दुनिया

दुनिया (1937)

अमेरिकी सेना ने आज कहा कि उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल परीक्षण के बढ़ते खतरे के बीच अमेरिका ने इंटरकोंटिनेंनटल बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) समेत अन्य मिसाइल हमले को विफल करने के लिए पहली बार मिसाइल प्रतिरोधक प्रणाली का परीक्षण किया है।मिसाइल रक्षा एजेंसी के निदेशक वाइस एडमिरल जिम सेरिंग ने कहा, जटिल, खतरनाक आईसीबीएम के लक्ष्य को विफल करना अविश्वसनीय उपलब्धि है और हमने ऐसा करके इस क्षेत्र में बहुत बड़ी सफलता हासिल की है।उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय दबाव और कड़े प्रतिबंधों के बावजूद उत्तर कोरिया लगातार मिसाइल परीक्षण कर रहा है और सोमवार को उसने इस साल का नौवां परीक्षण किया।इससे पहले उत्तर कोरिया ने 21 मई को पूर्वी तट से एक बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था और देश के तानाशाह किम जोंग उन की निगरानी में उसने विमान रोधी हथियार का भी परीक्षण किया।

 

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के खिलाफ याचिका दाखिल की गई है। इस याचिका में कहा है कि यदि जासूसी के जुर्म में दोषी ठहराए गया कुलभूषण जाधव अपनी सजाए मौत पलटवाने में नाकाम रहता है तो उसकी सजा की तामील शीघ्र की जानी चाहिए। अधिवक्ता मुजमिल अली ने विपक्ष के नेता एंव पूर्व सीनेट अध्यक्ष फारूक नाइक द्वारा कल एक याचिका दाखिल कराई है।याचिका में संघीय सरकार को यह सुनिश्चित करने के निर्देश देने की मांग की गई है कि अगर जाधव की ओर से कोई अपील लंबित है तो उस पर देश के कानून के अनुरूप शीघ्र कोई निर्णय लिया जाए।डॉन की आज की एक रिपोर्ट के अनुसार याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट से यह भी अपील की कि अगर जाधव अपनी सजा को पलटवाने में नाकाम रहता है तो उसकी सजा की तामील शीघ्र की जानी चाहिए। पाकिस्तान का दावा है कि उसके सुरक्षा बलों ने जाधव को तीन मार्च को बलूचिस्तान प्रांत से गिरफ्तार किया था। पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने जासूसी के जुर्म में उसे मौत की सजा सुनाई है।अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) ने अपने अंतरिम आदेश के जरिए जाधव पर कोई अंतिम आदेश के पहले उसकी फांसी की सजा की तामील पर रोक लगा दी थी।याचिकाकर्ता ने अदलात से यह भी घोषणा करने की अपील की कि जाधव मामले पर कार्रवाई कानून से हिसाब से की गई है और पूरी प्रक्रिया का पालन किया गया है साथ ही उसे वह राजनयिक पहुंच भी मुहैया कराई गई है जिसकी मांग भारत ने की थी।

ब्रिटेन के खुफिया अधिकारियों का कहना है कि देश भर में आतंकवाद के करीब 23,000 संदिग्धों के मौजूद होने की आशंका है।सुरक्षा अधिकारियों के समक्ष यह चुनौती उस वक्त खड़ी हुई है जब हाल ही में मैनचेस्टर में आत्मघाती हमले में 22 लोग मारे गए थे और 119 लोग घायल हो गए थे।इस हमले को लीबियाई मूल का हमलावर सलमान आबिदी ने अंजाम दिया। खबरें हैं कि यह हमलावर पहले से ही खुफिया सेवाओं के रडार पर रहा था और ऐसे में एमआई—5 पर इसका खुलासा करने का दबाव बढ़ गया है कि वे इस हमलावर के बारे में क्या जानते थे।अब सरकार के सूत्रों ने मीडिया से कहा कि उनका मानना है कि करीब 23,000 लोगों का रूझान चरमपंथी गतिविधियों की ओर है और वे ब्रिटेन में रह रहे हैं।उनका कहना है कि इनमें से करीब 3,000 लोगों को खतरे तौर पर देखा जा रहा है और पुलिस एवं खुफिया सेवाओं द्वारा चलाए जा रहे 500 अभियान में इनकी सक्रिय निगरानी की जा रही है।उधर, पुलिस ने मैनचेस्टर में आत्मघाती हमला करने वाले सलमान आबिदी की सुरक्षा कैमरों में कैद हुईं हमले की रात की तस्वीर जारी की है।जांचकतार्ओं ने 22 साल के हमलावर के अंतिम क्षणों की जानकारी दी और लोगों से अपील की कि यदि उन्हें इस हमले के संबंध में उसकी किसी गतिविधि की कोई जानकारी है तो वे इसे साझा करें।

 

दुनिया का सबसे बड़ा ऑप्टिकल और इंफ्रारेड दूरबीन चिली में बनाया जा रहा है जिससे वैज्ञानिकों को ब्रहमांड की आतंरिक गतिविधियों को समझने में मदद मिलेगी।यूरोपियन सदर्न ऑब्जवेर्टरी (ईएसओ) द्वारा बनाए जा रहे इस अत्यधिक विशाल दूरबीन (ईएलटी) में मुख्य दर्पण का व्यास 39 मीटर का है। दूरदर्शी आमतौर पर उस प्रकाशीय तंत्र को कहते हैं जिससे देखने पर दूर की वस्तुएं बड़े आकार की और स्पष्ट दिखाई देती हैं।इस दूरबीन की खासियत यह है कि इसे ऑप्टिकल सिस्टम का प्रदर्शन सुधारने के लिए इस्तेमाल करने वाली प्रौद्योगिकी एडेप्टिव ऑप्टिकल से बनाया जा रहा है और इसमें वायुमंडलीय विक्षोभ को सही करने की क्षमता है जो दूरबीन इंजीनियरिंग को दूसरे स्तर पर ले जाती है। इस विशाल दूरबीन का निर्माण 2024 तक कर लिया जाएगा। इसे चिली में 3046 मीटर ऊंचे पर्वत सेरो आर्मजोन की चोटी पर बनाया जाएगा।ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक इस परियोजना में अहम भूमिका निभा रहे हैं और वे इसके स्पेक्ट्रोग्राफ के डिजाइन और निर्माण के लिए जिम्मेदार हैं। ईएसओ के महानिदेशक टिम डीई जीउव ने कहा कि ईएलटी से नहीं खोजें होंगी जिनकी आज कल्पना नहीं की जा सकती और निश्चित रूप से यह दुनिया में कई लोगों को विज्ञान, तकनीक और ब्रह्मांड में हमारे स्थान के बारे में सोचने के लिए प्रेरित करेगा।

अपने विवादित बयानों से चर्चा में रहने के लिए मशहूर फिलीपींस के राष्‍ट्रपति ने एक बार फिर आपत्तिजनक बयान दिया है। अपनी सेना के जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि वे तीन महिलाओं का बलात्कार कर सकते हैं।राष्‍ट्रपति रोडिग्रो डुटार्टे ऐसा बयान मजाक में दिया है। लेकिन रेप पर मजाक करने के लिए चारो ओर उनकी निंदा हो रही है।खबरों अनुसार, दक्षिणी फिलीपींस में मार्शल लॉ लागू करने के बाद वह एक सैनिक शिविर को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सैनिकों को तीन महिलाओं से बलात्कार करने की छूट है। डुटार्टे यहीं नहीं रुके। उन्होंने जवानों से कहा कि वह तीन महिलाओं का रेप कर सकते हैं बाकी वह खुद देख लेगें।उन्होंने कहा, तुम जितना नीचे गिरोगे उतना नीचे मैं भी गिरूंगा। तुम्हें कानून की चिंता करन की कोई जरूरत नहीं है। इस अपराध के लिए मैं और सिर्फ मैं जिम्मेदार हूंगा, तुम लोग सिर्फ अपनी ड्यूटी करो। बाकी मैं सब देख लूंगा। मैं तुम लोगों से खुद को जेल में डलवाऊंगा। इतना कहने के बाद वह मजाक करते हुए हंस पड़े।राष्ट्रपति के इस बयान के बाद चारो ओर निंदा हो रही है। रोडिग्रो डुटार्टे के बयान को लोग घृणित मानसिकता वाला बयान बता रहे हैं। इससे पहले उन्होंने फिलीपींस में हुए एक आतंकी हमले के बाद कहा था कि वह आईएस के आतंकियों से ज्यादा गिरे हुए इंसान हैं। आईएस के आतंकी सिर्फ लोगों के सिर काटते हैं वो तो आतंकियां को नमक लगाकर कच्चा खा जाएंगे। उन्होंने कहा आतंकी जितना ज्यादा क्रूर है वह उनसे 10 गुना ज्यादा क्रूर हैं। उनकी बात पर जब लोग हंसे तो बोले कि यह मजाक मत समझो अगर सैनिक आतंकियों को पकड़ पाते हैं जो यह सच करके दिखाएंगे।

 

नई दिल्ली - दुनिया के सभी विश्वविद्यालयों में कोर्स की समाप्ति पर विद्यार्थियों को डिग्रियां दी जाती हैं। इसके लिए विश्वविद्यालयों में दीक्षांत समारोहों का आयोजन भी किया जाता है। मगर एक अमेरिकी विश्वविद्यालय में बीते दिनों जो दीक्षांत समारोह हुआ, वह अनूठा था। यहां बेटे को डिग्री लेते हुए देखने पहुंची मां को भी एमबीए की डिग्री दे दी गई। ऐसा क्यों हुआ, यह जानना अपने आप में काफी दिलचस्प है।
डिग्री पाने वाली मां का नाम है जूडी ओ’कोन्नोर और उनके बेटे का नाम है मार्टी ओ’कोन्नोर। मार्टी दोनों हाथों और पैरों से लकवाग्रस्त हैं, फिर भी उच्च शिक्षा पाने के जज्बे के साथ उन्होंने चैपमैन यूनिवर्सिटी के एमबीए पाठ्यक्रम में दाखिला लिया। मगर शारीरिक अक्षमता उनकी पढ़ाई के आड़े आ रही थी। ऐसे में जूडी ने बेटे की इच्छा को पूरा करने का बीड़ा उठाया। कोर्स के दौरान वह हर दिन बेटे को क्लास में ले जातीं, उसके साथ लगातार बैठकर लेक्चर सुनतीं और नोट्स बनातीं।
बेटे के लिए मां का यह लगाव और समर्पण, यूनिवर्सिटी के शिक्षकों, प्रशासकों और ट्रस्टियों को इतना भाया कि उन्होंने जूडी को एमबीए की मानद उपाधि देने का निर्णय ले लिया।
दुर्घटना से लकवाग्रस्त हुए मार्टी
अमेरिका की कोलोराडो यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन के बाद मार्टी ने एक पैकेजिंग कंपनी में सेल्समैन के तौर पर काम करना शुरू किया था। इसी बीच 2012 में सीढ़ियों से गिरने की वजह से उन्हें लकवा मार गया। वह अब अपने हाथों और पैरों से कुछ भी करने में अक्षम हैं।
बेटे के लिए छोड़ा राज्य
प्राइमरी टीचर रहीं जूडी फ्लोरिडा में रह रही थीं, मगर जब मार्टी ने दक्षिणी कैलिफोर्निया के ऑरेंज शहर की चैपमैन यूनिवर्सिटी में पढ़ने की इच्छा जाहिर की। इस पर उन्होंने बेटे की मदद के लिए फौरन फ्लोरिडा छोड़ने का निर्णय ले लिया।
नहीं पता था मिलेगी डिग्री
दीक्षांत समारोह में जूडी व्हीलचेयर पर बैठे बेटे को उसकी डिग्री दिलाने गईं थीं। जैसे ही उन्होंने बेटे की डिग्री प्राप्त की, तभी समारोह के उद्घोषक ने यह घोषणा कर दी कि उन्हें एमबीए की मानद उपाधि के लिए चुना गया है। यह सुन वहां मौजूद सभी लोग जूडी के सम्मान में खड़े गए।

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बीजिंग - पूर्वी एशिया के लिये अमेरिका के एक शीर्ष राजनयिक ने कहा कि चीनी अधिकारियों ने वाशिंगटन को बताया है कि उत्तर कोरिया के परमाणु एवं मिसाइल गतिविधियों पर लगाम लगाने के मकसद से उन्होंने उत्तर कोरिया के साथ लगती सीमा पर सुरक्षा बढ़ा दी है।अमेरिका की कार्यवाहक सहायक विदेश मंत्री सुसन थॉर्नटन ने शुक्रवार को बीजिंग में बताया कि उत्तर कोरिया के मिसाइल…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वाशिंगटन - अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दामाद और व्हाइट हाउस के वरिष्ठ सलाहकार जारेड कुशनेर रूस के खिलाफ फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) के निशाने पर हैं। वाशिंगटन पोस्ट और एनबीसी न्यूज के मुताबिक इस मामले में कुशनेर की जांच की जा रही क्योंकि उन्होंने रूस के राजदूत और मास्को के एक बैंकर के अलावा दूसरे अन्य रूसी अधिकारियों से बातचीत की है।…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); एथेंस - ग्रीस की राजधानी एथेंस में हुए एक धमाके में वहां के पूर्व प्रधानमंत्री लुकास पापाडेमॉस घायल हो गए। पुलिस के मुताबिक यह धमाका कार में हुआ है।पुलिस ने बताया कि पापाडेमॉस अब खतरे से बाहर हैं। 69 साल के पापाडेमॉस 2011-2012 में छह महीने तक ग्रीस के प्रधानमंत्री रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री को अस्पताल में भर्ती कराया गया है…
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वाशिंगटन - संघीय अदालत ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के छह मुस्लिम बहुल देशों को निशाना बनाने वाले संशोधित यात्रा प्रतिबंध के खिलाफ आदेश जारी करते हुए कहा कि उनका यह यात्रा प्रतिबंध राष्ट्रीय सुरक्षा के बारे में अस्पष्ट शब्दों के साथ बात करता है लेकिन उनमें धार्मिक असहिष्णुता, वैर-भाव और भेदभाव का पुट रहता है। ट्रंप प्रशासन ने इस लड़ाई को अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट तक…
Page 9 of 139

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें