दुनिया

दुनिया (2232)


वाशिंगटन - अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनका देश किसी भी संभावित संकट से निपटने के लिए तैयार है क्योंकि सीमाएं सुरक्षित है। ट्रंप ने स्पेन के बार्सिलोना में हुए हमले के बाद ट्वीट कर कहा कि देश की सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद किया गया है और किसी भी संकट के संकेत पर बारीकी नजर है। हमारी सीमाएं पहले से कहीं ज्यादा सुरक्षित हैं।
ट्रंप ने राजोय से समर्थन का किया वादा
ट्रंप ने आज स्पेन के प्रधानमंत्री मरिअनो राजोय से बातचीत की जिसमें उन्होंने बार्सिलोना और कैंब्रिल्स में हुए हमलों की जांच में पूर्ण समर्थन और दोषियों को सजा दिलाने का वादा किया। अमेरिकी राष्ट्रपति कायार्लय व्हाइट हाउस की ओर से जारी एक बयान दोनों नेताओं के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत की पुष्टि की गयी है।
बयान में कहा गया कि ट्रम्प ने राजोय से बातचीत में बार्सिलोना हमले में मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की। उल्लेखनीय है कि स्पेन के बार्सिलोना में गुरुवार को वैन से किए गए हमले में 13 लोगों की मौत हो गई थी और पुलिस कार्रवाई में पांच आतंकवादी मारे गये थे।

 


कैलिफोर्निया - लगभग सभी के पैरों में क्रैंप कभी न कभी आता ही है। कई बार वर्कआउट करते समय या उसके बाद इससे दो चार होना पड़ता है तो कई बार सोते समय क्रैंप से सामना होता है। इस दौरान लोग उसे ठीक करने के बारे में सोचते हैं। लेकिन शायद ही कोई ऐसा होगा जो इस दर्द वाले समय में वीडियो बनाता हो।
हाल ही में अमेरिका के कैलिफोर्निया में रहने वाले एक व्यक्ति के पैर में आए क्रैंप का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। यह शख्स जिम करने के बाद अपनी कार में बैठा हुआ था, जिस समय उसके पैर में क्रैंप आ गया।
यह वीडियो शुरुआती कुछ दिनों में ही 20 मिलियन से अधिक बार देखा जा चुका है। इस दौरान शख्स ने अपना पैर कार के डैशबोर्ड पर रखा था। 52 सेकेंड के इस वीडियो में युवक का क्रैंप डरावना लग रहा है।
वीडियो के सोशल मीडिया पर पोस्ट करते ही यूजर्स तरह तरह के कमेंट कर रहे हैं। कई यूजर्स ने कमेंट किया कि उन्हें यह देखकर डर महसूस हो रहा है।
बता दें कि जिम के बाद क्रैंप से बचने के लिए लोगों को वर्कआउट करते समय और बाद में पानी जरूर पीते रहना चाहिए। इससे क्रैंप से बचा जा सकता है।

 


वॉशिंगटन - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को बार्सिलोना आतंकी हमले की निंदा की। स्पेन की राजधानी बार्सिलोना में हुए आतंकी हमले की निंदा ट्रंप ने एक ट्विटर पर की लेकिन उनकी इस ट्वीट ने एक विवाद खड़ा कर दिया है। राष्ट्रपति ट्रंप ने इस हमले की निंदा करते समय द्वितीय विश्व युद्ध के एक अमेरिकी जनरल की उस बात का जिक्र किया जिसे इतिहासकार मानने से ही इनकार कर देते हैं।
क्या कहा था परशिंग ने
ट्रंप ने अमेरिकी सेना के पूर्व जनरल जॉन जे परशिंग के एक ऐसे बयान का दावा किया जिसमें उन्होंने इस्लामिक हमलों से निबटने के लिए सुअर के खून में गोलियों को डुबाकर उनका प्रयोग करने की बात कही। अमेरिका के इतिहासकार इस बात को पूरी तरह से काल्पनिक करार दे चुके हैं। ट्रंप ने जो ट्वीट किया उसमें उन्होंने लिखा था, 'पढें कि अमेरिका के जनरल परशिंग ने जब आतंकियों को पकड़ा तो उनके साथ क्या किया था? इसके बाद 35 वर्षों तक अमेरिका में किसी भी तरह का चरमपंथी इस्लामिक आतंक नहीं था।' ट्रंप ने जनरल परशिंग के इसी बयान का जिक्र अपने चुनावी अभियान में किया था और उन्हें इसके लिए काफी आलोचना भी सहनी पड़ी थी।
पिछले वर्ष भी किया जिक्र
फरवरी 2016 में ट्रंप ने अपनी एक रैली में सन् 1899-1902 में फिलीपीन-अमेरिकी युद्ध के बाद जनरल परशिंग के रोल पर बोलते समय यह बात कही थी। ट्रंप ने पिछले वर्ष यह दावा तक कर डाला था कि परशिंग ने सन् 1900 की शुरुआत में 49 मुसलमान कैदियों को फांसी की सजा दे दी थी। जहां अमेरिका के इतिहासकार परशिंग के बयान का खंडन करते हैं तो खुद परशिंग ने अपने मेमोयॉर एक कहानी लिखी थी जिसमें आतंकियों को डराने के लिए सुअर के खून में डूबी गोलियों प्रयोग की बात थी। प्रथम विश्व युद्ध के समय जनरल परशिंग अमेरिकी सेना के कमांडर थे।


वाशिंगटन - एशिया प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती हठधर्मिता के बीच अमेरिका और जापान दोनों देश भारत, दक्षिण कोरिया और आस्ट्रेलिया के साथ बहुपक्षीय सुरक्षा और रक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए सहमत हो गए हैं।
अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने कहा कि हम क्षेत्र के अपने अन्य सहयोगियों खासतौर पर कोरिया गणतंत्र, ऑस्ट्रेलिया, भारत तथा अन्य दक्षिणपूर्व एशियाई देशों के साथ दिवपक्षीय और बहुपक्षीय सुरक्षा तथा रक्षा सहयोग बढ़ाने में सहयोग करेंगे। संवादादाता सम्मेलन को जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो और जापानी रक्षा मंत्री इत्सुनोरी ओनोदेरा ने भी संयुक्त रूप से संबोधित किया।
कोनो ने जापानी भाषा में कहा कि आरओके (दक्षिण कोरिया), ऑस्ट्रेलिया, भारत और दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ हम सुरक्षा और रक्षा के क्षेत्र में पहले से ज्यादा सहयोग बढ़ाएंगे। कोनो के संबोधन का अंग्रेजी में अनुवाद किया गया। हाल ही में लांच अमेरिका जापान टू प्लस टू डायलॉग के तहत चार वरिष्ठ अधिकारी संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।
विदेश मंत्रालय के मुख्यालय में कल आयोजित बैठक के दौरान चारों नेताओं ने अन्य मुद्दों के साथ क्षेत्र में चीन की ओर से पेश की जा रही चुनौतियों और भारत सहित अन्य देशों के साथ बहुपक्षीय सहयोग बढ़ाने की जरूरत पर चर्चा की। बैठक के बाद जारी संयुक्त बयान में कहा गया कि मंत्रियों ने क्षेत्र में अन्य सहयोगी देशों खास तौर पर कोरिया गणतंत्र , ऑस्ट्रेलिया, भारत, दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ द्विपक्षीय और बहुपक्षीय सुरक्षा तथा रक्षा सहयोग को आगे बढ़ाने के चल रहे प्रयासों को रेखांकित किया।
बयान में कहा गया कि मंत्रियों ने नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए सहयोग के महत्व पर जोर दिया। साथ ही अमेरिका के क्षेत्र में प्रमुख उपस्थिति बनाए रखने की प्रतिबद्धता और जापान की पहल पर भी संज्ञान लिया गया जो उसने स्वतंत्र तथा मुक्त भारत प्रशांत रणनीति में दिखाई थी।


मैड्रिड - स्पेन के बार्सिलोना में एक और आतंकी हमला हुआ। यहां बार्सिलोना से 100 किलोमीटर दूर कैम्ब्रिल्स में कार ने पुलिस बैरिकेड्स तोड़ कर भागने की कोशिश की। इसमें 7 नागरिक और एक पुलिस का जवान घायल हुआ है। वहीं इससे पहले गुरुवार रात को मशहूर पर्यटन स्थल रमब्लास में एक वैन से भीड़ पर हमला किया गया। इस हमले में कम से कम 13 लोग मारे गए हैं और कई 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए। हमले के सिलसिले में पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। बार्सिलोना पुलिस इसे आंतकी हमला मान कार्रवाई कर रही है। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है।
स्पेन में दूसरा हमला
कैटालन के सरकारी सूत्रों से मिली खबर के अनुसार न्यूज एजेंसी एएफपी ने बताया कि स्पेन में एक दूसरा हमला भी हुआ है। इसमें 6 नागरिक और एक पुलिस का जवान घायल हुआ है। हालांकि ये हमला पहले वाले हमले से जुड़ा है या नहीं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है।
वैन ने मारी टक्कर
खबर ये भी आई है कि हमले के बाद बार्सिलोना की पुलिस जब शहर को सील कर रही थी तो एक वैन पुलिस बैरिकेड को तोड़कर भाग निकली। इस दौरान उसने दो पुलिस अफसरों को घायल भी कर दिया, लेकिन अब तक ये साफ नहीं है कि इस वैन का उससे पहले हुए आतंकी हमले से कोई संबंध है या नहीं। बाद में उस वैन को आगे जाकर रोक लिया गया।
हमले के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि बार्सिलोना आतंकवादी हमले में किसी भी भारतीय के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। स्वराज ने कहा कि वह स्पेन स्थित भारतीय दूतावास के लगातार संपर्क में हैं।
अमेरिकी राष्ट्र‍पति डोनाल्ड ट्रंप ने की निंदा
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बार्सिलोना हमले की निंदा करते हुए कहा कि जो भी मदद की जरूरत होगी वह अवश्य करेंगे। उन्होंने कहा “कठोर और मजबूत बनें, हम आपको प्यार करते हैं।" वहीं दूसरी ओर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने ट्वीट कर कहा “बार्सिलोना के पीड़ितों के प्रति मेरी संवेदना।“ वेटिकन के एक प्रवक्ता ने कहा कि पोप फ्रांसिस ने इस हमले में मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। गौरतलब है कि स्पेन में 2००4 में आतंकवादियों ने एक बड़ा हमला किया था जिसमें मैड्रिड की एक ट्रेन में बम विस्फोट किया गया था। इस हमले में 191 लोग मारे गए थे तथा 18०० से अधिक लोग घायल हुए थे।
आईएस ने ली हमले की जिम्मेदारी
इस्लामिक स्टेट ने दावा किया है कि बार्सिलोना हमले में उसका हाथ है और कहा है कि ये हमला 'इस्लामिक स्टेट के सैनिकों ने' किया है। इस समूह ने हालांकि ऐसा कोई सबूत पेश नहीं किया है जिससे उसके इस दावे की पुष्टि होती हो। स्पेन के मीडिया से मिल रही ख़बरों के मुताबिक एक अन्य संदिग्ध शहर के बाहरी इलाके में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया है।
संदिग्ध की तस्वीर जारी
पुलिस ने एक व्यक्ति की तस्वीर भी जारी की है। पुलिस के मुताबिक ये तस्वीर उस व्यक्ति की है जिसने हमले में इस्तेमाल हुई वैन किराए पर दी थी। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, 20 साल के इस व्यक्ति का नाम ड्रिस है जिसका जन्म मोरक्को में हुआ है।
फुटपाथ पर चल रहे लोगों को बनाया निशाना
वैन ने उन लोगों को भी निशाना बनाया जो फुटपाथ पर चल रहे थे। घटनास्थल के वीडियो में नजर आ रहा है कि हमले के बाद कई लोग सड़क पर गिरे हुए थे। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि ऐसा नहीं लगा कि वैन गलती से लोगों पर चढ़ गई हो, बल्कि जान-बूझकर भीड़ पर चढ़ाई गई थी। पुलिस इस घटना को चरमपंथी घटना की तरह मान रही है।
यूरोप में वाहनों से हमला आईएस की रणनीति
यूरोप में कई माह बाद वाहन से कुचलने की घटना से सुरक्षा एजेंसियां सकते में हैं। इससे पहले फ्रांस के शहर नीस, लंदन, बर्लिन और स्टॉकहोम में कार से लोगों को कुचलने की घटनाएं हो चुकी हैं और आईएस ने ऐसे हमलों की जिम्मेदारी ली है। फ्रांसीसी शहर नीस में जुलाई 2016 में ट्रक से हुए हमला सबसे गंभीर था, जिसमें सौ से ज्यादा लोग मारे गए थे। सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना है यह हमला इराक और सीरिया में खदेड़े जा चुका आईएस की छटपटाहट हो सकता है। मोसुल, रक्का जैसे शहर हाथ से निकल जाने के कारण आईएस और उसके समर्थकों का मनोबल टूटा हुआ है। ऐसे में यह हमला आतंकी संगठन के समर्थकों का मनोबल बढ़ाने की रणनीति हो सकती है।
जब वाहन को बनाया हथियार
14 जुलाई 2016 : नीस शहर
ट्यूनीशियाई मूल के मोहम्मद बोहेल ने भारी ट्रक से राष्ट्रीय दिवस पर फ्रांसीसी शहर नीस में ट्रक से हमला किया। इसमें 86 लोगों की मौत हो गई। आईएस का हमला।
लंदन में दो हमले
22 मार्च 2017 : 52 साल के ब्रिटिश नागरिक खालिद मसूद ने लंदन के वेस्टमिंस्टर ब्रिज में लोगों को कुचला, पांच की मौत, 50 से ज्यादा घायल। आईएम ने जिम्मेदारी ली।
03 जून 2017 : लंदन में तीन हमलावरों ने फिर कार से लंदन ब्रिज से लोगों को कुचला, आठ की मौत और हमलावर भी मार गिराए गए।
19 दिसंबर 2016 : बर्लिन
ट्यूनीशियाई मूल के अनीस आमरी ने ट्रक से क्रिसमस मार्केट में धावा बोला, 12 लोगों की मौत हुई और 48 से ज्यादा घायल। आईएस ने हमले की जिम्मेदारी ली।
7 अप्रैल 2017 : स्टॉकहोम
ट्रक सवार हमलावर ने स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में भीड़ को कुचला। हमले में पांच लोगों की मौत हुई और 15 घायल। आईएस समर्थक का हमला।


बार्सिलोना - स्पेन के बार्सिलोना में आतंकी हमले के बाद कैम्ब्रिल्स में दूसरा आतंकी हमला हुआ है। इस हमले में 6 नागरिकों और एक पुलिसवाले के घायल होने की खबर है। वहीं इससे पहले बार्सिलोना में आतंकियों ने वैन से कुचलकर 13 लोगों को मार दिया। इन सबके बीच एक महिला सामने आई है जिसने बताया कि इस साल उसकी आंखों के सामने तीन आतंकी हमले हुए हैं। इस बीच, बड़ी संख्या में चश्मदीद सामने आ रहे हैं और उस खौफनाक मंजर का हाल बयां कर रहे हैं।
एक साल में देखे तीन आतंकी हमले
वहीं एक महिला ऐसी भी है जिसने बार्सिलोना के साथ ही साल के तीसरे आतंकी हमले को अपनी आंखों के सामने देखा। 26 वर्ष की जूलिया मोनाको जो ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न की रहने वाली हैं, उस समय अपनी एक दोस्त के साथ मॉल में थीं जब बार्सिलोना में आतंकी हमला हुआ। एक महिला ऐसी भी सामने आई है, जो इस साल तीसरे आतंकी हमले की गवाह बनी है। इस महिला ने स्थानीय रेडियो 5 लाइव पर फोन कर बताया कि यह तीसरा आतंकी हमला उसके सामने हुआ है। जूलिया तीन माह पहले यूरोप के टूर पर निकली थीं और उनकी मानें तो इन आतंकी हमलों से दुनिया देखने के उनके शौक में कोई कमी नहीं आई है।
लंदन और पेरिस हमलों में थीं मौजूद
जूलिया के मुताबिक, इससे पहले लंदन और पेरिस में हुए हमले के वक्त भी वह मौके पर मौजूद थी और बाल-बाल बची थी। लंदन में लंदन ब्रिज पर हमला हुआ था, वहीं पेरिस के नाटरे डेम में भी उसकी आखों के सामने ही हमला हुआ था। जूलिया ने रेडियो को बताया कि एक मिनट पहले तक सबकुछ ठीक था। अगले पल जो मंजर था वो बयां नहीं किया जा सकता। सब तरफ घायल और मृतक पड़े थे। आतंकियों की वैन ने सबको रौंदते हुए आगे बढ़ रही थी।
आपको बता दें कि लंदन ब्रिज पर जून में हमला हुआ था, जिसमें 3 हमलावरों समेत 11 लोगों की मौत हुई थी।

मैड्रिड - स्पेन के रैमब्लास जिले में गुरुवार को कार से लोगों को कुचलने के बाद दो हथियारबंद आतंकियों ने एक यहूदी रेस्तरां में लोगों को बंधक बनाया। सुरक्षाबलों ने रेस्तरां को घेर लिया, जिसके बाद दोनों ओर से गोलीबारी हुई। रैमब्लास में 18वीं सदी के पैलेस ला पलाउ मोजा के मैनेजर कैरोल आगस्टिन ने पूरा मंजर अपनी आंखों से देखा।उन्होंने खून से लथपथ महिलाओं और बच्चों को देखकर वह…
इस्लामाबाद - पाकिस्तान के भ्रष्टाचार रोधी निकाय ने प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य करार दिए गए नवाज शरीफ और उनके दोनों बेटों को धनशोधन और घूसखोरी के मामलों में शुक्रवार को उसके समक्ष पेश होने को कहा है। राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के अधिकारी ने डॉन समाचार पत्र को बताया कि शरीफ और उनके दोनों बेटे हुसैन और हसन नवाज को अल-अजीजिया स्टील मिल्स मामले में पूछताछ के लिए लाहौर…
नई दिल्ली - दुनिया में कई तरह के त्योहार अलग-अलग तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित होती रहती हैं। वैसे ही चीन के एक शहर में ऐसी ही प्रतियोगिता होती है, जिसमें लोग मिर्ची खाने को मजबूर हो जाते है। इस प्रतियोगिता में जीतने की ऐसी होड़ लगी रहती है कि लोगों के आंखों से आंसू निकलते रहते हैं पर वे मिर्च खाना नहीं छोड़ते। चीन के हुनान प्रांत के निंगजियांग में…
नई दिल्ली - बच्चा चाहे जितना बड़ा भी हो जाए, हमेशा बताया जाता है कि किसी भी परिस्थिति में उसकी मां हमेशा उसके साथ ही खड़ी रहती हैं। मां का प्यार बच्चे के लिए कभी कम नहीं होता है। लेकिन एक मां ने अपने बच्चे को टांग दिया। इसके पीछे वजह यह थी कि उसके पति ने उसकी वीडियो कॉल नहीं उठाई थी। यह पूरा मामला थाईलैंड के बैंगकॉक का…
Page 2 of 160

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें