीडियोज के काफी व्यूज भी आते हैं। इसी तरह का एक क्यूट वीडियो इन दिनों वायरल हो रहा है। ये वीडियो तीन पांडा का है। इस वीडियो में तीन पांडा एक बर्फ से खेलते हुए नजर आ रहे हैं।टोरेंटो जू ने फेसबुक पर इस वीडियो को अपलोड किया है। इन तीनों पांडा का नाम ईआर शुन, जिया पनपन और जिया यूएवे है।वीडियो के अनुसार, चिडि़याघर की देखभाल करने वाले व्यक्ति ने पांडा के लिए एक बर्फ से स्नोमैन बनाया था। इसी स्नोमैन के साथ ये तीनों पांडा खेल रहे थे। इसी दौरान कुछ ऐसा हुआ कि तीनों एक दूसरे से लड़ने लगे।यह वीडियो महज कुछ ही घंटों में 50 हजार से भी अधिक देखा जा चुका है। इसके अलावा कई लोग वीडियो को शेयर कर चुके हैं। कई यूजर्स ने वीडियो पर कमेंट कर के पांडा को काफी क्यूट बताया है।

 

 

पाकिस्तान ने अपने परमाणु हथियार संपन्न होने का एक बार फिर दंभ भरा है और भारत को धमकाने की कोशिश की है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा अहमद आसिफ ने भारत को परमाणु हमले की धमकी दी है। विदेश मंत्री आसिफ ने ट्वीट किया, ‘भारतीय सेनाध्‍यक्ष ने बेहद गैरजिम्‍मेदार बयान दिया है। यह उनके पद की गरिमा के अनुसार नहीं है। यह परमाणु युद्ध का आमंत्रण देने जैसा है। अगर…
अमेरिका के हवाई प्रांत में आज गलती से मिसाइल चेतावनी अलर्ट जारी हो गया जिसके बाद वहां अफरा तफरी मच गयी। यह अलर्ट ऐसे समय आया है जब हाल के महीनों में अमेरिका के इस प्रांत में उत्तर कोरिया की तरफ से होने वाले हमले की आशंका बढ़ी हुई है। हालांकि बाद में अधिकारियों ने इसे गलती से जारी हुआ संदेश बताया। स्थानीय समयानुसार सुबह करीब आठ बजकर सात मिनट…
ब्रिटेन की एक अदालत ने भारतीय मूल के एक किशोर को आठ साल की जेल की सजा सुनाई है। उसे अपने पिता की हत्या के लिए ऑनलाइन विस्फोटक खरीदने की कोशिश के लिए यह सजा सुनाई गई है। किशोर के पिता श्वेत प्रेमिका के साथ उसके रिश्ते को स्वीकृति देने से कथित तौर पर इनकार कर रहे थे।ब्रिटेन की राष्ट्रीय अपराध एजेंसी के अधिकारियों ने पिछले साल मई में गुरतेज…
अमेरिका का राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार डोनाल्ड ट्रंप के फिजीशियन ने उनके स्वास्थ्य की जांच की और बताया कि राष्ट्रपति की सेहत पूरी तरह ठीक है। ट्रंप के स्वास्थ्य की जांच वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री मेडिकल सेंटर में कई घंटे चली। समझा जाता है कि इस दौरान ट्रंप का रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल, रक्त शर्करा, दिल की धड़कन, वजन आदि की जांच की गई। डॉ रोनी जैक्सन ने एक संक्षिप्त…
Page 4 of 219

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें