इस्लामाबाद - हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आइसीजे) में चल रहे कुलभूषण जाधव के मामले को लीड करने के लिए पाकिस्तान सरकार ने पूर्व चीफ जस्टिस तसादुक हुसैन जिलानी को एड-हॉक जज नियुक्त किया है। पाक राष्ट्रीयता का कोई न्यायाधीश आइसीजे में न होने से पाक को ये सहूलियत मिली है। भारत के जस्टिस भंडारी अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में कार्यरत हैं। जिलानी को 2007 में उस समय नजरबंद रहना पड़ा था, जब पाक के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के साथ न्यायपालिका का टकराव हुआ था।
गौरतलब है कि पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने कथित तौर पर जासूसी के आरोप में भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अधिकारी कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाई है। इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान को अपना जवाब देने के लिए 13 दिसंबर की समय सीमा दी है। इसके बाद ही मामले की अंतिम सुनवाई शुरू होगी। जाधव के मामले की सुनवाई इस साल के आखिर या अगले साल की शुरुआत में हो सकती है।
जाधव को पाकिस्तान ने ईरान से गिरफ्तार किया था, लेकिन पाक सरकार का कहना है कि उन्हें बलोचिस्तान से पकड़ा गया। वह रॉ के लिए जासूसी कर रहे थे। जाधव भारतीय नौ सेना के पूर्व अधिकारी हैं। भारत का कहना है कि रिटायर्ड होने के बाद जाधव ईरान में व्यापार के सिलसिले में आते जाते थे। अभी जाधव की दया याचिका पर सेना प्रमुख की अदालत में सुनवाई होनी है। अगर वहां से भी फैसला प्रतिकूल होता है तो जाधव के पास केवल एक विकल्प बचेगा, वह हैं पाक राष्ट्रपति।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें