अमेरिका का एक फिल्ममेकर समुद्र में स्पोर्ट्स एक्टिवी करते हुए ऐेसे इलाके में जा फंसा जहां दुनिया की सबसे खतरनाक वाइट शार्क रहती हैं। लेकिन सूनसान समुद्र में उसकी जान बचाई उसकी एप्पल वॉच (घड़ी) ने।दरअसल कैलिफोर्निया के रहने वाले 49 वर्षीय जॉन जिल्स कैलिफोर्निया के तट के करीब काइटसर्फिंग कर रहे थे। वो अक्सर यह यह वॉटर स्पोर्ट करने के समुद्र में जाते हैं। लेकिन उस दिन वो हाइड्रोफॉइल नाम की एक मशीन के साथ सर्फिंग करने निकले थे। आपको बता दें कि हाइड्रोफॉइल के जरिए पानी के ऊपर कुछ ऊंचाई तक उड़ा जा सकता है।
इस तरह समुद्र में फंस गए जॉन:-जॉन ने बताया, 'मैं हाइड्रोफॉइल की मदद से कम हवा में पानी के ऊपर उड़नी की प्रेक्टिस कर रहा था। इसी के चलते मुझे पता नहीं चला कि मैं तट से काफी दूर निकल गया हूं।' उन्होंने कहा, 'अचानक मेरी हाइड्रोफॉइल स्लिप होकर मुझसे दूर चली गई। उसी दौरान तैरते हुए मेरी सर्फिंग काइट भी नीचे आ गई। क्योंकि उस दिन ज्यादा हवा नहीं चल रही थी तो काइट को दोबारा उड़ाना मुश्किल हो रहा था। काफी कोशिश करने के बाद मैंने सोचा कि अब तैरते हुए ही तट पर पहुंचना सही होगा।'जॉन ने कहा, 'जब सब चीजों ने काम करना बंद कर दिया तो मैंने निर्णय किया मुझे सामान के साथ 2 घंटे तैरते हुए ही किनारे पर पहुंचना होगा।' तैरते हुए उन्होंने समय देखने के लिए अपनी एप्पल वॉच निकाली तो अचानक उन्हें याद आया इस घड़ी से कॉल भी किया जा सकता है।
इस तरह एप्पल वॉच ने बचाई जान:-जॉन ने अपनी वॉच से घर पर फोन करके बताया कि वो कहीं फंस गए हैं और आने में लेट हो जाएंगे। इसी दौरान उन्होंने अपने बेटे से कोस्ट गार्ड का नंबर भी मंगवा लिया था। जॉन बताया, 'मैं जब तैर रहा था मुझे एहसास हुआ कि मैं सबसे खतरनाक वाइट शार्क के इलाके में तैर रहा हूं। कुछ समय बात मुझे लगा कि मेरा पैर किसी ठोस चीज पर पड़ा है लेकिन किस्मत से वो मेरे सामान का ही हिस्सा था। तब शार्क को लेकर मेरे अंदर डर बैठ गया।'उन्होंने कहा, 'बार-बार दिमाग में वाइट शार्क का ख्याल आने के बाद मैंने सोचा कि बचाव दल को मदद के लिए बुलाना चाहिए। मैंने तभी पैट्रोलिंग टीम को अपनी एप्पल वॉच से फोन करके मदद मांगी। जब मदद के लिए बोट आ रही थी तो वो रास्ता भटक गई लेकिन जॉन ने एप्पल वॉच के जरिए उन्हें सही लोकेशन पर आने में मदद की।'
Apple सीईओ को लिखा खत:-समुद्र से सुरक्षित बाहर आने के बाद जॉन को लगा कि एप्पल वॉच की इस खास मदद के बारे में उन्हें सीईओ टिम कुक को बताना चाहिए। उन्होंने टिम कुक को इस घटना के बारे में बताते हुए एक मैसेज भेजा। टिम कुक ने भी उन्हें जवाब देते हुए लिखा - 'वाह... मुझे खुशी हुई आप सुरक्षित हैं।'

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें