लंदन - ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने शनिवार को सीरिया पर किये हवाई हमले की पुष्टि कर दी है। रिपोर्ट के मुताबिक मे ने कहा कि सारिया की केमिकल हथियारों की क्षमता को कम करने के लिए सैन्य कार्रवाई के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था। ब्रिटिश रक्षा मंत्रालय ने कहा कि चार वायुसेना टोरनैडो जेट्स की मदद से सीरिया में सैन्य ठिकानों पर हमले किए गए।
बता याजाता है कि खुफिया विभाग के द्वारा ये जानकारी दी गई थी कि सीरिया के दौमा में केमिकल अटैक करवाने के पीछे जिम्मेदार सीरियाई राष्ट्रपति बसर-अल-असद ही था। इसके बाद ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने अमेरिका और फ्रांस के द्वारा किये जा रहे जवाबी हमले में उनका साथ दिया। मे ने कहा कि मिसाइल को इस प्रकार से तैयार किया गया था कि हमले में किसी भी नागरिक की मौत ना हो। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के द्वारा व्हाइट हाउस से हमले की घोषणा के कुछ मिनट बाद ही मे ने अपना बयान जारी कर कहा कि यह हमला गृह युद्ध उकसाने के लिए नहीं है, साथ ही यह सत्ता परिवर्तन के लिए भी नहीं है।
ब्रिटिश संसद के अप्रूवल के बिना हमले करवाने के सवाल पर पीएम ने कहा कि कार्रवाई में तेजी लाना समय की मांग थी। आपको बता दें कि पिछले शनिवार को दौमा में हुए केमिकल हमले में बच्चों सहित 75 लोग मारे गए थे और ब्रिटेन ने इसके पीछे रूस को जिम्मेदार ठहराया था। पीएम मे ने कहा कि, हालांकि ये कार्रवाई सिर्फ औऱ सिर्फ सीरियाई शासन को रोकने के लिए है, साथ ही यह उन सभी के लिए एक संदेश है जो इस बात पर विश्वास करते है कि वे मानवजाति पर केमिकल हथियारों का इस्तेमाल कर सकते हैं। हम सीरिया में, यूके की गलियों में या दुनिया में कहीं पर भी केमिकल हथियारों के इस्तेमाल की अनुमति नहीं दे सकते हैं।
मे ने आगे कहा कि ब्रिटेन और इसके सहयोगियों ने केमिकल हथियारों के इस्तेमाल को रोकने के लिए सभी कूटनीतिक तरीकों का सहारा ले लिया था लेकिन इसे हमेशा नाकाम कर दिया गया। इसलिए हमारे सामने सैन्य कार्रवाई करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था। इधर ट्रंप ने कहा कि जब तक असद सरकार केमिकल हथियारों के इस्तेमाल पर रोक लगा सकते हैं तब तक वे अपना जवाबी कार्रवाई पर भी रोक लगा सकते हैं। बताया जाता है कि 2015 में सीरिया में असद की सरकार वापस लाने में मदद करने वाले रूस ने केमिकल अटैैक का उल्टा ब्रिटेन पर आरोप लगा दिया था। ब्रिटिश पीएम ने कहा कि ये पहली बार है कि प्रधानमंत्री होने के नाते मुझे इस तरह की बड़ी सैन्य कार्रवाई करने का निर्णय लेना पड़ा। और ये निर्णय मैंने हल्के में नहीं लिया है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें