जोहानिसबर्ग - भारी तादाद में हथियारों से लैस दक्षिण अफ्रीकी पुलिस ने बुधवार को राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा के करीबी भारतीय मूल के कारोबारी गुप्ता बंधुओं के घर पर छापेमारी की। छापेमारी की कार्रवाई के दौरान पुलिस कर्मियों ने गुप्ता परिवार के घर को चारों ओर से घेर रखा था।
कारोबारी गुप्ता बंधुओं पर आरोप है कि उन्होंने राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा के कार्यकाल के दौरान हुए कथित घोटाले में अहम भूमिका निभाई थी। इसके साथ ही इन्होंने कैबिनेट नियुक्तियों को भी प्रभावित किया। इस बीच राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा पर इस्तीफा देने का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है।
दक्षिण अफ्रीका की सत्तारूढ़ पार्टी अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस (एएनसी) ने राष्ट्रपति को इस्तीफा देने का आदेश दिया है। वहीं वित्त मंत्री मालुसी गिगाबा ने बताया कि राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा बुधवार को इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं।
पुलिस के मुताबिक, अब तक तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है जिसमें गुप्ता परिवार का एक भाई भी शामिल है। हालांकि, गुप्ता परिवार ने तमाम आरोपों को सिरे से खारिज किया है।
जोहानिसबर्ग के ज़़ू के पास ही गुप्ता बंधुओं का बंगला है. पुलिस ने कहा है कि कई और ठिकानों पर भी छापेमारी चल रही है। पुलिस के मुताबिक, ये जांच खास तौर पर एस्टिनो डेयरी फार्म को ले कर चल रही है। कहा जा रहा है कि इस डेयरी फार्म का मकसद गरीब किसानों की मदद करना था। लेकिन गुप्ता बंधुओं ने इस प्रोजेक्ट से लाखों डॉलर की कमाई की।
कौन है कारोबारी गुप्ता बंधु?
राष्ट्रपति जैकब जुमा के करीबी कारोबारी गुप्ता बंधुओं की जड़ें उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से जुड़ी हैं। इस परिवार में तीन भाई हैं- अजय, अतुल और राजेश। पिता शिव कुमार ने 1993 में इन्हें दक्षिण अफ्रीका भेज दिया था।
तीनों भाइयों ने जोहानिसबर्ग में सहारा कंप्यूटर के नाम से कंप्यूटर और उसके पा‌र्ट्स बनाने की कंपनी शुरू की. बिजनेस छोटा था लेकिन तेजी से आगे बढ़ा।कंप्यूटर के बाद गुप्ता बंधु ने कोयला और गोल्ड माइनिंग में हाथ आजमाया. फिर परिवार मीडिया क्षेत्र में उतर गया। आज गुप्ता परिवार की कंपनियों में दस हजार से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं।
गुप्ता बंधु राष्ट्रपति के बेहद करीबी माने जाते हैं. बताया जाता है कि राष्ट्रपति जैकब ज़ुमा का एक बेटा, बेटी और एक पत्नी गुप्ता बंधुओं की कपंनी में काम करते हैं।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें