इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने अपदस्थ प्रधानंमत्री नवाज शरीफ को 1999 में पाकिस्तान की सेना के मजबूत स्थिति में होने के बाद भी भारत के दबाव में कारगिल से पीछे हटने के लिए जिम्मेदार ठहराया है। कारगिल लड़ाई के दौरान सेना प्रमुख रहे मुशर्रफ ने यह भी मांग की कि शरीफ पर 2008 के मुंबई हमले के बारे में विवादास्पद बयान देने को लेकर राजद्रोह का केस चलना चाहिए। पाकिस्तान में कई मामलों का सामना कर रहे 74 वर्षीय सेवानिवृत्त जनरल पिछले साल से दुबई में रह रहे हैं। उन्हें चिकित्सा के लिए देश से बाहर जाने की अनुमति दी गई थी।मुंबई हमले पर शरीफ के बयान पर मुशर्रफ ने कारगिल युद्ध के बारे में भी बात की और पाकिस्तान सेना के पीछे हटने के लिए शरीफ को जिम्मेदार ठहराया। इस युद्ध और तत्कालीन घटनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस लड़ाई में 5 अलग-अलग स्थानों पर मजबूत स्थिति में था और पूर्व प्रधानमंत्री को 2 बार इस स्थिति बारे में बताया गया। उन्होंने शरीफ के इस दावे को खारिज कर दिया कि कारगिल से पाकिस्तानी सेना के हटने के बारे उन्हें विश्वास में नहीं लिया गया।मुशर्रफ ने कहा, वह मुझसे पूछते रहे कि क्या हमें वापस आ जाना चाहिए। पूर्व राष्ट्रपति और सैन्य शासक ने कहा कि पूर्व सीनेटर राजा जफारुल हक तथा पूर्व गृह मंत्री चौधरी शुजात ने भी सेना के वापस लौटने का विरोध किया था। लेकिन अमरीका से लौटने के बाद शरीफ ने सेना के कारगिल से पीछे हटने का आदेश दिया। शरीफ भारत सरकार के दबाव में थे।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें