Editor

Editor

नई दिल्ली:-हवाई सेवा मुहैया कराने वाली कंपनियों के बीच कम किराये की जंग को और तेज करते हुए स्पाइसजेट ने एक धमाकेदार ऑफर को बाजार में लॉन्च किया है। इस ऑफर के तहत कुछ निश्चित स्थानों की दूरी तक हवाई सेवा का प्रयोग करने के लिए 444 रुपए के आधार किराये की पेशकश की। यह योजना उसके घरेलू नेटवर्क की सीमित सीटों पर सीमित अवधि के लिए है।अभी कुछ समय पहले ही कंपनी ने मानसून बोनांजा सेल की घोषणा की थी। इस संबंध में एयर पैसेंजर्स एसोसिशन ऑफ इंडिया ने विमानन क्षेत्र के नियामक डीजीसीए को एक पत्र लिखकर यह जानकारी मांगी है कि क्या वह एयरलाइनों द्वारा दी जा रही ऐसी फर्जी योजनाओं पर कार्रवाई करने का विचार कर रही है।स्पाइस जेट ने बताया कि पांच दिन की इस सेल के तहत बुकिंग 26 जून की मध्यरात्रि तक होगी। इस योजना के तहत एक जुलाई से 30 सितंबर के बीच की यात्रा के लिए बुकिंग कराई जा सकती है। इस योजना में जम्मू-श्रीनगर, अहमदाबाद मुंबई, मुंबई-गोवा, दिल्ली-देहरादून और दिल्ली-अमतसर मार्गों के साथ अन्य कुछ और मार्गो पर भी हवाई यात्रा की जा सकती है।

नई दिल्‍ली : भारतीय रेल अब अपने मुसाफिरों को यह बताने जा रही है कि ट्रेन टिकट पर उन्‍हें कितनी रियायत दी जा रही है। जानकारी के अनुसार, रेलवे ने अपने सभी आरक्षित एवं अनारक्षित टिकटों पर मैसेज लिखना शुरू कर दिया है। जिसमें यह बताया जा रहा है कि रेलवे टिकट पर 43 फीसदी रियायत दे रही है। रेल यात्रियों से महज 57 फीसदी किराया ही वसूला जा रहा है। रेलवे के इस संदेश पर बारीकी से गौर करें तो यह साफ है कि लोग रेल में आधी कीमत पर सफर करते हैं। रेलवे के इस कदम से जो सबसे बड़ा उभरा है कि क्‍या रियायत बताकर रेल किराया बढ़ाने की तैयारी की जा रही है।भारतीय रेलवे के इतिहास में अब सरकार पहली बार यात्रियों को उनके टिकटों पर यह लिख कर बता रही है कि वे लागत मूल्य से करीब आधे खर्च पर यात्रा कर रहे हैं। अगर आपका रेल टिकट 57 रुपए का है तो आपकी यात्रा का वास्तविक खर्च सौ रुपए है। इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ जब टिकटों पर यात्रा का लागत मूल्य और किराया लिख कर यह बताने की कोशिश की गई हो।अब आप जब कभी रेल में सफर करेंगे तो टिकट बताएगी कि रेलवे आप पर कितना खर्च करती है। रेलवे टिकट पर रियायत वाले इस संदेश पर लोगों को हैरानी जरूर हुई है। इसका कारण यह है कि आम लोगों को अभी तक इस बात की जानकारी नहीं थी कि रेल टिकट की कीमत में सरकार की ओर से रियायत दी जा रही है।   रेलवे टिकट पर सब्सिडी प्रिंट करेगी और यात्रियों को बताएगी कि रियायत पर कितना भार वहन करना पड़ रहा है। इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ जब टिकटों पर यात्रा का लागत मूल्य और किराया लिख कर यह बताने की कोशिश की गई हो। रियायत पर सफर को लेकर सरकार ने यात्रियों को इसका एहसास करने के लिए आरक्षण टिकट पर यह छपवाना शुरू कर दिया है।विशषज्ञों के अनुसार, सरकार ऐसा कदम इसलिए उठा रही है कि यदि किराये में बढ़ोतरी की गई तो लोग उसका विरोध न करें। रेलवे को यात्री गाड़ियों से लगातार घटा हो रहा है जिसकी भरपाई गुड्स ट्रेनों की कमाई से की जाती है। यह स्थिति पिछले बीस सालों से है। सरकार ने घाटे में कमी के लिए सुपर फास्ट चार्ज समेत कई चार्ज में वृद्धि की है। चार्ट बनने के चार घंटे बाद कंफर्म टिकट और ट्रेन चलने के आधे के बाद वेटिंग टिकट वापसी भी बंद कर दी गईहै।

नई दिल्ली : गोपनीयता सुनिश्चित करने के लिए आयकर विभाग ने कालाधन रखने वालों को पाक साफ होने के लिए एकमुश्त व्यवस्था के तहत खुलासा करने वालों के लिए सिर्फ वरिष्ठ अधिकारियों को एकल संपर्क के तौर पर नियुक्त किया है।आयकर खुलासा योजना 2016 के तहत चार महीने की सुविधा एक जून के तहत शुरू हुई है जिसके तहत देश में कालाधन रखने वाले लोग इसका खुलासा कर सकते हैं। उन्हें बेहिसाब संपत्ति पर 45 प्रतिशत कर और जुर्माना चुकाना होगा। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने अधिकारियों से यह भी कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि करदाताओं को इस योजना के बारे में जानकारी हो और उन्हें पर्याप्त मार्ग निर्देशन मिले।सीबीडीटी ने कहा है कि सिर्फ उक्त क्षेत्राधिकार के प्रधान आयुक्त या आयकर आयुक्त ही ऐसे अधिकारी होंगे जिनके सामने खुलासा किया जा सकता है। सीबीडीटी ने एक आधिकारिक सूचना में कहा, ‘ऐसे अधिकारी खुलासा करनेवालों के लिए एक मात्र संपर्क बिंदु होंगे। इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि काले धन का खुलासा करने वालों को दफ्तर में कई लोगों के सामने जानकारी न देनी पड़े ताकि उनकी गोपनीयता से कोई समझौता न हो और वे आसानी से इस प्रक्रिया को निपटा सकें।’ सीबीडीटी ने कहा कि उन अधिकारियों को खुलासे के समय हर तरह की प्रक्रियात्मक सुविधा प्रदान की जाए ताकि कार्यालय में किसी और अतिरिक्त बातचीत की जरूरत न पड़े। पत्र में कहा गया, ‘इस योजना के सभी संबंधित रिकार्ड संबंधित अधिकारी की व्यक्तिगत देख-रेख में सुरक्षित तरीके से रखे जाएं।’ सीबीडीटी ने यह भी निर्देश दिया कि हर शहर जहां प्रधान आयुक्त तैनात हैं, मदद के लिए एक सुविधा केंद्र खोला जा सकता है ताकि योजना के बारे में जानकारी मुहैया कराई जा सके।

नई दिल्ली : पेंशन योजना में बचत को प्रोत्साहित करने के इरादे से कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) उन सभी अंशधारकों को 8.16 प्रतिशत अधिक पेंशन देगा जो 60 साल तक लाभ टाले जाने का विकल्प चुनते हैं।एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जो भी अंशधारक कर्मचारी पेंशन योजना 1995 के तहत अपने पेंशन को 59 साल की उम्र तक टालते हैं, उन्हें 58 साल में मिलने वाले पेंशन के मुकाबले 4.0 प्रतिशत अधिक पेंशन मिलेगा।अधिकारी ने कहा कि इस संदर्भ में अधिसूचना इस वर्ष 25 अप्रैल को जारी की गयी ताकि अंशधारको को अनिवार्य उम्र सीमा 58 साल के उपर योगदान देने के लिये प्रोत्साहन मिले। ईपीएफओ ने योजना में 60 साल की उम्र तक योगदान की भी अनुमति दी है।अधिकारी ने कहा कि ईपीएफओ न्यासी की 7 जुलाई को बैठक होगी जिसमें विभिन्न मुद्दों पर विचार किया जाएगा। इसमें अंशधारकों के लिये आवास योजना शामिल है।

नई दिल्ली : वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि कपड़ा को प्रोत्साहन पैकेज के जरिये जो अतिरिक्त रफ्तार देने का प्रयास किया गया है, उससे रोजगार के और अवसर पैदा होंगे तथा निर्यात बढ़ेगा।मंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘यह ऐसा क्षेत्र है जिसमें भारत काफी लाभ की स्थिति में है। इसमें रोजगार सृजन की काफी क्षमता है।’ उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र को कुछ अतिरिक्त बढ़ावा विभिन्न वैश्विक घटनाक्रमों की वजह से दिया गया है।केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को कपड़ा एवं परिधान क्षेत्र के लिए 6,000 करोड़ रूपये के पैकेज की मंजूरी दी थी। इससे अगले तीन साल में एक करोड़ रोजगार के अवसरों का सृजन होगा तथा 11 अरब डालर का निवेश आकर्षित किया जा सकेगा। साथ ही इससे 30 अरब डालर का निर्यात हासिल किया जा सकेगा।भारत के कपड़ा क्षेत्र को बांग्लादेश और वियतनाम जैसे छोटे देशों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर निकलने यानी ब्रेक्जिट के बारे में पूछे जाने पर सीतारमण ने कहा कि सरकार स्थिति पर नजर रखे हुए है। उन्होंने कहा कि हमारी स्थिति पर निगाह है। अभी इस पर मेरे लिए टिप्पणी करना जल्दबाजी होगा।भारत-यूरोपीय संघ की रकी मुक्त व्यापार वार्ता के बारे में सीतारमण ने कहा कि भारत को बातचीत दोबारा शुरू करने के लिए तारीखों का इंतजार है। एकल ब्रांड खुदरा क्षेत्र के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति में बदलाव के बाद एपल इंक के एकल ब्रांड खुदरा स्टोर खोलने के प्रस्ताव पर मंत्री ने कहा, ‘हमने नीति की घोषणा कर दी है। हमें उनकी बात का इंतजार है।’

नई दिल्ली : सॉफ्टबैंक के अध्यक्ष और मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) निकेश अरोड़ा ने बीते दिनों अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है लेकिन एक साल तक वह कंपनी में सलाहकार की भूमिका निभाते रहेंगे। 48 वर्षीय अरोड़ा का जन्म भारत में हुआ है। निकेश का इस्‍तीफा बिजनेस ही नहीं, बल्कि अन्‍य क्षेत्र में भी सुर्खियां बटोर रहा है। भारत में जन्‍मे निकेश अरोरा पर पैसे की हेराफेरी करने के आरोप थे, लेकिन कंपनी ने उन्हें ‍क्लीन चिट दे थी लेकिन उन्‍होंने इस्‍तीफा देकर उद्योग जगत में खलबली मचा दी। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से ताल्लुक रखने वाले निकेश अरोड़ा की गिनती दुनिया के सबसे अमीर कॉर्पोरेट एक्जीक्यूटिव में होती है। अचानक से सबसे अधिक सैलरी पाने वाला कोई भारतीय इस्‍तीफ दे तो इस फैसले पर सवाल तो उठेंगे ही।सॉफ्टबैंक के प्रेसिडेंट और सीओओ निकेश अरोड़ा को वित्‍त वर्ष 2015-16 में 500 करोड़ रुपये (7.3 करोड़ डॉलर) का सैलरी पैकेज मिला था। वे लगातार दूसरे साल ब्लूमबर्ग की दुनिया के टॉप-पेड एक्जीक्यूटिव की लिस्ट में थे। उनकी सैलरी एप्पल के सीईओ टिम कुक और वॉल्ट डिज्नी के बॉब ईगर के आसपास थी। निकेश पर पैसे की हेराफेरी का आरोप भी था. हालांकि बैंक की तरफ से सोमवार को साफ किया गया था स्पेशल कमेटी की रिपोर्ट में निकेश को क्लीन चिट मिल गई है।निकेश की सालाना कमाई 500 करोड़ रुपए के करीब थी, इस वजह से वह दुनिया के उन अधिकारियों में शामिल थे जिन्हें सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है। इससे पहले ज्वाइनिंग बोनस मिलाकर उन्हें 850 करोड़ रुपए मिले थे। निकेश अरोड़ा के सीईओ रहते सॉफ्टबैंक ने भारत में बड़े पैमाने पर निवेश किया है। सॉफ्टबैंक ने स्नैपडील में 62.7 करोड़ डॉलर का निवेश किया है। ओला कैब्स में 21 करोड़ डॉलर का निवेश सॉफ्टबैंक का ही है। इनमोबी में 20 करोड़ डॉलर का निवेश किया। सॉफ्टबैंक ने हाउसिंग डॉट कॉम, ओयो रूम्स और ग्रोफर्स में भी निवेश कर रखा है। सॉफ्टबैंक ज्‍वाइन करने के बाद अरोड़ा ने कंपनी ने दुनियाभर के स्‍टार्टअप में करीब 400 करोड़ डॉलर इन्‍वेस्‍ट किए।भारत में जन्मे निकेश अरोड़ा के लिए जापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप से 2014 में जुड़ना एक बड़ा कदम था। 48 साल के अरोड़ा इससे पहले गूगल में थे। ‌वह वहां पर सबसे ज्यादा सैलरी वाले एग्जिक्यूटिव्स में से थे।सॉफ्टबैंक ने एक बयान में बताया कि अरोरा का इस्तीफा 22 जून से मान्य होगा। अरोरा सॉफ्टबैंक ग्रुप के प्रतिनिध निदेशक, अध्यक्ष एवं मुख्य परिचालन अधिकारी पद संभाल रहे थे। कंपनी की 36वीं वार्षिक आम सभा में 22 जून को उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाएगा। अरोरा ने एक ट्वीट में कहा कि वह कंपनी में सलाहकार कर भूमिका निभाएंगे जो एक जुलाई से प्रभावी होगा।निकेश ने मंगलवार को खुद ट्वीट कर अपने इस्‍तीफे की जानकारी दी। अरोड़ा ने कहा कि अपनी एलिजिबिलिटी को लेकर उठे सवालों पर कंपनी बोर्ड से क्‍लीन चिट मिलने के बाद उन्‍होंने पद छोड़ा है। अरोड़ा ने अपने ट्वीट में लिखा है कि मासा अगले 5-10 साल तक सीईओ बने रहेंगे, मैं उनका सम्‍मान करता हूं। मैंने बहुत सीखा। जांच के बाद बोर्ड ने मुझे क्‍लीन चिट दी। अब आगे बढ़ने का समय है।

ताशकंद:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन की यात्रा पर ताशकंद पहुंच चुके हैं। पीएम मोदी ने ताशकंद में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चीन के दबदबे वाले समूह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के वार्षिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए दो दिन की यात्रा पर आज यहां पहुंचे जहां उनका गरमजोशी से स्वागत किया गया।उज्बेक प्रधानमंत्री शौकत मीरोमोनोविच मिरजियोएव विशेष सम्मान जताते हुए मोदी की आगवानी के लिए खुद ताशकंद हवाई अड्डा पहुंचे।आज से शुरू एससीओ के दो दिन के शिखर सम्मेलन में पाकिस्तान के साथ भारत को पूर्ण सदस्यता देने की प्रक्रिया का आगाज होगा।बहरहाल, निगाहें चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ मोदी की द्विपक्षीय मुलाकात पर होगी। यह मुलाकात आज बाद में होगी जिसमें उम्मीद की जा रही है कि मोदी परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता पर चीन के समर्थन का आग्रह करेंगे। एनएसजी संवेदनशील परमाणु प्रौद्योगिकी तक पहुंच को नियंत्रित करता है।चीन ने एनएसजी में भारत के प्रवेश पर अपने विरोध का स्पष्ट तौर पर इशारा करते हुए कल एनएसजी के सदस्य देशों के बीच के मतभेदों को रेखांकित किया और कहा कि अब भी इस मुद्दे पर पक्षों का समान रूख अपनाना बाकी है। बहरहाल, चीन ने कहा कि वह वार्ता में रचनात्मक भूमिका निभाएगा।

लंदन:-ब्रिटेन में गुरुवार को ऐतिहासिक जनमत संग्रह के लिए मतदान शुरू हो गया है। यह जनमत संग्रह ब्रिटेन के यूरोपीय संघ (ईयू) का सदस्य बने रहने या इससे बाहर निकलने को लेकर कराया जा रहा है।‘बीबीसी’ की रिपोर्ट के मुताबिक, मतदान स्थानीय समयानुसार सुबह सात बजे शुरू हुए, जो रात 10 बजे तक चलेंगे।इस जनमत संग्रह में 46 करोड़ 49 लाख 9 हजार 537 लोगों के हिस्सा लेने का अनुमान है, जो किसी भी ब्रिटिश चुनाव के संबंध में रिकॉर्ड संख्या है।देश के इतिहास में यह तीसरा राष्ट्रव्यापी जनमत संग्रह है। इससे पहले करीब चार महीने तक ब्रिटेन के यूरोपीय संघ में बने रहने तथा इससे बाहर होने का अभियान चलाने वाले समूहों ‘रिमेन’ और ‘लीव’ के बीच खींचतान चलती रही।जनमत संग्रह के मत-पत्र पर सवाल है: ‘ब्रिटेन को यूरोपीय संघ में बने रहना चाहिए या इससे बाहर निकल जाना चाहिए?’जिस भी पक्ष को आधे से अधिक मत मिलेंगे, उसे विजेता माना जाएगा।जनमत संग्रह होने के बाद सीलबंद मत पेटी को संग्रहित कर मतगणना के लिए प्रत्येक 382 स्थानीय मतगणना क्षेत्रों में ले जाया जाएगा।ये इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स के सभी 380 स्थानीय सरकारी क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसके साथ ही उत्तरी आयरलैंड और जिब्राल्टर के भी 1-1 क्षेत्र हैं।

ओपिनियन पोल में ज्यादातर लोग यूरोपीय संघ में बने रहने के समर्थक:-जनमत संग्रह से एक दिन पहले बुधवार को किए गए एक ओपिनियन पोल के अनुसार, देश के यूरोपीय संघ में बने रहने का अभियान बाहर होने के मुकाबले बढ़त हासिल कर रहा है।कोमरिस का यह टेलीफोन सर्वेक्षण 17 जून से 22 जून के बीच डेली मेल समाचार पत्र और आईटीवी टेलीविजन के लिए किया गया।सर्वेक्षण के परिणाम के अनुसार 48 फीसदी लोगों ने यूरोपीय संघ में बने रहने का समर्थन किया है जबकि 42 फीसदी लोग यूरोपीय संघ से बाहर होने के पक्ष में है।‘द सन’समाचार पत्र के लिए पहले किए गए कोमरिस के सर्वेक्षण में यूरोपीय संघ में बने रहने के अभियान को केवल एक प्वाइंट से बढ़त मिली थी। यह सर्वेक्षण 14 जून को प्रकाशित हुआ था।

बीजिंग:-वित्त मंत्री अरुण जेटली और चीन के उनके समकक्ष मंत्री लू जिवेई के बीच अगले सप्ताह होने वाली भारत-चीन वित्तीय वार्ता रद्द हो गई है। जेटली आज बीजिंग पांच दिन की यात्रा पर पहुंचने वाले हैं और वह पहले से तय आठवीं वित्तीय वार्ता समेत विभिन्न समारोहों में हिस्सा लेने वाले हैं।इस घटनाक्रम के जानकार सूत्रों ने कहा कि वार्ता रद्द हो गई। यह वार्ता इसलिए रद्द हो गई कि आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास इसमें हिस्सा नहीं ले पा रहे थे। दोनों देशों के बीच सात दौर की वित्तीय वार्ताएं हुई हैं लेकिन इन सब में प्रमुख भूमिका में दोनों पक्षों के वित्तीय सचिव थे।सातवें दौर की वार्ता नयी दिल्ली में 2014 में हुई थी। आधिकारिक तौर पर पहले बताया गया था कि दोनों मंत्रियों के बीच वार्ता 27 जून को होनी है। वार्ता के जरिए दोनों देश हर तरह के अंतरराष्ट्रीय और आर्थिक एवं वित्तीय सहयोग बढ़ाने के लिए द्विपक्षीय मुददों पर सालाना समीक्षा और चर्चा होती है।

वाशिंगटन:-अमेरिकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि हिलेरी क्लिंटन अमेरिकी इतिहास की सबसे भ्रष्ट उम्मीदवार हैं।ट्रम्प ने बुधवार को एक रैली के दौरान कहा, वह विश्व की सबसे बड़ी झूठी महिला हैं और जब वह विदेश मंत्री थीं तो इसका इस्तेमाल उन्होंने राजनीतिक लाभ लेने में किया।उन्होंने कहा, 'वह अमीर हो रही हैं और आपको गरीब बना रही हैं।'ट्रम्प ने कहा कि उसमें राष्ट्रपति बनने की कोई स्वभाव नजर नहीं आता और वह इस्लामिक आतंकवाद के खतरे से हमेशा इनकार करती रही है।हिलेरी ने ट्रंप के भाषण को अधिक पाखंडी करार दिया। उनके प्रवक्ता ने कहा, 'सभी अर्थशास्त्री इस बात पर सहमत हैं कि उनकी आर्थिक नीतियां काफी खतरनाक हैं, जो देश को मंदी की ओर ले जायेगा।'

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें