वॉशिंगटन - सीरिया पर सैन्य हमले के बाद अमेरिका और रूस के बीच की तकरार और बढ़ गई है। रूस अब इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाने की बात कर रहा है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि सीरिया पर अमेरिकी सैन्य हमले को लेकर रूस संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आपातकालीन सत्र को बुलाएगा।
रासायनिक हमले के बदले में अमेरिका हवाई हमला
सीरिया पर हुए रासायनिक हमले पर अमेरिका ने बड़ी कार्रवाई की है। अमेरिका ने सीरिया पर हवाइ हमला किया है। इस अमेरिकी कार्रवाई में फ्रांस और इंग्लैड भी शामिल हैं। बता दें कि अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया पर एयर स्ट्राइक का आदेश दिया। सीरिया के पूर्वी गोता के डौमा में हाल में सीरिया द्वारा रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल को लेकर अमेरिका ने पहले ही असद सरकार को चेतावनी दी थी। इस हमले में बच्चों सहित 75 लोग मारे गए थे। रासायनिक हमले को लेकर गुस्साए ट्रंप ने सीरिया के राष्ट्रपति असद को 'जानवर' कहकर संबोधित किया था। हालांकि 12 अप्रैल को सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद ने सीरिया पर हमले को लेकर पश्चिमी देशों को चेतावनी देते हुए कहा कि डौमा पर संदिग्ध रासायनिक हमले के आरोप गलत और झूठे हैं।
वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया हमले को लेकर रूस को भी घेरा है। ट्रंप ने कहा, 'सीरिया पर हुआ हमला असद (सीरिया के राष्ट्रपति) के रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को रोकने की रूस की विफलता का प्रत्यक्ष परिणाम है।' ट्रंप ने कहा है कि सीरिया के खिलाफ अमेरिकी सैन्य कार्रवाई को ब्रिटेन और फ्रांस का समर्थन मिला है।
अमेरिकी मीडिया ने बताया, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया की स्थिति पर आज सुबह 6:30 बजे देश को संबोधित किया और बताया कि वे दमिश्क के बाहर रासायनिक हमले का जवाब देने की योजना कैसे बना रहे हैं। ट्रंप ने अपने वरिष्ठ सैन्य सलाहकारों के साथ पिछले कुछ दिन बिताए और डौमा में हुए घातक हमले के बाद कार्रवाई करने का फैसला करने के लिए फ्रांस और ब्रिटेन के सहयोगियों से बात की। बता दें कि पूर्वी घौटा विद्रोहियों का सबसे बड़ा गढ़ है।
सीरिया के राष्ट्रपति का ट्वीट
वहीं, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के संयुक्त हमले के बाद सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद ने ट्वीट किया, 'अच्छी आत्माओं को दबाया नहीं जा सकता है।'
हम पुतिन का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे: रूसी दूतावास
वहीं, रूस ने भी अमेरिका के खिलाफ सख्त तेवर दिखाए हैं। अमेरिका में रूसी दूतावास ने कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का अपमान बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सीरिया पर हवाई हमले से रूस और अमेरिका समेत पश्चिमी देशों के बीच टकराव होने की आशंका बढ़ गई है।
सीरिया में रूसी सैन्य ठिकानों के पास दिखे थे अमेरिकी सैन्य विमान
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हमले वाले बयान के अगले ही दिन अमेरिका के सात सैन्य विमान सीरिया के समुद्री तट के पास दिखाई दिए। सीरिया में सरकार समर्थक सेना द्वारा विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके में रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर ट्रंप ने सैन्य कार्रवाई की चेतावनी दी थी। रासायनिक हमले में 75 लोग मारे गए हैं। सीरियाइ सीमा के नजदीक जहां पर अमेरिकी विमानों की गतिविधि देखी गई, वहां नजदीक ही मेमीम में रूसी एयरबेस और टारटस में नेवल बेस है। इटली के सिसिलिया स्थित अमेरिकी एयरबेस से उड़े छह पी-8 ए और ग्रीस के अमेरिकी अड्डे से उड़े एक ईपी-3ई विमान ने सीरिया के समुद्री तट के नजदीक से गुजरे थे। करीब आठ साल से सीरिया दुनिया की सैन्य ताकतों के लिए मुकाबले का मैदान बना हुआ है। देश की बशर अल असद सरकार को अमेरिका जहां हटाना चाहता है, वहीं रूस उसे बनाए रखने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। दोनों महाशक्तियों के साथ कई देश यहां हो रहे टकराव में शामिल हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें