अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन द्वारा लोगों को किया जाएगा मोटापे प्रति जागरूक

10 November 2017
Author 


*आज मोटापा एक भयानक समस्या बन चुका है : डा. गौतम
न्यूयॉर्क (हम हिन्दुस्तानी)-आज मोटापा एक भयानक समस्या बन चुकी है, जिसके कारण अनेकों रोगों के होने की संभावना प्रबल हो जाती है। मोटापा वह स्थिति होती है जब अत्याधिक शारीरिक वास शरीर पर इस सीमा तक एकत्रित हो जाती है कि वे स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालने लगती है। इसके प्रति लोगों को जागरूक करने हेतु अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन आर्गेन की ओर से विशेष जागरूकता अभियान शुरू किया गया। जिसके संदर्भ में विशेष समारोह का आयोजन न्यूयॉर्क स्थित इंडियन कांसुलेट में किया गया। इस समारोह के दौरान जहां मोटापे से होने वाले रोगों व उक्त बचाव के संदर्भ में विशेषज्ञों द्वारा अपने-अपने विचार पेश किए गए वहीं पर जागरूकता कम्पेन शुरू करने का भी ऐलान किया गया। इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन आर्गेन के अध्यक्ष डा. गौतम समादर ने कहा कि मोटापा एक ऐसा रोग है कि यह आयु संभावना को भी घटा सकता है। शरीर भार सूचकांक बी.एम.आई., मानव भार और लम्बाई का अनुपात होता है। मोटापा बहुत से रोगों से जुड़ा हुआ है, जैसे हृदय रोग, मधुमेह, निद्रा कालीन, श्वास समस्या, कई प्रकार के कैंसर और अस्थिसंध्यार्ति मोटापे का प्रमुख कारण अत्यधिक कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन, शारीरिक गतिविधियों का अभाव, आनुवांशिकी का मिश्रण हो सकता है। हालांकि मात्र आनुवांशिक, चिकित्सकीय या मानसिक रोग के कारण बहुत ही कम संख्या में पाए जाते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को मोटापे के संदर्भ में जागरूक करने हेतु विभिन्न संगठनों जैसे कि व्हील्स ग्लोबल फाऊंडेशन, ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन आर्गेन, वैटनर्स ऑफ फॉरेन वॉर्स एवं मूव वेट मैनेजमैंट प्रोग्राम के तहत यह मोटापा जागरूकता कम्पेन शुरू की जाएगी। जिसमें विशेष रूप से डा. समादर, डा. विकास खुराना, डा. उमा कोदुरी एवं डा. सतीश कथुला द्वारा मोटापे के बचाव के संदर्भ में जानकारी दी जाएगी। इससे पूर्व न्यूयॉर्क में भारत के डिप्टी कौंसिल जनरल द्वारा विधिवत रूप से ज्योति प्रज्वलित करके इस मुहिम की शुरूआत की गई। इस अवसर पर उन्होंने भी सम्बोधित करते हुए मोटापे को जघन्य समस्या करार दिया। इस अवसर पर विशेष रूप से उपस्थित हुए यू.एस. आर्मी के सेवानिवृत्त कमांडर जोसुआ स्टॉर्क ने भी मोटापे के संदर्भ में अपने विचार पेश। जबकि समागम को सम्बोधित करते हुए डा. विकास खुराना, डा. उमा कोदुरी, डज्ञ. सतीश काथुला एवं डा. राज भयानी ने मोटापे के कारणों के बारे में जानकरी देते हुए कहा कि मोटापा और शरीर का वजन बढऩा, ऊर्जा के सेवन और ऊर्जा के उपयोग के बीच असंतुलन के कारण होता है। अधिक चर्बीयुक्त आहार का सेवन करना भी मोटापे का कारण है। कम व्यायाम करना और स्थिर जीवन-यापन मोटापे का प्रमुख कारण है। असंतुलित व्यवहार औऱ मानसिक तनाव की वजह से लोग ज्यादा भोजन करने लगते हैं, जो मोटापे का कारण बनता है। शारीरिक क्रियाओं के सही ढंग से नहीं होने पर भी शरीर में चर्बी जमा होने लगती है। बाल्यावस्था और युवावस्था के समय का मोटापा व्यस्क होने पर भी रह सकता है। उन्होंने कहा कि मोटापा शारीरिक और मानसिक स्तर पर जीवन में कई सारे परिवर्तन लाता है। जिनके कारण व्यक्ति में इसके लक्षण परिलक्षित होते हैं। किन्तु कई बार लोग इन्हें महत्त्व नहीं देते और इसके बारे में कोई चिकित्सकीय परामर्श नहीं लेते जो आगे चलकर उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए इंडियन अमेरिकन बिजनैसमैन व फिलेनथैरेपिस्ट रजत गुप्ता ने कहा की मोटापे के प्रमुख लक्षणों में सांस फूलना ,बार-बार सांस फूलने की समस्या का होना मोटापे का लक्षण है जो कई कारणों से हो सकता है और कई रोगों का कारण बनता है। इसके अलावा और भी कई कारण हैं। इस अवसर पर विशेष रूप से उपस्थित हुए ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन आर्गेन के डा. सुधीर पारिख ने मेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस ऑफ इंडियन आर्गेन के अभियान की प्रशंसा की और कहा कि इसमें उनके द्वारा बहुमूल्य योगदान डाला जाएगा ताकि लोगों को इस भयानक बीमारी के संदर्भ में जागरूक किया जा सके।

9 VIEWS
Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें