बीजिंग - चीन ने सबसे उन्‍नत वैज्ञानिक क्‍लाउड प्‍लेटफॉर्मों में से एक को लॉन्‍च किया है, जिससे वैज्ञानिकों को अनुसंधान व नई खोज को आगे बढ़ाने के लिए सुलभ, सटीक और सुरक्षित डेटा सेवाएं प्रदान करने का लक्ष्‍य रखा गया है।
चाइना डेली के मुताबिक, चीन साइंस एंड टेक्नोलॉजी क्लाउड (सीएसटीसी), जिसे चीनी विज्ञान अकादमी के कंप्यूटर नेटवर्क सूचना केंद्र द्वारा तैयार किया गया, वो अकादमी के अनुसंधान संस्थानों, प्रमुख वैज्ञानिक प्रतिष्ठानों और साथ ही साथ देश के शीर्ष विश्वविद्यालयों और निजी अनुसंधान केन्द्रों ये आंकड़े एकत्रित करेगी।
अनुप्रयोगों को पांच व्यापक श्रेणियों में बांटा गया है, जिनमें डेटा रिसोर्सेस, क्‍लाउड कंप्‍यूटिंग विद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) व सुपर कंप्यूटर, रिसर्च सॉफ्टवेयर सपोर्ट, रिसर्च कम्‍यूनिटी नेटवर्क और विदेशी वैज्ञानिकों और प्लेटफार्मों के लिए आउटरीच शामिल है। सूचना केंद्र के निदेशक लीओ फांग्यु ने कहा, 'सीएसटीसी का उद्देश्य चीन में वैज्ञानिकों और नवप्रवर्तनकर्ताओं के लिए सबसे अधिक डेटा और क्‍लाउंड सर्विस की जरूरतों को पूरा करने के लिए मंच बनना है।'
केंद्र के एक शोधकर्ता ली जून ने कहा कि मंच पर पहले से ही छह लाख से ज्यादा पंजीकृत उपयोगकर्ता हैं और वे बढ़ती अनुसंधान की जरूरतों को पूरा करने के लिए लगातार सुधार जारी रखेंगे। उन्‍होंने कहा कि मंच अकादमी के अपने डेटा से संबंधित सेवाओं और अनुप्रयोगों को बेहतर बनाने के प्रयासों का आधार है। यह डेटा साझाकरण और पारदर्शिता को भी बढ़ावा देता है, इसलिए युवा वैज्ञानिकों की अगली पीढ़ी अपने शोध के लिए हमारे डेटा का उपयोग कर सकती है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें