दुनिया

दुनिया (3632)

टूथपेस्ट के विज्ञापनों में आपने दांतों को मजबूत करने के बहुत से नुस्खे सुने होंगे। लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं ऐसे युवक के बारे में जो दांतों से ईंटे उठा लेता है। जी हां पाकिस्तान का 21 साल का ताहिर अपने दांतों से 6 ईंटे उठा लेता है। ताहिर इसके लिए अपने हाथों और किसी की मदद भी नहीं लेता है।दरअसल पाकिस्तान के रसूल नगर का रहने वाला है और उसका ईंटों को दांतों से उठाते हुए संतुलन काफी मुश्किल है। उसे इस स्टंट ने न केवल उसे उसकी कॉलोनी में सुपरस्टार बना दिया है बल्कि सोशल मीडिया पर भी उसकी खूब तारीफ हो रही है। ताहिर मजदूरी करता है और उसका यह वीडियो उसके एक दोस्त अपलोड कर दिया। तभी से सोशल मीडिया पर यह बहुत शेयर किया जा रहा है।

 

उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन जिस तरह से हर काम पर अड़ियल रुख अपनाता है और हर फैसले पर अडिग रहता उससे माना जा रहा है कि वह दुनिया का अगला हिटलर साबित हो सकता है।किम जोंग की सनक और खौफनाक कारनामों के किस्से मशहूर हैं। वह एक ऐसा तानाशाह है जो अपने सगे-संबंधियों पर भी रहम नहीं करता। किसी को मौत देना उसके लिए लिए सबसे छोटा काम है।
1 -फूफा को 120 शिकारी कुत्तों के सामने फेंकवाया:-किम जोंग ने साल 2013 में अपने सगे फूफा को बेरहमी से मरवा दिया था। उसने अपने फूफा को खूंखार कुत्तों के सामने डलवा दिया था। 120 शिकारी कुत्तों ने किम के फूफा जेंग सेंग को नोच नोच कर मारडाला था।बताया जा रहा कि जिस फूफा को सनकी तानाशाह ने मरवा दिया उसी ने उसे सियासत की बारीकियां सिखाई थीं। लेकिन किम जोंग को लगने लगा था कि फूफा का प्रभाव उससे ज्यादा हो रहा है तो उसने फूफा पर कुछ आरोप लगाकर उसे उसकी हत्या करा दी।
2 - बुआ को दिया जहर:-किम जोंग की बुआ ने जब अपने पति की मौत पर सवाल उठाया तो उसे भी जहर दिला दिया गया। इसके बाद बताया गया कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है। 2015 में कोरिया भागे एक अफसर ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा था कि जोंग ने अपनी बुआ की हत्या करा दी थी।
3 - झपकी लेने में सेना प्रमुख को मरवाया:-किम जोंग को फरमान पर आनाकानी पसंद नहीं है, क्योंकि ऐसा करने वाले को सिर्फ सजा-ए-मौत होती है। तानाशाह के बार किम जोंग ने उत्तर कोरिया के रक्षा प्रमुख ह्योंग योंग तोप से उड़वा दिया था। उनकी गलती सिर्फ इतनी थी कि उन्होंने किम जोंग की एक मीटिंग में झपकी लेने की हिमाकत कर दी थी।
4- नहीं रोने पर होती है सजा ए मौत:-कहा जाता है कि किंम जोंग के पिता की जब मौत हुई तो ऐलान किया गया कि अंतिम संस्कार में मौजूद हर किसी को रोना होगा। लेकिन जिन लोगों के मौके पर आंसू नहीं आए उन्होंने उन्हें सजा ए मौत मिली। शोक नहीं वाले लोगों को गिरफ्तार किया गया और गोली मार दी गई।
5 - स्कूल में अश्लील साहित्य पढ़ते हुए मिला:-कहा जाता है कि किंग जोंग ने स्विटजरलैंड के इंटरनेशनल स्कूल ऑफ बर्न में दूसरे नाम से पढ़ाई की। स्कूल में वह काफी कमजोर छात्र था। कहा जाता था कि उसकी सोहबत ठीक नहीं थी। एक बार तो स्कूल में उसे पोर्न मैगजीन छुपाते हुए पकड़ा गया।
6 - सनक में लेता है कोई भी फैसला:-किम जोंग उन को सबसे सनकी तानाशाह बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि 2015 में साउथ कोरिया में बार्डर पर लाउडस्पीकर लगाकर अपना प्रोपेगंडा लोगों को सुनाना शुरू किया था। इस पर किम जोंग उन बौखला गया और सीमा पर अपने सैनिक भेज दिया। किम जोंग ने ऐलान किया कि अगर साउथ कोरिया ने लाउड स्पीकर नहीं बंद किए तो उसकी सेना हमला कर देगी। इसके बाद बड़ी मशक्कत से दोनों देशों का विवाद सुलझा था।
7- खुद को भगवान बताता है तानाशाह:-उत्तरी कोरिया का तानाशाह किम जोंग खुद को भगवान के रूप में पेश करता है। वह अपने देश के नागरिकों के बीच ऐसे तथ्य पेश करता है जिसे लोग उसे भगवान मानने लगें।

अमेरिका उत्तर कोरिया को फिर से आतंकी देश घोषित कर सकता है। अमेरिका का डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन फिलहाल इस मुद्दे पर विचार कर रहा है। विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने बुधवार को कहा, ट्रंप प्रशासन अभी इस बात की समीक्षा कर रहा है कि उत्तर कोरिया को आतंकवाद को प्रायोजित करने वाले देशों की सूची में फिर से शामिल करना चाहिए या नहीं। उन्होंने कहा, अमेरिका उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ फिर से वार्ता करना चाहता है। लेकिन यह वार्ता पहले हुई बातचीत जैसी नहीं होगी। यह उससे अलग तरीके से होगी।टिलरसन ने कहा, हम उत्तर कोरिया को सही रास्ते पर लाने की कोशिश में सभी तरीकों की समीक्षा कर रहे हैं। आतंकवाद प्रायोजित देशों की सूची में शामिल करना एक तरीका है। साथ ही दूसरे तरीके भी हैं, जिनके जरिये हम प्योंगयांग की सरकार पर वार्ता के लिए दबाव बना सकते हैं। लेकिन यह बातचीत पहले हुई वार्ताओं से अलग तरीके से होगी।अमेरिका उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को लेकर सशंकित है। प्योंगयांग के परमाणु कार्यक्रम से न केवल कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव और असुरक्षा बढ़ने का खतरा है, बल्कि इसको अमेरिका अपने लिए भी खतरा मानता है। इसी कारण वह उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को बंद कराना चाहता है। वह सैन्य विकल्प आजमाने की बात पहले ही कह चुका है।
चीन की कोशिश को सराहा:-व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने बुधवार को कहा कि उत्तर कोरिया को नियंत्रित करने के लिए बीजिंग अपने राजनीतिक और आर्थिक प्रभावों का उपयोग कर रहा है। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने बुधवार को कहा, उत्तर कोरिया को नियंत्रित करने के प्रयास में चीन को आगे बढ़ते देखना और उसका हमारे साथ शामिल होना उत्साहजनक है। राष्ट्रपति ट्रंप और उनके चीनी समकक्ष शी जिनपिंग ने बीच हाल में विकसित संबंधों ने निश्चित रूप से सकारात्मक संकेत दिए हैं।स्पाइसर ने कहा, चीन उत्तर कोरिया पर आर्थिक और राजनीतिक दोनों प्रभाव का इस्तेमाल कर रहा है। इस मामले में उसे बड़ी भूमिका निभाते हुए देखना सकारात्मक संकेत है। हालांकि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि चीन किस सीमा तक कार्रवाई करता है।

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट की ओर से 3-2 से दिए गए एक बंटे हुए फैसले के कारण प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अपनी कुर्सी बचाने में आज कामयाब रहे। पीठ ने कहा कि शरीफ को प्रधानमंत्री पद से हटाने के नाकाफी सबूत हैं। हालांकि, पीठ ने एक हफ्ते के भीतर एक संयुक्त जांच टीम (जेआईटी) गठित करने का आदेश दिया ताकि शरीफ के परिवार के खिलाफ धनशोधन के आरोपों की जांच की जा सके।सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि 67 साल के शरीफ और उनके दो बेटे - हसन एवं हुसैन - जेआईटी के सामने पेश हों। जेआईटी में फेडरल जांच एजेंसी (एफआईए), राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी), पाकिस्तान सुरक्षा एवं विनिमय आयोग (एसईसीपी), इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) और मिलिट्री इंटेलिजेंस (एमआई) के अधिकारी शामिल किए जाएंगे।जेआईटी को जांच पूरी करने के लिए दो महीने का वक्त दिया गया है। हर दो हफ्ते के बाद जेआईटी पीठ के समक्ष अपनी रिपोर्ट देगी और 60 दिनों में अपना काम पूरा करेगी। न्यायमूर्ति आसिफ सईद खोसा, न्यायमूर्ति गुलजार अहमद, न्यायमूर्ति एजाज अफजल खान, न्यायमूर्ति अजमत सईद और न्यायमूर्ति इजाजुल अहसन की पांच सदस्यीय पीठ ने सुनवाई संपन्न करने के 57 दिन बाद 547 पन्नों का ऐतिहासिक फैसला जारी किया।न्यायमूर्ति एजाज अफजल, न्यायमूर्ति अजमत सईद और न्यायमूर्ति इजाजुल अहसन ने बहुमत वाला फैसला लिखा जबकि न्यायमूर्ति गुलजार एवं न्यायमूर्ति खोसा ने अपनी असहमति के नोट में कहा कि वे याचिकाकतार्ओं की मांग के मुताबिक प्रधानमंत्री को हटाना चाहते हैं। यह मामला तीन नवंबर को शुरू हुआ था और कोर्ट ने 23 फरवरी को कार्यवाही खत्म करने से पहले 35 सुनवाई की।यह मामला शरीफ की ओर से 1990 के दशक में कथित धनशोधन से जुड़ा है, जब वह दो बार प्रधानमंत्री के तौर पर सेवाएं दे चुके थे।शरीफ की लंदन वाली संपत्ति उस वक्त सामने आई जब पनामा पेपर्स में पिछले साल दिखाया गया कि शरीफ के बेटों की मालिकाना हक वाली विदेशी कंपनियों के जरिए इनका प्रबंधन किया जाता था। विभिन्न याचिकाकर्ताओं - पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान, जमात-ए-इस्लामी अमीर सिराजुल हक और शेख राशिद अहमद - ने पांच अप्रैल को उनकी ओर से राष्ट्र को संबोधित किए जाने के दौरान और 16 मई 2016 को नेशनल असेंबली के समक्ष उनकी ओर से दिए गए भाषण में कथित गलतबयानी के मुद्दे पर प्रधानमंत्री पद से उन्हें अयोग्य करार देने की मांग की थी।

 

ऑस्ट्रेलिया ने बेरोजगारी से निपटने के लिए 95 हजार से अधिक अस्थायी विदेश कर्मचारियों द्वारा उपयोग किए जा रहे वीजा कार्यक्रम को समाप्त कर दिया है। इससे पहले अमेरिका ने एच1बी वीजा नियमों में बदलाव किया था। ये वीजा विदेशी पेशेवरों के लिए जारी किया जाता है जो ऐसे खास कार्य में कुशल होते हैं। अमेरिका हर साल करीब 65000 ऐसे वीजा जारी किए जाते हैं। अमेरिका के इस फैसले से अमेरिका में भारतीय बेरोजगारों की संख्या में दस गुना से ज्यादा वृद्धि हुई है। वहीं नीति आयोग के अमिताभ कांत ने कहा कि अमेरिका में साइंस, तकनीकी और इंजीनियरिंग के क्षेत्रों में दक्ष लोगों की भारी कमी है और इस जगह को भरने में उसे वर्षों लगेंगे।
- दिसंबर 2016 तक अमेरिका में रहने वाले 600 भारतीयों को नौकरी की जरूरत थी लेकिन मार्च 2017 तक भारतीय बेरोजगारों की संख्या 7000 तक पहुंच गई है। ये डेलाइट विश्लेषण का सर्वे है।
- ट्रंप की वीजा नीति में बदलाव के चलते HIB वीजा के आवेदन में भी भारी गिरावट आई है। पिछले साल 236000 लोगों ने आवेदन किया था और इस साल ये घटकर सिर्फ 199000 रह गई है।
-2014 में 86 फीसदी H-1B वीज़ा कंप्यूटर से जुड़े पेशेवर भारतीयों की झोली में आए थे।
- 2015 के अमेरिकी वित्तीय वर्ष के आंकड़ों पर नजर डालें, तो कुल H-1B वीज़ा में से 70 फीसदी भारतीयों की झोली में गया।
- पारंपरिक टेक कंपनियों की तुलना में आउटसोर्सिंग कंपनियों को वीज़ा जारी करने में ज्यादा तरजीह दी जाती है।
- भारत की विप्रो, टाटा, इंफोसिस, टेक महिंद्रा जैसी कंपनियां यूरोप, अमेरिका और कई अन्य देशों की कंपनियों के टेक्नॉलजी सिस्टम्स का प्रबंधन करती हैं।
- ज्यादातर कंपनियां टेक नौकरियों में नियुक्ति के लिए वर्क वीजा का सहारा लेती हैं।
- 2016 वित्तीय वर्ष की बात करें, तो सबसे ज्यादा जिन पदों पर भर्तियों की मांग रही, वे हैं कंप्यूटर सिस्टम ऐनालिस्ट्स और सॉफ्टवेयर डिवेलपर्स।
- आउटसोर्सिंग कंपनियां H-1B वीज़ा पर काम करने वाले कर्मचारियों को सालाना 30 से 40 लाख रुपये की तनख्वाह देती हैं। गूगल, माइक्रोसॉफ्ट जैसी कंपनियों की तुलना में यह वेतन काफी कम हैं। ये कंपनियां अपने कर्मचारियों को साढ़े 6 करोड़ या इससे भी ज्यादा की सालाना तनख्वाह देती हैं।

दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के सरगना अबु बकर अल बगदादी को सीरिया में रूस और सीरिया की संयुक्त फोर्स ने पकड़ लिया है। यूरोपियन डिपार्टमेंट फॉर सिक्योरिटी एंड इनफॉर्मेशन (डीईएसआई) ने बताया है कि उनको बगदादी के पकड़े जाने की खुफिया जानकारी मिली है।डीईएसआई के महासचिव के प्रेस कार्यालय ने मंगलवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा था कि ऐसा इसलिए संभव हो पाया है क्योंकि मोसुल पर इराकी सैनिकों के कब्जे के बाद से बगदादी वहां से जाने पर मजबूर हो गया।हालांकि रूस के विदेश मंत्रालय ने बगदादी के पकड़े जाने की किसी भी सूचना से इनकार किया है। मंत्रालय ने कहा है कि उनको इस बारे में न कोई जानकारी मिली है, और न ही कोई स्पष्टीकरण मिला है।वहीं, डीईएसआई के अधिकारी का कहना है कि अगले जिनेवा सम्मेलन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में इस सूचना का इस्तेमाल अमेरिका की विश्वसनीयता को कम करने के लिए कर सकते हैं।

दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा को लेकर भारत के समक्ष कड़ा विरोध दर्ज कराने के कुछ ही दिन बाद चीन ने पहली बार इस राज्य के छह स्थानों के मानकीकृत आधिकारिक नामों की घोषणा कर दी है और पहले से जोखिमपूर्ण चल रही स्थिति को और अधिक नाजुक बना दिया है।सरकारी मीडिया ने कहा है कि इस कदम का उद्देश्य इस राज्य पर चीन के दावे को दोहराना था। चीन…
भारत में 9000 करोड़ रुपये के लोन डिफॉल्टर विजय माल्या को आज लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया। माल्या को धोखाधड़ी के आरोपों में उसके प्रत्यर्पण के भारत सरकार के आग्रह पर गिरफ्तार किया गया। हालांकि वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने उसे कुछ घंटे के बाद जमानत दे दी।शराब कारोबारी माल्या लोन डिफाल्ट के मामले में भारत में वांछित है। उसे तब गिरफ्तार कर लिया गया जब वह आज सुबह मध्य लंदन…
ऑस्ट्रेलिया ने बढ़ती बेरोजगारी से निपटने के लिये 95,000 से अधिक अस्थायी विदेशी कर्मचारियों द्वारा उपयोग किये जा रहे वीजा कार्यक्रम को मंगलवार को समाप्त कर दिया। इन कर्मचारियों में ज्यादातर भारतीय हैं। आपको बता दें कि इससे पहले अमेरिका ने नागरिकता एवं आव्रजन सेवा ने एक नई व्यवस्था दी, जिसके तहत किसी सामान्य कम्प्यूटर प्रोग्रामर को अब विशेषज्ञता-प्राप्त पेशेवर नहीं माना जाएगा जो एच1बी कार्य वीजा के मामले में…
शेरनी की मौत के बाद उसके सात बच्चों को दूसरी बहन द्वारा पालने की दिल छू जाने वाली घटना सामने आई है।ममता में इसानी रिश्तों को भी पीछे छोड़ने की यह घटना साउथ अफ्रीका के टीस्वालू कालाहारी रिजर्व की है। रिजर्व के कर्मचारियों ने लगातार अब्जर्वेशन और के बाद इस दिल छू जाने वाली घटना को कैमरे में कैद किया है।खबर के अनुसार, अगस्त 2016 में किसी बीमारी से शेरनी…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें