नई दिल्ली - सुंदर दिखने के लिए अक्सर महिलाएं प्लास्टिक सर्जरी करवाती हैं। आपने एक्ट्रेसज के लिए ये काफी सुना होगा कि किसी हीरोइन ने प्लास्टिक सर्जरी कराई है जिसके बाद वो और भी खूबसूरत दिखने लगी। ज्यादातर केस में प्लास्टिक सर्जरी के बाद खूबसूरती और बढ़ जाती है लेकिन कुछ केस ऐसे भी होते हैं जब प्लास्टिक सर्जरी ठीक नहीं होती और वो मुसीबत बन जाती है। ऐसा ही कुछ हुआ चीन की तीन लड़कियों के साथ। लड़कियों को प्लास्टिक सर्जरी करवाना इतना भारी पड़ गया कि उनका, उनके देश यानी चीन वापस लौटना ही मुश्किल हो गया।
जानें क्या है पूरा मामला:
दरअसल चीन की रहने वाली तीन लड़कियां 'गोल्डन वीक' के दौरान दक्षिण कोरिया गई थीं। तीनों वहां 'चाइना नेशनल डे हॉलीडे' में हिस्सा लेने पहुंची थीं। वहां जाकर उन्होंने अपने चेहरे की प्लास्टिक सर्जरी करवा ली लेकिन उन्हें ऐसा करना भारी पड़ गया। खबरों की मानें तो प्लास्टिक सर्जरी में कुछ गड़बड़ हो गई जिसकी वजह से तीनों लड़कियों के चेहरे पर सजून आ गई। जब लड़कियां अपने देश जाने के लिए वापस दक्षिण कोरिया के एयरपोर्ट पर पहुंचीं तो उन्हें रोक लिया गया।
प्लास्टिक सर्जरी की वजह से उनके चेहरे पर पट्टी बंधी थी और सूजन की वजह से तीनों ही लड़कियां बिल्कुल पहचान में नहीं आ रही थीं। जो फोटो उनके पास्टपोर्ट पर लगी थी वो उससे बिल्कुल मेल नहीं खा रही थीं। इस वजह से उन्हें चेकिंग के लिए इमिग्रेशन विभाग के अधिकारियों ने एयरपोर्ट पर ही रोक लिया। प्लास्टिक सर्जरी से लड़कियों का चेहरा इतना बदल चुका था कि उन्हें एयरपोर्ट पर अपनी पहचान साबित करना भी मुश्किल हो गया, वो ये साबित ही नहीं कर पा रही थीं कि ये वही तीनों हैं जिनकी फोटो पासपोर्ट पर लगी है।
हालांकि इस बात का पता अब तक नहीं चल सका है कि बाद में वो चीन लौट पाई या नहीं। लेकिन इनकी फोटो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। फोटों को अबतक लगभग 28 हजार लोग शेयर कर चुके हैं। कुछ लोग इस पूरे मामले को दिलचस्प बता रहे हैं तो कुछ लोगों का कहना है कि प्लास्टिक सर्जरी से अपने लुक को चेंज करवाना हर लड़की का अधिकार है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें