वाशिंगटन - अमेरिकी संसद की एक खुफिया समिति ने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दखलअंदाजी के मामले में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को क्लीन चिट दिया है। संसद के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स की समिति को मामले की जांच में ट्रंप और रूसियों के बीच गठजोड़ का सुबूत नहीं मिला। जबकि डेकोक्रेट ने रिपोर्ट पर विरोध जताया है।
-2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दखल का लगा था आरोप
-डेमोक्रेट ने रिपोर्ट को लेकर विरोध जताया
समिति ने एक साल लंबी जांच पूरी होने की घोषणा की और कहा कि चुनाव में रूस ने दखलअंदाजी नहीं की। उसने अमेरिकी खुफिया एजेंसियों के चुनाव में ट्रंप की जीत में रूसी मदद की बात को खारिज किया। समिति ने साथ ही दखलअंदाजी नहीं रोक पाने के लिए पूर्व की बराक ओबामा सरकार को जिम्मेदार ठहराया। रिपब्लिकन बहुमत वाली समिति ने संक्षिप्त रिपोर्ट में कहा, 'हमें ट्रंप और रूसियों के बीच गठजोड़, तालमेल या साजिश का सुबूत नहीं मिला।' समिति के अध्यक्ष डेविन न्यूनेस ने कहा कि समिति ने रूसी जांच पूरी कर ली है। अब हमें पूरी रिपोर्ट तैयार करनी है। सदन के स्पीकर पॉल रेयान ने न्यूनेस का समर्थन किया।
समिति में शामिल वरिष्ठ डेमोक्रेट सांसद एडम शिफ ने आरोप लगाया कि रिपोर्ट ह्वाइट हाउस के दबाव में तैयार की गई। उन्होंने कहा कि जांच को अचानक बंद कर दिया गया। समिति ट्रंप और उनके सहयोगियों को बचाने के लिए जांच से भाग रही है। उन्होंने कहा कि हमें ट्रंप के चुनाव अधिकारियों और रूसियों के बीच अनगिनत गुप्त बैठकों की जानकारी है। बता दें कि खुफिया समिति शुरुआत से ही पूरी तरह बंटी हुई थी।
ट्रंप को अभी राहत नहीं
फिलहाल समिति की रिपोर्ट ट्रंप के लिए राहत नहीं है। अभी संसद के उच्च सदन सीनेट की खुफिया एजेंसी रूसी दखलअंदाजी की जांच कर रही है। इस समिति में दोनों पार्टियां आपस में सहयोग कर रही हैं। इसके अलावा इस मामले में न्याय विभाग के विशेष वकील रॉबर्ट मूलर की जांच आगे बढ़ रही है। उन्होंने ट्रंप के कई सहयोगियों पूछताछ की है। वह यह भी पता कर रहे हैं कि क्या ट्रंप ने जांच में बाधा डालने की कोशिश की।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें