वाशिंगटन - ट्रंप सरकार के कार्यकाल का एक साल पूरे होने के बाद इस प्रशासन से एक दर्जन से अधिक कई योग्‍य सदस्‍यों ने अपना नाता तोड़ लिया। ब्रुकिंग इंस्टीट्यूशन द्वारा किए गए विश्लेषण में पाया गया कि ट्रंप प्रशासन से निकलने वाले सदस्‍यों का दर पिछले पांच राष्‍ट्रपतियों की तुलना में अधिक है।
इनमें से कुछ महत्‍वपूर्ण नाम ये हैं-
- रेक्‍स टिलरसन, विदेश मंत्री
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने अपने विदेश मंत्री रेक्‍स टिलरसन को हटा दिया है। ट्रंप ने नया विदेश मंत्री सीआइए निदेशक माइक पोंपेयो को बनाया है। ट्रंप ने सोशल मीडिया के जरिए मंगलवार को टिलरसन को उनके पद से हटाने की जानकारी देते हुए कहा कि उन दोनों के बीच कुछ चीजों जैसे इरान परमाणु हथियार समझौते को लेकर एक राय नहीं थी। अक्‍टूबर में दोनों के बीच विवाद की खबर आयी थी जिसमें टिलरसन ने ट्रंप को अपशब्‍द कहा था।
- John McEntee
20 जनवरी 2017 से राष्‍ट्रपति ट्रंप व्‍यक्‍तिगत सहयोगी जॉन मैकेंटी को भी अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने बर्खास्‍त कर दिया। सूत्रों के अनुसार, 12 मार्च 2018 को व्‍हाइट हाउस से निकाले गए जॉन को लेकर सिक्‍योरिटी क्‍लीयरेंस से जुड़ा मामला था।
- गैरी कोह्न
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शीर्ष आर्थिक सलाहकार और राष्ट्रीय आर्थिक परिषद के प्रमुख गैरी कोह्न ने पद से इस्तीफा दे दिया। सूत्रों के अनुसार, कोह्न स्टील और एल्युमीनियम के आयात पर टैरिफ लगाने के ट्रंप प्रशासन के प्रस्ताव का विरोध कर रहे थे।
- होप हिक्‍स
डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव अभियान के दौरान मीडिया प्रभार संभालने वाली होप हिक्स ने ट्रंप के प्रेस सचिव की जिम्मेदारी भी निभाई। 2016के चुनाव पर रूस के असर की जांच कर रहे कांग्रेस पैनल के सामने होप हिक्स ने ये माना कि उन्होंने कभी-कभी अपने बॉस के लिए झूठ बोला था। इस गवाही के ठीक एक दिन बाद होप हिक्स का इस्तीफे की खबर आयी।
- रॉब पोर्टर, व्हॉइट हाउस स्टाफ सेक्रेटरी
अपनी दो पूर्व पत्‍नियों रॉब के साथ घरेलू हिंसा के अनेकों आरोप के बीच रॉब पोर्टर ने इस्‍तीफा दिया। पोर्टर ने आरोपों से इंकार किया है। जबकि सीनियर व्‍हाइट हाउस स्‍टाफ को इन आरोपों के बारे में पता था लेकिन वे इन आरोपों को विस्‍तार से नहीं जानते थे।
- एंड्र्यू मैककैबे, एफबीआई डिप्टी डायरेक्टर
मार्च में रिटायर होने वाले एंड्रयू को पद छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। वे 1996 में एफबीआई से जुड़े थे और 2013 में बोस्टन मैराथन के दौरान हुई बमबारी की जांच का श्रेय उन्‍हें ही दिया गया था। उल्‍लेखनीय है कि राष्ट्रपति ट्रंप ने कई बार एंड्र्यू मैककैबे की आलोचना की थी। ट्रंप प्रशासन का आरोप था कि डेमोक्रेट्स के साथ रिश्तों की वजह से एंड्र्यू मैककैबे कभी भी रूस की भूमिका को लेकर चल रहा जांच में निष्पक्ष नहीं रह पाएंगे।
- टॉम प्राइस, स्‍वास्‍थ्‍य सचिव
अफोर्डेबल केयर एक्ट' या 'ओबामाकेयर' की पॉलिसी को खत्म करने में राष्ट्रपति ट्रंप की नाकाम कोशिशों में बतौर हेल्थ सेक्रेटरी टॉम प्राइस का भी योगदान था। टॉम प्राइस के इस्‍तीफे का कारण मई और सितंबर के बीच अपनी हवाई यात्राओं पर दस लाख डॉलर से अधिक खर्च किया और बताया गया कि राष्ट्रपति ट्रंप इससे खुश नहीं थे। इसके बाद ही प्राइस के इस्‍तीफे की बात सामने आयी।
- स्टीव बैनन, मुख्‍य रणनीतिकार
दक्षिणपंथी विचारों वाली न्‍यूज वेबसाइट ब्रीटबार्ट को छोड़ स्टीव बैनन डोनल्ड ट्रंप के चुनाव प्रचार अभियान में आए थे। बैनन के करीबी लोगों ने बताया कि बैनन ने पद से हटने का फैसला खुद ही लिया है और उन्होंने सात अगस्त को ट्रंप को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। ट्रंप प्रशासन के कुछ सीनियर सलाहकार स्टीव बैनन को दरकिनार करने की मुहिम में लगे थे। इनमें ट्रंप के दामाद जैरेड कुशनर का नाम भी लिया जाता है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें