दुनिया

दुनिया (3271)

नई दिल्ली:-भूमध्य सागर के बीचों बीच एक नाव पर सवार सैकड़ों शरणार्थी उस समय अचानक जिंदगी और मौत के बीच फंस गए जब नाव असंतुलित हो गई। तब इटली के नौसैनिकों ने बचाव अभियान चलाकर करीब 562 लोगों की जान बचाई जबकि 5 लोगों को नहीं बचाया जा सका।इटली मरीन के द्वारा चलाए गए इस पूरे रेस्क्यू ऑपरेशन को उनकी टीम के ही एक सदस्य ने कैमरे में कैद कर लिया। खबरों के मुताबिक जब भूमध्य सागर में नियमित पेट्रोलिंग के दौरान इटली के नौसैनिकों ने लीबिया से आ रहे सैकड़ों प्रवासियों से लदे मछली मारने वाले एक नाव को देखा तो हरकत में आ गए। उसमें सवार सभी यात्री नाव डूबने की आशंका से कांप रहे थे। अधिक लोगों के सवार होने के कारण नाव संतुलन खोती जा रही थी। कुछ लोग तो अचानक पानी में गिर भी पड़े। इसके बाद इटली के नौसैनिकों ने अलर्ट जारी कर दिया।हेलीकॉप्टर, नौसेना के जहाज और कई छोटी नावों को बचाव कार्य में लगा दिया गया। लाइफ सेविंग जैकेट्स ने बहुत लोगों की जान बचाई। इसके अलावा पूरे ऑपरेशन में नौसेना ने कुल 562 लोगों को बचाया गया जबकि पांच लोगों की मौत हो गई।

वाशिंगटन:-सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स-2 दुनिया भर की रिकॉर्ड तोड़ उड़ान का हालिया चरण पूरा करने के बाद सफलापूर्वक अमेरिकी राज्य पेनसिल्वेनिया में उतर गया है। इस उड़ान का उद्देश्य नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देना है।विमान की 118 घंटे की यात्रा ने अमेरिकी एडवेंचरर स्टीव फोसेट के 76 घंटे 45 मिनट की उड़ान के रिकॉर्ड को तोड़ दिया था। उस चरण में विमान बोर्शबर्ग उड़ा रहे थे।कल सुबह ओहायो के डेटन से उड़ान भरने पर 17 घंटे की उड़ान के बाद यह लीहाई वेली अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर रात आठ बजकर 49 मिनट पर उतरा। विमान को स्विस अनवेषक बर्टनाड पिक्कार्ड उड़ा रहे थे।विमान की उड़ान के अगले चरण के तहत इसे न्यूयार्क के जेकेएफ हवाईअड्डे के लिए 30 मई को उड़ान भरनी है। दुनिया के व्यस्ततम हवाईअड्डों में से एक जेकेएफ हवाईअड्डे पर उतरने से पहले सोलर इंपल्स स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी के ऊपर से होकर गुजर सकता है। यह फोटोग्राफी के लिहाज से एक बेहद प्रतीक्षित क्षण होगा।धीरे चलने वाले और एकल सीट वाले इस विमान ने चरणबद्ध तरीके से काफी दुनिया की यात्रा कर ली है। इसने आबु धाबी से नौ मार्च 2015 को पिक्कार्ड और स्विस उद्योगपति बोर्शबर्ग के साथ उड़ान भरी थी। विमान में हजारों सौर सेल लगे हैं। इस विमान को मंगलवार को ओहायो से निकल जाना था लेकिन इसके मोबाइल हैंगर के क्षतिग्रस्त हो जाने पर उड़ान टाल दी गई।बोर्शबर्ग ने कहा कि बुधवार को विमान का प्रदर्शन ठीक वैसा हो गया था, जैसा होना चाहिए। यह एक शानदार विमान है।लीहाई वैली तककी उड़ान सोलर इंपल्स परियोजना के 16 चरणों में से 13वां चरण थी। इसने महज 48 किलोमीटर प्रति घंटा के साथ उड़ान भरी है।पिक्कार्ड और बोर्शबर्ग ने एक बयान में कहा, यह उड़ान विश्वभर की पहली सौर उड़ान का लक्ष्य पूरा करती है। इसका उद्देश्य यह दिखाना है कि किस तरह से आधुनिक स्वच्छ प्रौद्योगिकियां असंभव को संभव बना सकती हैं।

ओलंपिया:-किसी बड़े विरोध का सामना किए बिना डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को वाशिंगटन राज्य का प्राइमरी चुनाव जीत लिया और अब वह राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी का नामांकन हासिल करने से महज एक कदम दूर हैं। अमेरिका में राष्ट्रपति पद का चुनाव नवंबर में होगा, जिसमें ट्रंप का मुकाबला डेमोक्रेटिक पार्टी की हिलेरी क्लिंटन से होने की संभावना है।वाशिंगटन राज्य में ट्रंप को 76.2 प्रतिशत मत मिले हैं और इसके साथ ही राष्ट्रपति पद के चुनाव में अपनी पार्टी की ओर से उम्मीदवारी हासिल करने के लिए उन्हें अब सिर्फ 10 से कम प्रतिनिधि यानी डेलीगेट्स चाहिए।सीएनएन के आंकड़ों के मुताबिक, इस जीत में वाशिंगटन के डेलीगेट्स में से कम से कम 40 डेलीगेट हासिल करने का मतलब यह है कि 69 वर्षीय ट्रंप के पास अब 1,229 डेलीगेट का समर्थन है। जीओपी का नामांकन हासिल करने के लिए अब उन्हें महज आठ डेलीगेट और चाहिए, जिसके साथ वह उम्मीदवारी के लिए आवश्यक 1,237 डेलीगेट की जादुई संख्या पर पहुंच जाएंगे।अभी वाशिंगटन के चार डेलीगेट के बारे में और फैसला होना है। अगर ये डेलीगेट ट्रंप की तरफ गए तो रियल एस्टेट कारोबारी के डेलीगेट की संख्या और बढ़ जाएगी।प्राइमरी में ट्रंप ने 76 प्रतिशत से अधिक मत हासिल किए, जबकि टेक्सास के सीनेटर टेड क्रूज और ओहियो के गवर्नर जॉन कासिच के खाते में दस-दस प्रतिशत मत गए। सेवानिवृत्त न्यूरोसर्जन बेन कार्सन को चार प्रतिशत मत मिले।सात जून को कैलिफोर्निया, न्यूजर्सी, न्यू मेक्सिको, मोंटाना और साउथ डकोटा में प्राइमरी होना है, जिसमें ट्रंप के आवश्यक डेलीगेट हासिल कर लेने की पूरी उम्मीद है।बड़े समाचार चैनलों द्वारा राज्य में ट्रंप की जीत की संभावना जताए जाने के बाद ट्रंप ने ट्वीट किया, धन्यवाद, वाशिंगटन । इस बीच, न्यू मेक्सिको के अल्बुकर्क में ट्रंप की रैली के आयोजन स्थल के बाहर ट्रंप विरोधी प्रदर्शनकारियों तथा पुलिस के बीच झड़पें हुईं। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के अवरोधकों को तोड़ दिया, आगजनी की और शहर के सम्मेलन केंद्र पर पथराव किया जिससे, इसका एक दरवाजा टूट गया। कुछ लोगों ने पुलिस का मजाक बनाया और पुलिस के वाहनों पर चढ़ गए।दंगा रोधी अधिकारियों तथा पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को सम्मेलन केंद्र से भगा दिया। शहर की सड़कों पर ट्रंप विरोधी नारे गूँजते रहे।व्हाइट हाउस के लिए रिपब्लिकन पार्टी की उम्मीदवारी की दौड़ में ट्रंप एकमात्र उम्मीदवार बचे हैं। इस साल के शुरू में प्राइमरी चुनाव शुरू होने के समय पार्टी के 17 लोग उम्मीदवारी की दौड़ में थे।दूसरी तरफ, व्हाइट हाउस के लिए डेमोक्रेटिक दौड़ में प्राइमरी शुरू होने के समय तीन उम्मीदवार थे और यह दौड़ अब भी खुली है।हालांकि 68 वर्षीय हिलेरी क्लिंटन के डेलीगेट के मामले में बढ़त होने की वजह से राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्मीदवारी हासिल कर लेने की संभावना है, लेकिन उनके प्रतिद्वंद्वी वर्मोंट से सीनेटर बर्नी सैंडर्स ने प्राइमरी चुनावों में अंतिम वोट पड़ने तक दौड़ से हटने से मना कर दिया है।

वाशिंगटन:-अमेरिकी सीनेट के सदस्यों ने मंगलवार को व्यापार संपर्क के उद्देश्य से भारत की मदद से दक्षिणी ईरान के चाबहार बंदरगाह के विकास पर सवाल खड़ा किया और पूछा कि क्या इससे अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंधों के उल्लंघन का खतरा है।अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने सीनेट के सदस्यों की इस आपत्ति पर कहा कि ओबामा प्रशासन ईरान की इस परियोजना की बारीकी से जांच करेगा।दक्षिण तथा मध्य एशिया मामलों की विदेश उप मंत्री निशा देसाई विश्वाल ने कहा कि अमेरिकी प्रशासन भारत को ईरान पर लगे प्रतिबंधों की जानकारी देता रहा है।उन्होंने सीनेट की विदेशी मामलों की समिति की बैठक में कहा, हमें चाबहार परियोजना के निर्माण पर विस्तार के साथ विचार करना होगा।भारत के पीएम नरेन्द्र मोदी ने चाबहार बंदरगाह परियोजना के निर्माण के समझौते पर ईरान तथा अफगानिस्तान के राष्ट्रपति के साथ हस्ताक्षर किया था और परियोजना के लिए 50 करोड़ डॉलर की रकम देने की घोषणा की थी। इससे भारत के लिए ईरान, अफगानिस्तान तथा मध्य एशिया के साथ व्यापार का रास्ता खुलेगा। पाकिस्तान ने भारत के लिये इस रास्ते को बंद कर रखा था।विश्व के छह प्रमुख देशों को ईरान के साथ परमाणु समझौते के बाद यूरोप तथा अमेरिका ने तेहरान के विरूद्ध लगे प्रतिबंधों को जनवरी से उठा लिया था लेकिन कुछ प्रतिबंध जारी हैं, जो मानवाधिकार तथा आतंकवाद से जुड़े हैं।विश्वाल ने कहा कि हम समझते हैं कि ईरान के साथ भारत के संबंध मुख्यत: आर्थिक तथा ऊर्जा संबंधी मसले को लेकर है। अमेरिकी प्रशासन भारत की जरूरतों का एहसास करता है। भारत की दृष्टि से यह बंदरगाह अफगानिस्तान तथा मध्य एशिया के लिए उसका प्रवेश द्वार है।विश्वाल ने कहा कि ईरान के साथ भारत का सैनिक सहयोग जैसा कोई संबंध नहीं है, जिससे अमेरिका के लिए खतरा पैदा हो।मोदी अगले महीने अमेरिका आ रहे हैं और यहां वह कांग्रेस को संबोधित करेंगे। सिनेटर बेन कार्डिन ने पूछा कि विश्वाल को इस यात्रा में सुरक्षा समझौते पर हस्ताक्षर की आशा है। विश्वाल ने कहा कि भारत तथा अमेरिका के बीच कई क्षेत्रों में पहले से ही मजबूत सुरक्षा सहयोग है। अमेरिका भारत के साथ अपने संबंधों को काफी महत्वपूर्ण मानता है।

तेहरान:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खामनी को पवित्र कुरान की दुर्लभ प्रामाणिक पांडुलिपि की प्रतिकृति भेंट की। यह सातवीं शताब्दी की है।मोदी की निजी वेबसाइट ने कहा है, ‘‘कुफिक लिपि में लिखी यह पांडुलिपि संस्कृति मंत्रालय के रामपुर राजा लाइब्रेरी में है।’’मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी को मिर्जा गालिब की फारसी में लिखी शायरी के संग्रह ‘कुल्लीयत-ए-फारसी-ए-गालिब’ और सुमेर चंद द्वारा फारसी में अनूदित रामायण की अधिकृत प्रतिकृति भेंट की। पहली बार 1863 में प्रकाशित गालिब की इस कृति में 11 हजार शेर हैं।

रियो डी जेनेरियो:-पूर्वोत्तर ब्राजील की जेल में पिछले सप्ताहांत पर हुई झड़पों में 14 कैदियों की मौत हो गई। स्थानीय मीडिया के अनुसार, सेअरा राज्य के दो जेलों में बंद कैदियों के प्रतिद्वंद्वी समूहों के बीच ये झड़पें जेल सुरक्षाकर्मियों की हड़ताल के दौरान शुरू हुईं।गवर्नर कैमिलो सेंटाना ने कल एक फेसबुक पोस्ट में लिखा, हमारी जेलों में जो कुछ भी हो रहा है, उससे मैं बेहद दुखी हूं और हम अपने सुरक्षाकर्मियों के साथ मिलकर जल्द से जल्द जेल व्यवस्था में स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।उन्होंने उत्कृष्ट नेशनल सिक्योरिटी फोर्स से अतिरिक्त सैन्य बल भेजने की मांग की। राज्य जेल अधिकारियों ने कहा कि वे इन घातक झगड़ों की वजह की जांच कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्थिति पर कल से काबू पा लिया गया है।उन्होंने कहा कि पुलिस और सुरक्षाकर्मियों ने एक जेल में एक अस्थायी सुरंग देखी है, लेकिन किसी के फरार होने की पुष्टि नहीं हुई है। हड़ताल पर गए जेल सुरक्षाकर्मी तब से काम पर लौट आए हैं। ब्राजील की जेलें आपराधिक गिरोहों के लिए बेहद भीड़भाड़ वाली जगहें हैं। हयूमन राइटस वॉच ने हाल ही में इन्हें एक मानवाधिकार आपदा कहा था।

लंदन:-ब्रिटेन ने मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद को राजनीतिक शरणार्थी का दर्जा दे दिया है। यह दावा नशीद के वकील ने किया है। नशीद के चार साल तक राष्ट्रपति रहने के बाद उनका तख्तापलट कर दिया गया था।मानवाधिकारों के एक प्रसिद्ध अभियानकर्ता और मालदीव के पहले लोकतांत्रिक तौर पर निर्वाचित राष्ट्रपति नशीद (49) को श्रीलंका, भारत और ब्रिटेन की मध्यस्थता वाले एक समझोते के बाद जनवरी में रीढ़ से…
कराची:-पाकिस्तान में तीन साल पहले कथित तौर पर अगवा की गयी 31 वर्षीय एक यूक्रेनी महिला को सिंध प्रांत में एक पुलिस छापेमारी में मुक्त करा लिया गया। थारपकर जिले के एसएसपी सरफराज नवाज ने बताया कि थारपकर जिले में मिठी के नजदीक कथो गांव से कटरीना को बरामद किया गया और कथित अपहृतकर्ता को गिरफ्तार कर लिया गया।उन्होंने बत, एक विदेशी महिला के वहां उपस्थित होने के बारे में…
बेरूत:-सीरिया शासन के मजबूत गढ़ माने जाने वाले दो शहरों में हुए बम विस्फोटों में 100 से ज्यादा लोग मारे गए और 120 घायल हुए।यह जानकारी मानवाधिकारों के लिए काम करने वाली सीरियाई वेधशाला ने दी है। निगरानी समूह ने बताया कि तीन बम विस्फोटों में 34 लोग मारे गए। टर्तुस के भूमध्य सागर तटवर्ती शहर में हुए इन बम विस्फोटों का कारण कम से कम दो आत्मघाती हमले थे।वेधशाला…
तेहरान:-पीएम नरेंद्र मोदी ने ईरान के साथ चाबहार बंदरगाह के लिए किए गए समझौते को मील का पत्थर करार देते हुए सोमवार को कहा कि इससे ईरान-भारत-अफगानिस्तान के बीच एक नए युग की शुरुआत होगी और पूरे क्षेत्र में शांति, स्थिरता और समृद्धि आएगी।मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी के साथ बैठक के बाद एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दोनों देशों की दोस्ती के केंद्र में लोगों…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें