दुनिया

दुनिया (2208)


बीजिंग - डोकलाम तनाव के बाद चीन का मीडिया कभी युद्ध की धमकी देकर तो कभी अपने हथियारों की शेखी बघार कर, भारत पर एक मनोवैज्ञानिक दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है। इसी कोशिश का ताजा उदाहरण है, एक नया वीडियो जिसमें नस्लभेदी टिप्पणियों के जरिए फिर से चीनी मीडिया ने चुनौती देने की कोशिश की है। इसमें मीडिया ने भारत और भारतीयों का मजाक उड़ाया है।
ट्विटर पर जारी किया वीडियो
डोकलाम में तनाव को दो माह पूरे हो चुके हैं और इस बीच ही चीन की ओर से यह वीडियो रिलीज किया गया है। वीडियो चीन की मीडिया शिन्हुआ ने जारी किया है। अभी तक तो चीनी मीडिया ने खुद को भारत पर कई तरह के आरोप लगाने और इस पर झूठ बोलने के ही आरोप लगाए थे। लेकिन अब चीनी मीडिया ने सभी हदों को पार कर दिया है। ट्विटर पर पोस्ट एक वीडियो के जरिए शिन्हुआ ने भारत पर हमला बोलने के लिए रंगभेद का सहारा लिया है। शिन्हुआ चीनी सरकार की आधिकारिक न्यूज एजेंसी है। इस वीडियो को शिन्हुआ ने 'सेवेन सिन्स ऑफ इंडिया' का टाइटल दिया है और इसके जरिए भारत पर कई तरह के आरोप लगाए हैं।वीडियो में सभी आरोप वही हैं जो कि अभी तक चीनी मीडिया भारत पर लगाता आया है। लेकिन इस बार उसने सीधे तौर पर भारत को एक बुरा पड़ोसी बताया है।
तिब्बत में सेना के ब्लड बैंक
सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच जारी तनाव में अब नई खबर सामने आ रही है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने चीनी मिलिट्री के हवाले से लिखा है कि चीन की मिलिट्री ने तिब्बत क्षेत्र में फिर से ब्लड बैंक स्थापित कर लिए हैं। ग्लोबल टाइम्स ने स्पष्ट तौर पर कुछ भी नहीं लिखा है लेकिन इसे यूद्ध की तैयारियों से जोड़कर देखा जा रहा है। अखबार के मुताबिक अलग-अलग प्रांतों में स्थित कई अस्‍पतालों में खून का प्रयोग नियंत्रित हो गया है। छांगसा के अस्पताल से जुड़े सूत्रों का भरोसा करें तो सेना की ओर से एक ब्लड बैंक फिर से स्थापित किया गया है। इसके अलावा स्थानीय सरकार भी ब्लड डोनेशन अभियान चला रही है।


नयी दिल्ली - रूस के उपभोक्ता सुरक्षा वॉचडॉग रोस्पोट्रेबनादजोर ने बीते पांच सालों में 23,000 से ज्यादा वेबसाइटों की पहचान की है जो आत्महत्या या 'कैसे आत्महत्या की जाए' की सामग्री को बढ़ावा दे रही हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, रोस्पोट्रबनादजोर ने मंगलवार को एक बयान में कहा, एक नवंबर 2012 से रोस्पोट्रबनादजोर ने 25,000 से ज्यादा वेबसाइटों की जांच की है और इनमें से 23,700 के बारे में पाया है कि इनमें आत्महत्या करने के तरीके या आत्महत्या की जानकारी दी गई है।
रूस में बड़ा सामाजिक मुद्दा है आत्महत्या
निगरानी समूह ने कहा है कि उसने किशोरों व बच्चों के बीच ऑनलाइन आत्महत्या को बढ़ावा देने वाले समूहों व समुदायों से जानकारी जुटाने के लिए कानून प्रवर्तन के साथ काम किया है। रूसी सांख्यिकी एजेंसी रोस्टेट के अनुसार रूस में आत्महत्या एक बड़ा सामाजिक मुद्दा है। सरकार ने इस मुद्दे को हल करने के लिए प्रयासों को तेज किया है। इससे आत्महत्या दर लगातार 14 सालों में कम होकर 2015 में 50 सालों में निचले स्तर पर रही।

 


वॉशिंगटन - अमेरिका में भारत के राजदूत नवतेज सरना ने अमेरिका से भारत को होने वाले कच्चे तेल के सबसे पहले निर्यात के पेपर टेक्सास के गर्वनर ग्रेग एबॉट को सौंपे। अमेरिका से भारत को होने वाला कच्चे तेल का यह निर्यात, दोनों देशों के बीच रिश्तों को नई ऊचाईयां देगा। आपको बता दें कि अमेरिका कच्चा तेल निर्यात करने वाला दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है। सितंबर के अंतिम सप्ताह में यह कच्चा तेल भारत पहुंचेगा।
छह मिलियन बैरल से ज्यादा तेल की मांग
सबसे दिलचस्प बात है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश के 71वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी, उसके तीन दिन पहले ही कच्चा तेल भारत रवाना हो चुका था। अमेरिका ने आठ अगस्त से 14 तक कच्चा तेल भारत के लिए भेजने की शुरुआत हो चुकी थी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से इस बात का जिक्र किया जा चुका था कि अमेरिका, भारत को ज्यादा से ज्यादा ऊर्जा उत्पादन करने की ओर देख रहा है। यह बात उन्होंने तब कही थी जब जून में उनकी और पीएम मोदी की पहली मुलाकात हुई थी।
100 मिलियन डॉलर वाला तेल दो किश्तों में आएगा भारत
अमेरिका से छह मिलियन बैरल से भी ज्यादा कच्चा तेल का ऑर्डर इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड की ओर से किया गया था। अमेरिका से पहली दो किश्तों में 100 मिलियन डॉलर की कीमत से दो मिलियन बैरल तेल भारत आ रहा है। इस नए घटनाक्रम के बाद दोनों देशों के बीच तेल का व्यापार करीब दो बिलियन डॉलर से भी ज्यादा का हो जाएगा। भारत के राजदूत नवतेज सरना ने इस पर ट्वीट किया और लिखा, 'नई ऊंचाई, अमेरिका से भारत को तेल का निर्यात शुरू हो गया है।'


नई दिल्ली - भारतीय मूल का 12 साल का लड़का राहुल ब्रिटेन के टीवी शो में हिस्सा लेने के बाद रातों रात स्टार बन गया। चाइल्ड जीनियस नाम का हैशटैग पूरे ट्विटर पर छाया हुआ है। राहुल ने टीवी शो चाइल्ड जीनियस के नए सीजन में 14 में से 14 सवालों के सही जवाब दिए।
राहुल का आएईक्यू लेवल 164 है जो कि अल्बर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से भी ज्यादा है। इसके साथ ही राहुल दुनिया के सबसे पुराने हाई आईक्यू सोसाइटी 'मेन्सा क्लब' का मेंबर बनने के भी योग्य हो गए।
वैसे तो वैज्ञानिकों ने इसे नहीं मापा है लेकिन ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि आईक्यू का लेवल क्या हो सकता है।
चाइल्ड जीनियस के इस सीजन में 08 से 12 साल के कुल 20 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया है। एक हफ्ते तक चलने वाली इस प्रतियोगिता के बाद किसी एक प्रतिभागी को विजेता घोषित किया जाएगा।
राहुल को स्पेलिंग राउंड में फुल मार्क्स मिले हैं, इस दौरान राहुल ने कई तरह के सवालों के जवाब दिए जिनमें स्पेलिंग से लेकर दो शब्दों से गायब किए गए एक ही तरह के दो अक्षरों को पहचानना जैसे सवाल शामिल थे।
सीमित समय के इस खेल में राहुल ने 15 में से 14 सवालों के सही-सही जवाब दिए लेकिन समय की कमी की वजह से राहुल के सामने 15वां सवाल पूछा ही नहीं जा सका।
राहुल का कहना था कि, "मैं हमेशा बेस्ट करना चाहता हूं और मैं वो किसी भी कीमत पर करूंगा। मुझे लगता है कि मैं एक जीनियस हूं। मेरा दिमाग गणित, सामान्य ज्ञान आसानी से और बेहतर समझता है। चीजें याद करना मेरे लिए बेहद ही आम बात है।"
पहले ही राउंड में राहुल के प्रदर्शन से हर कोई चकित है और राहुल देखते ही देखते सोशल मीडिया स्टार बन गए।
वैसे मैथ्स राउंड में राहुल कुछ अंकों से पीछे रह गया लेकिन उनके अच्छे स्कोर की वजह से वो अब भी शो में बना हुआ है। राहुल के मां-बाप का कहना था कि, "वो शो में जीतने के लिए आया है और हमारा काम है उसका सपोर्ट करना... "


पुएरतो - वेनेजुएला में दक्षिणी राज्य अमेजन्स के एक कारागार में सुरक्षा बलों की ओर से की गयी छापेमारी के दौरान हुए टकराव में 37 कैदी मारे गये हैं। मानवाधिकार के कार्यकर्ताओं की लंबे समय से शिकायत थी कि हिंसक गिरोह कई जेलों पर वास्तविक नियंत्रण कर रहे हैं तथा जेल में उनके पास हथियार और हथगोले भी मौजूद हैं।
सरकार समय-समय पर सुरक्षा बलों को भेजकर जेल को नियंत्रित करने की कोशिश करती है लेकिन अक्सर घातक टकराव सामने आते हैं। अमेजन्स के गर्वनर लिबेरियो ग्वारूल्ला ने आज इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि सुरक्षा बलों ने कल रातभर जेल में छापे मारे जिसमें 37 कैदी मारे गये हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा“यह नरसंहार था।“इस मामले में सूचना मंत्रालय की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं आयी है।


बीजिंग - सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच जारी तनाव में अब नई खबर सामने आ रही है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने चीनी मिलिट्री के हवाले से लिखा है कि चीन की मिलिट्री ने तिब्बत क्षेत्र में फिर से ब्लड बैंक स्थापित कर लिए हैं। ग्लोबल टाइम्स ने स्पष्ट तौर पर कुछ भी नहीं लिखा है लेकिन इसे यूद्ध की तैयारियों से जोड़कर देखा जा रहा है।
खून का नियंत्रित प्रयोग
अखबार के मुताबिक अलग-अलग प्रांतों में स्थित कई अस्‍पतालों में खून का प्रयोग नियंत्रित हो गया है। छांगसा के अस्पताल से जुड़े सूत्रों का भरोसा करें तो सेना की ओर से एक ब्लड बैंक फिर से स्थापित किया गया है। इसके अलावा स्थानीय सरकार भी ब्लड डोनेशन अभियान चला रही है। छांगसा, हुनान प्रांत की राजधानी है। वहीं हुबेई और ग्यूआंगक्सी झुआंग क्षेत्र हैं, वहां पर भी कुछ अस्पतालों में भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। सिचुआन प्रांत के जिउझाईग्यू में आए भूकंप से पहले भी यहां पर खून के स्टॉक को आठ अगस्त को स्थानांतरित किया गया था। अब इन्हें तिब्बत ट्रांसफर किया जा रहा है।
चीन और भारत की तुलना
ग्लोबल टाइम्स की मानें तो भारत को अब अपने रवैये का नतीजा भुगतना होगा। अखबार ने दावा किया है कि चीनी सेना के पास जो हथियार हैं, वह भारत के मुकाबले काफी बेहतर हैं। ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि भारत ने पिछले दिनों अमेरिका और रूस से कई तरह के हथियार खरीदे हों, लेकिन चीन के हथियारों के तुलना में वे काफी हल्के हैं।लॉन्ग रेंज रॉकेट आर्टिलरी में चीन न सिर्फ भारत से आगे है बल्कि दुनिया में सबसे बेहतर भी है। आपको बता दें कि बुधवार को दोनों देशों की सेनाओं के बीच लद्दाख के पेंगोंग झील के पास झड़प हुई थी। कहा गया है कि मंगलवार सुबह पेंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर दोनों सेनाओं के बीच टकराव हुआ था। घुसपैठ की कोशिश नाकाम होने के बाद चीनी सैनिक पत्थरबाजी करने लग गए, जिसका जवाब भारत की ओर से भी दिया गया।

वॉशिंगटन - नस्लभेद के खिलाफ अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का एक संदेश इतिहास का सर्वाधिक पसंद किया जाने वाला ट्वीट बन गया है। ओबामा ने गत शनिवार को शर्लोट्सविले में हुई हिंसा पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला के संदेश को दोहराते हुए लिखा, ‘त्वचा के रंग, पृष्ठभूमि या धर्म की वजह से कोई भी व्यक्ति किसी दूसरे के खिलाफ नफरत लेकर पैदा नहीं होता।’उनके इस…
नई दिल्ली - कनाडा की एक महिला की खुशियों का तब ठिकाना नहीं रहा जब उनकी सालों पहले खोई डायमंड रिंग उनके सब्जी के बगीचे में लगे गाजर के साथ बाहर निकली। 2004 में अल्बर्टा के अपने फैमिली फार्म में शादी के दौरान उनकी अंगूठी खो गई थी। मैरी के बेटे के सिवा अंगूठी खो जाने की बात और किसी को भी मालूम नहीं थी। सोमवार को मैरी की बहू…
मडीरा - पुर्तगाल के द्वीपसमूह मडीरा में एक उत्सव के दौरान पेड़ गिरने से 13 लोगों की मौत हो गई जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए हैं। एक वीडियो में मुख्य शहर फुंसल में एक धार्मिक त्योहार मनाने के लिए इकट्ठा हुए लोगों पर पेड़ को गिरते देखा गया। पुर्तगाल के ब्रॉडकास्टर आरटीपी की एक रिपोर्ट के मुताबिक मृतकों में दो बच्चे भी हैं। यह घटना मंगलवार को स्थानीय समयानुसार…
वाशिंगटन - पाकिस्तान में धार्मिक स्वतंत्रता पर लगातार हमले हो रहे हैं जहां सिख, ईसाई और हिंदुओं जैसे अल्पसंख्यक जबरन धर्मांतरण की समस्या से निपटने में सरकार के अपर्याप्त कावार्ई से चिंतित रहते हैं।अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन द्वारा जारी रिपोर्ट में कहा गया कि धार्मिक अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्यों का कहना है कि कानून, न्याय और मानवाधिकार के संघीय मंत्रालय और उसके प्रांतीय समकक्षों द्वारा संघीय और प्रांतीय…
Page 1 of 158

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें