इस्लामाबाद। अगले कुछ दिनों में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का पद संभालने जा रहे इमरान खान ने कहा है कि उनकी सरकार अमेरिका के साथ ज्यादा संतुलित और विश्वास आधारित संबंध बनाएगी। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि विश्वासहीनता के चलते दोनों देशों के संबंधों में कई तरह के उतार-चढ़ाव आए हैं।पाकिस्तान में अमेरिका के कार्यकारी राजदूत जॉन एफ हूवर के साथ बात करते हुए क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान ने कहा कि दोनों देशों के कूटनीतिक संबंधों को फिर से पटरी पर लाने की जरूरत है। इसे नए सिरे से बहाल करना दोनों देशों के लिए लाभदायक होगा। अमेरिका के साथ व्यापार और आर्थिक संबंधों को हम बहुत ज्यादा महत्व देते हैं। अमेरिकी राजदूत पाकिस्तान के भावी प्रधानमंत्री से मिलने उनके बनिगाला स्थित आवास पर गए थे।इस साल जनवरी में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान पर आतंकियों को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि इस्लामाबाद हमें झूठ और विश्वासघात के अलावा कुछ नहीं दे रहा है। इसके बाद से दोनों देशों के संबंधों में गिरावट आ गई है। इतना ही नहीं अमेरिकी कांग्रेस ने पाकिस्तान को दी जाने वाली रक्षा सहायता में 15 करोड़ डॉलर (लगभग 1,029 करोड़ रुपये) की कटौती वाले विधेयक को भी मंजूरी दे दी थी।इससे पहले इमरान पाकिस्तान के अंदरूनी इलाकों में आतंकियों के खिलाफ अमेरिकी ड्रोन हमलों की कड़ी आलोचना करते रहे हैं। अफगानिस्तान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वहां पर शांति बहाली पाकिस्तान, अमेरिका और पूरे क्षेत्र के हित में है। और यह लक्ष्य व्यावहारिक राजनीतिक प्रयासों के जरिये ही हासिल किया जा सकता है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें