- प्रभुनाथ शुक्ल (स्वतंत्र पत्रकार)दुनिया में बढ़ते इस्लामिक और वैश्विक आतंकवाद ने एक बार फ़िर दुनिया की सबसे बड़ी तागत अमेरिका और उसकी खुफिया संगठन एफबीआई को चौका दिया है। मंगलवार दोपहर बाद न्‍यूयॉर्क के लोअर मैनहटन में साइकिल परिपथ पर हुए लोन बुल्फ हमले में जहाँ निर्दोष आठ अमेरिकी नागरिकों को मौत की नीड सुला दिया वहीँ दुनिया में सबसे सुरक्षित देश कहलाने वाले अमेरिका की सुरक्षा सवालों के…
मुंबई/न्यायॉर्क (हम हिंदुस्तानी)-सामाजिक संस्था 'अदम्य' द्वारा नायगांव में स्थित 'स्नेह सागर' वृद्धा आश्रम में जरूरतमंद महिलाओं के साथ अदम्य की 'नारी शक्ति' टीम ने अपना वक्त बिताया और वृद्ध महिलाओं की समस्याओं से रूबरू हुए। जिनसे मिलने के बाद सभी वृद्धा आश्रम की महिलाये भाव विभोर हो गयी। नारी शक्ति टीम वृद्ध महिलाओं साथ नृत्य, गायन ढेर एवं सारी मस्ती भी किया। साथ ही वृद्ध माताओं को दैनिक जरूरत की…
- देवेंद्रराज सुथारहमारे समाज में सदियों से ही नशे का सेवन प्रचलन में रहा है। यहां तक की रामायण और महाभारत काल में भी नशा सेवन के चित्रण दृष्टिपात होते है। नशा करने की यह आम परंपरा अब थमनी चाहिए ताकि जिससे देश के नागरिकों का जीवन शत-प्रतिशत स्वस्थ बन सकें। मोटे तौर पर नशे का अभिप्राय उस वस्तु या चीज से होता है जिसके सेवन की नियमिता के कारण…
-रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) हमारे देश में शायद ही कोई दिन ऐसा बीतता होगा जब किसी न किसी इलाके से गरीबी, भुखमरी, कुपोषण, बेरोजगारी, कर्ज जैसी तमाम आर्थिक तथा अन्य सामाजिक दुश्वारियों से परेशान लोगों के आत्महत्या करने की खबरें न आती हों। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाल ही में दुनियाभर में होने वाली आत्महत्याओं को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है, जिसके मुताबिक दुनिया के तमाम देशों में…
-डॉ नीलम महेंद्र(Best editorial writing award winner) अमेरीकी विरोध के बावजूद उत्तर कोरिया द्वारा लगातार किए जा रहे हायड्रोजन बम परीक्षण के परिणाम स्वरूप ट्रम्प और किम जोंग उन की जुबानी जंग लगातार आक्रामक होती जा रही है। स्थिति तब और तनावपूर्ण हो गई जब जुलाई में किम जोंग ने अपनी इन्टरकाँन्टीनेन्टल बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया। क्योंकि न तो ट्रम्प ऐसे उत्तर कोरिया को स्वीकार करने के लिए…
-डा. राजेन्द्र प्रसाद शर्माबदलती जीवन शैली किस कदर हमारे जीवन को प्रभावित कर रही है इसका जीता जागता उदाहरण युवाओं में भी अल्जाइमर के प्रभाव से देखा जा सकता है। किसी जमाने में 80 पार की बीमारी अल्जाइमर की जकड़ में आज 30 से 50 आयुवर्ग के लोग भी आते जा रहे हैं। दरअसल काम के बोझ, अत्यधिक तनाव, नींद पूरी नहीं होना और खान-पान में बदलाव के कारण अल्जाइमर…
-डॉ मोनिका ओझा(लेखक वाणिज्य एवं अर्थशास्त्र की व्याख्याता है) भारत सरकार ने जीएसटी की दरों में बदलाव कर जनता को राहत देने की एक बार फिर कोशिश की है। बताया जाता है गुजरात के चुनाव को देखते हुए राहत की यह वर्षा की गई है। हालाँकि यह अलहदा है कि संसद में जीएसटी को लागू करने के पक्ष में अपना समर्थन देकर कांग्रेस अब वादाखिलाफी पर उतर आयी है और…
-निर्मल रानी उत्तर भारत का एक बड़ा हिस्सा इन दिनों प्रदूषण युक्त घने कोहरे से ढका हुआ है। इसके परिणामस्वरूप देश के कई क्षेत्रों से भीषण सडक़ दुर्घटनाओं के समाचार मिल रहे हैं। अनेक रेलगाडिय़ों के अनिश्चितकाल देरी से चलने की खबरें हैं। शहरों में ट्रैिफक जाम के समाचार आ रहे हैं तथा पंजाब के सीमावर्ती क्षेत्रों में हमारे सैनिकों को इस प्रदूषणयुक्त धुंध से जूझते हुए कड़ी व चुनौतीपूर्ण…
Page 4 of 107

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें