दुनिया

दुनिया (4047)

 

संयुक्त राष्ट्र - संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट की मानें तो करीब 48 लाख भारतीय विदेश में बसने की तैयारी में हैं। इनमें से 35 लाख लोग ऐसे हैं, जो अपनी योजना बना चुके हैं जबकि 13 लाख भारतीय विदेश जाने का सपना आंखों में लिए तैयारियों में जुटे हुए हैं। संयुक्त राष्ट्र की प्रवासन एजेंसी अंतरराष्ट्रीय प्रवास संगठन (आईओएम) की रिपोर्ट भारत के लिए खतरे की घंटी है।
इस रिपोर्ट के अनुसार भारत उन देशों में दूसरे नंबर पर है, जहां वयस्क किसी दूसरे देश में बसने की योजना बना रहे हैं। 51 लाख लोगों के साथ नाइजीरिया इस मामले में पहले नंबर पर है। आईओएम की रिपोर्ट के मुताबिक 1.3 फीसदी या 6.60 करोड़ लोग अगले 12 महीने में स्थायी तौर पर दूसरे देश में बसने की योजना बना रहे थे। यह रिपोर्ट 2010-2015 के बीच दुनियाभर के लोगों की योजना के आधार पर तैयार की गई है। यह अध्ययन ‘गैलप वर्ल्ड पोल’ द्वारा जुटाए गए अंतरराष्ट्रीय आंकड़ों पर आधारित है। अध्ययनकर्ताओं का यह भी मानना है कि वास्तविक आंकड़े इससे अलग हो सकते हैं।
अमेरिका-ब्रिटेन सबसे लोकप्रिय
सिर्फ भारतीयों के लिए ही नहीं बल्कि अन्य देशों के वयस्कों के लिए भी पहली पसंद अमेरिका और ब्रिटेन है। इन देशों के बाद लोग सऊदी अरब, फ्रांस, कनाडा, जर्मनी और दक्षिण अफ्रीका में बसना पसंद करते हैं।
आधी आबादी सिर्फ 20 देशों से
किसी दूसरे देश में बसने की योजना बनाने वालों में से आधे लोग सिर्फ 20 देशों में रहते हैं। इसमें पहले नबंर पर नाइजीरिया और दूसरे नंबर पर भारत है। इसके बाद कांगो, सूडान, बांग्लादेश और चीन का नंबर आता है। पश्चिम अफ्रीका, दक्षिण एशिया और उत्तर अफ्रीका ऐसे क्षेत्र हैं, जहां सबसे अधिक लोगों के प्रवास करने की संभावना है।
योजना बनाने वालों में पुरुष ज्यादा
दूसरे देशों में बसने की योजना बनाने वाले ज्यादातर लोगों में पुरुष, युवा, अविवाहित, ग्रामीण इलाकों में रहने वाले और कम से कम माध्यमिक शिक्षा हासिल करने वाले वयस्क हैं।
हर तीसरा व्यक्ति बना रहा योजना
रिपोर्ट के अनुसार विकासशील देशों में हर तीसरा व्यक्ति विदेश में बसने की चाहत रखता है। आंकड़ों की मानें तो करीब 2.3 करोड़ लोग गंभीरता से इस तैयारी में लगे हुए हैं।

 

वाशिंगटन - आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) की अफगानिस्तान शाखा के प्रमुख अबू सईद को अमेरिकी सुरक्षा बलों ने मार गिराया है। अमेरिकी बलों को यह सफलता अफगानिस्तान के कुनार प्रांत में स्थित संगठन के मुख्यालय पर हमले में मिली। यह जानकारी अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने दी है।
आइएस ने अबू सईद को खोरसान प्रांत का अमीर घोषित किया था। आइएस के नक्शे में अफगानिस्तान को खोरसान प्रांत के अंतर्गत रखा गया है। यहीं के कुनार प्रांत में आइएस ने अपना मुख्यालय बना रखा था। इस मुख्यालय पर अमेरिकी सुरक्षा बलों ने 11 जुलाई को कार्रवाई की थी। कार्रवाई में अबू सईद के अलावा कई और आतंकी भी मारे गए। साल भर में यह तीसरा मौका है जब सुरक्षा बलों की कार्रवाई में आइएस के अफगानिस्तान के प्रमुख को जान गंवानी पड़ी है।
अबू सईद से पहले सुरक्षा बलों ने हाफिज सईद खान और अब्दुल हसीब को मारा था। अफगानिस्तान में आइएस अपना आधार बढ़ाने की लगातार कोशिश कर रहा है। उसने तालिबान के असंतुष्ट गुट को साथ लेकर अपनी ताकत बढ़ाई है। अमेरिकी सुरक्षा बलों ने अफगानिस्तान में आइएस के खिलाफ मार्च 2017 में अभियान छेड़ा था। उसी के तहत सबसे बड़ा गैर परमाणविक बम डाला गया था जिससे 95 आतंकी मारे गए थे।

 

वाशिंगटन - पेंटागन के प्रमुख जिम मैटिस ने कहा है कि इस्लामिक स्टेट (आइएस) सरगना अबू बकर अल-बगदादी मारा गया है या नहीं इसकी वह पुष्टि नहीं कर सकते हैं। सीरिया से जेहादियों के नेता के मारे जाने की खबर आने के बाद पेंटागन प्रमुख ने यह टिप्पणी की।
मैटिस ने कहा, 'यदि हमें मालूम होगा तो हम आपको बताएंगे। अभी मैं न तो इसकी पुष्टि कर सकता हूं न ही इससे इन्कार कर सकता हूं। जब तक पुष्टि नहीं हो जाती है हम यही मानकर चलेंगे कि वह जिंदा है। अभी किसी सूरत में हम इसे किसी भी तरह साबित नहीं कर सकते।'
ब्रिटेन स्थित सीरियाई मानवाधिकार निगरानी संगठन ने इस सप्ताह के शुरू में कहा था कि उसे बगदादी के मारे जाने की जानकारी मिली है। संगठन ने कहा कि सीरिया के डेइर एजोर प्रांत में आइएस के वरिष्ठ नेता से यह जानकारी मिली है। आइएस संचालित सोशल मीडिया पर इसकी पुष्टि या खंडन नहीं किया गया है।
मैटिस ने कहा कि जब तक वह दुनिया से नहीं जाता तबतक हम नहीं हारेंगे। हाल के महीनों में इस बात की अफवाहें उड़ती रही हैं कि बगदादी मारा जा चुका है। मोसुल की अल नूरी मस्जिद में 2014 में खलीफा के रूप में सामने आने के बाद से 46 वर्षीय इराकी कभी नजर नहीं आया है।

 

नई दिल्ली - हमारे देश में नागों की पूजा की जाती है। भविष्य पुराण की मानें तो सावन महीने की कृष्ण और शुक्ल पक्ष की पंचमी नाग देवता को समर्पित है। शुक्ल पक्ष की नागपंचमी 27 जुलाई को है, इस दिन नाग देवता की पूजा की जाती है। लेकिन आपको बता दें कि इटली में भी सांपों को लेकर स्नैक फेस्टिवल मई में मनाया जाता है।
यहां हर साल मई में सेंट डोमिनीको की मूर्ति के आस-पास सांप लपेटे जाते हैं और मध्य इटली में पूरा कार्यक्रम आयोजित किया जाता है।
यहां हर साल मई में सेंट डॉमिनिको की मूर्ति के आस-पास सांप लपेटे जाते हैं। सेंट डॉमिनिको नाम के एक ‘बेनडिक्टाइन मॉन्क थे। ये जहरीले सांपों के इलाज के लिए जाने जाते थे। ये 10वीं और 11वीं शताब्दी की बात थी। आपको बता दें कि इटली में उस समय काफी जहरीले सांप पाए जाते थे और इनसे कई लोगों की मौत हो जाती थी।
सेंट डॉमिनिकी की मूर्ति पर लदे हुए सांपों में एक भी सांप जहरीला नहीं होता औऱ लोग भी जो अपने ऊपर सांप लपटते हैं वो भी सभी बिना जहर के सांप होते हैं।

 

 

पेरिस - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पेरिस की अपनी पहली आधिकारिक यात्रा के दौरान प्रथम फ्रांसीसी महिला ब्रिजिट मैक्रों की खूबसूरती और आकर्षक फिगर की प्रशंसा करते हुए कहा, “आपकी फिगर बेहद अच्छी है।” ट्रंप ने गुरुवार को फ्रांसीसी राष्ट्रपति की पत्नी से कहा, “आपकी फिगर बेहद अच्छी है। खूबसूरत।” ब्रिजिट के पास ही प्रथम अमेरिकी महिला मेलनिया ट्रंप भी खड़ी थीं।
सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, इससे पहले पेरिस में स्वागत समारोह के दौरान ट्रंप और ब्रिजिट मैक्रों ने एक-दूसरे के साथ झिझकते हुए हाथ मिलाया। गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, सोशल मीडिया पर कई लोगों ने ट्रंप की टिप्पणी को 'सेक्सिस्ट' करार देते हुए उसकी निंदा की है। फ्रीलांस वीडियो प्रोड्यूसर और नारीवादी व लैंगिक मुद्दों पर लिखने वाले लेखक ऐलेक्स बर्ग ने ट्विटर पर लिखा, “ट्रंप का फ्रांस की प्रथम महिला को कहना, 'आपकी फिगर बहुत अच्छी है', प्रशंसा और यौन दुर्व्यवहार के बीच के फर्क को भूलने वाले पुरुषों का उदाहरण है।”
वहीं, डॉक्यूमेंटरी निमार्ता और अभिनेत्री जेन सीबेल न्यूसम ने ट्वीट किया, “मिस्टर ट्रंप - महिलाएं अपने शरीरों को लेकर आपकी अनचाही टिप्पणियां नहीं सुनना चाहतीं। यह बेहद अनुचित है।” व्हाइट हाउस ने हालांकि, इस मुद्दे पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार किया है।

 

पेरिस, वाशिंगटन - अमेरिका में गत वर्ष हुए राष्ट्रपति चुनाव के दौरान अपने चुनावी अभियान के रूस से कथित संबंधों को लेकर आलोचना का सामना कर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को व्हाइट हाउस आने का निमंत्रण देंगे। हालांकि ट्रंप ने ये भी कहा कि अभी उसके लिए उपयुक्त समय नहीं है।
अमेरिका में गत वर्ष हुए राष्ट्रपति चुनाव में कथित रूसी हस्तेक्षप को लेकर ट्रम्प की आलोचना होती रही है। जर्मनी के हैम्बर्ग शहर में गत सप्ताह संपन्न हुए जी-20 सम्मेलन के दौरान ट्रम्प और पुतिन के बीच पहली बार मुलाकात हुई। बैठक के दौरान ट्रम्प की ओर से पुतिन के सामने कथित रूसी हस्तक्षेप का मुद्दा नहीं उठाने को लेकर डेमोक्रेटिक पार्टी ने रिपब्लिकन राष्ट्रपति ट्रम्प की कड़ी आलोचना भी की थी। हालांकि, रूस ने इन आरोपों से इंकार किया है।
गौरतलब है कि ट्रम्प के बेटे डोनाल्ड ट्रम्प जूनियर हिलेरी क्लिंटन के विषय में जानकारी को लेकर चुनाव प्रचार के दौरान एक रूसी वकील से मिले थे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने सबसे बड़े बेटे डोनाल्ड ट्रम्प जूनियर का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें इस विषय में पहले कोई जानकारी नहीं थी। ट्रम्प ने कहा कि वह सीरिया समेत कई अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर रूस के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं। इसलिए पुतिन को व्हाइट हाउस आने का निमंत्रण देंगे।

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नई दिल्ली - अफगानिस्तान की छह युवतियों का विज्ञान के क्षेत्र में परचम बुलंद करने का सपना अब पूरा हो जाएगा। अमेरिका में अंतरराष्ट्रीय रोबोटिक प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेने के लिए दो बार वीजा न मिलने से जो आंखें भर आई थी, उनसे अब खुशी की आंसू निकले हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दखल के बाद इन लड़कियों को वीजा की अनुमति मिली। लड़कियों का…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नई दिल्ली - चीन के विद्रोही नेता एवं नोबेल शांति पुरस्कार विजेता लियू शियाओबो का लंबी बीमारी के बाद चीन के शेनयांग शहर में निधन हो गया। वह 61 वर्ष के थे। लियू का इलाज कर रहे अस्पताल ने बयान जारी करके बताया कि लीवर कैंसर के अंतिम चरण में पहुंच जाने के कारण उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। इसके…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); मेक्सिको सिटी - उत्तरी अमेरिकी देश मेक्सिको के तिजायूका शहर में आज कुछ अज्ञात बंदूकधारियों ने बच्चों की एक जन्मदिन पार्टी पर गोलियां चलाईं, जिसमें 11 लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि घटनास्थल से तीन बच्चे जीवित मिले हैं, लेकिन पार्टी में मौजूद सभी 11 वयस्कों की गोलियां लगने से मौत हो गई है। तिजायूका शहर के एक रिहायशी इलाके में कुछ…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नई दिल्ली - मिनेसोटा की रहने वाली 26 वर्षीय मॉडल Sara Geurts जब 10 साल की थी तभी से उनको एक त्वचा का रोग हो गया था। जिसका नाम है एहलर्स-डानलोस सिंड्रोम। इस सिंड्रोम में शरीर की कोलेजन उत्पन्न करने की क्षमता रुक जाती है। जिसकी वजह से सारा की त्वचा में समय से पहले इतनी झुर्रियां दिखाई देती है। सारा का कहना है कि…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें