Editor

Editor

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद और डॉ जगन्नाथ मिश्र की औपबंधिक जमानत की अवधि तीन जुलाई तक बढ़ा दी गई है। जमानत की अवधि बढ़ाते हुए कोर्ट ने 29 जून तक मेडिकल रिपोर्ट कोर्ट में प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। दोनों बीमार हैं और दोनों का ईलाज चल रहा है। शुक्रवार को दोनों की ओर से जमानत की अवधि बढ़ाने का आग्रह किया गया था।राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की औपबंधिक जमानत की अवधि 29 जून को समाप्त हो रही थी। उनकी तरफ से अवधि बढ़ाने का आग्रह करते हुए कहा गया है कि उनका प्लेटलेट कम हो गया है। शुगर बढ़ा हुआ है। ब्लड प्रेशर भी है। मुंबई के एक निजी अस्पताल में ईलाज चल रहा है।डॉक्टरों के अनुसार अभी स्थिति ठीक नहीं है और लंबे इलाज की जरूरत है। इस कारण उनकी जमानत की अवधि बढ़ाई जाए। इस आग्रह को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीएन पटेल की अदालत ने स्वीकार करते हुए तीन जुलाई तक अवधि बढ़ा दी और 29 जून को सुनवाई निर्धारित की।

पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने शुक्रवार को ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। एपीएमएल के नए अध्यक्ष मोहम्मद अमजद ने इसकी जानकारी दी। अमजद ने कहा कि पूर्व सैन्य शासक ने अपना इस्तीफा निवार्चन आयोग को भेज दिया, क्योंकि उनके लिए ज्यादा समय तक पार्टी को विदेश से चलाना संभव नहीं था।इस हफ्ते की शुरुआत में चुनाव संस्था ने मुशर्रफ का एनए-1 चित्राल से नामांकन पत्र खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट द्वारा मुशर्रफ को आगामी चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की सशर्त मंजूरी को वापस लेने के बाद उनका नामांकन खारिज किया। सुप्रीम कोर्ट ने मुशर्रफ के अदालत में पेश नहीं होने पर अपनी सशर्त मंजूरी वापस ले ली।पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अहमद इससे पहले पार्टी के महासचिव थे। उन्हें पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया है। वह अब पार्टी के सभी मामलों को निर्देशित करेंगे और एपीएमएल की चुनाव में भूमिका तय करेंगे। जियो न्यूज के अनुसार, पार्टी ने निवार्चन आयोग को अध्यक्ष पद के बदलाव के बारे में अधिसूचित करते हुए एक औपचारिक आग्रह भेजा है।रिपोर्ट में कहा गया है कि मुशर्रफ इस्तीफे के बावजूद एपीएमएल के सुप्रीमो बने रहेंगे। मुशर्रफ ने एपीएमएल की 2010 में स्थापना की थी। पार्टी के मतदान से दो दिन पहले 2013 के चुनाव के बहिष्कार की घोषणा के बावजूद इसके दो उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा और चित्राल से दो सीटों पर जीत दर्ज की। सेवानिवृत्त जनरल मुशर्रफ को 2013 में उनके खिलाफ दाखिल मामलों की वजह से चुनाव लड़ने से रोक दिया गया था।

योगगुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने 50 हजार से ज्यादा वैकेंसी निकाली है। पतंजलि ने विज्ञापन जारी करते हुए कहा है कि कंपनी के फूड ( आटा, राइस, जूस, ऑयल, बिस्किट) पर्सनल केयर, होम केयर और आस्था पूजा सामग्री विभाग में सेल्समैन की आवश्यकता है। हर जिले में 40 से 50 सेल्समैन रखे जाएंगे। होम डिलिवरी और रेडी स्टॉक सेल्स के लिए 50 से 100 युवाओं की जरूरत है। रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि 22 जून (आज) है। 23 जून से 27 जून तक सेलेक्शन और ट्रेनिंग कैंप लगेंगे।इन पदों के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार का 12वीं पास होना अनिवार्य है। बीए, एमए और एमबीए पास लोग भी आवदेन कर सकते हैं। एफएमसीजी सेक्टर में 1 से 2 साल का अनुभव रखने वाले उम्मीदवार को प्राथमिकता दी जाएगी।सैलरी 8000 से 15000 रुपये के बीच होगी। सैलरी शहर और योग्यता के हिसाब से मिलेगी। सेल्समैन को सैलरी पतंजलि के मुख्य डिस्ट्री्ब्यूटर द्वारा दी जाएगी।
ऐसे करें आवेदन;-इन पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को जिले के पतंजलि प्रभारी/ए.एस.एम से सम्पर्क करना होगा। आवेदन की कोई फीस नहीं है।

दक्षिणी कश्मीर के नौशेरा गांव में शुक्रवार को हुई मुठभेड़ में चार आतंकी मारे गए जबकि एक पुलिस का जवान शहीद हो गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, वहां पास ही पुलिस और स्थानीय लोगों की झड़प में एक स्थानीय नागरिक भी मारा गया। मारे गए चार आतंकवादियों में से एक की पहचान पुलवामा जिले के तलंगम गांव के निवासी मजीद मंजूर के रूप में हुई है, जबकि एक अन्य की पहचान श्रीनगर के एचएमटी इलाके के निवासी के रूप में हुई है। दो आतंकवादियों की शिनाख्त होनी अभी बाकी है। मौतों की पुष्टि करते हे जम्मू कश्मीर के महानिदेश एसपी वैद्य ने ट्वीट करते हुए कहा कि मुठभेड़ में मारे गए दो आतंकी इस्लामिक स्टेट ऑफ जम्मू एंड कश्मीर (आईएसजेके) जुड़े हुए थे। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पुलिस ने उनमें से एक आतंकी की पहचान आईएसजेके चीफ दाऊद के तौर पर की है।वैद्य ने ट्वीटर पर इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि आतंकियों के दो और शव बरामद हुए हैं। जिसके बाद मरनेवाले कुल चार आतंकी हो गए हैं।त्रों के मुताबिक, शुक्रवार की सुबह अनंतनाग टाउन से करीब 10 किलोमीटर दूर आतंकी एक घर के अंदर छिपे हुए थे और जैसे ही सेना के जवानों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया वे उन पर खुलेआम फायरिंग करने लगे। जैसे ही मुठभेड़ शुरू हुई गांववालों ने सुरक्षाबलों पर पत्थर फेंकने शुरू किए ताकि उन आतंकियों को वहां से भगाया जा सके। इस हिंसक झड़प पर एक नागरिक मारा गया जबकि 12 अन्य लोग घायल हो गए। पुलिस ने बताया कि मोहम्मद युसूफ नाम के शख्स की मौत हो गई जबकि उसकी पत्नी को शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज ले जाया गया है जहां पर स्थिति बेहद गंभीर बनी हुई है।मुठभेड़ को देखते हुए श्रीनगर में इंटरनेट की सेवाएं रोक दी गई। राज्य में राज्यपाल शासन लागू करने के बाद आतंकियों से सुरक्षाबलों का यह पहली मुठभेड़ थी। इससे पहले त्राल में हुए मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए थे।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने महागठबंधन की कोशिशों को झटका दिया है। तृणमूल कांग्रेस पार्टी की महत्वपूर्ण बैठक में ममता ने बीजेपी, काग्रेस के साथ सीपीएम पर भी जोरदार हमला बोला। इसके साथ ही, उन्होंने इस दौरान बीजेपी को माओवादियों के साथ भी जोड़ा दिया।
ममता का बीजेपी-कांग्रेस-सीपीएम पर एकसाथ हमला:-पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने बीजेपी, कांग्रेस, सीपीएम और माओवादियों पर आरोप लगाया कि बंगाल में उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ हाथ मिला लिए हैं। उन्होंने कहा कि कहा कि सीपीएम बीजेपी के चरणों में गिरी हुई है और डूबने से बचने के लिए उनके तिनकों का सहारा ले रही है। तो दूसरी तरफ, कांग्रेस दिल्ली में भाजपा का विरोध कर रही है और यहां उनसे हाथ मिला रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नियम और सिद्धांत कहा हैं? उन्होंने कहा कि सीपीएम, माओवादी और भाजपा ये सभी समाज के कलंक हैं।
ईवीएम से छेड़छाड़ बीजेपी की आदत-ममता:-ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि राज्य में वोट प्रतिशत बढ़ाने के लिए भगवा दल ईवीएम से छेड़छाड़ कर रहा है। उन्होंने कहा, 'मतदाता सूची के पुनरीक्षण का काम शुरू हो गया है। सुनिश्चित करिए की प्रक्रिया का पालन किया जाए। ईवीएम से छेड़छाड़ करना भाजपा की आदत है। हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं को सतर्क रहना चाहिए और उनकी निगरानी करनी चाहिए।'
टीएमसी कार्यकर्ताओं को भी लगाई फटकार:-सीएम ममता बनर्जी ने कार्यकर्ताओं को कड़ा संदेश देकर उनसे अंदरूनी कलह और आत्मसंतोष से बाज आने और एकजुट होकर काम करने को कहा। ममता ने आदिवासी जंगलमहल इलाके में कार्यकर्ताओं के एक तबके पर पिछले महीने हुए पंचायत चुनाव में निष्क्रिय रहने का आरोप लगाया, जिसकी वजह से पार्टी को कुछ सीटों पर शिकस्त का सामना करना पड़ा। तृणमूल कांग्रेस की विस्तारित कोर समिति की बैठक में ममता ने कहा, 'हमने वर्षों के संघर्ष के बाद पार्टी (तृणमूल कांग्रेस) बनाई। हम लोगों के समर्थन से सत्ता में आए। अगर कुछ (कार्यकर्ता) यह सोचते हैं कि वे पार्टी से बड़े हैं तो बाहर जाने के लिए दरवाजा खुला है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अपनी एक दिवसीय मध्य प्रदेश यात्रा के दौरान प्रदेश सरकार की कई विकास परियोजनाओं का लोकार्पण करेगें। इनमें एक सिंचाई परियोजना और शहरी परिवहन योजना शामिल हैं। प्रदेश में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए प्रधानमंत्री की प्रदेश यात्रा और विकास परियोजनाओं के लोकार्पण को अहम माना जा रहा है। मोहनपुरा सिंचाई परियोजना देश की ऐसी पहली ऐसी परियोजना है, जिससे सबसे लंबी प्रेशरयुक्त पाइप लाइन की अंडर ग्राउंड नहर से 1 लाख 35 हजार हेक्टेयर जमीन में सिंचाई की जाएगी।आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी प्रदेश यात्रा के दौरान राजगढ़ जिले की मोहनपुरा वृहद सिंचाई परियोजना और इंदौर में प्रदेश सरकार की शहरी परिवहन योजना 'सूत्र सेवा' सहित कुछ अन्य योजनाओं का शुभारंभ करेंगे। प्रधानमंत्री शनिवार दोपहर लगभग 12 बजे भोपाल विमानतल पर पहुंचेंगे और भोपाल से मोहनपुरा और उसके बाद इंदौर में कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे। मोहनपुरा परियोजना की लागत 3,866.34 करोड़ रुपये है और इसके जलाशय की जलभराव क्षमता 5730 लाख घन मीटर है। जलाशय से 1.34 लाख हेक्टेयर भूमि में रबी सिंचाई के साथ ही लगभग 400 ग्रामों में पेयजल की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित होगी। इस परियोजना से राजगढ़ जिले के 727 ग्राम लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि शनिवार को ही प्रधानमंत्री इंदौर में 4713.75 करोड़ रुपये लागत के विभिन्न कार्यों का लोकार्पण करेंगे।

चर्चगेट जाने वाली एसी उपनगरीय लोकल से यात्रा कर रहे यात्रियों ने ट्रेन की चेन खींचकर अंधेरी स्टेशन पर लोकल ट्रेन रोक दी क्योंकि इसमें एसी काम नहीं कर रहा था। विरार-चर्चगेट लोकल ट्रेन के कुछ कोच के यात्रियों ने बताया कि एसी के काम नहीं करने की वजह से उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी और पसीने आ रहे थे।एक यात्री ने बताया , “बोरीवली से ट्रेन जैसे ही निकली हमने महसूस किया कि एसी की कूलिंग काम नहीं कर रही है लेकिन सोचा कि हो सकता है यह जल्द ही शुरू हो जाएगा लेकिन स्टेशन गुजरने के बाद भी एसी की समस्या दूर नहीं हुई। एसी ट्रेन के कोचों के दरवाजे बंद होने की वजह से लोगों को सांस लेने में दिक्कत आ रही थी इसलिए हमने ट्रेन की चेन खींचकर उसे रोका।एसी लोकल चलाने वाली वेस्टर्न रेलवे ने बाद में ट्वीट किया कि कुछ तकनीकी समस्या की वजह से ट्रेन तब तक नहीं चलेगी जब तक इस समस्या को दूर न कर लिया जाए। पश्चिमी रेलवे के मुख्य प्रवक्ता रविंद्र भाकर ने बताया कि जैसे ही तीन कोचों की तकनीकी समस्या दूर होगी ट्रेन का परिचालन शुरू किया जाएगा। अन्यथा, यह पूरे दिन नहीं चलेगी।पिछले शुक्रवार को भी पश्चिमी रेलवे ने मरम्मत संबंधी कार्य के लिए एसी ट्रेन रद्द कर दी थी।

 

किसी फिल्म के सुपरहीरो की तरह रियल लाइफ के सुपहीरो स्वप्न देब बर्मा ने अपने साहस से और चतुराई से ट्रेन में सवार सैकड़ों लोगों की जान बचाई। इस सुपरहीरो की बहादुरी को सलाम करते हुए त्रिपुरा सरकार अब अगरतला के दिहाड़ी मजदूर स्वप्न देब बर्मा और उनकी बेटी सोमती को सम्मानित करेगी।दरअसल स्वपन देब बर्मा और उनकी बेटी सोमती ने 15 जून को रेलवे ट्रेक को टूटा हुआ देख तौलिया दिखाकर ड्राइवर को ट्रेन रोकने का इशारा कर ट्रेन रुकवाई। इस तरह स्वपन देब बर्मा ने अपनी चतुराई से इतने बड़े हादसे को टाला।यही वजह है कि 21 जून को त्रिपुरा सरकार में मंत्री सुदीप रॉय बर्मन ने स्वप्न देब बर्मा और उनकी बेटी सोमती को उनके किए गए इस साहस भरे काम के लिए सम्मानित किया। मंत्री ने कहा कि दोनों के साहसिक कार्य के विषय को सरकार के समक्ष उठाया जाएगा, जिससे कि इन्हें सम्मानित किया जा सके।ऐसे बची थी सैकड़ो लोगों की जान: स्वप्न ने तौलिया दिखाकर ट्रेन को रोकने की कोशिश की, लेकिन इसके बावजूद ट्रेन नहीं रुकी। इसके बाद स्वप्न ट्रेक पर दौड़ने लगा और ट्रेन के लोको पायलट ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक दी। जिसके बाद खुलासा हुआ कि ट्रैक टूटा हुआ था और इससे कई लोगों की जान जा सकती थी। वहां मौजूद सबी लोगों ने स्वप्न के इस काम की तारीफ की।कुछ दिन पहले क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी स्वप्न को रियल हीरो बताते हुए एक ट्वीट में लिखा कि ऐसे रियल हीरोज को सरकार को सम्मानित करना चाहिए।

 

कांग्रेस नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री सैफुद्दीन सोज की तरफ से कश्मीर पर पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ के दिए बयान का समर्थन करने पर बवाल मच गया है। सैफुद्दीन सोज ने कहा- "मुशर्रफ ने कहा था कि कश्मीरी पाकिस्तान के साथ नहीं जाना चाहते है, उनकी पहली मांग आजादी है। यह बयान तब भी सच था और आज भी सच है। मैं भी यही चीज कहता हूं लेकिन यह संभव नहीं है।" हालंकि, बाद में बढ़ते विवाद को देखने के बाद सोज ने इसे अपनी निजी बयान करार दिया है।
बयान जारी कर कांग्रेस दे सफाई-शिवसेना:-उधर, सैफुद्दीन सोज के कश्मीर पर मुशर्रफ के बयान का समर्थन करने के बाद बीजेपी और शिवसेना ने उन्हें आड़े हाथों लेते हुए बड़ा हमला बोला है। शिवसेना नेता मनिषा कायंदे ने कहा- "कांग्रेस को सोज के बयान पर अपनी सफाई देनी चाहिए। अगर उन्हें पाकिस्तान और मुशर्रफ से इतना ही ज्यादा प्यार है तो उन्हें पाकिस्तान चला जाना चाहिए।"जबकि, बीजेपी ने उन्हें पुराने दिनों की याद दिलाई है। बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने केन्द्रीय मंत्री के तौर पर उन्होंने केन्द्र की सत्ता से फायदा उठाया जब उनकी बेटी का जेकेएलएफ ने अपहरण कर लिया था। ऐसे लोगों की मदद की कोई जरूरत नहीं है। जो लोग भी यहां पर रहना चाहते हैं उन्हें संविधान को मनना होगा। अगर वह मुशर्रफ को पसंद करते हैं तो उन्हें एक तरफ का (पाकिस्तान) टिकट दे दिया जाना चाहिए।
सोज ने बताया- निजी राय:-कश्मीर पर पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के एक विचार का समर्थन करने को लेकर खड़े हुए विवाद के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सैफ़ुद्दीन सोज ने कहा है कि उन्होंने अपनी किताब में जो बातें कही हैं वो उनकी निजी राय है और इनका पार्टी से कोई लेनादेना नहीं है। सोज ने 'भाषा' से बातचीत में कहा, ''किताब में जो बातें मैंने कहीं, वो मेरी निजी राय है। पार्टी से इसका कोई मतलब नहीं है।''
क्या है पूरा विवाद:-दरअसल, सोज ने अपनी पुस्तक 'कश्मीर: ग्लिम्पसेज ऑफ हिस्ट्री एंड द स्टोरी ऑफ स्ट्रगल' में परवेज मुशर्रफ के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर वोटिंग की स्थितियां होती हैं तो कश्मीर के लोग भारत या पाक के साथ जाने की अपेक्षा अकेले और आजाद रहना पसंद करेंगे।संप्रग सरकार में मंत्री रहे सोज ने यह भी दावा किया कि घाटी में मौजूदा हालात के लिए भाजपा नीत केंद्र सरकार की नीतियां जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर के लोगों के लिए शांतिपूर्ण माहौल की स्थापना जरूरी है, जिससे यहां के लोग शांति से रह सकें।

न्यायालय ने सिमी सरगना अबु फैजल सहित स्टुडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) के तीन आतंकियों को मंदसौर जिले के पिपल्या मंडी में स्टेट बैंक ऑफ इंदौर की शाखा में डकैती डालने के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई है। डकैती डालने में शामिल रहे तीन आतंकी पुलिस मुठभेड़ में पहले ही मारे जा चुके हैं।विशेष न्यायाधीश गिरीश दीक्षित ने मामले की सुनवाई के बाद गुरुवार को अबु फैजल, मोहम्मद इकरार और मोहम्मद साजिद को दोषी सिद्ध होने पर आजीवन कारावास और एक हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है।अभियोजन के अनुसार 1 जून 2010 की शाम को मंदसौर के पिपल्या मंडी में स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंदौर की शाखा में जाकिर, मोहम्मद असलम, शेख मुजीब, मोहम्मद एजाजुद्दीन, अबु फैजल, मोहम्मद इकरार और मोहम्मद साजिद हथियारों के साथ घुस गए और बैंक कर्मचारियों से मारपीट कर उन्हें बंधक बना लिया। आतंकियों ने बैंक में रखे कटे फटे 84 हजार रुपये और 16,339 रुपये नगद लूट लिए थे।इस मामले में पिपल्या मंडी पुलिस ने प्राथमिक जांच पड़ताल के बाद आतंकियों के खिलाफ डकैती, लूट, आर्म्स एक्ट और विधि विरुद्ध कार्यकलाप का अपराध कायम कर अदालत में चालान पेश किया था।

Page 1 of 2804

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें