फ्रांस ने रूस से सीरिया में संकट के राजनीतिक समाधान के प्रयासों में हिस्सा लेने की अपील की। अरब नेताओं ने सीरिया में हुए रासायनिक हमलों की जांच की मांग की।
फ्रांस ने रूस से अपील की है कि वह सीरिया में संकट के राजनीतिक समाधान के प्रयासों में हिस्सा ले। फ्रांस ने पूर्वी और पश्चिमी यूरोप में बढ़ते तनाव के बावजूद रूस के साथ नियमित बातचीत जारी रखी है। इस बीच, अन्तर्राष्ट्रीय निरीक्षकों ने दमिश्क के निकट कथित रासायनिक हमले के स्थान की जांच शुरू कर दी है। इस हमले की प्रतिक्रिया में पश्चिमी देशों ने सीरिया सरकार के खिलाफ हमले किए। पश्चिमी देशों का कहना है कि रासायनिक हमले में क्लोरीन और सरीन का इस्तेमाल किया गया, जिसमें दर्जनों लोग मारे गए थे।
इस बीच अरब लीग ने 15 अप्रैल को सीरिया में कथित रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल की जांच की मांग की है। साथ ही इस मामले में दूसरे देशों के मामले में इरान के दखल की भी निंदा की। सऊदी अरब के विदेश मंत्री अदेल अल जुबेर ने कहा कि वे रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल की घोर निंदा करते हैं और इसे अपराध मानते हुए इसकी निष्पक्ष जांच चाहते हैं।

Share this article

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें