Editor

Editor

‘ससुराल सिमर का’ में सिमर का किरदार निभा रही टीवी एक्ट्रेस दीपिका कक्कड़ अब दूसरी शादी करने जा रही है।दीपिका अपने ब्वॉयफ्रेंड और एक्टर शोएब इब्राहिम के साथ निकाह रचाएंगी। शादी की तैयारियों के लिए दोनों उत्तर प्रदेश में डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए निकल भी चुके है।यह शादी दोनों के परिवार वालों और कुछ चुनिंदा फ्रैंड्स की मौजूदगी में होगी। हालांकि इसके बाद दोनों की ओर से ग्रैंड रिसेप्शन की तैयारी की जा रही है। यह रिसेप्शन पार्टी 26 फरवरी को दी जा सकती है। शादी हिंदू और मुस्लिम दोनों ही रीति-रिवाजों के साथ की जाएगी।
तलाकशुदा हैं दीपिका:-दीपिका कक्कड़ साल 2011 में टीवी सीरियल ‘ससुराल सिमर का’ के सेट पर शोएब से मिली थी जिसके बाद दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई। हालांकि इसके बाद साल 2013 में दीपिका की शादी रौनक मेहता से हो गई थी। यह लव मैरिज थी लेकिन शादी ठीक नहीं चली और साल 2015 में इनका तलाक हो गया।इसके बाद शोएब और दीपिका एक दूसरे के करीब आए। साल 2017 में टीवी शो ‘नच बलिए’ के सेट पर शोएब ने दीपिका को शादी के लिए प्रपोजल दे दिया। कुछ लोग दीपिका की शादी टूटने की वजह शोएब को ही बताते हैं लेकिन दीपिका साफ कर चुकी है कि जरुरी नहीं हर लव मैरिज सक्सेस ही हो… उन्होंने सफाई देते हुए एक इंटरव्यू के दौरान कहा था, ‘किसी भी रिश्ते का टूटना दर्दनाक है। यही मेरे साथ भी हुआ। पेरेंट्स मेरे सपोर्ट में थे और शोएब ने मुझे इस कठिन समय में उबरने में मेरी मदद की। तब हम डेटिंग नहीं कर रहे थे।’

कैटरीन कैफ की खूबसूरती के तो आप सभी कायल है अब उन्होंने अपनी एक फोटो सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम पर शेयर की है जिसे देख आप उनके और दीवाने हो जाएंगे। कैटरीना कैफ ने समुद्र के किनारे ढलते सूरज की एक फोटो शेयर की है। फोटो में वो स्पोर्ट्सी लुक में है मानो अभी जिम करके आ रही हो।कैटरीना ने फोटो में वो ओरेंज स्पोर्ट्स ब्रा और ब्लैक लोअर पहना है और उनका साइड लुक ही आपको मदहोश कर देने के लिए काफी है।कैटरीना ने फोटो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है… सनसेट यानि ढलता हुआ सूरज। सूरज भले ही ढल रहा हो लेकिन कैटरीना का दिलकश अंदाज सोए अरमान जगाने के लिए काफी है।खैर बता दें कि आजकल कैटरीना आमिर खान की फिल्म ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ और शाहरुख खान के साथ ‘ज़ीरो’ में काम कर रही है। ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ में कैटरीना के साथ आमिर खान के अलावा अमिताभ बच्चन, फातिमा सना शेख और शशांक अरोड़ा अहम किरदारों में है

‘बिग बॉस’ के ग्यारवें सीजन की रनर अप रही हिना खान इन दिनों खूब आराम फरमा रही हैं। इसी शो के दौरान हिना ने अपने बॉयफ्रेंड रॉकी जायसवाल के साथ अपने रिश्ते को जगजाहिर किया था। इससे पहले वह अपनी निजी जिंदगी पर बात करने से बचती थी। बता दें कि हिना इन दिनों अपने बॉयफेंड रॉकी के साथ श्रीलंका में हैं और आए दिन वहां की तस्वीरों को हिना सोशल मीडिया पर साझा कर रही हैं। कल वेलेंटाइन डे के मौके पर ही रॉकी का जन्मदिन भी था और हिना ने अपने अंदाज में रॉकी के इस जन्मदिन को खास बना दिया।बिग बॉस के घर से बाहर निकलने से पहले ही हिना ने वैकेशन की प्लानिंग कर ली थी और बाहर आते ही मीडिया से कहा था कि, ‘रॉकी ने हर चीज का सामना अकेले ही करते हुए काफी मुश्किल समय बिताया है। अब जब अगले महीने उसका जन्मदिन है तो हम इंटरनेशनल ट्रिप पर जाने का फैसला कर रहे हैं।’ नीचे देखें इस ट्रिप की तस्वीरें…बता दें कि रॉकी, हिना के सीरियल ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ कि सुपरवाइजिंग प्रोड्यूसर थे। खैर दोनों का रिश्ता लोगों के सामने तभी आया जब हिना ने सलमान खान के शो ‘बिग बॉस 11’ पर आने का फैसला किया है। बिग बॉस के लॉन्च के दौरान रॉकी, हिना के माता पिता के साथ नजर आए थे। इसके बाद रॉकी ने ‘बिग बॉस’ के घर में दो बार एंट्री भी ली। इसी दौरान रॉकी ने टेलीविजन पर पहली बार हिना के साथ अपने रिश्ते को कबूला था।खैर ‘बिग बॉस’ के बाद हिना से जब शादी के बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा था कि अरे नहीं, अभी हमें काफी आगे जाना है। हम अभी अपने आप को इन्जॉय करना चाहते हैं। लेकिन मैं खुश हूं कि अब हमारे बारे में सभी को पता है।

आज से दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर भाजपा का नया पार्टी मुख्यालय हो गया। पीएम मोदी ने भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी के साथ मिलकर इस बिल्डिंग का उद्घाटन किया। उद्घाटन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमित शाह और उनकी टीम की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि समय सीमा से पहले ही इस काम बखूबी अंजाम दिया गया। उन्होंने कहा कि ऐसे मुख्यालय बजट से नहीं सपने और काम करने की लगन से बनता हैं।जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को आजादी के बाद देश में हुए सभी प्रमुख जनांदोलनों का अगुआ करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि उनकी पार्टी 'राष्ट्रभक्ति से रंगी हुई शत प्रतिशत लोकतांत्रिक पार्टी' है।आधुनिक सुविधाओं से लैस पार्टी मुख्यालय का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री ने यहां कहा कि आजादी के बाद देश में जितने भी आंदोलन हुए हैं, उन सारे आंदोलनों का नेतृत्व जनसंघ और भाजपा ने किया जिसका उन्हें बहुत गर्व है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी राष्ट्रभक्ति से रंगी है और राष्ट्रहित के लिए मरने मिटने वाले असंख्य कार्यकतार्ओं के त्याग एवं तपस्या से इस पार्टी की रचना हुई है।मोदी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और दिवंगत सुंदर सिंह भंडारी के योगदान को रेखांकित करते हुए कहा कि आडवाणी हमेशा संगठनात्मक लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं का अध्ययन करते रहते थे और भंडारी भी हमेशा से कोई समझौता किए बिना संविधान के अनुसार पार्टी कैसे चले और सदस्यता कैसे बढ़े, प्रक्रियाएं कैसी हों, इसकी चिंता करते थे।उन्होंने कहा, 'इन्हीं चीज़ों के कारण भाजपा का आज का'पिण्ड शत प्रतिशत लोकतांत्रिक पिण्ड है।' लोकतंत्र के लिए अलग अलग क्षेत्रों में वहां के लोगों की आकांक्षाओं के अनुरूप काम करने की जरूरत होती है। सोचने, काम करने, निर्णय लेने और उसे लागू करने में लोकतंत्र की शिक्षा दीक्षा हमें मिली है। उन्होंने कहा कि आज जब जनता ने हमें सत्ता के माध्यम से सेवा का मौका दिया है तब ये लोकतांत्रिक संस्कार बहुत काम आ रहे हैं। सबको साथ लेकर चलने का प्रयास कर रहे हैं।उन्होंने गठबंधन की राजनीति में भाजपा के योगदान की चचार् करते हुए कहा कि स्वार्थवश राजनीतिक दलों का एका होना अलग बात है, लेकिन लोकतांत्रिक मूल्यों और क्षेत्रीय अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लक्ष्य के साथ पार्टियों को साथ लेकर चलना दूसरी बात। इस मामले में भी भाजपा ने एक अलग मुकाम हासिल किया है।उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से साथियों को साथ लेकर गठबंधन में क्षेत्रीय आकांक्षाओं के साथ संतुलन कायम करते हुए अलग अलग दलों की ताकत को जोड़ते हुए देश की आशाओं एवं आकांक्षाओं को कैसे पूरा किया जा सकता है, यह प्रयोग भी भाजपा की श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने दिखाया। इसका मूल कारण हमारी सोच, विचार, संस्कार रग रग में लोकतंत्र हैं और उसी के कारण सबके साथ चलने में हम लोग यथासंभव सफलता पूर्वक आगे बढ़ रहे हैं।मोदी ने कहा कि भाजपा का नया कायार्लय भवन ईंट- पत्थर की इमारत नहीं बल्कि यह जनसंघ के समय से हजारों लाखों कार्यकतार्ओं की अपेक्षाओं की इमारत है। उन्होंने कार्यकतार्ओं को इस मुख्यालय की आत्मा करार देते हुए विश्वास व्यक्त किया कि पाटीर् कार्यकतार् यहां से संचित शक्ति देश की कोटि-कोटि जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने में लगायेंगे।
सरल नहीं थी यात्राः शाह
इस अवसर पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि जनसंघ से शुरू होकर भाजपा के इस मुकाम तक पहुंचने की यात्रा सरल नहीं थी। आज पाटीर् ऐसे मुकाम पर पहुंच चुकी है, जहां इसके सांसदों की संख्या 330 से अधिक और विधायकों की संख्या 1400 तक पहुंच गयी है। देश के 19 राज्यों में भाजपा की प्रत्यक्ष या परोक्ष सरकारें चल रही हैं। उन्होंने बताया कि देश के 694 जिलों में से 635 में भाजपा के कायार्लय बनाने का लक्ष्य तय किया गया है जिनमें से 192 जिलों में कायार्लय बन चुके हैं। 318 में भूमिपूजन हो चुका है, 125 में रजिस्ट्री हो चुकी है और सौ जिलो में कार्यालय निमार्णाधीन है।भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नये कायार्लय भवन में पार्टी के 19 विभागों और 11 प्रकल्पों का कामकाज करना संभव होगा। यहां से भाजपा के सभी जिला एवं प्रदेश कायार्लयों से सीधा संपर्क होगा। प्रधानमंत्री केन्द्रीय कायार्लय में बैठकर ही सभी प्रदेश की कार्यकारिणियों को संबोधित कर सकते हैं। एक सशक्त आईटी सेंटर के साथ साथ मज़बूत सोशल मीडिया केन्द्र होगा। परंपरागत मीडिया के लिए भी देश भर में प्रधानमंत्री एवं पाटीर् के प्रमुख कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण देखना और उसका प्रसारण करने की भी पूरी व्यवस्था की गयी है। उन्होंने दावा किया कि विश्व की किसी भी राजनीतिक पाटीर् का मुख्यालय इतना बड़ा नहीं है।मंच पर प्रधानमंत्री एवं शाह के अलावा आडवाणी, डॉ. मुरली मनोहर जोशी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन, जहाजरानी एवं जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी उपस्थित थीं। वित्त मंत्री अरुण जेटली सऊदी अरब की यात्रा पर गए हैं। बाद में मोदी ने शिलापट्ट के अनावरण के साथ मुख्यालय का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री ने इस दौरान आडवाणी और डॉ. जोशी को अपने पास बुलाकर उनसे भी शिलापट्ट का अनावरण कराया। प्रधानमंत्री एवं अन्य नेताओं ने बाद में बहुमंजिले मुख्यालय का अवलोकन भी किया।करीब आठ हजार वर्गमीटर या लगभग एक लाख 70 हजार वर्गफुट भूभाग में फैले मुख्यालय में तीन ब्लॉक हैं। इस इमारत का शिलान्यास मोदी ने ही 18 अगस्त 2016 को रक्षा बंधन के पर्व पर किया था। मुख्यालय को सभी प्रकार की अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी से लैस किया गया है। मुख्यालय का 70 प्रतिशत हिस्सा हरित क्षेत्र है। यहां डिजिटल लाइब्रेरी से लेकर वाई-फाई और वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है।बेसमेंट में दो फ्लोर की पार्किंग व्यवस्था की गयी है, जिसमें एक साथ कम से कम 300 वाहन पार्क किये जा सकते हैं। इस मुख्यालय में सौर ऊर्जा से बिजली आपूर्ति की भी वैकल्पिक व्यवस्था की गयी है। इतना ही नहीं वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली से भी इस इमारत को सुसज्जित किया गया है।
ये है खासियत:-बीजेपी का नया मुख्यालय 2 एकड़ की जमीन पर निर्मित किया गया है। इसमें 400 लोगों की क्षमता वाला कॉन्फ्रेंस रूम, ऑफिल, सेमीनार रूम और स्क्रीनिंग रूम बनाया गया है। इसके अलावा बिल्डिंग में सोलर पैनल और बायो टॉयलेट भी बनाए गए हैं। साथ ही अंडरग्राउंड पार्किंग की व्यवस्था की गई है।नई बिल्डिंग कमल की थीम पर बनी है। परिसर में कमल की थीम वाला एक तालाब भी बनाया गया है। नए मुख्यालय के परिसर में लाल रंग की तीन बिल्डिंग बनाई गई हैं। पार्टी के अधिकारियों, सचिवों और कार्यकर्ताओं के लिए कमरे बनाए गए हैं, ताकि सब आपस में समन्वय बनाकर अच्छे से काम कर सकें। साथ ही एक स्टूडियो भी बनाया गया है ताकि नेता वहीं से टीवी डिबेट में हिस्सा ले सकें।पर्यावरण का ध्यान रखते हुए इस मुख्यालय का निर्माण किया गया है। परिसर के सभी 70 कमरों में वाई-फाई की व्यवस्था की गई है। तीनों बिल्डिंग में कॉन्फ्रेंस हॉल, रिसर्च रूम, डिजिटल लाइब्रेरी बनाई गई है। रेन वॉटर हारवेस्टिंग की भी व्यवस्था है।

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में सुरक्षाबलों के साथ चल रही मुठभेड़ में कई नक्सलियों के मारे जाने की ख़बर है। हालांंकि, इस मुठभेड़ में दो सुरक्षाकर्मी भी शहीद हो गए है जबकि मुठभेड़ में सात जवान जख्मी हो गए। नक्सलियों ने 12 वाहनें जलाया है और सड़क निर्माण में कार्यरत दो ग्रामीणों की भी गोली मारकर हत्या कर दी है।पुलिस सूत्रों के अनुसार भेज्जी थाना के चिंतागुफा-इंजरम मार्ग पर सड़क निर्माण कार्य चल रहा है, जहां नक्सलियों ने धावा बोलकर आतंक मचाते हुए सड़क निर्माण में संलग्र 12 वाहनों का डीजल टेंक फोड़कर उन्हें आग के हवाले कर दिया। नक्सलियों ने कार्यस्थल पर मौजूद ठेकेदार के मुंशी और एक अन्य ग्रामीण की गोली मारकर हत्या कर दी।वारदात की सूचना मिलते ही भेज्जी थाने से डीआरजी, सीआरपीएफ एवं कोबरा बटालियन का संयुक्त बल घटनास्थल की ओर रवाना हुआ था, जिसकी ग्राम एलमागुड़म के समीप घात लगाए नक्सलियों से मुठभेड़ हो गयी। मुठभेड़ में सात जवान घायल हो गए हैं।सात जवानों की घायल होने की पुष्टि करते हुए बस्तर रेंज के उप पुलिस महानिरीक्षक पी सुंदरराज पी ने बताया कि घायल जवानों को भेज्जी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में उपचार के बाद हेलीकाप्टर से रायपुर रेफर किए जाने की तैयारी चल रही है। उन्होंने कहा कि नक्सली वारदात में कुछ ग्रामीण भी घायल हुए हैं। साथ ही वाहन जलाए जाने की भी सूचना मिली है, जिसकी तस्दीक की जा रही है।

रविवार का दिन उत्तर प्रदेश के लिए काफी खास साबित हुआ। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो रविवार को दुनिया के सात अजूबों में शामिल रहे ताजमहल का दीदार करने पहुंचे। कनाडाई पीएम ट्रूडो रविवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे ताजमहल देखने पहुंचे। इस दौरान उनकी पत्नी सोफी ग्रेगरी ट्रूडो और उनके बच्चे एला-ग्रेस और हैदरीन भी मौजूद थीं।उन्होंने अपनी इस ट्रिप को काफी खास बताया है। उन्होंने कहा है कि अपने बच्चों के साथ पिता के रूप में यहां आना काफी काफी स्पेशल है और हमने यहां काफी इन्जॉय किया। यह काफी खास लम्हा है।कनाडा एयरफोर्स के विशेष विमान से खेड़िया एयरबेस पहुंची ट्रूडो फैमिली ताजमहल पहुंची। वीआईपी मूवमेंट की वजह से ताजमहल में आम जनता के लिए ऐंट्री सुबह 9:40 से लेकर 11:40 तक बंद रखी गई। इस दौरान ट्रैफिक मूवमेंट भी डायवर्ट किया गया।

पीएनबी फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद लगातार जांच एजेंसियां पूरे मामले की परत दर परत चीजों को हटाने में लगी हुई है। इसी के मद्देनज़र पीएनबी के आरोपी कर्मचारियों को उस ब्रेडी हाउस ब्रांच लेकर जाया गया जहां से नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चौकसी को इस घोटाले में मदद की गई थी।पीएनबी के रिटायर्ड डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी और सिंगल विडो ऑपरेटर मनोज खैरात को केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने नीरव मोदी ग्रुप के ऑथराइज्ड सिग्नेटरी हेमंत भट्ट के साथ शनिवार को गिरफ्तार किया।सीबीआई अधिकारियों के साथ गोरेगांव के रहनेवाले शट्टी और बायकुला के रहनेवाले खैरात को करीब शाम सात बजे ब्रांच में देर रात तक पूछताछ करते हुए देखा गया।बैंक में इस पूछताछ से पहले तीन आरोपियों को सीबीआई के स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया। वहां से एडिशनल सेशन जज एस.आर. तम्बोली ने खैरात, शेट्टी और भट्ट को तीन मार्च तक के लिए पुलिस कस्टडी में भेज दिया है।

नेशनल एलिजबिलिटी एंड एंट्रेंस टेस्ट 2017 (NEET 2017) की परीक्षा न दे पाने वाले 15 आदिवासी छात्रों को 30 लाख रुपए मुआवजा दिया गया। यह मुआवजा मानवाधिकार आयोग की सिफारिश के बाद दिया गया। आयोग ने त्रिपुरा सरकार को कहा था कि बच्चे जिस सरकारी स्कूल में पढ़ रहे थे वहां स्कूल प्रशासन द्वारा भारी लापरवाही हुई है। इसलिए उन्हें राहत के तौर पर मुआवजा दिया जाए।30 लाख रुपए में प्रत्येक छात्र को दो लाख रुपए दिए गए क्योंकि वे नीट 2017 की प्रतियोगी परीक्षा में कुछ भी नहीं लिख पाए थे। बच्चों ने जिस स्कूल से पझढ़ाई की है उसका नाम एकलव्य मॉडल रेजीडेंशियल स्कूल है जो कि खुमुल्वंग में स्थित है। आयोग ने यह भी सरकार को कहा कि इन्हीं सभी छात्रों को नीट 2018 के लिए फ्री कोचिंग की व्यवस्था भी की जाए।आयोग ने मामले में त्रिपुरा सरकार को खरी खोटी सुनाते हुए यह भी कहा कि स्कूल के आरोपी प्रिंसिपल और टीचर के खिलाफ जो कार्रवाई हुई है वह भी पर्याप्त नहीं है। सरकार ने छात्रों को मुआवजा देने के बाद मानवाधिकार आयोग को अपनी रिपोर्ट सौंप दी दी है।आयोग की जांच में पाया गया कि प्रिंसिपल और टीचर ने छात्रों के ऑनलाइन आवेदन करवाए थे, लेकिन इस आवेदन की फीस टाइम पर जमा नहीं की गई थी जिससे छात्र नीट 2017 की परीक्षा में नहीं बैठ पाए थे। मामला जब मानवाधिकार आयोग के पास पहुंचा तो उसने सीबीएससी से इस पर बात की लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। इसके बाद आयोग ने सरकार को मुआवजा देने की सिफारिश की।

साठ सीटों वाले त्रिपुरा विधानसभा के लिए मतदान जारी है। हालांकि वोटिंग सिर्फ 59 सीटों के लिए हो रही है। माकपा उम्मीदवार के निधन की वजह से एक सीट पर चुनाव 12 मार्च को होगा। दोपहर एक बजे तक लगभग 46 फीसद मतदान की खबर है। लंबे समय से पूर्वोत्तर में वाम मोर्चा के केंद्र रहे त्रिपुरा में पहली बार मुख्यमंत्री माणिक सरकार व वामपंथी दलों को भाजपा से सीधी टक्कर मिल रही है।इससे पहले सुबह ग्यारब बजे तक 23.25 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है।पोलिंग बूथ पर सुबह से ही वोटरों की लंबी लाइन दिख रही है। शाम 4 बजे तक वोटर अपना वोट डाल सकते हैं। विधानसभा चुनाव में पहली बार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सत्तारूढ़ वाम दल के सामने प्रमुख दावेदारी पेश कर रही है। वाम दल पिछले 25 सालों से राज्य में सत्ता पर काबिज है। राज्य में अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीटें आरक्षित हैं।
त्रिपुरा में पहले दो घंटों में 11 फीसदी मतदान:-त्रिपुरा में पहले दो घंटे में 11 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। मतदान आज सुबह सात बजे प्रारंभ हुआ। अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी तापस रॉय ने इसकी जानकारी दी। चारीलाम से माकपा के उम्मीदवार रमेंद्र नारायण देबबर्मा के निधन के कारण एक सीट पर आज मतदान नहीं हो रहा है। इस सीट पर 12 मार्च को चुनाव होगा। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में किसी भी स्थान से हिंसा की कोई खबर नहीं मिली है। उन्होंने बताया कि पश्चिमी त्रिपुरा, खोवई और उनाकोटी जिलों में कुछ केंद्रों पर ईवीएम से जुड़ी कुछ दिक्कतों के कारण मतदान प्रक्रिया विलंबित हुई।
शाम 4 बजे तक चलेगा मतदान:-इससे पहले अगरतला विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार सुदीप रॉय बर्मन और सत्तारूढ़ माकपा के प्रत्याशी कृष्ण मजूमदार ने ईवीएम में तकनीकी गड़बड़ी के कारण राजधानी के कुछ मतदान केंद्रों पर 90 मिनट तक मतदान रोके जाने का दावा किया। तापस रॉय ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि सभी इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन काम कर रहे थे। चुनाव कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि राज्य के 3,214 मतदान केंद्रों पर शाम चार बजे मतदान चलेगा।आज 307 उम्मीदवारों की किस्मत मतपेटी में बंद हो जाएगी। सत्तारूढ़ वाम मोर्चे के सबसे बड़े साझीदार माकपा ने 56 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं। वहीं आरएसपी, फॉरवर्ड ब्लॉक और भाकपा के उम्मीदवार एक-एक सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा ने जनजातीय संगठन इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन किया है। अमित शाह की अगुवाई वाली पार्टी ने 51 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं। वहीं उसने शेष सीट आईपीएफटी और वाम-विरोधी दलों के लिए छोड़ी है।
त्रिपुरा चुनाव मैदान में अकेले कांग्रेस:-कांग्रेस इस बार त्रिपुरा में अकेले चुनाव लड़ रही है और 59 सीटों पर उसके प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। पार्टी ने गोमती जिले के काकराबोन सीट पर कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है। राज्य में 25,73,413 पंजीकृत मतदाता हैं। इनमें से 13,05,375 पुरुष और 12,68,027 महिला मतदाता हैं। राज्य में थर्ड जेंडर के 11 मतदाता हैं। राज्य में 47,803 मतदाता पहली बार अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीट आरक्षित हैं। राज्य के पुलिस महानिदेशक अखिल कुमार शुक्ला ने बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा के पुख़्ता इंतजामात किये गए हैं।
कड़ी सुरक्षा के बीच हो रहा है मतदान :-उन्होंने बताया कि राज्य सशस्त्र बलों और पुलिस के अलावा केंद्रीय बलों की 300 कंपनियों को शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित करने के लिए लगाया गया है। बीएसएफ त्रिपुरा के 856 किलोमीटर लंबे भारत-बांग्लादेश सीमा पर कड़ी नजर रख रही है। त्रिपुरा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्रीराम तरणीकांति ने बताया कि चुनाव आयोग ने मतदान के बाधारहित संचालन के लिए पुलिस पर्यवेक्षकों, सामान्य पर्यवेक्षकों और व्यय पर्यवेक्षकों की तैनाती की है। मतों की गणना तीन मार्च को होगी।
60 में से 59 सीटों पर हो रही वोटिंग :-त्रिपुरा में रविवार को 60 में से 59 सीटों पर चुनाव हो रहे हैं। सीपीएम प्रत्याशी रामेंद्र नारायण के निधन के कारण चारीलाम विधानसभा सीट पर अब 12 मार्च को मतदान होगा।
11:00am : 23.25 मतदान ग्यारह बजे तक हुआ दर्ज
10.45 am: त्रिपुरा चुनावः अगरतल्ला में शिशु बिहार स्कूल पोलिंग बूथ पर व्हिल चेयर से मतदान करने पहुंची वृद्ध महिला।
10.00AM: त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने अगरतल्ला में दिया वोट। वह धानपुर विधानसभा से विधायक हैं।
9.30 am: 9 बजे तक 11 फीसदी वोटिंग
9.00 AM: अगरतल्ला के भाटी अभय नगर में बूथ नंबर 6/20 पर लंबी-लंबी कतारें। यह भाजपा के विधायक सुदीप रॉय का क्षेत्र है।
8.30 AM: त्रिपुरा बीजेपी अध्यक्ष बिपलब कुमार देब ने उदयपुर में डाला वोट, कहा- नतीजे ऐतिहासिक होंगे और हम जीतेंगे

फिल्म 'पद्मावत' में जिस तरह जौहर का महिमामंडन किया गया है उसने चितौड़गढ़ में जौहर को लेकर एक नई बहस छेड़ दी है। हालांकि, इतिहासकारों और महिला अधिकारकों के लिए लिए काम करने वालों ने आज के समय में इसके महिमामंडन को खतरा बताया है।चितौड़गढ़ के जौहर भवन में काला ट्रैक सूट पहनकर आई एक लड़की ने पैर छूकर 'जय जौहर' का नारा लगाते हुए नरपत सिंह भाटी को बधाई दी। अन्य लोगों ने भी उन्हें ऐसे ही बधाई दी।चितौड़गढ़ की जौहर स्मृति संस्थान के कोषाध्यक्ष नरपत सिंह ने बेहद शांत अंदाज में जवाब देते हुए बताया कि इस भवन में नमस्ते नहीं कहते, हम जय जौहर कहते हैं। भाटी ने बताया कि यह संस्थान 1948 में बना था, लेकिन इसका पंजीकरण 1983 में हुआ। हालांकि, हमारी संस्था का ऑफिस साल 2009 में बना है।आमतौर पर देखें तो हिंदू मान्यता के अनुसार, पहले समय में जब महिलाएं अपहरण, दुष्कर्म और युद्ध में हार के बाद होने वाले परिणाम से खुद को बचाने के लिए एक साथ आत्मदाह कर लेती थीं, उसे ही जौहर कहा जाता है।चित्तौड़गढ़ के महाराणा प्रताप राजकीय महाविद्यालय में इतिहास विभाग के प्रमुख लोकेंद्र सिंह चूड़ावत ने और कुछ महिलाओं ने भी इस बहस में कूदते हुए बताया कि इसे बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है। पहले महिलाओं इसलिए ऐसा करती थीं क्योंकि उनके पास इसके सिवाय और कोई रास्ता नहीं होता था। वह नहीं चाहती थीं कि शत्रु दल का कोई शख्स मरने के बाद भी उनके लाश तक को हाथ लगाए।हैरत की बात है कि महिलाओं की इस तरह से मौत की व्यथा उनके द्वारा मजबूरी में उठाए गए कदम को दर्शाती है. इस सबके बावजूद इसे तरह से पेश किया गया जैसे युद्ध में बहादुरी से लड़ते हुए कोई सैनिक शहीद होता है।इसी के परिणामस्वरूप पिछले महीने रिलीज हुई संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' का विरोध करते हुए यहां कुछ महिलाओं ने रिलीज रुकवाने के लिए जौहर करने की धमकी दी थी।फिल्म रिलीज हो गई, लेकिन किसी भी महिला ने इसलिए जौहर नहीं किया, क्योंकि अंत समय में पता चला कि जौहर भी उस गैरकानूनी सती प्रथा (आत्मदाह जो पहले के समय में पति की मौत के बाद सती होकर करती थीं।) के जैसा है।

Page 1 of 2274

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें