लंदन - इजरायली लेखक डेविड ग्रॉसमेन ने इस साल का मेन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीता है। ग्रासमेन को यह पुरस्कार उनके उपन्यास ‘ए हॉर्स वाक्स इन टू ए बार’ के लिए प्रदान किया गया है।
पुरस्कार की घोषणा बुधवार को लंदन में हुई। ब्रिटेन के प्रतिष्ठित बुकर पुरस्कार के समकक्ष माने जाने वाले मेन बुकर अंतरराष्टीय पुरस्कार के लिए ग्रॉसमेन के अलावा पांच अन्य दावेदार थे। दावेदारों में इजरायल के मशहूर लेखक अमोस ओज भी थे।
मेन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार में 50 हजार पाउंड की राशि दी जाती है। यह राशि इस बार ग्रॉसमेन और अनुवादक जेसिका कोहेन में बराबर-बराबर बंटेगी। पहले यह पुरस्कार आजीवन उपलब्धि के लिए दिया जाता था। लेकिन पिछले साल से इसे किसी किताब के लिए देने का निर्णय किया गया। पिछली बार यह पुरस्कार दक्षिण कोरिया के हानकांग को उनकी रचना ‘द वेजीटेरियन’ के लिए दिया गया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें