दुनिया

दुनिया (2864)


वाशिंगटन - अमेरिका में भारतीय मूल के छात्र पारस झा (21) ने रट्जर्स यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर नेटवर्क पर बड़े पैमाने पर किए गए साइबर हमले के जुर्म को स्वीकार लिया है। इस मामले में उसे अधिकतम दस साल की सजा और ढाई लाख डॉलर (करीब 1.6 करोड़ रुपये) के जुर्माने का सामना करना पड़ सकता है। सजा का एलान अगले साल 13 मार्च को होगा।
अमेरिकी न्याय विभाग ने गुरुवार को बताया कि न्यूजर्सी के पारस झा के साथ पेंसिल्वेनिया के जोशिया ह्वाइट (20) और लुइसियाना के डॉल्टन नोर्मन (21) ने अपने जुर्म स्वीकार किए हैं। पारस ने न्यूजर्सी के ट्रेंटन फेडरल कोर्ट के जज माइकल शिप के समक्ष स्वीकार किया कि रट्जर्स यूनिवर्सिटी के कंप्यूटरों को हैक करने में उसकी भूमिका थी।
इन लोगों की कारस्तानी के कारण यूनिवर्सिटी की कंप्यूटर प्रणाली कई दिनों तक बाधित रही। इसके चलते हजारों छात्रों की शिक्षा पर असर पड़ा। कोर्ट दस्तावेजों के अनुसार, पारस ने नवंबर, 2014 से सितंबर, 2016 के दौरान यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर नेटवर्क को कई बार निशाना बनाया था।


मोगादिशु - सोमालिया की राजधानी मोगादीशू की प्रमुख पुलिस अकादमी में गुरुवार को एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया। इस हमले में लगभग 17 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 20 अन्य घायल हो गए हैं। पुलिस ने यह जानकारी दी।
कर्नल मोहम्मद हुसैन ने बताया कि एक व्यक्ति पुलिसकर्मी की वेश भूषा में शिविर में घुसा। उसने आत्मघाती जैकेट पहने हमलावर अभ्यास परेड में अधिकारियों की एक लम्बी पंक्ति में शामिल हो गया। इसके बाद उसने विस्फोट कर खुद को उड़ा लिया। अधिकारी 20 दिसंबर को प्रस्तावित सोमालिया पुलिस दिवस समारोह के लिए अभ्यास कर रहे थे। हमलावर ने एक ऐसी जगह को निशाना बनाया जहां कई सैनिक इकट्ठे थे। सोमालिया के अल-शबाब चरमपंथी समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। अल शबाब ने मोगादिशू और अन्य शहरों में लगातार बमबारी की है।


लंदन - अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के केप्‍लर स्पेस टेलिस्कोप ने हमारे सौर मंडल के बाहर जीवन की संभावना वाले पृथ्वी जैसे नए ग्रह को ढूंढ निकाला है। नासा की ओर से यह बड़ी घोषणा शुक्रवार को की गयी।
नासा ने केप्लर स्पेस टेलीस्कोप और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए एक सोलर सिस्टम ढूंढ़ा है, जिसमें हमारे सोलर सिस्टम की तरह ही 8 ग्रह हैं। नासा ने अपने बयान में कहा है कि हमारे सोलर सिस्टम में एक तारे के चारों ओर घूमने वाले सबसे ज्यादा ग्रह हैं। हालांकि पृथ्वी को छोड़कर कोई भी मानव जीवन के अनुकूल नहीं है।
केप्‍लर ने पुष्‍टि किया कि अन्‍य तारों के चारों ओर कई ग्रह चक्‍कर काटते हैं, बिल्‍कुल हमारे सूर्य की तरह। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा की ओर से बड़ी घोषणा की गयी। शोधकर्ताओं ने इस खोज को गूगल की मदद से मशीन लर्निंग के जरिए अंजाम दिया है। मशीन लर्निंग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एक हिस्सा है जो केप्लर के डाटा को विश्लेषित करती है।
8 ग्रहों वाले इस नए सोलर सिस्टम में केप्लर-90 नाम के तारे के चारों ओर अन्य ग्रह घूम रहे हैं। ये सोलर सिस्टम 2,545 प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। ऑस्टिन स्थित टेक्सास यूनिवर्सिटी के खगोलशास्त्री एंड्रयू वंडरबर्ग ने कहा कि केप्लर-90 स्टार सिस्टम हमारे सोलर सिस्टम के मिनी वर्जन की तरह है। उन्होंने कहा कि 'हमारे पास छोटे ग्रह अंदर की ओर हैं और बड़े ग्रह बाहर की तरह, लेकिन सब कुछ बहुत करीब है।'
नए खोज गए सोलर सिस्टम में केप्लर-90i पृथ्वी की तरह एक पथरीला ग्रह है। लेकिन यह अपने आर्बिट में हर 14.4 दिन पर एक बार घूम जाता है। यानी केप्लर-90i पर एक पृथ्वी की तरह एक वर्ष का समय सिर्फ दो हफ्तों का होगा। वंडरबर्ग ने कहा, 'केप्लर-90i उस तरह की जगह नहीं है, जहां मैं जाना चाहूंगा उसका धरातल बहुत ही ज्यादा गर्म है।'
नासा ने इस ग्रह के तापमान का आकलन किया है और यह करीब 800 डिग्री फारेनहाइट (426 डिग्री सेल्सियस) है, यह तापमान बुध ग्रह के बराबर है, जोकि सूर्य के बेहद करीब है।
बता दें कि केप्लर स्पेस टेलीस्कोप को 2009 में लॉन्च किया गया था, और इसने करीब 1,50,000 तारों को स्कैन किया है। एस्ट्रोनॉमर्स ने केप्लर डाटा के जरिए अब तक 2,500 ग्रहों की खोज की है।


नेपीता - म्यांमार में अगस्त में भड़की हिंसा में 6,700 रोहिंग्या मुसलमान मारे गए थे। यह दावा मानवाधिकारों के लिए कार्य करने वाली वैश्विक संस्था मेडिसिंस सैंस फ्रंटियर्स (एमएसएफ) ने किया है। संस्था ने यह दावा बांग्लादेश पहुंचे शरणार्थियों से बातचीत के आधार पर किया है। जबकि म्यांमार सरकार का दावा सुरक्षा बलों की कार्रवाई में 400 लोगों के मारे जाने का है।
बौद्ध बहुल म्यांमार में 25 अगस्त को रोहिंग्या आतंकियों के रखाइन प्रांत में पुलिस और सेना के ठिकानों पर एक साथ हमले के जवाब में यह हिंसा भड़की थी। इस दौरान सेना ने रोहिंग्या बहुल गांवों पर कार्रवाई की थी। लोगों पर आतंकियों को शरण देने का आरोप लगाया था। म्यांमार की सेना का दावा है कि आतंकियों द्वारा आमजनों को ढाल बनाए जाने से लोगों की जान गई। जबकि शरणार्थियों ने सेना पर अत्याचार और हत्या करने का आरोप लगाया है।
मानवाधिकार संगठन के अनुसार मारे गए 6,700 लोगों में 730 पांच साल से कम उम्र के बच्चे थे। एसएसएफ दुनिया के कई देशों में पीडि़तों को स्वास्थ्य सुविधा देने का कार्य करता है। संगठन ने कहा है कि पीडि़तों की आपबीती सुनकर पता चला है कि म्यांमार में सरकारी अधिकारियों के संरक्षण में बड़े पैमाने पर हिंसा हुई। मृतकों के अलावा बड़ी संख्या में लोग घायल भी हुए हैं।
एमएसएफ के निदेशक सिडनी वोंग के अनुसार मारे गए 59 प्रतिशत बच्चे राइफल की गोली से मारे गए जबकि 15 प्रतिशत जलकर मरे। सात प्रतिशत की मौत पिटाई से हुई। अगस्त की हिंसा के बाद करीब साढ़े छह लाख रोहिंग्या मुसलमान भागकर बांग्लादेश आए। इसी के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर म्यांमार में हुए रोहिंग्या मुसलमानों के दमन की निंदा हुई। संयुक्त राष्ट्र ने उसे अल्पसंख्यकों के सफाए की मुहिम बताया, तो अमेरिकी संसद ने निंदा प्रस्ताव पारित किया।


न्यूयॉर्क - यौन शोषण के आरोपों में घिरे हॉलीवुड के जानेमाने फिल्म निर्माता हार्वे वीनस्टीन की करतूतों की सूची लंबी होती जा रही है। हॉलीवुड की ख्याति प्राप्त अभिनेत्रियों में शुमार सलमा हायक ने भी वीनस्टीन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।
उन्होंने 'न्यूयॉर्क टाइम्स' में लिखे लेख में वीनस्टीन को दैत्य करार देते हुए बताया कि इस शख्स ने उन्हें जान से मारने तक की धमकी दी थी। 51 वर्षीय सलमा के आलेख का शीर्षक ही 'हार्वे वीनस्टीन मेरे लिए भी राक्षस' था। हायक के अनुसार उन्हें शुरू में लगा कि वीनस्टीन अच्छे इंसान हैं लेकिन उन्हें इसका अंदाजा नहीं था कि 'फ्रीडा' की शूटिंग पूरी करने में उन्हें किसी नरक से गुजरना पड़ेगा। यह फिल्म वर्ष 2002 में आई थी। अभिनेत्री ने बताया कि वीनस्टीन का जब उनके साथ सोने का प्रयास विफल हो गया तो उसने उन्हें जान से मारने की धमकी दी।
इसके बाद उन्होंने शूटिंग के दौरान 'फ्रीडा' की आलोचना शुरू कर दी। वीनस्टीन ने फिल्म की पटकथा दोबारा लिखने की भी मांग की। उनके भुगतान में कटौती कर दी गई। एक बार तो यह धमकी दी गई कि अगर उन्होंने फिल्म की सह अभिनेत्री एश्ले जूड के साथ बिना कपड़े के दृश्य नहीं पूरे किए तो फिल्म की शूटिंग बंद कर दी जाएगी। तब वह इसके लिए राजी हो गई। वैसे वीनस्टीन ने सलमा के आरोपों को खारिज किया है। उनके प्रवक्ता ने कहा कि सलमा की ओर से लगाए गए सारे आरोप सही नहीं हैं।


वाशिंगटन - अमेरिका ने उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम पर नरमी दिखाई है। विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कहा, अमेरिका उ. कोरिया संग परमाणु निरस्त्रीकरण के मसले पर बिना पूर्व शर्त के सीधी वार्ता को तैयार है। टिलरसन का यह बयान ऐसे समय आया है जब उ.कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने अपने देश को दुनिया का सबसे शक्तिशाली परमाणु संपन्न देश बनाने का प्रण लिया है। उ.कोरिया ने दो हफ्ते पूर्व ही अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था। इसके बाद किम जोंग उन ने दावा किया था कि अब पूरा अमेरिका उसकी मिसाइलों की जद में आ गया है। हालांकि टिलरसन का यह ताजा बयान उनकी पूर्व की टिप्पणियों के उलट है जिसमें उन्होंने कहा था कि अमेरिका प्योंगयांग से वार्ता नहीं करेगा। वार्ता होगी, जब वहां का शासन परमाणु निरस्त्रीकरण को तैयार होगा।
वाशिंगटन में मंगलवार को अटलांटिक काउंसिल फोरम के कार्यक्रम में टिलरसन ने कहा, ‘हम उ.कोरिया के साथ किसी भी समय बिना किसी पूर्व शर्त के वार्ता को तैयार हैं।’ अमेरिकी विदेश मंत्री यह प्रस्ताव राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उन चेतावनियों के विपरीत है जिसमें उन्होंने कहा था कि वार्त की राह विफल हो गई है, टिलरसन समय बर्बाद कर रहे हैं। हालांकि टिलरसन के इस बयान के बाद ह्वाइट हाउस ने कहा,उत्तर कोरिया पर राष्ट्रपति के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है।
उत्तर कोरिया ने 28 जुलाई को अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आइसीबीएम) ह्वासोंग-14 का परीक्षण किया। उसके मुताबिक यह मिसाइल 3,700 किमी की ऊंचाई तक उड़ान भरकर एक हजार किमी की दूरी तक गई। यह अमेरिका के कुछ हिस्सों तक वार करने में सक्षम है। उल्लेखनीय है कि इस परीक्षण समेत उसका हर परीक्षण अमेरिका को नागवार गुजरता रहा है।
अमेरिकी मोर्चेबंदी और उत्तर कोरिया
उत्तर कोरिया के आसपास अमेरिका ने कई सैन्य ठिकाने बना रखे हैं। आपात स्थिति में यहां से पलक झपकते ही दुश्मन को बर्बाद किया जा सकेगा।
जापान
यहां करीब 40 हजार अमेरिकी सैनिक हैं। साथ ही बी-1 बमवर्षक विमान भी मौजूद हैं। जापान में ही अमेरिकी नौसेना का सबसे बड़ा समुद्री बेड़ा सेवेंथ फ्लीट भी है। इसमें 70 पोत व पनडुब्बी, 140 विमान और करीब 20 हजार नौसैनिक हैं।
दक्षिण कोरिया
35 हजार सैनिक हैं। तीन सौ से अधिक युद्धक टैंक और बख्तरबंद वाहन। थाड भी तैनाती प्रक्रिया में है।
-थाईलैंड, फिलीपींस और सिंगापुर में अमेरिका अपनी वायुसेना और नौसेना का इस्तेमाल करता है।
-हवाई द्वीप पर 40 हजार से अधिक सैनिक, दो सौ समुद्री जहाज और एक हजार विमान तैनात।
-कोरियाई प्रायद्वीप पर अमेरिका का कैरियर स्ट्राइक ग्रुप वन भी तैनात है। इसमें यूएसएस कार्ल विंसन व यूएसएस रोनाल्ड रीगन के अलावा कई युद्धपोत, विध्वंसक जहाज है।
गुआम में है अमेरिकी थाड
प्रशांत महासागर में स्थित अमेरिका प्रशासित द्वीप गुआम में अत्याधुनिक एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम थाड सक्रिय है। यह दुश्मनों की मिसाइलों को हवा में ही मार गिराने में सक्षम है।
इस साल 23 मिसाइलों के परीक्षणों से बढ़ा तनाव
उत्तर कोरिया ने मिसाइल कार्यक्रम तेज कर दिया है। वह फरवरी से अब तक 23 मिसाइलों का परीक्षण कर चुका है। सितंबर में छठी बार परमाणु परीक्षण किया और इसे हाइड्रोजन बम का टेस्ट बताया था।
किम ने ली देश को शक्तिशाली ताकत बनाने की शपथ
उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने अपने देश को दुनिया की सबसे शक्तिशाली परमाणु ताकत बनाने की शपथ ली है। यहां की सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएनए के अनुसार, हालिया मिसाइल परीक्षण को सफल बनाने वाले कर्मचारियों से किम ने कहा कि उनका देश विजेता की तरह आगे बढ़ेगा और विश्व में सबसे शक्तिशाली परमाणु और सैन्य ताकत बनेगा।
किम की हेकड़ी निकालने को ट्रंप के पास ये भी हैं विकल्प
ब्रिटेन के क्राइसिस रिसर्च इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर मार्क आल्मंड ने एक आकलन करके बताया है कि अमेरिका उत्तर कोरिया को सबक सिखाने के लिए कौन-कौन से कदम उठा सकता है। उन्होंने रिपोर्ट में कहा है कि अमेरिका दुनिया के कई देशों के जरिये दबाब बना कर उत्तर कोरिया को घुटने टेकने के लए विवश कर सकता है। इससे बात नहीं बनी तो वह उत्तर कोरिया पर सीमित हवाई हमले कर सकता है। दक्षिण कोरिया, जापान और गुआम में एयर बेस हैं। कोरियाई प्रायद्वीप पर अमेरिका के परमाणु ऊर्जा संचालित युद्धपोत भी तैनात हैं। इनमें ब्रिटिश वायुसेना के पास मौजूद कुल लड़ाकू विमानों से अधिक लड़ाकू विमान तैनात हैं। उत्तर कोरिया भी हवाई हमलों से बचने के लिए परमाणु मिसाइलों का स्थान बदलता रहता है। उसकी ठोस ईंधन संचालित मिसाइलें अधिक तेजी से वार करती हैं। इन रणनीतियों के जरिये वह हवाई हमलों का सामना कर सकता है।
1950 में जमीनी युद्ध में उ.कोरिया को दी थी मात
1950 में उत्तर कोरिया के पास समुद्री क्षेत्रों की रक्षा के पर्याप्त साधन नहीं थे। तब अमेरिका ने इसी रास्ते हमला किया और विजय पाई। अब उत्तर कोरिया के पास भले ही कम हथियार और तकनीक हो लेकिन सैन्य क्षमता अधिक है। उ.कोरिया के पास 60 परमाणु बम हैं। जमीनी हमले के समय वह परमाणु व जैविक बमों से हमला कर सकता है। इससे पड़ोसी देशों को भी नुकसान होगा। चीन भी दक्षिण कोरिया में अमेरिका द्वारा थाड लगाने का विरोध कर रहा है। उसे आशंका है कि अमेरिका के किसी भी हमले का निशाना चीन हो सकता है। इसलिए अमेरिकी हमले के वक्त चीन भी इसमें शामिल हो सकता है और इससे तृतीय विश्व युद्ध की संभावनाएं बढ़ेंगी।

वाशिंगटन - अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा को न्यू हॉरिजन मिशन के तहत प्लूटो से करीब अरबों मील दूर एक पिंड का पता चला है। ‘एमयू69’ नाम का यह पिंड मूंगफली के आकार का दिख रहा है। खगोलविदों का मानना है कि ये एक नहीं बल्कि समान आकार वाले दो पिंड हो सकते हैं। ऐसे में संभावना है कि एमयू69 के पास अपना चंद्रमा हो सकता है। पहली बार न्यू हॉरिजन…
लाहौर - पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारतीय राजनीति में उन्हें घसीटे जाने पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि नई दिल्ली में प्राइवेट डिनर में गुजरात शब्द का किसी ने भी उच्चारण नहीं किया।पिछले सप्ताह पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री को नई दिल्ली में मणिशंकर अय्यर ने भोज दिया था। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा पाकिस्तान पर गुजरात चुनाव को प्रभावित करने…
मोगादिशु - सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में आज पुलिस की वर्दी पहने एक आत्मघाती हमलावर ने पुलिस प्रशिक्षण शिविर के भीतर घुसकर खुद को उड़ा लिया जिससे 13 पुलिस अधिकारियों की मौत हो गयी।पुलिस प्रवक्ता मेजर मोहम्म्द हुसेईन ने बताया कि जनरल काहिए पुलिस ट्रेनिंग एकेडमी में पुलिस की परेड चल रही थी , तभी अपने शरीर पर विस्फोटक लपेटे हमलावर वहां घुसा और अपने को विस्फोट से उड़ा लिया।एमिन…
वाशिंगटन - अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की शीर्ष अफ्रीकी-अमेरिकी सलाहकार ने इस्तीफा दे दिया है। डोनाल्ड ट्रंप की सलाहकार ओमारोसा मनिगॉल्ट न्यूमैन 20 जनवरी को अपना पद छोड़ेंगी। इसकी जानकारी व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव ने दी है।सारा सैंडर्स ने बुधवार को एक संक्षिप्त बयान में कहा, 'ओमारोसा मैनिगॉल्ट न्यूमैन ने मंगलवार को अन्य अवसरों पर काम करने का फैसला लेते हुए अपना इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने बताया…
Page 2 of 205

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें