दुनिया

दुनिया (3227)

 

ढाका (HH)-बांग्लादेश और पाकिस्तान ने 1971 के युद्ध अपराध के मुकदमे को लेकर वाद-प्रतिवाद के बीच एक-दूसरे के दूतावास के कर्मचारियों को थोड़े समय के लिए हिरासत में ले लिया। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि इस्लामाबाद में बांग्लादेशी राजनयिक का पर्सनल ऑफिसर कल लापता हो गया और मंगलवार को सुबह सही सलामत घर लौट आया।

विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस्लामाबाद में हमारे उच्चायुक्त ने जहांगीर हुसैन (जो लापता हो गए) के लौटने पर उनसे बात की। हम विस्तार से जानना चाहते हैं कि उन्हें वास्तव में हुआ क्या। उन्होंने कहा कि हुसैन कल कार्यालय से अपनी बेटी को लेने निकले थे जिसके बाद उन्हें घर लौटना था लेकिन उच्चायोग से बाहर आते ही वह लापता हो गए और उनका मोबाइल फोन भी बंद रहा।

प्रवक्ता ने कहा कि हमारे उच्चायुक्त ने तुरंत मामले के बारे में पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय और सुरक्षा एजेंसियों को सूचित किया और ढाका में विदेश मंत्रालय को घटना के बारे में बताया। ढाका में पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी अबरार अहमद खान की संदिग्ध गतिविधियों के लिए पुलिस द्वारा उन्हें हिरासत में लिए जाने के कुछ घंटे बाद यह घटना हुई।

ढाका मेट्रोपोलिटन पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि अबरार खान को संदिग्ध गतिविधियों के बाद पूछताछ के लिए खुफिया एजेंसियों ने हिरासत में लिया और उनसे शपथ पत्र लेने के बाद पाकिस्तान के उच्चायोग को सौंप दिया गया, लेकिन पाकिस्तान उच्चायोग ने ढाका में बयान जारी कर कहा कि कीचड़ उछालने के अभियान और मीडिया ट्रायल के बाद वह देख रहा है कि उसके अधिकारियों का उत्पीड़न करने का सिलसिला चल पड़ा है। इसने कहा कि बांग्लादेश की पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारियों पर आतंकवादियों से संबंध होने के आरोप लगा रही हैं।

 

लाहौर (HH)- पाकिस्तान के मशहूर लेखक एवं पत्रकार इंतजार हुसैन का मंगलवार को लाहौर के एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 93 वर्ष के थे। हुसैन लंबे समय से बीमार चल रहे थे।

हुसैन के परिजनों के मुताबिक, वह निमोनिया और बुखार से पीडि़त थे। उन्हें बुधवार को सुपुर्दे खाक किया जाएगा।  हुसैन जितना पाकिस्तान में लोकप्रिय थे, उतने ही भारत में भी लोकप्रिय थे। वह उर्दू साहित्य में मौजूदा दौर के अहम कहानीकारों में से एक माना जाता है। हुसैन पकिस्तान के प्रमुख अखबार 'डाॠन' के स्तंभकार भी थे।  

इंतजार हुसैन का जन्म भारत के बुलंदशहर के डिबाई में सात दिसंबर 1923 को हुआ था। 1947 में विभाजन के बाद वह पाकिस्तान चले गए थे। हुसैन बीच बीच में भारत आते थे और वहां के साहित्यिक समारोहों में भाग भी लेते थे। उन्हें कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया था, जिनमें फ्रांस का साहित्यिक सम्मान और भारत में साहित्य अकादमी ने उन्हें अन्तराष्ट्रीय प्रेमचंद फेलोशिप प्रदान की थी। उनके आठ कहानी संग्रह, चार उपन्यास, आत्मकथा के दो भाग और एक लघु उपन्यास प्रकाशित हुआ। इसके अलावा उन्होंने कई अनुवाद किए और यात्रा संस्मरण भी लिखे।

संक्षिप्त परिचय

जन्म   - सात दिसंबर 1923 को भारत के बुलंदशहर के दिबाई में हुआ था जन्म

शिक्षा -1946 में उन्होंने मेरठ काॠलेज से एमए (उर्दू) किया। उनकी स्कूली शिक्षा हापुड़ में हुई थी

-1988 में डेली मशरीक से सेवानिवृत्त होने से पहले उन्होंने विभिन्न अखबारों में काम किया

उपलब्धियां - 2013 में फिक्शन के मैन बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार के लिए अंतिम 10 लेखकों की सूची में जगह बनाई

-अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए नामांकित होने वाले वह पहले पाकिस्तानी और पहले उर्दू लेखक थे

- उपन्यास 'बस्ती' के लिए उन्हें पाकिस्तान के सबसे बड़े साहित्यिक पुरस्कार आदमजी पुरस्कार से सम्मानित किया गया

चर्चित कहानियां -1953 में उनकी कहानियों का पहला संग्रह 'गली कूचे' प्रकाशित हुआ

-उन्होंने कांकड़ी, दीन और दास्तान, शहर ए अफसोस खाली पिंजरा, मोरेनामा शहरजाद जैसी चर्चित किताबें लिखीं

-उनकी चर्चित पुस्तकों में बस्ती,खाली पिंजरा, दिन और दास्तां ,हिन्दुस्तान के नाम आखीरी खत शामिल हैं

 

नई दिल्ली (HH)-वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि पिछली तिथि से लागू कर कानूनों से देश को नुकसान हुआ क्योंकि इससे डरकर निवेशक दूर हुए हैं। उन्होंने कर कानूनों में निष्पक्षता के उचित मानदंड बनाये रखने पर जोर दिया।

भारतीय राजस्व सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा कि ऐसे कराधान जो क्रियान्वयन के योग्य होते हैं उनसे कर संग्रह किया जा सकता है लेकिन ऐसे कर जो क्रियान्वयन योग्य नहीं होते हैं उनसे आप कर नहीं जुटा सकते।

उन्होंने कहा कि यदि आप चार-पांच साल बाद मुझसे आयकर कानून के तहत कुछ मांगेगे, क्या पिछली तिथि से लागू कर से भारत को मदद मिलेगी या फिर उससे देश को नुकसान होगा मेरा जवाब बिल्कुल साफ है, उससे भारत को नुकसान होगा क्योंकि दिन के आखिर में हम उन करों को नहीं वसूल सकते हैं और इससे भयभीत निवेशक दूर हो जाएंगे।

जेटली पूर्व संप्रग सरकार द्वारा पिछली तिथि से लगाए कर के बारे में बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में निवेशकों को कर नियमों में स्थिरता और विश्वसनीयता चाहिये। उन्हें इनमें कोई आश्चर्यचकित करने वाला नियम नहीं चाहिये जिससे कि उनकी व्यावसायिक योजना गड़बड़ा जाए। इसलिये यह महत्वपूर्ण है कि कर नियमों में निष्पक्षता और स्पष्टता के मानक बनाये रखे जाएं।

वित्त मंत्री ने नए राजस्व अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि कर कानूनों के तहत यदि कोई कर दिया जाना है तो उसका भुगतान होना चाहिये। उन्होंने कहा कि इसमें ऐसी कोई बात नहीं होनी चाहिए वह बुजुर्ग व्यक्ति है, वह विधवा है, इसे या उसके पास भुगतान के लिये कुछ नहीं है, कराधान कानून में इस तरह के विचार नहीं आने चाहिये।

 

मेलबर्न (HH)-ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े शहर सिडनी के कई स्कूलों को खाली करा लिया गया और वहां ताला लगा दिया गया। बताया जाता है कि बम की धमकी मिलने के बाद यह कार्रवाई की गई और पुलिस कम से कम आठ अभियान चला रही है।

प्रभावित स्कूलों में हंटर्स हिल हाई, सिडनीज गल्र्स हाई स्कूल, रैंडविक गर्ल्स हाई, मॉस्मैन हाई, रिवर साइड गर्ल्स हाई, जेम्स रयूज एग्रीकल्चरल हाई, चेल्टेनहैम गर्ल्स हाई स्कूल और कैरिंगबाह हाई स्कूल शामिल हैं।

पुलिस ने आज स्थानीय समयानुसार दोपहर एक बजकर 28 मिनट पर एक ट्वीट में पुष्टि की कि एहतियात के तौर पर सिडनी में कुछ स्कूलों में पुलिस का अभियान चलाया जा रहा है। जांच जारी है और वे शिक्षा विभाग के साथ समन्वय कर रहे हैं।

बताया जाता है कि मूरे पार्क स्थित सिडनी गर्ल्स हाई स्कूल तथा हंटर्स हिल को खाली कराने के बाद वहां ताला लगा दिया गया।

ट्रांसपोर्ट नेटवर्क के अनुसार, पुलिस के अभियानों के कारण साउथ डाउलिंग स्ट्रीट पर दोनों ओर से सिडनी की क्लीवलैंड स्ट्रीट को बंद कर दिया गया है। वाहन चालकों को वैकल्पिक मार्गों से जाने की सलाह दी गई है और उन्हें अतिरिक्त समय भी दिया गया है।

पुलिस की एक प्रवक्ता ने कई अभियान चलाए जाने की पुष्टि की लेकिन कहा कि अब तक कुछ भी ऐसा नहीं मिला है जिसे गंभीर कहा जा सके। प्रवक्ता ने कहा कि खतरे का स्तर बहुत ही कम है और इसके आतंकवाद से संबद्ध होने के बारे में अब तक कोई संकेत नहीं मिला है।

पुलिस ने चेतावनी दी है कि ऐसी धमकी देना एक गंभीर अपराध है और इसके लिए जिम्मेदार व्यक्ति या व्यक्तियों की पहचान के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे।

शुक्रवार की सुबह धमकियां मिलने के बाद न्यू साउथ वेल्स के सात स्कूलों में ताला लगा दिया गया था। बाद में स्कूलों की जांच के पश्चात पुलिस ने धमकियों को अफवाह करार दिया।

 

इस्लामाबाद (HH)-पेशावर के सैनिक स्कूल पर 2014 के आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तानी अधिकारियों ने आतंकवाद में कथित रूप से शामिल मदरसों के खिलाफ देशव्यापी अभियान में 182 मदरसों को बंद किया है।

एसोसिएटेड प्रेस ऑफ पाकिस्तान (एपीपी) ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि पंजाब, सिंध और खैबर पख्तूनख्वा के मदरसों को बंद किया गया है क्योंकि चरमपंथ को बढ़ावा देने में उनकी कथित संलिप्तता थी।

रिपोर्ट के अनुसार यह कार्रवाई राष्ट्रीय कार्रवाई योजना (एनएपी) के तहत की गई। 2014 के दिसंबर में सेना के स्कूल पर आतंकवादी हमले के बाद एनएपी बनाई गई थी।

इस बीच, आतंकवादी गतिविधियों के लिए वित्तपोषण पर अंकुश लगाने के लिए स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (एसबीपी) ने अभी तक 126 बैंक खातों में तकरीबन एक अरब रूपये के परिचालन पर रोक लगा दी है। इन खातों का संबंध प्रतिबंधित आतंकवादी समूहों के साथ था।

कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने भी 25 करोड़ 10 लाख रुपये नकद बरामद किए। सरकार ने 8,195 लोगों का नाम चौथी अनुसूची में डाल दिया है जबकि 188 लोगों का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट पर डाला गया है। 2052 कट्टर आतंकवादियों की गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है।

इसी तरह सरकार ने संदिग्ध आतंकवादियों के खिलाफ 1026 मामले दर्ज किए हैं और 230 संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। देश में 64 प्रतिबंधित संगठन हैं।

 

दुबई (HH)-सीरिया की राजधानी दमिश्क के सईदा जेनाब जिले में रविवार को हुए तीन आत्मघाती हमलों में मृतकों की संख्या बढ़कर 76 हो गई है। इन हमलों की जिम्मेदारी आतंकवादी इस्लामिक स्टेट ने ली है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इन हमलों में मारे जाने वाले लोगों की संख्या अभी और बढ़ सकती है। पहला विस्फोट क्षेत्र के अल सुदान इलाके में एक यात्री बस को निशाना बनाकर किया गया और इसके बाद दो आत्मघाती हमले किये गये।

इन हमलों में करीब 76 लोग मारे गये हैं और मृतकों की संख्या और भी बढ सकती है क्योंकि काफी संख्या में लोग घायल भी हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि सईदा जेनाब जिले में लेबनान के आतंकवादी संगठन हिजबुल्लाह और अन्य इराकी तथा ईरानी आतंकवादियों का वर्चस्व है।

दुबई (HH)-सीरिया की राजधानी दमिश्क के सईदा जेनाब जिले में रविवार को हुए तीन आत्मघाती हमलों में मृतकों की संख्या बढ़कर 76 हो गई है। इन हमलों की जिम्मेदारी आतंकवादी इस्लामिक स्टेट ने ली है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इन हमलों में मारे जाने वाले लोगों की संख्या अभी और बढ़ सकती है। पहला विस्फोट क्षेत्र के अल सुदान इलाके में एक यात्री बस को निशाना बनाकर किया गया और…
काबुल (HH)-अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में आज एक पुलिस ठिकाने को निशाना बनाकर आत्मघाती बम हमला किया गया जिसमें कई लोगों के हताहत होने की खबर है। किसी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। यह हमला उस वक्त हुआ है जब औपचारिक शांति वार्ता को बहाल करने के प्रयासों के बावजूद तालिबान ने हमले तेज कर दिए हैं। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); गृह मंत्रालय के प्रवक्ता…
वॉशिंगटन (HH)-अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने सूरज के अदृश्य चुंबकीय क्षेत्र को देखने और समझने के लिए एक वीडियो तैयार किया है जो गहरे अंतरिक्ष के सफर के लिए अहम साबित हो सकता है। नासा के इस वीडियो में रियल टाइम अवलोकन को कंप्यूटर के सिमुलेशन से जोड़ा गया है और इसके आधार पर विश्लेषण किया गया है कि कैसे प्लाज्मा सूरज के कोरोना से गुजरता है। उल्लेखनीय है कि…
लंदन:-ब्रिटेन के सांसदों को मरम्मत कार्य के लिए वेस्टमिंस्टर पैलेस छोड़ने पर शराब पर प्रतिबंध सहित शरिया कानून का पालन करना पड़ सकता है क्योंकि नये परिसर में जहां वे जाएंगे, वहां इस्लामिक कानून चलता है। ब्रिटेन की एक संसदीय कमेटी ने पसंदीदा विकल्प के तौर पर वेस्टमिंस्टर के पैलेस के बाहर हाउस ऑफ कामंस के लिए एक अस्थायी ठिकाने के तौर पर रिचमंड हाउस की पहचान की है, जो…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें