वाशिंगटन - यदि अगले कुछ हफ्तों में विदेश मंत्री के तौर पर सीआइए निदेशक माइक पोंपियो को मंजूरी दे दी जाती है तो उनकी बड़ी द्विपक्षीय वार्ता अगले माह होने वाली भारत-अमेरिका की टू-प्‍लस-टू वार्ता होगी। लेकिन यह भी संभावना जतायी जा रही है कि ट्रंप प्रशासन में फेर बदल व ट्रंप की उत्‍तर कोरियाई नेता से मुलाकात के कारण यह आगे के लिए टाली जा सकती है। व्‍हाइट हाउस में अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के साथ सफल मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल इस वार्ता की घोषणा की थी।
इस वार्ता में विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और इनके अमेरिकी समकक्ष हिस्‍सा लेंगे। ट्रंप ने कल विदेश मंत्री के पद से रेक्‍स टिलरसन को हटा दिया और पोंपियों को इसके लिए नामित किया है।
पोंपियों को सीनेट द्वारा मंजूरी की आवश्‍यकता होगी तभी वे इस पद को संभालेंगे। अफ्रीका जाने से पहले, टिलरसन ने 18-19 अप्रैल को वाशिंगटन में सुनिश्‍चित किए गए टू-प्‍लस-टू वार्ता के लिए विशेष दिशानिर्देश जारी किए, हालांकि अब तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गयी है। विदेश सचिव विजय गोखले और रक्षा सचिव जी मोहन कुमार की अध्‍यक्षता में उच्‍च स्‍तरीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल इस वार्ता के लिए अमेरिका जाएंगे।
टिलरसन के निकाले जाने के राष्‍ट्रपति के निर्णय को देखते हुए विदेश मंत्रालय व वाशिंगटन के भारतीय दूतावास की ओर से आगामी बैठक के लिए सवालों का कोई जवाब नहीं मिला। सूत्रों के अनुसार, उत्‍तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन से मुलाकात की तैयारी में जुटे ट्रंप के संकेतों से ऐसा लग रहा कि यह बैठक टल जाएगी।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें