दुनिया

दुनिया (3632)


बीजिंग - अमेरिका और चीन के रिश्‍ते जगजाहिर हैं। डोनाल्‍ड ट्रंप के राष्‍ट्रपति बनने के बाद से तो इन दोनों देशों के बीच रिश्‍ते काफी खराब स्थिति में पहुंच गए हैं। इन दिनों अमेरिका और चीन के बीच 'ट्रेड वॉर' छिड़ी हुई है। शायद इसीलिए ट्रंप के राष्‍ट्रपति बनने के बाद से अब तक अमेरिका के रक्षा सचिव जिम मैटिस ने चीन का दौरा नहीं किया है। हालांकि कई बार इसकी संभावना जताई जा चुकी है। चीन के रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि अमेरिकी रक्षा सचिव जिम मैटिस द्वारा चीन की संभावित यात्रा पर यूएस के साथ बातचीत चल रही है।
डोनाल्‍ड ट्रंप ने जब से राष्‍ट्रपति का पद संभाला है, तब से जिम मैटिस एशिया के कई देशों का दौरा का चुके हैं, जिनमें जापान, फिलिपींस, थाइलैंड, दक्षिण कोरिया, वियतनाम और इंडोनेशिया शामिल हैं। लेकिन जिम मैटिस ने चीन से अभी तक दूरी बनाई हुई है। जिम मैटिस जब दक्षिण कोरिया पहुंचे, तो उत्‍तर कोरिया अपने परमाणु मिसाइल कार्यक्रम को तेजी से आगे बढ़ा रहा था और अमेरिका को लगातार हमले की धमकी दे रहा था। नवंबर में जब डोनाल्‍ड ट्रंप बीजिंग की राजकीय यात्रा पर थे, तब भी जिम मैटिस उनके साथ नहीं थे।
चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्‍ता रेन गुओकियांग से मासिक समाचार ब्रीफिंग के दौरान जब जिम मैटिस की चीन यात्रा के दौरान जब पूछा गया, तो उन्‍होंने कहा, 'देखिए, दोनों देशों के रक्षा मंत्रालय इस मुद्दे पर काम कर रहे हैं। इसके अलावा भी दोनों देशों के बीच कई कार्यक्रमों को लेकर योजना बनाई जा रही है।' उन्‍होंने कहा कि इन कार्यक्रमों के बारे में वह अभी कुछ नहीं बता पाएंगे। बीजिंग में अमेरिकी दूतावास से जब इस बारे में पूछा गया, तो उन्‍होंने कहा कि इस बारे में उनके पास कोई जानकारी नहीं है।

 


टोक्‍यो - विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज गुरुवार को टोक्‍यो में जापान के विदेश मंत्री तारो कोनो के साथ द्विपक्षीय बैठक में हिस्‍सा ले रही हैं। सुषमा ने कहा, 'भारत और जापान का मानना है कि किसी भी रूप में आतंकवाद दुनिया पर काला धब्‍बा है।' इससे पहले उन्‍होंने सत्‍तारूढ़ लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी पॉलिसी रिसर्च काउंसिल के चेयरमैन और जापान के पूर्व विदेश मंत्री फुमियो किशिदा से मुलाकात की।
विदेश मंत्री ने जापान में रह रहे भारतीय समुदाय को संबोधित भी किया। विवेकानंद कल्‍चरल सेंटर में भारतीय प्रवासियों के समूह को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री ने जापान के साथ संबंध को मजबूत बनाने में प्रवासियों के योगदान और जापान में भारत की सकारात्‍मक तस्‍वीर उकेरने की भी सराहना की। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भारत और जापान का संबंध मजबूत हुआ है।
स्‍वराज ने कहा, ‘पहले की तुलना में अब भारत-जापान संबंध अधिक मजबूत हुआ है और इसका बड़ा कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रधानमंत्री शिंजो एबी की मित्रता है। प्रधानमंत्री के नेतृत्‍व में जापान का भारत के साथ संबंध अधिक मजबूत हुआ है।‘
विदेश मंत्री ने जापान स्‍थित भारतीय दूतावास में जाकर विजिटर्स बुक पर हस्‍ताक्षर भी किया।
जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो के साथ नौवें भारत-जापान रणनीतिक वार्ता के लिए बुधवार को स्‍वराज टोक्‍यो पहुंची। स्‍वराज और कोनो के बीच रणनीतिक वार्ता आज होगी। 28 से 20 मार्च तक स्‍वराज जापान में हैं।
विदेश मंत्रालय की ओर से जारी आधिकारिक रिलीज के अनुसार, समान हित के क्षेत्रीय और अंतरराष्‍ट्रीय मुद्दों पर दोनों पक्ष वार्ता करेंगे।

 


मॉस्को - एक रूसी कानून समिति जो यूलिया स्क्रीपाल को जहर देने के मामले की जांच कर रही है इसने ब्रिटेन को अनुरोध किया है कि वह इस जांच में मॉस्को को कानूनी सहायता प्रदान करे। मास्को ने ब्रिटिश सहकर्मियों से अपराध के हालातों की जांच करने के लिए कई आवश्यक सामग्रियों की प्रतियां प्रदान करने की मांग की है।
मॉस्को ने लंदन से अनुरोध किया है कि वे उस जगह की जांच की रिपोर्ट हमें सौंपे जहां पर यूलिया स्क्रीपाल को जहर दिए जाने के बाद बेहोश पाया गया था, साथ ही मेडिकल जांच की भी रिपोर्ट सौंपने को कहा है। पूर्व रूसी डबल एजेंट सर्गी स्क्रीपाल और उनकी बेटी यूलिया को जहर दिए जाने का मामला पिछले दिनों काफी चर्चा में रहा था।
साक्ष्यों को छुपाने का ब्रिटेन पर लगाया था आरोप
इससे पहले वरिष्ठ रूसी राजनयिकों और सैन्य अधिकारियों ने ब्रिटेन पर सलिसबरी में नर्व एजेंट पर हुए हमले के सबूतों को छुपाने या नष्ट करने का आरोप लगाया था। मॉस्को में विदेश मंत्रालय में दिए गए बयान से ये जानकारी सामने आई है इस बैठक में कुछ चुनिंदा देशों के अलावा सभी देशों के रूसी राजदूत मौजूद थे। राजनयिकों से बात करते हुए व्लादीमिर पुतिन ने कहा कि ब्रिटेन मामले से संबंधित साक्ष्यों को छुपाने की कोशिश कर रहा है जो बाद में संभवत: नष्ट हो जायेंगे।
मॉस्को विदेश मंत्रालय में आयोजित राजनयिकों की इस बैठक में ब्रिटिश राजदूत लॉरी ब्रिस्टो शामिल नहीं हुए थे, उनके अलावा अमेरिकी, जर्मनी और फ्रांस के राजनयिकों ने भी इस बैठक में हिस्सा नहीं लिया। आपको बता दें कि सलिसबरी जासूस जहरकांड मामले को लेकर 23 रूसी राजनयिकों को मंगलवार को ब्रिटेन दूतावास से निकाल दिया गया है। कल ही अधिकारियों ने लंदन से मॉस्को के लिए उड़ान भरी है। दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने 14 मार्च को रूसी कर्मचारियों से अपना सामान पैक कर लेने का आदेश दे दिया था। कल रूसी राजनयिकों और उनके परिवारों को लेकर आए एक विमान लंदन से रवाना होकर मॉस्को के लिए उड़ान भरा।


काराकस - वेनेजुएला के उत्‍तरी शहर वैलेंसिया स्‍थित जेल में भड़के दंगे के दौरान आग लग गई जिसमें 68 लोगों की मौत हो गयी। अटार्नी जनरल तारिक साब ने बुधवार को बताया कि जेल में बंद कैदियों के परिजन बाहर जमा हो गए, वे चिल्‍ला रहे थे और कुछ पुलिस ऑफिसरों के साथ हाथापाई कर रहे थे। वेनेजुएला की मीडिया के अनुसार, पुलिस ने अांसू गैस का प्रयोग किया।
स्‍पैनिश न्‍यूज एजेंसी इफे ने बताया एक कैदी की मां ऐदा पारा ने रोते हुए कहा, ‘मुझे नहीं पता की मेरा बेटा जिंदा है या मर गया। वे हमें कुछ नहीं बता रहे हैं।‘ कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि कैदियों के बीच हाथापाई हुई थी, जिसने दंगे का रूप ले लिया। मौके का फायदा उठाकर कुछ कैदियों ने जेल से भागने की कोशिश की। हालात काबू करने के लिए पुलिस ने उन पर गोलियां चला दीं। इस घटना के बाद मृतकों के परिजन की जेल के बाहर भारी भीड़ जमा हो गई। उन्होंने हंगामा किया।
अटॉर्नी जनरल के हवाले से मीडिया ने बताया कि चार प्रॉसिक्यूटर मामले की जांच कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, जेल पुलिस स्टेशन के नजदीक है और इसकी क्षमता करीब 60 कैदियों की थी लेकिन यहां इससे अधिक कैदी बंद थे। वेनेजुएला ऑब्जर्वेटरी ऑफ प्रिजन के मुताबिक, देश की ज्यादातर जेलों में ऐसे ही हालात हैं।
जेल में कैदियों के बीच हाथापाई की खबर मिलते ही उनके परिजन जेल के बाहर जमा हो गए। उनपर नियंत्रण के लिए पुलिस को टियर गैस का इस्‍तेमाल करना पड़ा। ट्विटर पर पोस्ट एक वीडियो में मारे गए कैदी की रिश्तेदार मारिया जोस रोंडन ने कहा, ‘हमें इंसाफ चाहिए। हम जानना चाहते हैं कि क्या हो रहा है?’


जकार्ता - पिछले साल की तुलना में इस साल फरवरी में इंडोनेशियाई बैंकों द्वारा दिए गए लोन में 8.2 फीसद की बढ़ोतरी हुई। जनवरी में इसकी वृद्धि 7.4 फीसद थी। गुरुवार को फिनांशल सर्विसेज अथॉरिटी द्वारा दिए गए डेटा के अनुसार, फरवरी में कुल बकाए लोन में नॉन परफार्मिंग लोन का औसत 2.9 फीसद था।
बैंकिंग सुपरविजन के लिए ओजेके के डिप्‍टी कमिश्‍नर, हेरु क्रिस्‍टियाना ने कहा, ‘इस साल बैंक लोन में वृद्धि का लक्ष्‍य 12 फीसद रखा है। इसका मतलब है कि पिछले साल की तुलना में वे अधिक आशावादी हैं क्‍योंकि पिछले साल इनका लक्ष्‍य 11.5 फीसद था।


न्यूयॉर्क - अमेरिका की एक अदालत ने 11 सितंबर, 2001 के आतंकी हमले मामले में सऊदी अरब पर मुकदमा जारी रखने का आदेश दिया है। व‌र्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए इस हमले में करीब तीन हजार लोगों की जान चली गई थी। सऊदी सरकार पर इस हमले में शामिल आतंकियों की मदद करने का आरोप है। पीडि़त परिवारों ने हर्जाने के लिए सऊदी सरकार पर केस किया है। सऊदी सरकार हालांकि इस आरोप से इन्कार करती रही है।
अमेरिकी अदालत ने खारिज की सऊदी अरब की अपील
सऊदी सरकार ने मैनहट्टन की संघीय अदालत में चल रहे मुकदमे को खारिज करने के लिए अपील दायर की थी। जिला जज जॉर्ज डेनियल्स ने बुधवार को यह अपील खारिज कर दिया। जज ने कहा, 'अभियोजकों के आरोप वाजिब कारण पर आधारित हैं। इसलिए जस्टिस अगेंस्ट स्पांसर ऑफ टेररिज्म एक्ट (जास्टा) के अंतर्गत सऊदी अरब पर मुकदमा जारी रखा जाना चाहिए।' उल्लेखनीय है कि सितंबर, 2016 में राष्ट्रपति बराक ओबामा के वीटो पावर को निरस्त कर अमेरिकी संसद ने जास्टा लागू कर दिया था। ओबामा इस कानून के विरोध में थे। उनका कहना था कि इससे अन्य देशों में अमेरिकी कंपनियों, सैनिकों और नागरिकों पर मुकदमे दायर हो सकते हैं।
जज डेनियल्स ने अपने आदेश में कहा, अभियोजकों को कैलिफोर्निया स्थित मस्जिद के इमाम फहद अल ठुमैरी और खुफिया अधिकारी उमर अल बयूमी के संदिग्ध कार्यों में सऊदी अरब की भूमिका को साबित करने का मौका मिलना चाहिए।' इन दोनों पर हमले में शामिल विमानों को हाईजैक करने वाले आतंकियों की मदद और हमले की साजिश रचने के आरोप थे।

इस्लामाबाद - नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई छ: साल बाद अपने देश पाकिस्तान लौट गई हैं। तालिबानी आतंकियों द्वारा किए गए हमले के बाद मलाला पहली बार पाकिस्तान पहुंची। पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार मलाला गुरुवार की सुबह दुबई के रास्ते अपने देश पहुंची। बता दें कि छ: साल पहले 2012 में लड़कियों के लिए शिक्षा की वकालत करने पर तालिबानी आतंकियो ने मलाला पर हमला किया था और उन्हें…
टोक्यो - जापान की सरकार अगले साल के बजट को लेकर गुरुवार को अपनी प्रक्रिया शुरु कर दी। सरकार के वित्तीय सलाहकार पैनल में पेश की गई एक मध्य-काल की रिपोर्ट में कहा गया कि सरकार को नुक्सान से बचने के लिए राजकोषीय नीति का प्रबंधन करना चाहिए और 2019 के बजट से पहले पिछले विक्रय करों में बढ़ोतरी को ध्यान में रखना चाहिए। प्रधान मंत्री शिंजो एबी के कैबिनेट…
संयुक्त राष्ट्र - संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने दुनियाभर में पत्रकारों पर हो रही हिंसा और दो भारतीय पत्रकारों की मौत पर गहरी चिंता व्यक्त की है। भारतीय पत्रकारों की मौत से जुड़े एक सवाल के जवाब में गुतेरस के उप प्रवक्ता फरहान हक ने कहा, 'दुनियाभर में कहीं भी पत्रकारों पर हिंसा को लेकर हम चिंतित रहते हैं। इस मामले में भी ऐसा ही है।'हाल में मध्य…
बीजिंग - भारत और चीन के बीच बहने वाली नदियों पर सहयोग को लेकर दोनों देशों के अधिकारियों के बीच वार्ता हुई है। चीन ने इस वार्ता के बाद कहा कि वह ब्रह्मपुत्र से जुड़ा डाटा भारत के साथ साझा करेगा। चीन ने पिछले साल डोकलाम विवाद के चलते ब्रह्मापुत्र नदी के जल प्रवाह को लेकर आंकड़े मुहैया कराना बंद कर दिया था। इस घटना के बाद दोनों देशों के…
Page 10 of 260

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें