दुनिया

दुनिया (2745)

 

वॉशिंगटन (hh)- अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार बनने के शीर्ष दावेदार डोनाल्ड ट्रम्प न्यू हैम्पशायर में अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी मार्को रबियो के खिलाफ दोहरे आंकड़े की बढत बनाकर शीर्ष पर हैं। वहीं डेमोक्रेटिक पार्टी के लिए बर्नी सैंडर्स को हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ मजबूत देखा जा रहा है। यह खुलासा चुनाव पूर्व एक ताजा सर्वेक्षण में हुआ है।

आयोवा कॉकस के परिणाम घोषित होने के बाद राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार बनने के दावेदारों की भीड़ में अब मुकाबला मुख्य रूप से तीन दावेदारों के बीच माना जा रहा है। आयोवा में टेक्सास के सीनेटर टेड क्रूज और डोनाल्ड ट्रम्प के बाद फ्लोरिडा के सीनेटर रबियो तीसरे स्थान पर रहे।

दूसरी ओर डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बनने के दावेदार, वेर्मोन्ट के सीनेटर बर्नी सैंडर्स को हिलेरी ने आधे अंक से भी कम के अंतर से मात दी थी। चुनाव पूर्व सर्वेक्षण में कहा गया कि सैंडर्स को प्राप्त बढ़त नौ फरवरी को न्यू हैम्पशायर में होने वाले चुनाव में उनके लिए अनुकूल होगी।

सीएनएन (डब्ल्यूएमयूआर) द्वारा इस सप्ताह की शुरूआत में आयोवा कॉकस के बाद कराए गए ट्रैकिंग सर्वेक्षण के अनुसार ट्रम्प को रिपब्लिकन प्राइमरी के संभावित भागीदारों का 29 प्रतिशत और रबियो को 18 प्रतिशत समर्थन मिलने की संभावना है।

आयोवा कॉकस जीतकर सभी को हैरान कर देने वाले क्रूज 13 प्रतिशत समर्थन के साथ तीसरे स्थान पर हैं जबकि ओहियो के गवर्नर जॉन काइश को 12 और फ्लोरिडा के पूर्व गवर्नर जेब बुश को 10 प्रतिशत समर्थन मिलने की संभावना है। सर्वे में कहा गया है कि सैंडर्स के पास डेमोक्रेटिक प्राइमरी के संभावित मतदाताओं में से 61 प्रतिशत का समर्थन है जबकि हिलेरी को मात्र 30 प्रतिशत समर्थन प्राप्त है।

 

कैलीफोर्निया (hh)- सोशल नेटवर्किंग कंपनी फेसबुक ने गुरुवार को एक विशेष वीडियो जारी कर अपनी 12वीं वर्षगांठ 'फ्रेंडशिप डे' के तौर पर मना रही है। वीडियो का शीर्षक ‘फ्रेंड्स डे वीडियो’ है।

कंपनी ने 2015 की चौथी तिमाही में सभी उम्मीदों से बेहतर रिकॉर्ड आय दर्ज की है और उसके मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं की संख्या 1.5 अरब से अधिक हो गई है।

फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जकरबर्ग ने पहले ही सभी यूजर्स को संदेश दिया था कि वे कंपनी की 12वीं वर्षगांठ को मित्रता दिवस के तौर पर मनाएं।

उन्होंने एक पोस्ट में कहा था, ‘‘मुझे उम्मीद है कि चार फरवरी को आप मेरे साथ फ्रेंडशिप डे मनाएंगे।’’

कंपनी ने अपने एक बयान में कहा, ‘‘मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं (एमएयू) की संख्या साल-दर-साल आधार पर 14 फीसदी बढ़कर 1.59 अरब हो गई है, जबकि मोबाइल एमएयू की संख्या साल-दर-साल आधार पर 21 फीसदी बढ़कर 1.44 अरब हो गई है।’’

कंपनी की कुल आय 2015 में साल-दर-साल आधार पर 44 फीसदी बढ़कर 17.93 अरब डॉलर दर्ज की गई।

जकरबर्ग ने कहा, ‘‘2015 फेसबुक के लिए बेहतरीन साल रहा। हमारे समुदाय का आकार लगातार बढ़ता जा रहा है और हमारे कारोबार का प्रदर्शन भी बेहतरीन है।’’

लंदन:-विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे ने कहा है कि यदि संयुक्त राष्ट्र पैनल यह फैसला सुनाता है कि उन्हें मनमाने ढंग से हिरासत में नहीं लिया गया तो वह शुक्रवार को स्वयं को ब्रिटेन की पुलिस के हवाले कर देंगे।

असांजे ने गुरुवार को एक बयान में कहा, यदि संयुक्त राष्ट्र कल घोषणा कर देता है कि वह ब्रिटेन और स्वीडन के खिलाफ मामला हार गए हैं तो वे ब्रिटिश पुलिस द्वारा गिरफ्तारी स्वीकारी करके शुक्रवार दोपहर को दूतावास से बाहर आ जाएंगे क्योंकि आगे अपील की कोई सार्थक संभावना नहीं है।

उन्होंने कहा, लेकिन यदि वह जीत जाते हैं और देश पक्षों को गैर कानूनी रूप से कदम उठाने का दोषी पाया जाता है, तो वह उम्मीद करते हैं कि उनका पासपोर्ट तत्काल लौटा दिया जाएगा और उनको गिरफ्तार करने की आगामी कोशिशें रोक दी जाएंगी।

असांजे पिछले तीन साल से पश्चिमी लंदन में इक्वाडोर के दूतावास में छिपे हैं ताकि उन पर लगाए गए बलात्कार के आरोपों को लेकर उन्हें स्वीडन प्रत्यर्पित नहीं किया जा सके। असांजे ने इन आरोपों से इनकार किया है।

विकीलीक्स के ऑस्ट्रेलियाई संस्थापक को डर है कि उन्हें बाद में अमेरिका प्रत्यर्पित किया जा सकता है ताकि उनके खिलाफ कई गोपनीय सैन्य एवं राजनयिक दस्तावेज लीक करने के संबंध में मामला चलाया जा सके।

उन्होंने सितंबर 2014 में स्वीडन और ब्रिटेन के खिलाफ यूएन वर्किंग ग्रुप ऑन आर्बिट्रेरी डिटेंशन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराकर दावा किया था कि उनका दूतावास में रहना उन्हें अवैध हिरासत में रखने के बराबर है।

समूह का कोई भी निर्णय मानना कानूनी रूप से बाध्य नहीं होगा लेकिन ऐसा बताया जाता है कि उसके फैसलों के आधार पर अतीत में भी अन्य लोगों को रिहा किया गया है।

 

जेनेवा:-सीरिया मामले को लेकर संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता में जेनेवा में चल रही शांति वार्ता फिलहाल स्थगित कर दी गयी है।

सीरिया में पिछले पांच साल से चल रहे गृहयुद्ध से पैदा हुई अशांति को लेकर संयुक्त राष्ट्र की अगुवाई में जेनेवा में शांति वार्ता शुरू की गयी थी लेकिन अब इसे 25 फरवरी तक के लिये स्थगित कर दिया गया है।

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत स्टीफन डे मिस्तूरा ने वार्ता के स्थगन की जानकारी देते हुये कहा कि शांति वार्ता में चल रही प्रगति काफी धीमी रही है और विपक्षी गुटों में आपसी विश्वास नहीं बन पा रहा है। उनके बीच जारी गतिरोध अभी भी जारी है और वार्ता की सफलता के लिये पहले कुछ अहम मुद्दों पर प्रयास करने होंगे।

उन्होंने कहा शांतिवार्ता का पहले चरण को पूरी तरह असफल नहीं कहा जा सकता। इसमें प्रगति संभव थी लेकिन सीरियाई सरकार और रूसी गठबंधन वाली सेनाओं के अलेप्पो में हुये हमलों ने विपक्षी गुटों को वार्ता से दूर जाने का अवसर दे दिया है। कुछ अहम मुद्दों पर काम करने के बाद यह वार्ता फिर से 25 फरवरी को शुरू की जायेगी।

उल्लेखनीय है कि सीरियाई सरकार और रूस के अलेप्पो शहर में किये गये हवाई हमलों से सीरिया मे विपक्षी गुट काफी नाराज है और उसने इन हमलों की आलोचना की है।

वाशिंगटन:-अमेरिकी चुनाव में बढ़ रही मुस्लिम विरोधी बयानबाजियों के बीच अपने कार्यकाल के दौरान बुधवार को पहली बार मस्जिद पहुंचे राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि इस्लाम पर हमला करना सभी धर्मों पर हमला करने जैसा है।

अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिये प्रचार के दौरान रिपब्लिकन पार्टी से उम्मीदवारी पेश कर रहे डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले दिनों मुस्लिम विरोधी बयान देते हुये कहा था कि अमेरिका में मुसलमानों के प्रवेश पर रोक लगा देना चाहिये। ट्रंप के इस बयान की बाद में काफी आलोचना हुयी थी।

ओबामा वाशिंगटन के निकट बाल्टीमोर स्थित एक मस्जिद पहुंचे थे। उन्होंने यहां संवाददाताओं से बातचीत में मुस्लिम विरोधी बयानों की कड़े शब्दों में निंदा करते हुये कहा,‘‘सभी धर्मों की तरह इस्लाम का भी महत्व है और इस पर हमला करना हमारे लिये सभी धर्मों के खिलाफ हमला करना जैसा है। इस प्रकार का आचरण सर्वथा अनुचित है और इसके खिलाफ आचाज उठाना हमारा दायित्व है।’’

अपनी मस्जिद यात्रा के दौरान ओबामा ने कभी मस्जिद न आये सभी मजहब के लोगों से आग्रह करते हुये कहा कि वे यहां आयें। वो यहां आकर महसूस करेंगे कि यह उनके धर्मस्थल जैसा ही है जहां लोग आते हैं और ईश्वर के प्रति अपना स्नेह व्यक्त करते हैं। उन्हें यहां आकर वैसी ही अनुभूति होगी जैसी वे अपने -अपने मजहब के धर्मस्थलों में करते हैं।

ओबामा ने मेरीलैंड में ‘इस्लामिक सोसाइटी ऑफ बाल्टीमोर’ में अपने संबोधन के दौरान कहा, ‘‘हमने मुसलमान अमेरिकी नागरिकों के खिलाफ अक्षम्य राजनीतिक बयानबाजी सुनी है, जिसका देश में कोई स्थान नहीं है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आपने अक्सर देखा होगा कि आतंकवाद के घिनौने कारनामों के लिए एक ही समुदाय के लोगों पर शक किया जाता है।’’

उन्होंने आगे कहा कि 9/11 हमले के बाद मुसलमानों के खिलाफ बयानबाजी शुरू हुई लेकिन पेरिस और कैलिफोर्निया के सैन बर्नार्डिनो में आतंकवादी हमलों के बाद इसमें इजाफा हुआ है।

ओबामा ने कहा, ‘‘हमने बच्चों को डराते-धमकाते, मस्जिदों को ध्वस्त करते हुए देखा है। हम क्या कर रहे हैं, हम ये नहीं हैं।’’

ओबामा ने हालांकि इन कृत्यों के लिए किसी का नाम नहीं लिया लेकिन व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जोस अर्नेस्ट ने मगंलवार को इस संदर्भ में कुछ रिपब्लिकन सांसदों पर चुटकी जरूर ली थी।

 

 

यरूशलम:-अमेरिका में विमानों के जरिए हमले करने का विचार ओसामा बिन लादेन के दिमाग में 1999 में हुए मिस्र में एक विमान के उस हादसे से आया था जिसमें पायलट ने जानबूकर अपना विमान अटलांटिक महासागर में गिरा दिया था।

अलकायदा ने अपनी ऑनलाइन पत्रिका अल-मसरा में यह कहा है कि 11 सितंबर, 2001 के हमले का विचार मिस्र के सह-पायलट कामिल अल बतूती की कहानी से सूझा था। कामिल ने इजिप्ट एयर के विमान को समुद्र में गिरा दिया था। इस घटना में 217 लोग मारे गए थे जिनमें 100 अमेरिकी शामिल थे। यह विमान लॉस एंजिलिस से काहिरा जा रहा था।

उसने कहा कि जब संगठन के सरगना ओसामा ने मिस्र के इस विमान हादसे के बारे में सुना तो उसने सवाल किया, उसने निकट की किसी इमारत में विमान को क्यों नहीं टकराया?

समाचार पत्र यरूशलम पोस्ट के अनुसार कामिल बलूती ने यह हरकत क्यों की थी इसको लेकर उस वक्त बहुत अटकलें लगीं। आतंकवाद के पहलू को भी देखा गया। बाद में यह कहा गया था कि कामिल ने अपनी कंपनी की ओर से अपने खिलाफ की गई अनुशासनात्मक कार्रवाई का बदला लेने के लिए यह आत्मघाती कदम उठाया।

वैसे ओसामा को इस घटना के पीछे की वजह से कोई लेनादेना नहीं था। उसका इरादा इसी घटना की तर्ज पर अमेरिका को दहलाने का था और उसने यहीं से अमेरिका पर विमानों के जरिए हमले करने की योजना पर काम शुरू कर दिया।

 

मोगादिशु:-सोमालिया की राजधानी मोगादिशू से जिबूती जा रहे एक यात्री विमान में 14,000 फीट की ऊंचाई पर विस्फोट के कारण हड़कंप मच गया। हालांकि, पायलट ने विमान को सुरक्षित जमीन पर उतार लिया। विमान में 74 यात्री सवार थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कम तीव्रता के इस विस्फोट से विमान में बड़ा सुराख हो गया और बुरी तरह झुलसा एक पैसेंजर इस सुराख से बाहर गिर गया। डालो एयरलाइंस के…
इस्लामाबाद:-शहीद भगत सिंह को निर्दोष साबित करने वाली याचिका पर बुधवार को सुनवाई शुरू हुई। लाहौर की अदालत ने कहा कि भगत सिंह को सजा तीन सदस्यीय खंडपीठ ने दी थी इसलिए अब दो सदस्यीय खंडपीठ इस मामले की सुनवाई नहीं कर सकती है। तुरंत निपटाने को कहा: लाहौर उच्च न्यायालय के जस्टिस खालिद महमूद और जस्टिस शाहिद बिलाल हसन की अध्यक्षता में दो सदस्यीय खंडपीठ ने याचिका पर सुनवाई…
बीजिंग:-चीन के सिचुआन प्रांत में प्रशासन ने दुकानदारों से तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के चित्र जब्त करना शुरू किया है। देश में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के नजदीकी माने जाने वाले अखबार 'ग्लोबल टाइम्स' ने यह जानकारी दी है। अखबार के मुताबिक, सिचुआन प्रशासन ने दुकानदारों को आदेश दिया है कि वे दलाई लामा के चित्र अधिकारियों को सौंप दें। इस मुहिम को लागू करने के लिए सांस्कृतिक ब्यूरो के कर्मियों,…
वाशिंगटन:-यूरोपीय संघ में ब्रिटेन की सदस्यता पर छिड़ी बहस के बीच अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से कहा कि 28 देशों के इस समूह के भीतर उनके देश के हित बेहतर तरीके से पूरे हो सकते हैं। व्हाइट हाउस के अनुसार, ओबामा ने कैमरन से फोन पर बात की और एक मजबूत यूरोपीय संघ में मजबूत ब्रिटेन के लिए अमेरिका के जारी समर्थन की…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें