नई दिल्‍ली‍। डिजिटल तकनीक की दुनिया में एक नई मशीन आ गई है, जो बच्‍चों के सभी कमांड पर प्रतिक्रिया (रेस्‍पांड) देती है। जो कभी नहीं थकती। यह बच्‍चों के लिए काफी मजेदार है। यहां तक कि उसे दो घंटे तक मजाक करने के लिए कहा जाए तो उत्‍तर देती है और होमवर्क का भी उत्‍तर देती है। यह मशीन गूगल की असिस्टेंस और अमेजन की अलेक्‍सा के रूप में माता-पिता के लिए आशीर्वाद और अभिशाप के रूप में मौजूद है।ऐसा नहीं है कि यह मशीन डिजिटल रूप में हमेशा सही उत्‍तर ही देती है, बल्कि कभी-कभी वह प्रश्‍न को ठीक तरीके से नहीं समझती है या अनुउपयोगी उत्‍तर देती है। (कुछ माता-पिता इसे भी अच्‍छा मानते हैं)। जब आपका बच्‍चा आपसे कुछ भी पूछता है तो माता-पिता के लिए एक चुनौती और अवसर के रूप में होता है। ऐसे में गूगल और अमेजन ने लोगों के सामने अवसर और उपयोगिता उपलब्‍ध कराई है। इको डॉट और गूगल होम के माध्‍यम से आवाज में उतार-चढ़ाव वाले स्‍पीकर बच्‍चों को नम्रतापूर्वक बोलने को लेकर बड़ा और अप्रत्‍याशित प्रभाव डालते हैं।कैलिफोर्निया में रहने वाली मेरी बेथ फोस्‍टर ने निर्विदाद रूप में पिछले कुछ दिनों में नोटिस किया। उनका कहना है कि 'उनका एक साल में बेटा 'गो-गो' शब्‍द को बोल नहीं पाता है, लेकिन वह 'ओके गूगल' बोल लेता है।' कई माता-पिता इस प्रकार के डिवाइस के प्रयोग से दूर रहते हैं, लेकिन कुछ माता-पिता घर पर डिजिटल सहायक के रूप में इसका प्रयोग करते हैं।
इसको लेकर कुछ चुनौतियां भी हैं
- इसमें उत्‍तर तुरंत आता है, लेकिन उसके गलत और अपूर्ण होने की संभावना रहती है।
- बच्‍चे जब प्रश्‍न पूछते हैं तो पूरी कहानी की एकल प्रतिक्रिया आती है। कई बार बिना पूछे उत्‍तर सामने आता है। एलेक्‍सा के बारे में विकिपीडिया से जानकारी मिलती है, जहां बच्‍चों को पूरी जानकारी नहीं मिलती है। इसका उज्‍जवल पक्ष यह है कि बच्‍चों द्वारा प्रश्‍न पूछे जाते हैं। कई बार डिवाइस में चुपचाप टाइप कर दिया जाता है। इसे माता-पिता सुनते हैं और काम में लग जाते हैं। इसके छोटे उत्‍तर बच्‍चों में आलोचनात्‍मक सोच-विचार को प्रोत्‍साहित नहीं करते हैं लेकिन माता-पिता इसे ठीक मानते हैं।
- नॉर्थम्‍प्‍टन, मैसाचुसेट्स के स्मिथ कॉलेज में बच्‍चों की शिक्षा के असिस्‍टेंट प्रोफेसर शानन ऑडले का कहना है कि अगर बच्‍चा गणित की समस्‍या को दूर करने के लिए अलेक्‍सा से सहायता मांगता है तो तुरंत उत्तर आता है
- समस्‍या को दूर करने के लिए अपनी रणनीति का उपयोग करो। उन्‍होंने कहा कि माता-पिता को नियंत्रण रखने के लिए होमवर्क सत्र के दौरान बच्‍चे को डिवाइस से दूर रखें। इसे आप सुन सकते हैं और कई बार यह ज्‍यादा हो जाता है।बर्लिंगटन, वरमोंट के रहने वाले जिलियन किर्बी का कहना है कि यह देखकर प्रसन्‍नता होती है कि बच्‍चा वर्चुअल क्‍लाउड में तैर रही असाधारण संगीत और सूचना को खोजना चाहता है। कई खोजने की प्रकिया से ओवर लोड होता है। जब घर की मरम्‍मत हो रही थी तो इस उछलकूद के बीच मैं अपने माता-पिता के साथ छह हफ्ते तक रहा। उनका बच्‍चा जो तीन साल का भी नहीं है, वह घर में अलेक्‍सा के साथ दादा-दादी संग रहकर खुश है।किर्बी ने बताया कि मेरा संगीत प्रेमी बेटा शक्ति का भूखा और अधीर हो गया है। वह कुछ समय में गाने को बदलना चाहता है। वह कहता है अलेक्‍सा नेक्‍स सांग। कई सप्‍ताह पहले घर आया पूरे अलबम को फिर से शुरू करने के लिए डिजिटल सहायता का प्रयोग किया गया।
आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से काम करता है अलेक्सा:-अगर आप अलेक्सा से समाचार पढ़ने के लिए कहेंगे तो वो आपको दिनभर के समाचार भी पढ़कर बताएगा। अलेक्सा में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस टेक्नोलॉजी लगी है। आप अलेक्सा को कमांड देकर ई-कॉमर्स साइट अमेजन से ऑनलाइन चीज़ें भी खरीद सकते हैं। अब जब अलेक्सा बिना किसी कमांड के ही हंस रहा है तो यूजर्स की चिंता लाजमी है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें